नॉर्मल डिलीवरी के लिए गर्भवस्था के दौरान करें 8 सर्वश्रेष्ठ व्यायाम

8 best exercises during pregnancy for normal delivery in hindi

Normal delivery ke liye garbhavastha ke dauran karein ye 8 vyayam


एक नज़र

  • सामान्य प्रसव के लिए व्यायाम को अपनी दिनचर्या में शामिल करें।
  • कीगल व्यायाम करने से सामान्य प्रसव की बढ़ जाती है संभावना।
  • तैराकी करने से मांसपेशियां होती हैं मज़बूत।
  • प्रेगनेंसी में नियमित रूप से पेल्विक टिल्ट (pelvic tilt) व्यायाम भी ज़रूर करें।
triangle

Introduction

Introduction

नियमित रूप से व्यायाम करना हर किसी के लिए लाभप्रद होता है। इससे न हम सिर्फ फ्रेश अनुभव करते हैं बल्कि ये हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद भी होता है।

इतना ही नहीं जब बात प्रेगनेंसी की आती है तो व्यायाम को नियमित रूप से अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाना बहुत लाभदायक होता है।

गर्भावस्था के दौरान व्यायाम करने से वज़न बढ़ने का रिस्क कम होता है और साथ ही इसके अनेक लाभ भी हैं।

हालांकि, इस बात का आपको ध्यान रखना चाहिए कि आप गर्भावस्था के दौरान व्यायाम डॉक्टर के परामर्श से ही करें।

यहाँ हम आपको कुछ बेहतरीन व्यायाम के बारे में बताने जा रहे हैं, जो गर्भवती महिला के लिए नॉर्मल डिलीवरी की संभावनाओं को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकते हैं।

आप अपने शिशु के स्वस्थ और सुरक्षित प्रसव के लिए गर्भावस्था के नौ महीने के दौरान डॉक्टर के परामर्श के बाद नीचे बताए गए व्यायामों का पालन कर सकती हैं।

loading image

इस लेख़ में

  1. 1.नॉर्मल डिलीवरी के लिए टहलना है फायदेमंद
  2. 2.नॉर्मल डिलीवरी के लिए तैराकी को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं
  3. 3.योग भी सामान्य प्रसव की संभावना को बढ़ाता है
  4. 4.सामान्य प्रसव के लिए नियमित रूप से कीगल व्यायाम का अभ्यास करें
  5. 5.सामान्य प्रसव के लिए पेल्विक टिल्ट एक्सरसाइज भी प्रभावी है
  6. 6.स्क्वेटिंग को सामान्य प्रसव के लिए सबसे अच्छे व्यायाम के रूप में माना जाता है
  7. 7.योनि प्रसव के लिए कॉब्लर पोज़ भी है सहायक
  8. 8.पेल्विक स्ट्रेच सामान्य डिलीवरी की संभावना को बेहतर बनाता है
  9. 9.गर्भावस्था के दौरान इन अभ्यासों को करने के क्या लाभ हैं?
  10. 10.निष्कर्ष
 

नॉर्मल डिलीवरी के लिए टहलना है फायदेमंद

Walking is good for normal delivery in hindi

Normal delivery ke liye tahelna hai faydemand in hindi

प्राचीन काल से, चलना शरीर और दिमाग को तंदरुस्त रखने के लिए सबसे प्रभावी अभ्यासों में से एक माना जाता है।
गर्भावस्था के समय बेहतर स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए चलना सबसे अनुशंसित व्यायाम में से एक है।

गर्भवस्था के दौरान वॉक करने से गर्भवती महिलाओं के शरीर पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है क्योंकि इससे न सिर्फ बॉडी फ्लेक्सिबल (flexible) होती है बल्कि मांसपेशियों को भी ताकत मिलती है।

loading image
 

नॉर्मल डिलीवरी के लिए तैराकी को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं

Make swimming a part of your lifestyle for normal delivery in hindi

Normal delivery ke liye swimming kare

तैरना फिट रहने और सामान्य प्रसव के लिए शरीर को तैयार करने का एक शानदार तरीका है।

यह दिल की धड़कन को नियंत्रित करता है, मांसपेशियों को मज़बूत करता है और शरीर को फिट भी रखता है।

तैरने से जांघों के आसपास की मांसपेशियों को ताकत मिलती है।

और पढ़ें:गर्भावस्था में नॉर्मल डिलीवरी के उपाय
 

योग भी सामान्य प्रसव की संभावना को बढ़ाता है

Yoga also increases the chances of normal delivery in hindi

Yoga bhi samanya prasav ki sambhavnaon ko badhata hai

प्राचीन काल से चला आ रहा योग माँ और बच्चे के अच्छे स्वास्थ्य के लिए एक आधार बनाता है। नियमित रूप से योग करने के अपार लाभ हैं।

आप योग करने वाली गर्भवती महिलाओं के समूह में शामिल हो सकती हैं या गर्भावस्था के दौरान योग कक्षा (yoga class) में शामिल हो सकती हैं।

यहां कुछ ऐसे योगासनों के बारे में बताया गया है जो गर्भावस्था के समय अत्यधिक अनुशंसित (recommended) होते हैं और नॉर्मल डिलीवरी के लिए फायदेमंद साबित होते हैं।

निम्न योगासन नॉर्मल डिलीवरी की संभावना को बढ़ा सकते हैं :

  • कोंकासना Konkasana (Angle Pose)
  • वक्रासन Vakrasana (Twisted Pose)
  • भद्रासन Bhadrasana (Butterfly Pose)
  • पर्वतवासना Parvatasana (Mountain Pose)
  • यास्तिकासन Yastikasana (Stick Pose)
  • हस्ता पंगुस्तसाना Hasta Padangustasana (Extended hand to big toe pose)
  • उत्कटासन Utkatasana (Chair Pose)
loading image
 

सामान्य प्रसव के लिए नियमित रूप से कीगल व्यायाम का अभ्यास करें

Practise kegel exercise regularly for normal delivery in hindi

Samanya prasav ke liye niyamit roop se kegel vyayam kare

कीगल व्यायाम सामान्य प्रसव के लिए गर्भावस्था में सर्वोत्तम अभ्यासों की सूची में सबसे ऊपर आता है। कीगल व्यायाम मूल रूप से पेल्विक फ्लोर (pelvic floor) को मज़बूत करने में सहायता करता है।

गर्भावस्था के दौरान कीगल व्यायाम मुख्य तौर पर योनि के आस-पास की मांसपेशियों के कामकाज व लचीलेपन (flexibility) में सुधार करता है।

इसके साथ ही यह जांघों और शरीर के माध्यम भाग को भी मज़बूती प्रदान करता है। आप कीगल व्यायाम को दिन में लगभग 15 मिनट के लिए एक बार कर सकती हैं।

और पढ़ें:डिलीवरी के बाद पीरियड लाने के उपाय
 

सामान्य प्रसव के लिए पेल्विक टिल्ट एक्सरसाइज भी प्रभावी है

Pelvic tilt exercise is also effective for normal delivery in hindi

Normal delivery ke liye pelvic tilt exercise

पैल्विक टिल्ट (pelvic tilt) को एंग्री कैट एक्सरसाइज़ (angry cat exercise) के रूप में भी जाना जाता है।

यह गर्भवती महिला में शरीर के मध्यम भाग के आसपास की मांसपेशियों के कामकाज को बेहतर बनाने का एक प्रभावी तरीका है।

ये मुख्य रूप से गर्भवती महिलाओं की पीठ के निचले हिस्से (lower back muscles) की मांसपेशियों को ताकत प्रदान करता है।

ये सामान्य प्रसव प्रक्रिया के लिए एक मज़बूत आधार बनाता है। हालाँकि, इस व्यायाम को करते समय यह सुनिश्चित करें कि आपके हाथ और पैर ज़मीन पर सही पोजीशन में हों।

loading image
 

स्क्वेटिंग को सामान्य प्रसव के लिए सबसे अच्छे व्यायाम के रूप में माना जाता है

Squatting is considered as one of the best exercise for normal delivery in hindi

Squatting ko samanya prasav ke liye sbse achhe vyayam ke roop se jana jata hai

स्क्वेटिंग, लेबर को सुविधाजनक बनाने के लिए सबसे प्रभावी और सुरक्षित अभ्यासों में से एक माना जाता है।

ये पेल्विक मांसपेशियों को मज़बूत करने के साथ-साथ पेल्विक एरिया (pelvic area) को खोलता है, जिससे शिशु के लिए बर्थिंग कैनाल के नीचे आना आसान हो जाता है।

इसके अलावा, नियमित रूप से स्क्वैट्स (squats) करने से, मांसपेशियों को आराम मिल सकता है। यह पेरिनेम (perineum) को फैला भी सकता है।

आप स्क्वैट्स करके बच्चे के जन्म के लिए स्वाभाविक रूप से शरीर को तैयार कर सकते हैं, बशर्ते आप उन्हें सही तरीके से करें।

और पढ़ें:डिलीवरी के बाद पेट कम करने के उपाय क्या हो सकते हैं?
 

योनि प्रसव के लिए कॉब्लर पोज़ भी है सहायक

Cobbler pose is also helpful for vaginal delivery in hindi

Vaginal delivery ke liye cobbler pose bhi maddgar hota hai

गर्भवस्था के अंतिम चरण में शरीर को प्रसव के लिए तैयार करने में कोब्बलर पोज़ सबसे फायदेमंद व्यायाम है। कम दर्दनाक सामान्य प्रसव के लिए श्रोणि क्षेत्र और आसपास के हिस्सों में यह सुधार करता है।

ये आसपास की मांसपेशियों के लचीलेपन में भी सुधार करता है। हालाँकि, इसे करते वक़्त पूरा ध्यान रखना बेहद आवश्यक है।

और पढ़ें:नॉर्मल डिलीवरी के लिए गर्भवस्था के दौरान करें 8 सर्वश्रेष्ठ व्यायाम
 

पेल्विक स्ट्रेच सामान्य डिलीवरी की संभावना को बेहतर बनाता है

Pelvic stretches enhance the chances of normal delivery in hindi

Pelvic stretch samanya delivery ki sambhawna ko behtar banata hai

अगर आप सामान्य प्रसव की संभावनाओं को बेहतर बनाने की आशा कर रहे हैं, तो पैल्विक स्ट्रेच (pelvic stretches) एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

आप अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से इस अभ्यास के सही चरणों के बारे में मार्गदर्शन करने के लिए कह सकते हैं।

बेसिक स्ट्रेचिंग में फर्श (floor) पर सीधे लेटकर पैरों को खुला रखा जाता है। पीठ के निचले हिस्से के नीचे एक पिलो रखा जाता है और फिर शरीर को आगे और पीछे की दिशा में ले जाया जाता है। ये 10-20 मिनट की समयावधि के लिए किया जाता है।

और पढ़ें:नॉर्मल डिलीवरी से पहले क्या करें और क्या नहीं
 

गर्भावस्था के दौरान इन अभ्यासों को करने के क्या लाभ हैं?

What are the benefits of exercises during pregnancy? in hindi

Pregnancy ke dauran in abhyason ko karne ka kya labh hai

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

ये समस्याएं अलग-अलग कारणों और अलग-अलग परिस्थितियों के कारण हो सकती हैं।

ऐसे में अगर गर्भवती महिला ऊपर दिए गए व्यायामों को दिनचर्या का हिस्सा बनाती हैं तो उन्हें कई तरह की परेशानियों से आराम मिल सकता है व अन्य लाभ भी मिल सकते हैं।

इसके साथ ही इन व्यायामों को करने से गर्भावस्था के दौरान होने वाली कई जटिलताओं से बचा जा सकता है और इनके अभ्यास से प्रसव भी आसान हो सकती है।

गर्भावस्था में व्यायाम करने के फ़ायदे निम्न हैं :

  • आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में गर्भावधि मधुमेह (gestational diabetes) होता है। अगर आप नियमित रूप से व्यायाम करती हैं, तो आप इसके जोखिम से बच सकती हैं।
  • व्यायाम, गर्भावस्था के दौरान और बच्चे के जन्म के समय अत्यधिक दर्द (excessive pain) और असुविधा (discomfort) को कम करने में भी मदद करते हैं।
  • गर्भवती महिलाओं में कब्ज़ (Constipation) काफी चिंताजनक और आम है। नियमित रूप से कुछ व्यायामों को करने से आपको कब्ज़ की समस्या से राहत मिलेगी और आपका पाचन तंत्र भी सही तरीके से कार्यरत रहेगा।
और पढ़ें:बच्चे के जन्म के बाद संभोग (सेक्‍स) कब करें?
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

उपयुक्त अभ्यासों को करने से नॉर्मल डिलीवरी आसान हो सकती है, बस आप गर्भावस्था के दौरान व्यायाम को अपनी दिनचर्या में प्राथमिकता दें।

व्यायाम सामान्य प्रसव के दर्द और गर्भावस्था से जुड़ी जटिलताओं को भी कम करने में सहायक होते हैं।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 02 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

डिलीवरी के बाद पेट कम करने के उपाय क्या हो सकते हैं?

डिलीवरी के बाद पेट कम करने के उपाय क्या हो सकते हैं?

डिलीवरी के बाद पीरियड लाने के उपाय

डिलीवरी के बाद पीरियड लाने के उपाय

सिजेरियन डिलीवरी के बाद पेट कैसे कम करें

सिजेरियन डिलीवरी के बाद पेट कैसे कम करें

बच्चे के जन्म के बाद संभोग (सेक्‍स) कब करें?

बच्चे के जन्म के बाद संभोग (सेक्‍स) कब करें?

सामान्य डिलीवरी के 9 फ़ायदे

सामान्य डिलीवरी के 9 फ़ायदे
balance
article lazy ad