खाद्य तेल, तेल के प्रकार, फ़ायदे और नुकसान

Cooking Oil, its types, benefits and risks in hindi

khadya tel, ke prakar, fayde aur nuksan in hindi


Introduction

khadya_tel__ke_prakar__fayde_aur_nuksan_in_hindi

जब खाना पकाने के लिए तेल के चुनाव की बात आती है तो आपके पास कई विकल्प होते हैं।

लेकिन खाने में इस्तेमाल किए जाने वाले तेल का चुनाव करते वक़्त इस बात का ध्यान रखना बेहद आवश्यक है कि चुना गया तेल स्वास्थ्य के नज़रिये से आपके लिए लाभकारी हो।

सिर्फ स्वाद के नज़रिये से चुना गया तेल आपकी सेहत के लिए नुक़सानदेह हो सकता है।

आइये इस लेख के जरिये डालते हैं विभिन्न प्रकार के खाद्य तेलों के बारे में।

loading image

इस लेख़ में

 

खाना पकाने के तेल की स्थिरता

The stability of cooking oils in hindi

Cooking oil ki stability in hindi

जब आप तेज़ गर्मी में खाना बना रहे होते हैं, तो आपको ऐसा तेल चुनना चाहिए जो स्थिर हो, आसानी से ऑक्सीकृत (oxidize) न हो या कठोर न हो।

जब तेल ऑक्सीकरण से गुज़रते हैं, तो वे ऑक्सीजन के साथ प्रतिक्रिया कर मुक्त कणों (free radicals) और हानिकारक कम्पाउंड्स का निर्माण करते हैं, जो उपभोग के लायक नहीं होते।

इस तरह के तेल का उपभोग शरीर की कई तरह की परेशानियों का कारण बन सकता है।

कोई तेल किस हद तक उच्च और निम्न ताप पर, ऑक्सीकरण और रैंकिडिफिकेशन (rancidification) का मुकाबला कर सकता है, यह उसमें मौजूद फैटी एसिड (fatty acid) की मात्रा पर निर्भर करता है।

सेचूरेटेड फैट्स (saturated fats) और मोनोअनसैचुरेटेड फैट्स (monosaturated fats) काफी हद तक हीट-रेसिस्टेंट (heat-resistant) होते हैं , पर वो तेल जिनमें पॉलीअनसेचुरेटेड (polyunsaturated) फैट्स की मात्रा अधिक होती है, उन्हें कूकिंग के लिए इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

  • फैटी एसिड ब्रेकडाउन (fatty acid breakdown) : -
  • सैचुरेटेड: 92%

  • मोनोअनसैचुरेटेड: 6%

  • पॉलीअनसेचुरेटेड: 1.6%

loading image
 

विभिन्न प्रकार के खाद्य तेल

Different types of edible oil in hindi

Vibhinn prakar ke khadye tel in hindi

खाद्य तेल के प्रकार:

  • नारियल तेल (Coconut Oil)

    जब अधिक गर्मी पर खाना पकाने की बात आती है, तो नारियल तेल सबसे बेहतर है।

    इसमें 90% फैटी एसिड सेचुरेटेड होते हैं, जो इसे हीट-रेसिस्टेंट बनाते हैं।

    यह तेल कमरे के तापमान पर बिना खराब हुए महीनों और वर्षों तक रह सकता है।

    नारियल तेल के कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं।

    यह लॉरिक एसिड नामक फैटी एसिड से विशेष रूप से समृद्ध है, जो कोलेस्ट्रॉल में सुधार कर सकता है और बैक्टीरिया और अन्य किटाणुओं को मारने में मदद कर सकता है।

    वर्जिन नारियल तेल का चयन करें।

    यह ओर्गनिक होता है, इसका स्वाद अच्छा होता है और इसके शक्तिशाली स्वास्थ्य लाभ हैं।

  • मूंगफली का तेल (Peanut Oil)

    मूंगफली का तेल स्वाद में अच्छा लग सकता है, लेकिन यह पॉलीअनसेचुरेटेड वसा में बहुत समृद्ध है, जो इसे खाना पकाने के लिए एक खराब विकल्प बनाते हैं।
    आप इसका इस्तेमाल व्यंजनों के कुछ हिस्सों के रूप में कर सकते हैं।

    लेकिन इस तेल को अधिक गर्मी में खाना पकाने के लिए इस्तेमाल न करें।
  • बीज और वनस्पति तेल (Seed and Vegetable Oils)

    औद्योगिक बीज और वनस्पति तेल अत्यधिक रिफाइंड, प्रोसैसड (processed) उत्पाद हैं जो ओमेगा -6 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं।

    न केवल आपको उनके साथ खाना नहीं बनाना चाहिए, बल्कि आपको उनसे पूरी तरह से दूर रहना चाहिए।

    नए शोध इन तेलों को कई गंभीर बीमारियों से जोड़ते हैं, जिनमें हृदय रोग और कैंसर शामिल हैं।

    इसके अलावा पाल्म ऑयल, फिश ऑयल, कैनोला ऑयल भी खाना बनाने के लिए चुने जाने वाले तेलों के लिए बेहतर विकल्प हैं।

    इन सभी तेलों में कई स्वास्थ्यवर्धक गुण होते हैं।

और पढ़ें:5 पोषक तत्व, जो 15 से 65 वर्षीय महिलाओं के लिए ज़रूरी हैं
 

खाना पकाने के लिए कौन से तेल इस्तेमाल नहीं करने चाहिए

Oils should not be used for cooking in hindi

Khana pakane ke liye kaun se tel istemal nahi chahiye

खाना बनाने के लिए कुछ तेलों का इस्तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए।

यूं कहें तो ना सिर्फ खाना बनाने के लिए बल्कि इन तेलों के किसी तरह से उपभोग से बचना चाहिए।

ये तेल इंडस्ट्रियल सीड्स और वेजीटेबल ऑयल होते हैं। ऐसे तेलों को तैयार करने के लिए इन्हें कई तरह के प्रक्रियाओं से गुजारा जाता है।

इन तेलों के उपभोग से दिल से जुड़ी बीमारियाँ व कैंसर होने का ख़तरा बना रहता है। ये तेल निम्न हैं -

  • सोयाबीन का तेल (soybean oil)

  • सूरजमुखी का तेल (sunflower oil)

  • तिल का तेल (sesame oil)

  • राइस ब्रान ऑयल (rice bran oil)

  • मकके का तेल (corn oil)

  • बिनौला तेल (cottonseed oil)

loading image
 

कूकिंग ऑयल की देखभाल

Taking Care of your cooking Oils in hindi

Khana banane ke tel ki dekhbhal in hindi

यह सुनिश्चित करने के लिए कि आपका तेल बासी न हो, कुछ बातों को ध्यान में रखना आवश्यक है : -

  • तेल के बड़े पैक न खरीदें।

    तेल के छोटे पैकेट्स खरीदें, जिससे खराब होने से पहले आप उनका इस्तेमाल कर पाएँ।

  • तेलों को ऐसे वातावरण में रखना ज़रूरी है जहां उनकी ऑक्सीकरण और बासी होने की संभावना कम हो।

  • खाना पकाने के तेलों के ऑक्सीडेटिव क्षति के पीछे मुख्य कारण गर्मी, ऑक्सीजन और प्रकाश हैं।

    इसलिए, उन्हें एक शांत, सूखी, अंधेरी जगह पर रखें और हमेशा इस्तेमाल के बाद ढक्कन को अच्छे से बंद करें।

और पढ़ें:अनाज क्या हैं, अनाज के प्रकार और फायदे क्या हैं?
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

खाद्य तेल के चुनाव के वक़्त ख़ास ख़्याल रखना बेहद ज़रूरी है।

नारियल तेल खाना बनाने के लिए सबसे उपयुक्त तेल है।

इसके अलावा मूँगफली, बीज- वनस्पति का तेल, मेथी का तेल, कैनोला और फिश ऑयल भी सेहत के लिए फ़ायदेमंद हैं।

सोयाबीन का तेल , सूरजमुखी का तेल, तिल का तेल , राइस ब्रान ऑयल, मक्के का तेल, बिनौला का तेल सेहत के लिए बेहद हानिकारक है।

इनके उपभोग से बचना चाहिए।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 02 Aug 2019

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

विटामिन A क्या है - स्रोत, कमी के लक्षण, रोग, फायदे और नुकसान

विटामिन A क्या है - स्रोत, कमी के लक्षण, रोग, फायदे और नुकसान

योग के लाभ, आसन और प्रकार

योग के लाभ, आसन और प्रकार

अलसी के तेल के फायदे व नुकसान

अलसी के तेल के फायदे व नुकसान

ईसबगोल के फायदे और नुकसान

ईसबगोल के फायदे और नुकसान

तनाव, चिंता और आलस्य दूर करने के लिए योग

तनाव, चिंता और आलस्य दूर करने के लिए योग
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad
x
Zealthy Chat
Dr. Priyanka | Zealthy

हमारे एक्स्पर्ट से मुफ़्त में सलाह लें