भारतमेंनॉर्मल डिलीवरी(सामान्य प्रसव)

भारत में बच्चे की नॉर्मल डिलीवरी की पूरी जानकारी। यहाँ जानें, सामान्य प्रसव से जुड़े फायदे, जोखिम, सावधानियां, डाइट टिप्स, योग व व्यायाम टिप्स आदि।

  • डॉक्टर और क्लिनिक : 10,000+
  • उपचार की अवधि : 6-18 घंटे
  • उपचार की प्रकार : डिलीवरी
  • औसत लागत : 35,000

पाएँ बेस्ट आइवीएफ ट्रीटमेंट में मनी बैक गारंटी

  • बेस्ट आइवीएफ ट्रीटमेंट
  • मात्र ₹70,000 से शुरू

अभी कॉल करें

कोई शुल्क नहीं

money back guarantee

नॉर्मल डिलीवरी उपचार के बारे में अधिक जानें

नॉर्मल डिलीवरी या सामान्य प्रसव क्या है?

What is normal delivery? in hindi

Samanya prasav kya hai in hindi

नार्मल डिलीवरी को वेजाइनल डिलीवरी (vaginal delivery) भी कहा जाता है। यह डिलीवरी की एक प्रक्रिया है जिसमें प्राकृतिक रूप से बच्चे का योनि से जन्म होता है। नॉर्मल डिलीवरी में आमतौर पर किसी भी तरह की सर्जिकल या मेडिकल प्रक्रिया शामिल नहीं होती है।

सी-सेक्शन (c-section) डिलीवरी की तुलना में नॉर्मल डिलीवरी में जोखिम कम होता है और प्रसव के बाद माँ का शरीर जल्दी ही सामान्य हो जाता है। हालांकि, नॉर्मल डिलीवरी में बच्चा पैदा करने के लिए माँ को प्रसव के दर्द से गुज़रना पड़ता है।

नॉर्मल डिलीवरी या सामान्य प्रसव के संकेत और लक्षण क्या हैं?

What are the signs and symptoms of normal delivery? in hindi

Samanya delivery ke sanket or lakshan kya hain in hindi

प्रेगनेंसी के आखिरी हफ्ते के दौरान कुछ ख़ास लक्षणों के आधार पर डिलीवरी नॉर्मल होने का अनुमान लगाया जा सकता है। अधिकांश तौर पर प्रेग्नेंट स्त्री को प्रसव (labor) के चार हफ्ते पहले ही लक्षणों का अनुभव होना शुरू हो जाता है।

नार्मल डिलीवरी या सामान्य प्रसव के संकेत और लक्षण इस प्रकार हैं :

  • प्रेगनेंसी के 30वें सप्ताह - गर्भावस्था के 34वें सप्ताह के बीच बच्चे का सिर नीचे की ओर आना
  • समय के साथ अधिक और लगातार संकुचन (contraction) का अनुभव करना
  • पेट और पैरों के निचले हिस्से में ऐंठन और दर्द होना
  • वेजाइनल डिस्चार्ज अधिक और गाढ़ा होना
  • संकुचन के कारण लगभग 40 से 60 सेकंड तक गंभीर दर्द होना
  • अधिक कमर दर्द (back pain) होना

नॉर्मल डिलीवरी या सामान्य प्रसव के लिए सही विशेषज्ञ कौन हैं ?

Who are the right specialists for normal delivery? in hindi

Samanya yoni prasav ke liye sabse sahi visheshagya kaun hote hain in hindi

प्रसूति चिकित्सक (obstetrician) नॉर्मल डिलीवरी के लिए सबसे बेहतर होते हैं। प्रसूति चिकित्सक एमबीबीएस होते हैं और साथ ही 3-4 साल की सर्जरी ट्रेनिंग भी ली होती है। डिलीवरी के लिए इन्हें उपयुक्त इसलिए माना जाता क्योंकि ट्रेनिंग के दौरान इन्हें गर्भावस्था से संबंधित समस्या और जोखिम के बारे में प्रशिक्षित किया जाता है।

और पढ़ें

भारतमेंनॉर्मल डिलीवरीका खर्च

जानें, भारत में नॉर्मल डिलीवरी के खर्च की पूरी जानकारी। नार्मल डिलीवरी की लागत का करें आकलन और पाएं उपचार का उचित मूल्य।

नॉर्मल डिलीवरी उपचार का

भारत में खर्च

निम्नतम लागत

20000

उच्चतम लागत

50000

भारतमेंबेस्ट स्त्री रोग विशेषज्ञ (गायनेकोलॉजिस्ट)

भारत में सर्वश्रेष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ की लिस्ट से चुनें नार्मल डिलीवरी के लिए अनुभवी व नज़दीकी बेस्ट डॉक्टर। पाएं नॉर्मल डिलीवरी डॉक्टर से जुड़ी पूरी जानकारी।

चिकित्सा विशेषज्ञ से निःशुल्क परामर्श

zealthy-logo

Dr Priyankaऔर टीम

नॉर्मल डिलीवरी स्पेशलिस्ट

अभी उपलब्ध है

1000+मरीजों का अनुभव

अभी संपर्क करें

भारतमेंबेस्ट नॉर्मल डिलीवरीहॉस्पिटल

भारत में बेस्ट नॉर्मल डिलीवरी हॉस्पिटल की लिस्ट से चुनें सभी सुविधाओं व आधुनिक उपकरणों से लैस अस्पताल। पाएं नॉर्मल डिलीवरी हॉस्पिटल से जुड़ी जानकारी।

चिकित्सा विशेषज्ञ से निःशुल्क परामर्श

zealthy-logo

Dr Nikitaऔर टीम

नॉर्मल डिलीवरी स्पेशलिस्ट

अभी उपलब्ध है

1200+मरीजों का अनुभव

अभी संपर्क करें

भारतमेंनॉर्मल डिलीवरीसे जुड़े सवाल

भारत में क्या है सामान्य प्रसव की लागत, सामान्य प्रसव के लिए सबसे अच्छे डॉक्टर और हॉस्पिटल कौन से हैं? जानें वेजाइनल नॉर्मल डिलीवरी से जुड़े सवाल व जवाब

पूछें बेस्ट फर्टिलिटी विशेषज्ञ सेमुफ्त सवाल

qa-iconडॉक्टर से पूछें

प्रेग्नेंसी डिलीवरी क्या है और डिलीवरी की विभिन्न तकनीकें क्या हैं ?

प्रेग्नेंसी डिलीवरी क्या है और डिलीवरी की विभिन्न तकनीकें क्या हैं ?

प्रेग्नेंसी डिलीवरी क्या है और डिलीवरी की विभिन्न तकनीकें क्या हैं ?

माँ के गर्भ में पल रहे शिशु के जन्म की प्रक्रिया को प्रेग्नेंसी डिलीवरी कहते हैं। डिलीवरी की विभिन्न तकनीकों में वेजाइनल या नॉर्मल डिलीवरी (normal or vaginal delivery), सिजेरियन डिलीवरी (caesarean delivery), वैक्युम एक्सट्रैकशन (vaccum extraction) और फोरसेप्स डिलीवरी (forceps delivery) शामिल हैं। चिकित्सक, माँ और बच्चे की सेहत और स्थिति को ध्यान में रखते हुए डिलीवरी की तकनीक चुनते हैं।

किन परिस्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी की जाती है ?

किन परिस्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी की जाती है ?

किन परिस्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी की जाती है ?

  • जब बच्चे का वज़न 2 किलो से कम हो।
  • जब माँ डायबिटीज़ जैसी किसी स्वास्थ्य समस्या से ग्रस्त ना हो।
  • जब डॉक्टर बच्चे के प्राकृतिक जन्म के लिए सकारात्मक जवाब दें।
  • जब माँ डिलीवरी में किसी मेडिकल प्रक्रिया का हस्तक्षेप नहीं चाहती हो।

Zealthy क्यों चुनें ?

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें