भारतमेंनॉर्मल डिलीवरीका हॉस्पिटल

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor

भारत में नॉर्मल डिलीवरी के लिए सबसे सर्वश्रेष्ठ अस्पताल कौन से हैं? Which are the best hospitals for normal delivery in India in hindi Normal prasav ke liye sabse achhe aspatal kaun se hote hain

नॉर्मल डिलीवरी के लिए सर्वश्रेष्ठ अस्पताल का चयन करना मुश्किल है। नॉर्मल डिलीवरी के लिए अस्पताल का चयन करते वक़्त अस्पताल की सुविधाओं पर जरूर ध्यान दें। सबसे अच्छे नॉर्मल डिलीवरी हॉस्पिटल में लेबर रूम, नर्स-सेवा, पीडियट्रीशियन, एनआईसीयू, इमर्जेंसी-ओटी, और एनेसथेलोजिस्ट (anesthesiologist) मौजूद होते हैं।

हमारे हॉस्पिटल

उपचार के हॉस्पिटल की अधिक जानकारी

भारत में नॉर्मल डिलीवरी के लिए सबसे सर्वश्रेष्ठ अस्पताल का चयन करते वक़्त क्या रखें ध्यान ? Hide

What to keep in mind while choosing the best hospitals for normal delivery in India in hindi

Normal prasav ke liye sabse achhe aspatal chunte waqt kya rakhe dhy

नॉर्मल डिलीवरी अस्पताल में कई तरह की सुविधाओं का मौजूद होना बेहद जरूरी है ताकि आपकी और आपके नवजात शिशु की सही देखभाल हो सके। ऐसे में जब आप डिलीवरी के लिए प्रसूति हॉस्पिटल की जानकारी इक्कठी करें या नॉर्मल डिलीवरी के लिए अस्पताल का चुनाव करें तो हॉस्पिटल से जुड़ी निम्न बातों पर जरूर ध्यान दें :

1. सामान्य प्रसव के लिए लेबर रूम (Labour room)

अस्पताल में लेबर रूम सबसे बहुमुखी कमरों में से एक होता है। इसे डिलीवरी रूम और रिकवरी रूम (LDR) भी कहा जाता है। यह कमरा लगभग हर जनाना अस्पताल में मौजूद होता है। लेबर डिलीवरी रूम में नॉर्मल डिलीवरी के वक़्त जरूरत पड़ने वाली सभी चीज़ें मौजूद होती हैं। किसी भी जनाना अस्पताल में लेबर रूम का मौजूद होना बेहद जरूरी है विशेष तौर पर नार्मल डिलीवरी के लिए।

2. सामान्य प्रसव के लिए मेडिकल स्टाफ की गुणवत्ता (Medical Staff)

एक अस्पताल वास्तव में अच्छा तभी हो सकता है, जब अस्पताल में अच्छे मेडिकल स्टाफ मौजूद हों। जब आप अस्पताल का दौरा करते हैं, तो मेडिकल स्टाफ से बात करें। उनके साथ आपकी सहभागिता अस्पताल के कर्मचारियों के साथ आपके आत्मविश्वास और आराम के स्तर को मापने में मदद करेगी।

नर्स या मेडिकल स्टाफ का व्यवहार इसलिए मायने रखता है क्योंकि प्रसव के दौरान उनकी सहायता की आवश्यकता पड़ती है और साथ ही बच्चे के जन्म के बाद भी आपकी और आपके बच्चे की देखभाल की ज़िम्मेदारी उनकी होती है। ऐसे में बेस्ट मैटरनिटी हॉस्पिटल भारत में तलाश करते वक़्त अस्पताल में मेडिकल स्टाफ की गुणवत्ता पर जरूर ध्यान दें।

3. सामान्य प्रसव के लिए एनआईसीयू की उपलब्धता (NICU)

अगर आपका बच्चा प्रीमैच्यौर या जन्म के बाद अस्वस्थ होता है, तो उसे विशेष चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता हो सकती है। ऐसी स्थिति को संभालने के लिए, आपकी पसंद के अस्पताल या नर्सिंग होम में एक नवजात गहन देखभाल इकाई (NICU - Neonatal intensive care unit) होनी चाहिए।

एनआईसीयू में बहुत छोटे या बीमार बच्चों की देखभाल के लिए विशेष रूप से प्रशिक्षित कर्मचारियों के साथ इनक्यूबेटर (incubators), फीडिंग ट्यूब (feeding tubes), फोटो थेरेपी लाइट ( phototherapy lights), श्वसन मॉनिटर ( respiratory monitors) और कार्डियक मॉनिटर (cardiac monitors) जैसे विशेष चिकित्सा उपकरण होने चाहिए।

4. सामान्य प्रसव के लिए शिशु रोग विशेषज्ञ की उपलब्धता (Child specialist doctor)

बच्चे के जन्म के बाद, बच्चे की स्थिति और स्वास्थ्य की जांच करने के लिए अस्पताल में शिशु रोग विशेषज्ञ का होना बहुत ज़रूरी होता है। शिशु रोग विशेषज्ञ ही शिशु के जन्म के 24 घंटे के अंदर अस्पताल में हेपेटाइटिस बी के टीके का पहला इंजेक्शन भी देते हैं। इसके साथ ही डिस्चार्ज के समय माता-पिता को बच्चे की देखभाल के लिए उपायों के बारे में बताते हैं और साथ ही आगे चलकर बच्चे को लगने वाले टीके (vaccination) की भी जानकारी देते हैं।

भारत में नॉर्मल डिलीवरी के लिए सर्वश्रेष्ठ अस्पताल का चयन किन कारकों के आधार पर करें? Show

Basis on what factors you should choose the best hospital for normal delivery in India in hindi

India mei normal delivery ke liye sabse achhe hospital ka chayan karn

गर्भवती स्त्री और उसके साथी को डिलीवरी से कुछ महीने पहले से अच्छे अस्पताल का चयन करना शुरू कर देना चाहिए। अगर आप भारत में हैं और आप सामान्य प्रसव के लिए अच्छा अस्पताल ढूंढने में लगी हैं तो कुछ कारकों के आधार पर आप अपने शहर में नार्मल डिलीवरी के लिए एक अच्छे हॉस्पिटल का चुनाव कर सकती हैं।

भारत में सामान्य डिलीवरी हॉस्पिटल चुनने से पहले रखें निम्न बातों का ध्यान :

1. कुशल महिला/स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर (Skilled lady doctor)

नार्मल डिलीवरी अस्पताल चुनते वक़्त यह जरूर ध्यान दें कि अस्पताल में मौजूद महिला रोग विशेषज्ञ कितनी कुशल है। ऐसे में आप ऑनलाइन डॉक्टर के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने का प्रयास कर सकते हैं या आप अस्पताल का दौरा कर सकते हैं और मेडिकल स्टाफ, शिशु रोग विशेषज्ञ और नर्सों से पूछताछ कर सकते हैं। इसके अलावा गायनी डॉक्टर का चयन करते समय, उनका रोगी के प्रति रवैया, रोगी की प्रतिक्रिया और सहजता पर भी ध्यान दें।

2. घर से अस्पताल की दूरी (Proximity)

अगर अस्पताल आपके घर से नज़दीक हो तो यह हमेशा आपके लिए सुविधाजनक और फ़ायदेमंद होगा। अगर अस्पताल आपके घर के करीब होगा तो आप लेबर पेन शुरू होने के शुरुआती क्षण में अस्पताल जल्दी और आसानी से पहुंच सकती हैं। ऐसे में अस्पताल का चयन करते समय इस बात का ख्याल रखना बहुत आवश्यक है।

3. विज़िटर के आने का समय (Visitor's arrival time)

प्रसूति हॉस्पिटल की जानकारी प्राप्त करते समय या सबसे अच्छे अस्पताल का चयन करते समय एक और ध्यान देने योग्य बात है हॉस्पिटल में विज़िटर के आने का समय। इस बात पर आपको ध्यान देने की आवश्यकता है कि क्या अस्पताल मरीज़ों से मिलने आने वाले विज़िटर को लेकर बहुत स्ट्रिक्ट रूल का पालन करता है या फिर फ्लेक्सिबल टाइमिंग प्रदान करता है। सख्त नियम के कारण इलाज के दौरान आपको परेशानी हो सकती है।

4. अस्पताल में साफ-सफाई (Hospital cleanliness)

चाहे आपकी डिलीवरी नार्मल होने वाली हो या फिर सी-सेक्शन, किसी भी स्थिति में अस्पताल की स्वच्छता और सफाई आपके और आपके बच्चे के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। अस्पताल का चयन करते समय, देखें कि वार्ड का कमरा कितना बड़ा है, बिस्तर आदि किस हालत में हैं, हवा और प्रकाश कमरे में ठीक से पहुंचते हैं या नहीं? यह निश्चित है कि आपको डिलीवरी के समय गोपनीयता की आवश्यकता होगी। यदि आप डिलीवरी के लिए गोपनीयता और व्यक्तिगत स्थान चाहते हैं, तो अपने डॉक्टर या नर्सिंग स्टाफ से पहले से बात करें।

नॉर्मल डिलीवरी के लिए डॉक्टर के पास कब जाएँ? Show

When to go to the doctor for normal delivery in hindi

Samanya prasav ke liye doctor ke paas kab jaye in hindi

गर्भाशय के सख्त हो जाने पर जब दर्द (पीरियड के दौरान ऐंठन) का अनुभव हो तो ये आपके लेबर में जाने का संकेत होता है। अगर आपको संकुचन (contractions) का अनुभव बहुत अधिक या नियमित हो रहा हो, तो आपके लेबर में जाने की सबसे अधिक संभावना तब बढ़ जाती है। इस स्थिति में आपको नॉर्मल डिलीवरी डॉक्टर से जल्द-से-जल्द मिलना चाहिए।

इसके अलावा अगर आपको पीठ के निचले हिस्से में दर्द और ऐंठन हो जो ठीक नहीं हो रही हो तो यह आपके संकुचन का भी हिस्सा हो सकता है। इस तरह का दर्द आमतौर पर आपकी पीठ में शुरू होता है और फिर आपके शरीर के सामने की ओर बढ़ता है। ये दर्द बच्चे के जल्द बाहर आने का संकेत हो सकता है पर इस स्थिति में आपको डिलीवरी के लिए डॉक्टर से जल्द मिलना चाहिए।

भारत में सामान्य प्रसव पैकेज की लागत कितनी है ? Show

What is the cost of normal delivery packages in India in hindi

Bharat mei samanya prasav package ki laagat kitni hai in hindi

प्रेग्नेंसी पैकेज को मैटरनिटी पैकेज भी कहते हैं। नॉर्मल डिलीवरी के पैकेज में गर्भावस्था के इस दौरान होने वाले डॉक्टर व सर्जन का ख़र्च, ओटी का खर्च व अस्पताल में स्टे का खर्च शामिल होता है। आमतौर पर सामान्य प्रसव पैकेज की लागत 25 हज़ार से लेकर 40 हज़ार तक होती है।

मैटरनिटी पैकेज का उद्देश्य है प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले विभिन्न ख़र्चों को संयुक्त रूप से एक पैकेज बनाना ताकि आपको इसके तहत प्रेगेंसी से जुड़ी सुविधाएं उचित लागत पर एक साथ मिल पाए। Zealthy आपको उपलब्ध कराता है सस्ते नॉर्मल डिलीवरी पैकेज यानि उचित खर्च पर बेहतरीन मैटरनिटी पैकेज। ज्यादा जानकारी के लिए अभी हमसे संपर्क करें।

और पढ़ें


Zealthy क्यों चुनें ?

informed decision making
service guarantee
financial assistance and best price
zealthy care
right

सही निर्णय में सहायक

  • tickपाएँ उपचार की पूरी जानकरी व उनके खर्च का उचित आकलन
  • tickअन्य पेशेंट के अनुभव और रिव्यू से पाएँ मदद
  • tickउचित डॉक्टर के चुनाव के लिए पाएँ मेडिकल एक्सपर्ट से स्वतंत्र सलाह
  • tickपाएँ प्रसिद्ध विशेषज्ञ डॉक्टर से अपने सवालों के जवाब

सर्विस की गारंटी

  • tickहमारे सभी डॉक्टर अनुभवी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षित हैं
  • tickहमारे सेंटर्स आधुनिक तकनीक व उपकरणों से लैस हैं
  • tickहमारे सभी उपचार अंतरराष्ट्रीय मानकों पर आधारित हैं
  • tickउपचार की दूसरी या तीसरी राय के लिए पाएँ एक्सपर्ट पैनल से सहायता

वित्तीय सहायता और उचित लागत

  • tickहम सभी उपचारों के लिए एक समान और उचित मूल्य के लिए प्रतिबद्ध हैं
  • tickउपचार की सस्ती दरों की गारंटी
  • tick0% इंटरेस्ट के साथ इंसटैंट मेडिकल लोन
  • tickसभी हेल्थ इंश्योरेंस के लिए सहायता

zealthy care

  • tickचिकित्सा के दौरान 24*7 समर्पित व्यक्तिगत समन्वयक सहायता
  • tickअनुभवी नुट्रीशनिस्ट और प्रशिक्षकों द्वारा आहार, व्यायाम, स्तनपान आदि के लिए कोचिंग
  • tickएक्टिव और इंगेजिंग महिला कम्यूनिटी से जुड़ें
  • tickपाएँ फ्री पोस्ट सर्जरी फॉलो-अप

नार्मल डिलीवरी या सामान्य प्रसव क्या है? What is normal delivery? in hindi Samanya prasav kya hai in hindi

नार्मल डिलीवरी को वेजाइनल डिलीवरी (vaginal delivery) भी कहा जाता है। यह डिलीवरी की एक प्रक्रिया है जिसमें प्राकृतिक रूप से बच्चे का योनि से जन्म होता है। इस प्रक्रिया में आमतौर पर किसी भी तरह की सर्जिकल या मेडिकल प्रक्रिया शामिल नहीं होती है। सी-सेक्शन (C-section) की तुलना में नार्मल डिलीवरी में जोखिम कम होता है और प्रसव के बाद माँ का शरीर जल्दी ही सामान्य हो जाता है। हालांकि नार्मल डिलीवरी में बच्चा पैदा करने के लिए माँ को बहुत दर्द से गुज़रना पड़ता है।


भारतमेंनॉर्मल डिलीवरीका खर्च

मूल्य दर

Rs20000-Rs50000

सामान्य प्रसव खर्च बेबी डिलीवरी के लिए चुनी गई सुविधा और माता-पिता की बीमा योजना पर निर्भर करती है। इसके साथ ही नॉर्मल डिलीवरी लागत अस्पताल के चयन, ट्रीटमेंट का चुनाव, माँ व बच्चे की सेहत जैसे अन्य कारणों पर निर्भर करती है। हालांकि, अमूमन सामान्य डिलीवरी की लागत 20,000 से 50,000 तक आ सकती है।


भारतमेंनॉर्मल डिलीवरीसे जुड़े प्रश्न

प्रेग्नेंसी डिलीवरी क्या है और डिलीवरी की विभिन्न तकनीकें क्या हैं ?Show

प्रेग्नेंसी डिलीवरी क्या है और डिलीवरी की विभिन्न तकनीकें क्या हैं ?

प्रेग्नेंसी डिलीवरी क्या है और डिलीवरी की विभिन्न तकनीकें क्या हैं ?

माँ के गर्भ में पल रहे शिशु के जन्म की प्रक्रिया को प्रेग्नेंसी डिलीवरी कहते हैं। डिलीवरी की विभिन्न तकनीकों में वेजाइनल या नॉर्मल डिलीवरी (normal or vaginal delivery), सिजेरियन डिलीवरी (caesarean delivery), वैक्युम एक्सट्रैकशन (vaccum extraction) और फोरसेप्स डिलीवरी (forceps delivery) शामिल हैं। चिकित्सक, माँ और बच्चे की सेहत और स्थिति को ध्यान में रखते हुए डिलीवरी की तकनीक चुनते हैं।

किन परिस्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी की जाती है ?Show

किन परिस्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी की जाती है ?

किन परिस्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी की जाती है ?

  • जब बच्चे का वज़न 2 किलो से कम हो।
  • जब माँ डायबिटीज़ जैसी किसी स्वास्थ्य समस्या से ग्रस्त ना हो।
  • जब डॉक्टर बच्चे के प्राकृतिक जन्म के लिए सकारात्मक जवाब दें।
  • जब माँ डिलीवरी में किसी मेडिकल प्रक्रिया का हस्तक्षेप नहीं चाहती हो।

भारतमेंनॉर्मल डिलीवरीके डॉक्टर्स

जो महिलाएं पहली बार प्रेग्नेंट होती हैं उनके मन में गर्भावस्था के लिए बेहतर डॉक्टर के चुनाव को लेकर संशय बरक़रार रहता है। सामान्य प्रसव के लिए चिकित्सक का चुनाव करते वक़्त महिला को काफ़ी सावधानी बरतनी चाहिए क्योंकि यह ना सिर्फ़ आपके लिए बल्कि आपके होने वाले बच्चे के लिए भी बेहद ज़रूरी है। ध्यान दें कि, अनुभवी प्रसूति विशेषज्ञ या गायनी डॉक्टर का ही चुनाव करें। अनुभवी डॉक्टर आपकी परेशानी को बेहतर रूप से समझ सकेंगी और आपके मेडिकल इतिहास को समझते हुए आपको उचित सलाह दे पाएँगी।



zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें