यह फ़ील्ड आवश्यक हैयह फ़ील्ड आवश्यक हैPlease enter 10 digit phone number

zealthy से संपर्क करने के लिए धन्यवाद

हमारी टीम आपको जल्द ही कॉल करेगी

भारतमेंआईवीएफका खर्च

मुझे उपचार की सही लागत जाननी है

पारदर्शिता व उचित आकलन के साथ हम आपको आपके उपचार का सही ख़र्च बताते हैं

i need to get the right cost for my treatment

भारत में टेस्ट ट्यूब बेबी (आईवीएफ) प्रक्रिया का खर्च कितना आता है ? IVF treatment cost in India in hindi IVF treatment ki lagat kitni hai in hindi

मूल्य दर

Rs100000-Rs200000

चिकित्सीय विज्ञान में, इन विट्रो फ़र्टिलाइज़ेशन यानी आईवीएफ (IVF) तकनीक उन महिलाओं के लिए वरदान है जो माँ बनने की चाह रखते हुए भी गर्भावस्था का सुख नहीं ले पाती है। आईवीएफ तकनीक यानि टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया बांझपन के उपचार में काफी कारगर साबित हो रही है। टेस्ट ट्यूब बेबी की प्रक्रिया लम्बी होने के साथ-साथ महंगी भी होती है, भारत में IVF उपचार का खर्च लगभग 80, 000 रुपये से लेकर 1,50,000 तक आ सकता है।

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

उपचार के खर्च के बारे में अधिक जानें

भारत में टेस्ट ट्यूब बेबी/आईवीएफ प्रक्रिया में कौन कौन-से खर्च शामिल होते हैं ? Hide

What type of expenses are covered in IVF cost in India in hindi

IVF treatment ki prakriya mein kon kon se kharch shamil hai in hindi

यूं तो आईवीएफ उपचार के हर चक्र में क्या शामिल होगा और क्या नहीं, यह डॉक्टर, क्लिनिक, मरीज़ के स्वास्थ्य पर निर्भर करता है। मगर आमतौर पर आईवीएफ उपचार की लागत में प्रक्रिया के दौरान ओवेरियन स्टिमुलेशन का खर्च, अल्ट्रासाउंड परीक्षण व मॉनिटरिंग का खर्च, एग रिट्रीवल का खर्च, स्पर्म प्रीपरेशन का खर्च, फर्टिलाइजेशन और एम्ब्र्यो ट्रांसफर का खर्च शामिल होता है।

IVF उपचार के दौरान होने वाले खर्च इस प्रकार हैं :

आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए ओवरियन स्टिमुलेशन

ओवरियन स्टिमुलेशन आईवीएफ ट्रीटमेंट का पहला चरण है। इस चरण में गर्भाशय को उत्तेजित करने के लिए महिला को 8 से 12 दिनों तक इंजेक्शन दिया जाता है, ताकि अधिक अंडों का उत्पादन हो सके। इस दौरान दिये जाने वाले इंजेक्शन, महिला की स्थिति के अनुसार भिन्न हो सकते हैं, जिसका खर्च IVF लागत में शामिल होता है।

आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए अल्ट्रासाउंड परीक्षण और मॉनिटरिंग

अल्ट्रासाउंड के माध्यम से महिला के गर्भाशय और अंडाशय के विकास की निगरानी की जाती है ताकि सही समय पर आगे की आईवीएफ प्रक्रिया और चरणों को पूरा किया जा सके जो आईवीएफ के सफल होने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आईवीएफ उपचार में अल्ट्रासाउंड और मॉनिटरिंग का खर्च भी शामिल होता है।

आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए अंडा निकालना

IVF ट्रीटमेंट में एग रिट्रीवल की लागत भी शामिल होती है। टेस्ट ट्यूब बेबी प्रक्रिया के इस चरण में महिला के गर्भाशय से अंडे को बाहर निकाला जाता है जो बहुत ही सावधानीपूर्वक किया ज़रूरी होता है। इसके लिए महिला को बेहोश किया जाता है और सुई एवं कैथिटर (catheter) जैसे उपकरणों की मदद अंडे को बाहर निकाला जाता है, जिसमें 20-30 मिनट का समय लग सकता है।

आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए शुक्राणु को तैयार करना

आईवीएफ सेंटर या क्लिनिक में महिला के अंडे से भ्रूण बनाने के लिए उपयोग किये जाने वाले शुक्राणुओं को एक ख़ास प्रक्रिया के माध्यम से साफ किया जाता है, जिससे सबसे स्वस्थ शुक्राणुओं को अलग कर लिया जाता है। इस प्रक्रिया को 'स्पर्म वॉश' कहते हैं। हालांकि, स्पर्म वॉश की प्रक्रिया अस्पताल के तकनीक के अनुसार भिन्न हो सकती है। इसका खर्च आईवीएफ उपचार के लिए होने वाले खर्च में शामिल जरूर होता है मगर यह खर्च अस्पताल दर-दर भिन्न हो सकता है।

आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए प्रजनन एवं निषेचन की प्रक्रिया

प्रयोगशाला में भ्रूण बनाने की प्रक्रिया के लिए अंडे और स्वस्थ शुक्राणुओं को एक साथ मिलाया जाता है जिसकी जांच कम से कम 16 से 20 घंटों के बाद की जाती है। इस जांच से यह पता चलता है कि निषेचन की प्रक्रिया सफल हुई है या नहीं। फर्टिलाइजेशन के बाद, विकास को सुनिश्चित करने के लिए एम्ब्र्यो को पांच-छह दिन तक प्रयोगशाला में रखा जाता है। इस पूरी प्रक्रिया का खर्च भी आईवीएफ के खर्च में शामिल होता है।

आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए भ्रूण स्थानातंरण की प्रक्रिया

आईवीएफ ट्रीटमेंट के आखिरी चरण में प्रयोगशाला में विकसित भ्रूण को सही समय पर एक पतली कैथेटर ट्यूब की मदद से महिला के गर्भ में स्थानांतरित किया जाता है। आईवीएफ के लागत में एम्ब्र्यो ट्रांसफर का खर्च भी शामिल होता है।

इन मुख्य चरणों के अलावा उपयोग में लायी जाने वाली दवाओं का खर्च, किये जाने वाले परीक्षण, इंजेक्शन, एनेस्थिसिया (anaesthesia), शैल्य क्रिया के माध्यम से की जाने वाली प्रक्रिया (procedures through operation) व उससे जुड़े उपकरणों का kharch और भ्रूण को रखने की जगह की लागत भी शामिल होती है जो क्लिनिक, डॉक्टर पर निर्भर करती है।

भारत में टेस्ट ट्यूब बेबी (आईवीएफ) प्रक्रिया की एक साईकिल की प्रक्रिया में शामिल न होने वाले खर्च क्या हैं ? Show

What are the costs which are not covered in one cycle of IVF treatment in hindi

IVF ki pehli cycle mein naa hone wala kharch kaun se hain in h

आईवीएफ के पहले चक्र की लागत में निम्न खर्च शामिल नहीं होते हैं, इनके लिए आपको अलग से भुगतान करना पड़ता है :

  • आईवीएफ के द्वारा गर्भधारण की प्रक्रिया में भावी माता-पिता दोनों की ही कई प्रकार की जांच की जाती है जैसे खून की जांच, महिला के अंडाशय (ovary) की जांच, पुरुष के शुक्राणु (sperms) की जांच आदि। ये जांच आईवीएफ उपचार के खर्च में शामिल नहीं होती है।
  • आईवीएफ की प्रक्रिया के चक्र में उपयोग किये जाने वाले डोनर विकल्प जैसे शुक्राणु, अंडे अथवा भ्रूण डोनर के खर्च आईवीएफ के पहले चक्र के खर्च में शामिल नहीं होते हैं।
  • डिम्बग्रंथि उत्तेजना (ovarian simulation) से पहले या बाद में किसी भी प्रकार की दवाओं या परीक्षण जैसे हिस्टेरोस्कोपी (hysteroscopy) या लैप्रोस्कोपी (laproscopy) में होने वाले खर्च भी आईवीएफ के पहले चक्र की लागत में शामिल नहीं होते है।
  • शुक्राणु निष्कर्षण (sperm extraction) अथवा स्पर्म रिकवरी (sperm recovery) के लिए की जाने वाली प्रक्रिया जैसे टेसा (TESA), मेसा (MESA), पेसा (PESA), टेसे (TESE) आदि में होने वाले खर्च आईवीएफ के पहले चक्र की लागत में शामिल नहीं होते है।
  • इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन (in vitro fertilisation) के लिए उपयोग की जाने वाली उन्नत प्रक्रियाएँ (advanched procedures) जैसे आईसीएसआई (ICSI), आईएमएसआई (IMSI) आदि में होने वाले खर्च भी IVF के पहले चक्र की लागत में शामिल नहीं होते हैं।
  • आरोपण (implantation) से पहले भ्रूण के किसी भी प्रकार के आनुवंशिक परीक्षण जैसे पीजीडी (PGD), पीजीएस (PGS) आदि में होने वाले खर्च भी आईवीएफ के पहले चक्र की लागत शामिल नहीं होते है।
  • भ्रूण के स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए की जाने वाली प्रक्रिया जैसे असिस्टेड हैचिंग (assisted hatching), ईआरए (ERA) आदि में होने वाले खर्च भी आईवीएफ के पहले चक्र के खर्च में शामिल नहीं होते हैं।
  • क्रायोप्रिजर्वेशन (cryopreservation) के विकल्प जैसे शुक्राणु, अंडे या भ्रूण फ्रीजिंग में होने वाले खर्च भी IVF के पहले चक्र की लागत में शामिल नहीं होते हैं।
  • सरोगेसी के माध्यम से आईवीएफ करवाने पर सरोगेट मदर पर होने वाले खर्च भी आईवीएफ के पहले चक्र की खर्च में शामिल नहीं होते है।
  • प्रसूति एवं गर्भावस्था के समय देखभाल एवं परीक्षणों में होने वाले खर्च भी IVF के पहले चक्र की लागत शामिल नहीं होते है।

लेकिन आईवीएफ ट्रीटमेंट का निर्णय लेने से पहले महिला एवं उसके परिवार को अपने डॉक्टर से इससे जुड़े हर छोटे खर्च के बारे में बिना हिचकिचाहट के जानकारी ले लेनी चाहिए। आपको

अपने डॉक्टर से यह ज़रूर पूछना चाहिए कि आईवीएफ उपचार के एक चक्र में कितना खर्च होगा और यदि पहली बार में सफलता नहीं मिलती है तो आगे की उपचार प्रक्रिया में कितना ख़र्च हो सकता है।

भारत में टेस्ट ट्यूब बेबी (आईवीएफ) प्रक्रिया के पहले किए जाने वाले टेस्ट के साथ आईवीएफ प्रक्रिया की लागत कितनी है ? Show

What is the cost of IVF with screening tests required before starting IVF treatment

IVF treatment shuru karne se pehle kiye jaane wale

आईवीएफ ट्रीटमेंट चिकित्सक, आईवीएफ प्रक्रिया करने से पहले स्त्री और पुरुष की कई तरह की जांच करवाते हैं जिससे उनके स्वास्थ्य से जुड़ी हर जानकारी पता चल पाए। इसके अनुसार आईवीएफ की प्रक्रिया में कौन-सा तरीका और लगभग कितने चक्रों में सफलता प्राप्त होगी इसका अनुमान लगाया जाता है। औसतन, आईवीएफ की साइकिल शुरू करने से पहले करवाए जाने वाले परीक्षणों में 3000 से लेकर 6000 तक का ख़र्च आता है।

भारत में टेस्ट ट्यूब बेबी (आईवीएफ) प्रक्रिया से पहले महिलाओं के लिए अनुशंसित परीक्षण के साथ आईवीएफकी लागत कितनी है ? Show

What is the cost of IVF with recommended tests for women before IVF in hindi

IVF se pehle mahilaon ke liye recommended tests in hindi

आईवीएफप्रक्रिया से पहले महिलाओं के लिए अनुशंसित परीक्षण में संक्रामक रोग स्क्रीन (infectious disease screening), एफएसएच (FSH), एलएच (LH), टीएसएच (TSH), प्रोलैक्टिन (Prolactin) आदि जैसे हार्मोन परीक्षण, पेल्विक या योनि का अल्ट्रासाउंड, हिस्टेरोस्लिंग्पम (Hysterosalpingogram), आवश्यकता होने पर नैदानिक हिस्टेरोस्कोपी या लैप्रोस्कोपी और पारिवारिक इतिहास के आधार पर कुछ आनुवंशिक परीक्षण शामिल हैं।

यह ध्यान रखने योग्य बात है कि आईवीएफ के चक्र में लगने वाली लागत में इन परीक्षणों का खर्च शामिल नहीं होता है यानि यह अलग से होने वाला ख़र्च है। साथ ही हर महिला को ध्यान रखना चाहिए कि हर किसी को यह सारे परीक्षण नहीं करवाने पड़ते। ये महिला के स्वास्थ्य एवं मेडिकल इतिहास पर निर्भर करते हैं।

और पढ़ें


Zealthy क्यों चुनें ?

informed decision making
service guarantee
financial assistance and best price
zealthy care
right

सही निर्णय में सहायक

  • tickपाएँ उपचार की पूरी जानकरी व उनके खर्च का उचित आकलन
  • tickअन्य पेशेंट के अनुभव और रिव्यू से पाएँ मदद
  • tickउचित डॉक्टर के चुनाव के लिए पाएँ मेडिकल एक्सपर्ट से स्वतंत्र सलाह
  • tickपाएँ प्रसिद्ध विशेषज्ञ डॉक्टर से अपने सवालों के जवाब

सर्विस की गारंटी

  • tickहमारे सभी डॉक्टर अनुभवी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षित हैं
  • tickहमारे सेंटर्स आधुनिक तकनीक व उपकरणों से लैस हैं
  • tickहमारे सभी उपचार अंतरराष्ट्रीय मानकों पर आधारित हैं
  • tickउपचार की दूसरी या तीसरी राय के लिए पाएँ एक्सपर्ट पैनल से सहायता

वित्तीय सहायता और उचित लागत

  • tickहम सभी उपचारों के लिए एक समान और उचित मूल्य के लिए प्रतिबद्ध हैं
  • tickउपचार की सस्ती दरों की गारंटी
  • tick0% इंटरेस्ट के साथ इंसटैंट मेडिकल लोन
  • tickसभी हेल्थ इंश्योरेंस के लिए सहायता

zealthy care

  • tickचिकित्सा के दौरान 24*7 समर्पित व्यक्तिगत समन्वयक सहायता
  • tickअनुभवी नुट्रीशनिस्ट और प्रशिक्षकों द्वारा आहार, व्यायाम, स्तनपान आदि के लिए कोचिंग
  • tickएक्टिव और इंगेजिंग महिला कम्यूनिटी से जुड़ें
  • tickपाएँ फ्री पोस्ट सर्जरी फॉलो-अप

आईवीएफ क्या है? What is IVF/ In vitro fertilisation in hindi IVF/In vitro fertilisation kya hain in hindi

आईवीएफ ट्रीटमेंट यानि इन-विट्रो-फर्टिलाइज़ेशन, गर्भधारण की एक आर्टिफिशयल (artificial) सहायक प्रजनन प्रकिया है। आईवीएफ प्रक्रिया को फर्टिलिटी ट्रीटमेंट (fertility treatment) के नाम से भी जाना जाता है। जिन माता-पिता को प्राकृतिक तरीके से गर्भधारण करने में समस्या आती है उनके लिए आईवीएफ यानि टेस्ट ट्यूब बेबी की प्रक्रिया बेहद कारगर है। इसके अलावा ये सिंगल मदर, सिंगल फ़ादर या समलैंगिक जोड़ों (जिन्हें बच्चे की चाह है) के लिए भी सहायक है।

आईवीएफ उपचार के दौरान परिपक्व अंडे (एग), अंडाशय से एकत्र किए जाते हैं और प्रयोगशाला में शुक्राणु (स्पर्म) द्वारा फर्टिलाइज होते हैं। फिर फर्टिलाइज्ड अंडे यानि भ्रूण (embryo) को गर्भाशय में गर्भधारण के लिए ट्रांसप्लांट किया जाता है। आईवीएफ के एक साइकल में लगभग तीन सप्ताह लगते हैं। कुछ मामलों में आईवीएफ के एक चक्र में अधिक समय भी लग सकता है।आईवीएफ उपचार असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी (assisted reproductive technology-ART) का सबसे प्रभावी रूप है। आईवीएफ तकनीक की मदद से कपल अपने ख़ुद के एग और स्पर्म के जरिये बच्चे को जन्म दे सकते हैं। इसके अलावा आईवीएफ की प्रक्रिया में डोनर के एग, स्पर्म या एम्ब्र्यो की मदद से भी गर्भधारण किया जा सकता है। कुछ मामलों में, एक गर्भावधि वाहक यानि सरोगेट मदर (surrogate mother) भी आईवीएफ उपचार में सहायक होती है।


भारतमेंआईवीएफके डॉक्टर्स

बांझपन के इलाज़ के लिए आपको मेल इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट या फिर फ़ीमेल इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट की जरूरत हो, एक बेस्ट इंफर्टिलिटी डॉक्टर की तलाश करना अपने आप में चुनौतीपूर्ण है। इंफर्टिलिटी की समस्या से गुज़र रहे लोगों को कई कठिन मेडिकल निर्णयों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी स्थिति में दोस्तों, परिवार, इंटरनेट और अन्य जगहों से भी मिलने वाली जानकारी आपको कंफ्यूज कर सकती हैं।

ऐसे में ये बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है कि इंफर्टिलिटी की समस्या का सामना कर रहें लोग सबसे उपयुक्त बांझपन उपचार के डॉक्टर की तलाश करें। अगर आप आईवीएफ ट्रीटमेंट के लिए IVF गर्भावस्था स्पेशलिस्ट डॉक्टर का चयन कर रहे हैं तो आपको कई बातों का ध्यान रखना चाहिए।

IVF गर्भावस्था स्पेशलिस्ट डॉक्टर का चुनाव करते वक़्त निम्न बातों को रखें ध्यान :

  • शीर्ष IVF विशेषज्ञ एमबीबीएस के बाद स्पेशलाइजेशन गायनोक्लोजी में करते हैं और फिर आर्ट (असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्निक्स) में आगे ट्रेनिंग लेते हैं। बांझपन उपचार चिकित्सक का चुनाव करते वक़्त डॉक्टर की डिग्री क्या-क्या हैं, इस बात का ज़रूर ख्याल रखें।
  • आईवीएफ स्पेशलिस्ट के पास फर्टिलिटी और आईवीएफ प्रक्रियाओं के उपचार में कितना अनुभव है।
  • फ़र्टिलिटी स्पेशलिस्ट के चयन से पहले जानें कि उनका सक्सेस रेट क्या है।
  • यह ज़रूर पता करें कि आईवीएफ स्पेशलिस्ट डॉक्टर के बारे में मरीज़ों की क्या राय है और डॉक्टर का व्यवहार कैसा है। क्योंकि यदि डॉक्टर के साथ आप सहज नहीं है तो इलाज करवाना मुश्किल हो सकता है।
  • क्या बांझपन उपचार के डॉक्टर आपके सभी शंकाओं को दूर कर रहें हैं।
  • क्या IVF गर्भावस्था स्पेशलिस्ट डॉक्टर आपसे भावनात्‍मक रूप से जुड़ रहें हैं और आपको सिर्फ पैसा कमाने का जरिए के रूप में तो नहीं देख रहें।

ये भी देखें कि आपके आईवीएफ स्पेशलिस्ट आईवीएफ ऑनलाइन परामर्श देते हैं या नहीं।


भारतमेंआईवीएफका हॉस्पिटल

आमतौर पर देखा गया है कि आईवीएफ गर्भावस्था के लिए बेस्ट हॉस्पिटल या क्लीनिक का चयन करने में कपल्स ऐसे क्लीनिक का चयन करते हैं जो उनके घर के आस-पास होता है, जिसका खर्च कम होता है या फिर उनके किसी जानकर ने वहां इलाज करवाया हो। लेकिन आपको ये याद रखना होगा सभी आईवीएफ क्लीनिक समान रूप से अच्छे नहीं होते हैं। आईवीएफ गर्भावस्था के लिए बेस्ट हॉस्पिटल के चयन के दौरान कई बातों को जानना जरूरी है।

आईवीएफ फ़र्टिलिटी सेंटर का चयन करते वक़्त निम्न बातों का रखें ध्यान :

  • आईवीएफ (IVF) फ़र्टिलिटी सेंटर की सुविधाएं कैसी हैं।
  • सुनिश्चित करें कि IVF केंद्र में आईवीएफ उपचार की एक विस्तृत श्रृंखला है और नवीनतम तकनीक हैं या नहीं।
  • हॉस्पिटल में मान्यता प्राप्त डॉक्टर है या नहीं।
  • क्या आपको आईवीएफ संबंधित सभी जानकारियाँ खुल कर दी जा रही हैं और आपके सभी सवालों के जवाब सही से दिए जा रहे हैं।
  • उपचार में क्या खर्च होता है और किन परिस्थियों में खर्च कम या ज्यादा हो सकता है, इसकी जानकारी भी डिटेल्स में दी जा रहीं हैं या नहीं।
  • साथ ही IVF से प्रेगनेंसी ट्रीटमेंट के क्लिनिक के सक्सेस रेट या हॉस्पिटल की गर्भावस्था दर के बारे में जानें।
  • आईवीएफ क्लीनिक की जानकारी गुप्त रखने की पॉलिसी क्या हैं।
  • हॉस्पिटल के पास एग फ्रीजिंग,भ्रूण फ्रीजिंग, स्पर्म फ्रीजिंग की सुविधा है या नहीं।
  • हॉस्पिटल की अपनी खुद की लैब है या नहीं।

संभव हो तो वहां पहले से फर्टिलिटी का इलाज करवा रहे लोगों की राय ज़रुर लें।


भारतमेंआईवीएफसे जुड़े प्रश्न

आईवीएफ़ क्या है और इसकी प्रक्रिया कैसे होती है ?Show

आईवीएफ़ क्या है और इसकी प्रक्रिया कैसे होती है ?

आईवीएफ़ क्या है और इसकी प्रक्रिया कैसे होती है ?

आईवीएफ़ गर्भधारण के लिए की जाने एक मेडिकल और सर्जिकल प्रकिया है जिसके तहत कृत्रिम तरीके से एग, स्पर्म के साथ फर्टिलाइज होते हैं। इसके बाद फर्टिलाइज्ड एग यानि एम्ब्र्यो को महिला के गर्भाशय में डाल दिया जाता है ताकि वह विकास कर सके और शिशु का रूप ले सके।

क्या IVF में गर्भावस्था की संभावना उम्र पर निर्भर करती है ?Show

क्या IVF में गर्भावस्था की संभावना उम्र पर निर्भर करती है ?

क्या IVF में गर्भावस्था की संभावना उम्र पर निर्भर करती है ?

आईवीएफ़ साइकल में उम्र सबसे महत्वपूर्ण कारक है। आईवीएफ़ प्रक्रिया से गर्भधारण की संभावना 35 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं में अधिक होती है। वहीं 35 वर्ष से अधिक उम्र के बाद गर्भधारण की संभावना बेहद कम होती चली जाती है।


zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें