पाएँ मुफ्त कंसल्टेशन

उपचार चुनें

चुनें

*हम निश्चित ही अगले 24 घंटे में आपसे संपर्क करेंगे

भारत में सीजर डिलीवरी ऑपरेशन (ऑपरेशन डिलीवरी)

भारत में सीजर डिलीवरी ऑपरेशन की पूरी जानकारी। यहाँ जानें, ऑपरेशन डिलीवरी से जुड़े फायदे, जोखिम, सावधानियां, डाइट टिप्स, योग व व्यायाम टिप्स आदि।

उपचार की अवधि : 6-18 घंटे

उपचार का प्रकार : डिलीवरी

services
services

भारत में सिजेरियन सेक्शन के बारे में अधिक जानें


सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन क्या है?

What is cesarean delivery operation? in hindi

Kya hai cesarean delivery in hindi

सी-सेक्शन, डिलीवरी की एक प्रक्रिया है जिसमें बच्चे की डिलीवरी सर्जरी द्वारा की जाती है। जब योनि प्रसव किसी कारण से सुरक्षित नहीं होती है, तो डॉक्टर प्रसव की इस पद्धति की सिफ़ारिश करते हैं। गर्भावस्था के 39वें हफ्ते से पहले सिजेरियन प्रसव को आमतौर पर टाला जाता है ताकि बच्चे को गर्भ में विकसित होने का पूरा समय मिल सके। हालांकि कभी-कभी जटिलताएं (complications) पैदा होने पर 39वें हफ्ते से पहले भी सिजेरियन डिलीवरी की जाती है।

सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन किन परिस्थितियों में की जाती है ?

Under what circumstances C-section delivery is done in hindi

C-section delivery kyun ki jati hai (सिजेरियन बेबी) in hindi

सिजेरियन डिलीवरी आमतौर पर तब की जाती है, जब गर्भावस्था के दौरान होने वाली जटिलताएं योनि के माध्यम से बच्चे के जन्म को मुश्किल बनाती हैं।

सिजेरियन डिलीवरी होने के क्या कारण है :

  • शिशु को विकास संबंधित समस्या हो
  • शिशु का सिर बर्थ केनाल के लिए बहुत बड़ा है
  • जब गर्भाशय में शिशु की मुद्रा ब्रीच पोज़िशन में हो
  • गर्भावस्था की शुरुआती जटिलताओं की स्थिति में
  • माँ की स्वास्थ्य समस्याएं, जैसे उच्च रक्तचाप या अस्थिर हृदय रोग
  • माँ को अगर सक्रिय जननांग दाद (genital herpes) हो, (बच्चे को इन्फेक्शन का ख़तरा)
  • अगर पहले भी सी-सेक्शन हुआ हो
  • गर्भनाल से जुड़ी समस्या की स्थिति में
  • बेबी को ऑक्सीजन सही तरीके से न मिल रहा हो
  • अगर बच्चा ट्रांस्वर्स स्थिति में या ब्रीच पोज़िशन में हो
  • अगर समस्या प्लेसेंटा से जुड़ी हो जैसे प्लेसेंटा प्रीविया (placenta previa) या प्लेसेंटा अब्रप्शन (placenta abruption)
  • गर्भ में दो या दो से ज़्यादा शिशु हों

क्या आप सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन का अनुरोध कर सकते हैं ?

Can you request a cesarean delivery operation in hindi

Kya aap c-section delivery ka anurodh kar sakti hain in hindi

अगर आप पहली बार माँ बनने जा रही हैं तो आप सिजेरियन डिलीवरी के लिए अनुरोध कर सकती हैं। दरअसल पहली बार माँ बनने वाली महिला को नार्मल डिलीवरी में घंटों होने वाले दर्द और योनि के माध्यम से बच्चे को जन्म देने को लेकर डर बना रहता है। ऐसे में आप सी-सेक्शन डिलीवरी का अनुरोध कर सकती हैं।

और पढ़ें

भारत में सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन का खर्च

जानें, भारत में सिजेरियन डिलीवरी के खर्च की पूरी जानकारी। डिलीवरी ऑपरेशन की लागत का करें आकलन और पाएं उपचार का उचित मूल्य।

सिजेरियन सेक्शन उपचार का भारत में खर्च

निम्नतम लागत

उच्चतम लागत

25,0001,00,000

भारत में बेस्ट स्त्री रोग विशेषज्ञ गायनेकोलॉजिस्ट

भारत में सर्वश्रेष्ठ स्त्री रोग विशेषज्ञ की लिस्ट से चुनें सीजर डिलीवरी ऑपरेशन के लिए अनुभवी व नज़दीकी बेस्ट डॉक्टर। पाएं ऑपरेशन डिलीवरी के डॉक्टर की पूरी जानकारी।

चिकित्सा विशेषज्ञ से निःशुल्क परामर्श

Dr Priyankaऔर टीम

सिजेरियन सेक्शन स्पेशलिस्ट

Zealthy एक्सपर्ट

चिकित्सा विशेषज्ञ सेमुफ्तपरामर्श

अभी उपलब्ध है

1000+मरीजों का अनुभव

अभी संपर्क करें

* यह चिकित्सकीय परामर्श नहीं है

services
services

भारत में बेस्ट सीजर ऑपरेशन डिलीवरी हॉस्पिटल

भारत में बेस्ट सीजर ऑपरेशन डिलीवरी हॉस्पिटल की लिस्ट से चुनें सभी सुविधाओं व आधुनिक उपकरणों से लैस अस्पताल। पाएं ऑपरेशन डिलीवरी हॉस्पिटल की जानकारी।

चिकित्सा विशेषज्ञ से निःशुल्क परामर्श

Dr Nikitaऔर टीम

सिजेरियन सेक्शन स्पेशलिस्ट

Zealthy एक्सपर्ट

चिकित्सा विशेषज्ञ सेमुफ्तपरामर्श

अभी उपलब्ध है

1200+मरीजों का अनुभव

अभी संपर्क करें

* यह चिकित्सकीय परामर्श नहीं है

भारत में सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन से जुड़े सवाल

भारत में क्या है सिजेरियन डिलीवरी की लागत, डिलीवरी ऑपरेशन के लिए सबसे अच्छे डॉक्टर व हॉस्पिटल कौन से हैं? सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन से जुड़े सवाल व जवाब

ask-expert_banner

सी-सेक्शन क्या है?

सीजेरियन डिलीवरी (Caesarean delivery), सी-सेक्शन के नाम से भी जानी जाती है। यह एक डिलीवरी की तकनीक है जिसके तहत सर्जरी व मेडिकल प्रक्रिया के द्वारा शिशु का जन्म होता है।

सी-सेक्शन कब किया जाता है?

सिजेरियन डिलीवरी कई कारणों से की जाती है :

  • यदि महिला की पहली डिलीवरी सी-सेक्शन द्वारा की गयी हो
  • यदि बच्चा ब्रीच की स्थिति में हो
  • अगर बच्चा बहुत बड़ा हो
  • अगर माँ प्रसव में किसी मेडिकल प्रक्रिया का हस्तक्षेप नहीं चाहती हो
  • अगर माँ को को हृदय रोग, मधुमेह, उच्च रक्तचाप या किडनी की बीमारी हो
  • यदि एमनियोटिक द्रव (amniotic fluid) कम हो
  • यदि मां 12 घंटे से अधिक समय से प्रसव पीड़ा में है और बच्चे की धड़कन कम हो रही हो
  • यदि माँ जुड़वाँ या तीन बच्चों से गर्भवती हो
  • यदि प्लेसेंटा प्रॉब्लेम्स के साथ गर्भवती माँ को प्रसव पीड़ा होने लगे

इन सभी स्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी, माँ और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकती है।

मैं सिजेरियन डिलीवरी की तैयारी कैसे करूँ?

सी-सेक्शन की तैयारी बहुत हद तक नॉर्मल डिलीवरी की तैयारी जैसी ही होती है। आपको अस्पताल के लिए एक बैग पैक करना होगा और बच्चे के जन्म के बाद के लिए एक योजना तैयार करनी होगी। आपके डॉक्टर समय से पहले आपके साथ दर्द प्रबंधन विकल्पों पर भी चर्चा करेंगे। अगर यह एक शेड्यूल सी-सेक्शन है, तो आपको एक रात पहले कुछ खाने से मनाही होगी। उपचार से पहले डॉक्टर आमतौर पर आपसे सहमति फॉर्म पर हस्ताक्षर करने के लिए कहेंगे।

काश! नहीं, प्रयास करें!

अधूरे सपने को पूरा करने के लिए हमपर विश्वास करें!

प्राथमिक अपॉइंटमेंट के साथ बेस्ट फर्टिलिटी उपचार

प्राथमिक अपॉइंटमेंट के साथ बेस्ट फर्टिलिटी उपचार

बेस्ट फर्टिलिटी उपचार के लिए, हमसे जुड़े 15,000+ फर्टिलिटी विशेषज्ञ के साथ पाएं प्राथमिक अपॉइंटमेंट।

24/7 व्यक्तिगत और बेहतर केयर सपोर्ट

24/7 व्यक्तिगत और बेहतर केयर सपोर्ट

उपचार के दौरान 24/7 उपलब्ध रहने वाली हमारी केयर टीम के द्वारा हर फर्टिलिटी केस को अच्छी तरह समझा और निर्देशित किया जाता है

वित्तीय सहायता और सस्ती दरों पर उपचार

वित्तीय सहायता और सस्ती दरों पर उपचार

पूरी पारदर्शिता के साथ लागत-प्रभावी उपचार देने का आश्वासन और जरुरत पड़ने पर 0% इंटरेस्ट दर पर लोन दिया जाता है

services
services

आर्टिकल्स

गर्भावस्था और अल्ट्रासाउंड : क्या है महत्ता?

अल्ट्रासाउंड एक अत्याधुनिक स्कैन टेक्निक (scan technique) है जिसके द्वारा गर्भ में पल रहे बच्चे की स्थिति और उसके विकास की जानकारी प्राप्त की जाती है।...और पढ़ें

Dr Suparna Bhattacharya

24 Mar, 2019