भारतमेंसिजेरियन सेक्शन

Cesarean delivery operation | Zealthy banner

क्या है सिजेरियन डिलीवरी ? What is caesarean delivery in hindi Kya hai caesarean delivery in hindi

सी-सेक्शन, डिलीवरी की एक प्रक्रिया है जिसमें बच्चे की डिलीवरी सर्जरी द्वारा की जाती है। जब योनि प्रसव किसी कारण से सुरक्षित नहीं होती है, तो डॉक्टर प्रसव की इस पद्धति की सिफ़ारिश करते हैं। गर्भावस्था के 39वें हफ्ते से पहले सिजेरियन प्रसव को आमतौर पर टाला जाता है ताकि बच्चे को गर्भ में विकसित होने का पूरा समय मिल सके। हालांकि कभी-कभी जटिलताएं (complications) पैदा होने पर 39वें हफ्ते से पहले भी सिजेरियन डिलीवरी की जाती है।

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor

उपचार के बारे में अधिक जानें

सी-सेक्शन डिलीवरी किन परिस्थितियों में की जाती है ? Hide

Under what circumstances C-section delivery is done in hindi

C-section delivery kyun ki jati hai (सिजेरियन बेबी) in hindi

सिजेरियन डिलीवरी आमतौर पर तब की जाती है, जब गर्भावस्था के दौरान होने वाली जटिलताएं योनि के माध्यम से बच्चे के जन्म को मुश्किल बनाती हैं।

सिजेरियन डिलीवरी होने के क्या कारण है :

  • शिशु को विकास संबंधित समस्या हो
  • शिशु का सिर बर्थ केनाल के लिए बहुत बड़ा है
  • जब गर्भाशय में शिशु की मुद्रा ब्रीच पोज़िशन में हो
  • गर्भावस्था की शुरुआती जटिलताओं की स्थिति में
  • माँ की स्वास्थ्य समस्याएं, जैसे उच्च रक्तचाप या अस्थिर हृदय रोग
  • माँ को अगर सक्रिय जननांग दाद (genital herpes) हो, (बच्चे को इन्फेक्शन का ख़तरा)
  • अगर पहले भी सी-सेक्शन हुआ हो
  • गर्भनाल से जुड़ी समस्या की स्थिति में
  • बेबी को ऑक्सीजन सही तरीके से न मिल रहा हो
  • अगर बच्चा ट्रांस्वर्स स्थिति में या ब्रीच पोज़िशन में हो
  • अगर समस्या प्लेसेंटा से जुड़ी हो जैसे प्लेसेंटा प्लेविया (placenta previa) या प्लेसेंटा अब्रप्शन (placenta abruption)
  • गर्भ में दो या दो से ज़्यादा शिशु हों

क्या आप सिजेरियन डिलीवरी का अनुरोध कर सकते हैं ? Show

Can you request a cesarean delivery operation in hindi

Kya aap c-section delivery ka anurodh kar sakti hain in hindi

अगर आप पहली बार माँ बनने जा रही हैं तो आप सिजेरियन डिलीवरी के लिए अनुरोध कर सकती हैं। दरअसल पहली बार माँ बनने वाली महिला को नार्मल डिलीवरी में घंटों होने वाले दर्द और योनि के माध्यम से बच्चे को जन्म देने को लेकर डर बना रहता है। ऐसे में आप सी-सेक्शन डिलीवरी का अनुरोध कर सकती हैं।

सी-सेक्शन डिलीवरी करने के लिए सही विशेषज्ञ कौन हैं ? Show

Who are the right specialists for performing c-section delivery in hindi

C-section delivery karne ke liye sahi visheshagya kaun hain in hindi

प्रसूति चिकित्सक (obstetrician) सी-सेक्शन डिलीवरी के लिए सबसे बेहतर होते हैं। प्रसूति चिकित्सक एमबीबीएस होते हैं और साथ ही 3-4 साल की सर्जरी ट्रेनिंग भी ली होती है। डिलीवरी के लिए इन्हें उपयुक्त इसलिए माना जाता क्योंकि ट्रेनिंग के दौरान इन्हें गर्भावस्था से संबंधित समस्या और जोखिम के बारे में प्रशिक्षित किया जाता है।

सीजर डिलीवरी से पहले की तैयारी कैसे कर सकते हैं ? Show

How to prepare before C-section delivery in hindi

Cesarean delivery se poorv ki taiyari in hindi

हॉस्पिटल में सिजेरियन डिलीवरी के लिए जाने से पहले आपको कुछ तैयारियां करने की आवश्यकता होती है। हालांकि ये तैयारियां नार्मल डिलीवरी के दौरान भी करने ज़रूरत होती है लेकिन सी-सेक्शन के बाद हॉस्पिटल में 3-5 दिनों तक रहना पड़ सकता है और जिसके कारण आपको इसके हिसाब से सर्जरी से पहले कुछ तैयारियां कर लेनी चाहिए।

सिजेरियन सेक्शन से पहले की तैयारी :

  • कपड़े (Clothes)

ऑपरेशन के बाद आपको 3-5 दिनों तक अस्पताल में रहना पड़ सकता है और ऐसे में आपको उसी हिसाब से कपड़े रखने चाहिए। ध्यान रखें कि आप अपने ढीले कपड़े रखें और साथ ही होने वाले बच्चे के लिए आपको पूरे बदन के कपड़े रखने चाहिए। अपने और बच्चे के लिए आपको गर्म कपड़े भी रख लेने चाहिए ताकि बाद में किसी तरह की परेशानी न हो।

  • मैटरनिटी पैड (Maternity pad)

बच्चे के जन्म के बाद आपको अधिक रक्तस्राव हो सकता है, इसलिए आपको मैटरनिटी पैड रखना चाहिए।

  • फीडिंग के लिए प्रोडक्ट (Products for breastfeeding)

ऑपरेशन के बाद आपको ब्रेस्ट पंप करने की आवश्यकता पड़ सकती है। ऐसे में आपको मैन्युअल ब्रैस्ट पंप अपने साथ रख लेना चाहिए।

  • मेडिकल पेपर्स (Medical Products)

प्रेग्नेंट महिला को अपने मेडिकल पेपर्स के साथ-साथ इंश्योरेंस से जुड़े कागज़ात भी साथ रखने चाहिए।

  • डायपर (Diapers)

बच्चे के जन्म के बाद ही डायपर की ज़रूरत होती है इसलिए आपको डायपर का पैकेट भी रखना चाहिए।

और पढ़ें


Zealthy क्यों चुनें ?

informed decision making
service guarantee
financial assistance and best price
zealthy care
right

सही निर्णय में सहायक

  • tickपाएँ उपचार की पूरी जानकरी व उनके खर्च का उचित आकलन
  • tickअन्य पेशेंट के अनुभव और रिव्यू से पाएँ मदद
  • tickउचित डॉक्टर के चुनाव के लिए पाएँ मेडिकल एक्सपर्ट से स्वतंत्र सलाह
  • tickपाएँ प्रसिद्ध विशेषज्ञ डॉक्टर से अपने सवालों के जवाब

सर्विस की गारंटी

  • tickहमारे सभी डॉक्टर अनुभवी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षित हैं
  • tickहमारे सेंटर्स आधुनिक तकनीक व उपकरणों से लैस हैं
  • tickहमारे सभी उपचार अंतरराष्ट्रीय मानकों पर आधारित हैं
  • tickउपचार की दूसरी या तीसरी राय के लिए पाएँ एक्सपर्ट पैनल से सहायता

वित्तीय सहायता और उचित लागत

  • tickहम सभी उपचारों के लिए एक समान और उचित मूल्य के लिए प्रतिबद्ध हैं
  • tickउपचार की सस्ती दरों की गारंटी
  • tick0% इंटरेस्ट के साथ इंसटैंट मेडिकल लोन
  • tickसभी हेल्थ इंश्योरेंस के लिए सहायता

zealthy care

  • tickचिकित्सा के दौरान 24*7 समर्पित व्यक्तिगत समन्वयक सहायता
  • tickअनुभवी नुट्रीशनिस्ट और प्रशिक्षकों द्वारा आहार, व्यायाम, स्तनपान आदि के लिए कोचिंग
  • tickएक्टिव और इंगेजिंग महिला कम्यूनिटी से जुड़ें
  • tickपाएँ फ्री पोस्ट सर्जरी फॉलो-अप

भारतमेंसिजेरियन सेक्शनका खर्च

मूल्य दर

Rs50000-Rs100000

सी-सेक्शन कराने वाली महिलाओं के प्रतिशत में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। सी-सेक्शन डिलीवरी की लागत तक़रीबन 50 हज़ार से एक लाख तक हो सकती है। हालांकि, प्राइवेट हॉस्पिटल में सिजेरियन डिलीवरी का खर्च और गवरमेंट हॉस्पिटल में डिलीवरी ऑपरेशन के खर्च के बीच बड़ा अंतर हो सकता है। नर्सिंग होम मे सीजर डिलीवरी का खर्च कई कारकों पर निर्भर करता है, इसमें अस्पताल का खर्च, डॉक्टर का खर्च, एनेस्थेसिया, किसी प्रकार की ख़ास मेडिकल परिस्थिति, स्टे आदि का खर्च शामिल हैं।


भारतमेंसिजेरियन सेक्शनके डॉक्टर्स

प्रेगनेंसी के दौरान अनुभवी सीजर डिलीवरी डॉक्टर का चुनाव करना बेहद ज़रूरी है। अगर आप नॉर्मल डिलीवरी के लिए खुद को तैयार कर रहीं हैं, तो भी हो सकता है कि आपको किसी विकट परिस्थिति के कारणवश सी-सेक्शन डिलीवरी करवानी पड़ें। ऐसे में नॉर्मल डिलीवरी के लिए डॉक्टर चुनने से अधिक सावधानी ऑपरेशन से डिलीवरी के लिए डॉक्टर चुनने में बरतनी पड़ती है। ध्यान दें, आप जिस प्रेगनेंसी स्पेशलिस्ट को चुन रहीं हैं वो नॉर्मल डिलीवरी के साथ-साथ सीजर डिलीवरी ऑपरेशन के विशेषज्ञ डॉक्टर भी हों। ऐसे में वह (गर्भावस्था स्पेशलिस्ट) इमर्जेंसी की स्थिति में भी आपकी बेहतर मदद कर पाएंगे।


भारतमेंसिजेरियन सेक्शनका हॉस्पिटल

ऑपरेशन से डिलीवरी के लिए अस्पताल चुनते वक़्त कई बातों पर ध्यान देना आवश्यक है। सीजर डिलीवरी के हॉस्पिटल के चयन के वक़्त ध्यान दें कि सिजेरियन डिलीवरी अस्पताल आपके नज़दीक हो व सारे तकनीक व उपकरणों से लैस हो। इसके साथ-साथ यह भी ख़्याल रखें कि जिस प्रेगनेंसी स्पेशलिस्ट से आप अपना उपचार करा रहीं हैं वे आपके द्वारा चुने गए अस्पताल में उपलब्ध हों।


भारतमेंसिजेरियन सेक्शनसे जुड़े प्रश्न

सी-सेक्शन क्या है?Show

सी-सेक्शन क्या है?

सी-सेक्शन क्या है?

सीजेरियन डिलीवरी (Caesarean delivery), सी-सेक्शन के नाम से भी जानी जाती है। यह एक डिलीवरी की तकनीक है जिसके तहत सर्जरी व मेडिकल प्रक्रिया के द्वारा शिशु का जन्म होता है।

सी-सेक्शन कब किया जाता है?Show

सी-सेक्शन कब किया जाता है?

सी-सेक्शन कब किया जाता है?

सिजेरियन डिलीवरी कई कारणों से की जाती है :

  • यदि महिला की पहली डिलीवरी सी-सेक्शन द्वारा की गयी हो
  • यदि बच्चा ब्रीच की स्थिति में हो
  • अगर बच्चा बहुत बड़ा हो
  • अगर माँ प्रसव में किसी मेडिकल प्रक्रिया का हस्तक्षेप नहीं चाहती हो
  • अगर माँ को को हृदय रोग, मधुमेह, उच्च रक्तचाप या किडनी की बीमारी हो
  • यदि एमनियोटिक द्रव (amniotic fluid) कम हो
  • यदि मां 12 घंटे से अधिक समय से प्रसव पीड़ा में है और बच्चे की धड़कन कम हो रही हो
  • यदि माँ जुड़वाँ या तीन बच्चों से गर्भवती हो
  • यदि प्लेसेंटा प्रॉब्लेम्स के साथ गर्भवती माँ को प्रसव पीड़ा होने लगे

इन सभी स्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी, माँ और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकती है।



zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें