भारतमेंसिजेरियन सेक्शनका हॉस्पिटल

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor

भारत में सीजर डिलीवरी ऑपरेशन के लिए सर्वश्रेष्ठ अस्पताल कौन से होते हैं ? Who are the best hospitals for C- section delivery in hindi Cesarean prasav ke liye sarvshreshth aspatal ka chayan kaise karein

ऑपरेशन डिलीवरी के लिए सर्वश्रेष्ठ अस्पताल का चयन करना मुश्किल है। सीजर डिलीवरी के लिए अस्पताल का चयन करते वक़्त अस्पताल की सुविधाओं पर जरूर ध्यान दें। सबसे अच्छे सीजर डिलीवरी हॉस्पिटल में बेहतर नर्स-सेवा, पीडियट्रीशियन, एनआईसीयू, इमर्जेंसी-ओटी, और एनेसथेलोजिस्ट (anesthesiologist) मुख्य रूप से मौजूद होते हैं।

हमारे हॉस्पिटल

उपचार के हॉस्पिटल की अधिक जानकारी

भारत में सीजर डिलीवरी ऑपरेशन के लिए बेहतर अस्पताल का चयन करने वाले कारक कौन-कौन से होते हैं? Hide

What are the factors for choosing best hospitals for cesarean delivery operation in India in hindi

Operation delivery ke liye sabse behtar aspatal kaun se hot

ऑपरेशन डिलीवरी के लिए सबसे बेहतर अस्पताल वो माने जाते हैं जहां सभी तरह की मेडिकल सुविधा मौजूद हो। अगर आपकी गर्भावस्था में किसी तरह का रिस्क जुड़ा है तो ऐसे में आपके और आपके बच्चे के लिए अधिक निगरानी की आवश्यकता पड़ सकती है। ऐसे में एक सर्वश्रेष्ठ सी-सेक्शन अस्पताल भारत में खोजने के दौरान आपको पहले मुख्य तौर पर निम्लिखित बातों का ख़्याल रखना चाहिए :

1. प्रसूति की क्षमता (Ability of the obstetrician)

सबसे अच्छे मातृत्व अस्पताल चुनने से पहले विचार करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बिंदुओं में से एक प्रसूति की क्षमता है। ये जानने के लिए आप अस्पताल का दौरा कर सकते हैं और चिकित्सा कर्मचारियों, बाल रोग विशेषज्ञों और नर्सों से डॉक्टर के बारे में पूछताछ कर सकते हैं। सिजेरियन डिलीवरी को लेकर डॉक्टर के अनुभव और उनकी सफलता पर विचार करें। इसके साथ ही प्रसूति-विशेषज्ञ का चयन करते समय, गर्भवती महिला के प्रति डॉक्टर के रवैये क्या है, क्या डॉक्टर आपकी समस्याओं को स्पष्ट और पूरी तरह से समझ रहे हैं और क्या आप डॉक्टर के साथ सहज अनुभव कर रही हैं, जैसे कारकों पर भी विचार करें।

2. अस्पताल में नवजात गहन चिकित्सा इकाई (Neonatal Intensive Care Unit)

अगर आपकी गर्भावस्था को उच्च जोखिम वाली है, तो पूछताछ करें कि क्या अस्पताल में नवजात गहन चिकित्सा इकाई (एनआईसीयू) है। अगर बच्चे को जन्म के बाद कोई जटिलता महसूस होती है, तो उन्हें इस यूनिट में रखा जाएगा। इसके अलावा यह भी सुनिश्चित करें कि एनआईसीयू में प्रशिक्षित डॉक्टर और नर्स मौजूद हों।

3. बाल रोग विशेषज्ञ की उपलब्धता (Availability of Pediatrician)

सिजेरियन डिलीवरी हो या फिर नार्मल, दोनों में बच्चे के जन्म के बाद बाल रोग विशेषज्ञ की भूमिका अहम होती है क्योंकि वे बच्चे की स्थिति और स्वास्थ्य की जांच करते हैं। इतना ही नहीं अगर एमर्जेन्सी की स्थित है, तो बच्चे के जन्म के दौरान एक बाल रोग विशेषज्ञ का उपस्थित होना बेहद जरूरी है। एक बाल रोग विशेषज्ञ जन्म के बाद आपके बच्चे का मूल्यांकन करने और यह तय करने में सक्षम होंगे कि आपका बच्चा कितना स्वस्थ है। प्रसव पूर्व जन्म के मामले में, नवजात शिशु की उचित गहन देखभाल सुनिश्चित करने में प्रसव के बाद बाल रोग विशेषज्ञ महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

4. नर्स/स्टाफ से मरीज के अनुपात (Nurse/staff-to-patient ratio)

प्रसव के लिए अस्पताल चुनते समय, उनके नर्स-से-रोगी अनुपात की समीक्षा करें। अनुपात आपको बता सकते हैं कि डिलीवरी के बाद आप कितने समर्थन की उम्मीद कर सकती हैं। दरअसल डिलीवरी के बाद गर्भवती महिला शारीरिक रूप से उठने-बैठने में परेशानी होती है और साथ ही ऑपरेशन के कारण हल्का दर्द भी रहता है। ऐसे में अस्पताल में मौजूद नर्स और स्टाफ ही आपकी मदद करने के लिए आगे आते हैं लेकिन अगर उनका व्यवहार अच्छा नहीं होता है तो आप उनके साथ असहज अनुभव कर सकती हैं। इसलिए डिलीवरी ऑपरेशन के लिए अस्पताल का चयन करते समय वहां के नर्स और स्टाफ का व्यवहार बहुत मायने रखता है।

5. घर से अस्पताल की दूरी (Distance of hospital from home)

घर से अस्पताल की दूरी, बेहतर अस्पताल का चयन करते समय ध्यान में रखा जाने वाला एक महत्वपूर्ण कारक है। अपने घर के निकट एक अच्छा अस्पताल चुनने की कोशिश करें, जहाँ आप पीक ट्रैफिक के दौरान भी लगभग आधे घंटे में पहुँच सके। इससे समय, ऊर्जा, धन की बचत होती है और लेबर के दौरान दूरी या ट्रैफिक को कवर कर पाना आसान हो जाता है। अस्पताल आपके घर के जितना करीब होगा उतना बेहतर है।

6. मातृत्व इकाई और सुविधाएं (Maternity Unit and facilities)

ऑपरेशन के माध्यम से होने वाले डिलीवरी से जुड़ी कई समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में एक अच्छे अस्पताल में आधुनिक मातृत्व इकाइयां (maternity unit), 24 घंटे की आपातकालीन सेवाएं और ब्लड बैंक की सुविधाएँ होनी चाहिए ताकि किसी भी आपात स्थिति से किसी भी समय निपटा जा सके।

अस्पताल में आईसीयू (ICUs) और इनक्यूबेटर (incubators) सहित बच्चों के अलग वार्ड जैसी सुविधाएँ भी होनी चाहिए। इसके अलावा न्यू बॉर्न बच्चे और मां की देखभाल के लिए प्रशिक्षित डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ की एक टीम होनी चाहिए। इन सुविधाओं के आधार पर सामान्य प्रसव आसान और ख़तरों से मुक्त हो सकती है।

7. अस्पताल की सफाई (Cleanliness of hospital)

अस्पताल या नर्सिंग होम की गुणवत्ता उपकरण, कर्मचारी, कमरे और बाथरूम की स्वच्छता के स्तर से देखी जा सकती है। नर्सिंग होम या अस्पताल का दौरा करते समय ध्यान दें कि :

क्या बेडशीट को नियमित रूप से बदल दिया जाता है?

क्या भोजन को स्वच्छता से तैयार किया जाता है?

क्या कमरे रोज़ाना साफ किए जाते हैं?

क्या चिकित्सा उपकरण स्टेरलाइज़्ड है?

इसके अलावा हमेशा बाथरूम की जाँच करें। खासकर सिजेरियन डिलीवरी के बाद आपको 3-5 दिन तक रहना पड़ सकता है और ऐसे में बाथरूम की सफाई एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता हैं और अगर वे ठीक से साफ नहीं किए जाते हैं तो यह संक्रमण का कारण बन सकता है।

भारत में सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन के लिए डॉक्टर के पास कब जाएँ? Show

When to visit a doctor for a cesarean delivery operation in hindi

Cesarean delivery ke liye doctor ke pass kab jaye

कुछ सिजेरियन ऐच्छिक होते हैं, जो गर्भावस्था के दौरान योजनाबद्ध (planned) होते हैं, और अन्य आपातकालीन स्थिति में किए जाते हैं।

यदि सिजेरियन की योजना बनाई गई है तो आपके डॉक्टर को आपको 38वें हफ्ते के बाद डिलीवरी कराने की सलाह दे सकते हैं क्योंकि इस समय तक बच्चा पूरी तरह से विकसित हो जाता है और किसी भी तरह की जटिलताएं भी नहीं होती है। गर्भावस्था के 38वें सप्ताह से पहले एक नियोजित सिजेरियन नहीं किया जाएगा, जब तक कि आपके स्वास्थ्य या आपके बच्चे के स्वास्थ्य को लेकर किसी भी तरह की समस्या या रिस्क न जुड़ा हो।

सिजेरियन एक आपातकाल के रूप में किया जा सकता है जब आपके बच्चे को जल्दी से पैदा होने की आवश्यकता होती है और लेबर में जाने का इंतज़ार नहीं किया जा सकता है।

भारत में सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन पैकेज की लागत कितनी है ? Show

What is the cost of C-Section delivery packages in India in hindi

Bharat mein cesarean prasav package ki lagat

प्रेगनेंसी पैकेज को मैटरनिटी पैकेज भी कहते हैं। सिजेरियन डिलीवरी पैकेज भी शामिल होती है। सिजेरियन डिलीवरी प्रेगेंसी पैकेज में गर्भावस्था के दौरान होने वाले डॉक्टर व सर्जन का खर्च, ओटी का खर्च व अस्पताल में स्टे का खर्च शामिल होता है। आमतौर पर सिजेरियन प्रसव पैकेज की लागत 30 हज़ार से लेकर 50 हज़ार तक होती है।

मैटरनिटी पैकेज का उद्देश्य है प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले विभिन्न ख़र्चों को संयुक्त रूप से एक पैकेज बनाना ताकि आपको इसके तहत प्रेगेंसी से जुड़ी सुविधाएं उचित लागत पर एक साथ मिल पाए। Zealthy आपको उपलब्ध करता है सस्ते सीज़र डिलीवरी पैकेज यानि उचित खर्च पर बेहतरीन मैटरनिटी पैकेज। ज्यादा जानकरी के लिए अभी हमसे संपर्क करें।

भारत में सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन के लिए लोन मिल सकता है ? Show

Can I take Loan for C-Section in India in hindi

Bharat mein cesarean prasav package ki lagat in hindi

अगर आपकी आर्थिक हालत ठीक नहीं है या फिर एक साथ आप अधिक राशि अदा नहीं कर सकती तो आप ऑपरेशन से डिलीवरी के लिए लोन ले सकती हैं। अगर आपको सिजेरियन डिलीवरी ऑपरेशन के लिए लोन लेना है तो इसकी सीमा तीस हज़ार से पच्चीस लाख रुपये तक होती है। हालांकि मेडिकल लोन की शर्तें होती हैं जो कई कारकों पर निर्भर करते हैं। सबसे अच्छी बात ये है कि मेडिकल लोन असुरक्षित लोन होता है और इसमें कुछ गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं होती है। Zealthy आपको 0% इंटरेस्ट पर सिजेरियन डिलीवरी के लिए मेडिकल लोन दिलवाने में सहायता करता है।

और पढ़ें


Zealthy क्यों चुनें ?

informed decision making
service guarantee
financial assistance and best price
zealthy care
right

सही निर्णय में सहायक

  • tickपाएँ उपचार की पूरी जानकरी व उनके खर्च का उचित आकलन
  • tickअन्य पेशेंट के अनुभव और रिव्यू से पाएँ मदद
  • tickउचित डॉक्टर के चुनाव के लिए पाएँ मेडिकल एक्सपर्ट से स्वतंत्र सलाह
  • tickपाएँ प्रसिद्ध विशेषज्ञ डॉक्टर से अपने सवालों के जवाब

सर्विस की गारंटी

  • tickहमारे सभी डॉक्टर अनुभवी और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षित हैं
  • tickहमारे सेंटर्स आधुनिक तकनीक व उपकरणों से लैस हैं
  • tickहमारे सभी उपचार अंतरराष्ट्रीय मानकों पर आधारित हैं
  • tickउपचार की दूसरी या तीसरी राय के लिए पाएँ एक्सपर्ट पैनल से सहायता

वित्तीय सहायता और उचित लागत

  • tickहम सभी उपचारों के लिए एक समान और उचित मूल्य के लिए प्रतिबद्ध हैं
  • tickउपचार की सस्ती दरों की गारंटी
  • tick0% इंटरेस्ट के साथ इंसटैंट मेडिकल लोन
  • tickसभी हेल्थ इंश्योरेंस के लिए सहायता

zealthy care

  • tickचिकित्सा के दौरान 24*7 समर्पित व्यक्तिगत समन्वयक सहायता
  • tickअनुभवी नुट्रीशनिस्ट और प्रशिक्षकों द्वारा आहार, व्यायाम, स्तनपान आदि के लिए कोचिंग
  • tickएक्टिव और इंगेजिंग महिला कम्यूनिटी से जुड़ें
  • tickपाएँ फ्री पोस्ट सर्जरी फॉलो-अप

क्या है सिजेरियन डिलीवरी ? What is caesarean delivery in hindi Kya hai caesarean delivery in hindi

सी-सेक्शन, डिलीवरी की एक प्रक्रिया है जिसमें बच्चे की डिलीवरी सर्जरी द्वारा की जाती है। जब योनि प्रसव किसी कारण से सुरक्षित नहीं होती है, तो डॉक्टर प्रसव की इस पद्धति की सिफ़ारिश करते हैं। गर्भावस्था के 39वें हफ्ते से पहले सिजेरियन प्रसव को आमतौर पर टाला जाता है ताकि बच्चे को गर्भ में विकसित होने का पूरा समय मिल सके। हालांकि कभी-कभी जटिलताएं (complications) पैदा होने पर 39वें हफ्ते से पहले भी सिजेरियन डिलीवरी की जाती है।


भारतमेंसिजेरियन सेक्शनका खर्च

मूल्य दर

Rs50000-Rs100000

सी-सेक्शन कराने वाली महिलाओं के प्रतिशत में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। सी-सेक्शन डिलीवरी की लागत तक़रीबन 50 हज़ार से एक लाख तक हो सकती है। हालांकि, प्राइवेट हॉस्पिटल में सिजेरियन डिलीवरी का खर्च और गवरमेंट हॉस्पिटल में डिलीवरी ऑपरेशन के खर्च के बीच बड़ा अंतर हो सकता है। नर्सिंग होम मे सीजर डिलीवरी का खर्च कई कारकों पर निर्भर करता है, इसमें अस्पताल का खर्च, डॉक्टर का खर्च, एनेस्थेसिया, किसी प्रकार की ख़ास मेडिकल परिस्थिति, स्टे आदि का खर्च शामिल हैं।


भारतमेंसिजेरियन सेक्शनसे जुड़े प्रश्न

सी-सेक्शन क्या है?Show

सी-सेक्शन क्या है?

सी-सेक्शन क्या है?

सीजेरियन डिलीवरी (Caesarean delivery), सी-सेक्शन के नाम से भी जानी जाती है। यह एक डिलीवरी की तकनीक है जिसके तहत सर्जरी व मेडिकल प्रक्रिया के द्वारा शिशु का जन्म होता है।

सी-सेक्शन कब किया जाता है?Show

सी-सेक्शन कब किया जाता है?

सी-सेक्शन कब किया जाता है?

सिजेरियन डिलीवरी कई कारणों से की जाती है :

  • यदि महिला की पहली डिलीवरी सी-सेक्शन द्वारा की गयी हो
  • यदि बच्चा ब्रीच की स्थिति में हो
  • अगर बच्चा बहुत बड़ा हो
  • अगर माँ प्रसव में किसी मेडिकल प्रक्रिया का हस्तक्षेप नहीं चाहती हो
  • अगर माँ को को हृदय रोग, मधुमेह, उच्च रक्तचाप या किडनी की बीमारी हो
  • यदि एमनियोटिक द्रव (amniotic fluid) कम हो
  • यदि मां 12 घंटे से अधिक समय से प्रसव पीड़ा में है और बच्चे की धड़कन कम हो रही हो
  • यदि माँ जुड़वाँ या तीन बच्चों से गर्भवती हो
  • यदि प्लेसेंटा प्रॉब्लेम्स के साथ गर्भवती माँ को प्रसव पीड़ा होने लगे

इन सभी स्थितियों में नॉर्मल डिलीवरी, माँ और बच्चे दोनों के लिए खतरनाक हो सकती है।


भारतमेंसिजेरियन सेक्शनके डॉक्टर्स

प्रेगनेंसी के दौरान अनुभवी सीजर डिलीवरी डॉक्टर का चुनाव करना बेहद ज़रूरी है। अगर आप नॉर्मल डिलीवरी के लिए खुद को तैयार कर रहीं हैं, तो भी हो सकता है कि आपको किसी विकट परिस्थिति के कारणवश सी-सेक्शन डिलीवरी करवानी पड़ें। ऐसे में नॉर्मल डिलीवरी के लिए डॉक्टर चुनने से अधिक सावधानी ऑपरेशन से डिलीवरी के लिए डॉक्टर चुनने में बरतनी पड़ती है। ध्यान दें, आप जिस प्रेगनेंसी स्पेशलिस्ट को चुन रहीं हैं वो नॉर्मल डिलीवरी के साथ-साथ सीजर डिलीवरी ऑपरेशन के विशेषज्ञ डॉक्टर भी हों। ऐसे में वह (गर्भावस्था स्पेशलिस्ट) इमर्जेंसी की स्थिति में भी आपकी बेहतर मदद कर पाएंगे।



zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें