पाएँ मुफ्त कंसल्टेशन

उपचार चुनें

चुनें

भारत में प्रसवपूर्व देखभाल का खर्च

भारत में प्रसवपूर्व देखभाल के खर्च की पूरी जानकारी व प्रभावित करने वाले कारक। प्रसवपूर्व देखभाल की लागत का करें आकलन और पाएं उपचार का उचित मूल्य।

प्रसवपूर्व देखभाल उपचार का भारत में खर्च

निम्नतम लागत

उच्चतम लागत

15,00060,000

भारत में प्रसवपूर्व देखभाल खर्च के बारे में अधिक जानें


भारत में प्रसवपूर्व देखभाल का खर्च कितना है ?

How much do antenatal care cost during pregnancy in भारत in hindi

भारत mein prasav purv dekhbhal ka kharch kitna hai in hindi

प्रसवपूर्व देखभाल (Ante-Natal Care) सेवाओं का प्रावधान गर्भावस्था पर सकारात्मक प्रभाव डालता है क्योंकि ये प्रेगनेंसी से जुड़े जोखिम कारकों की पहले से पहचान कर गर्भावस्था की जटिलताओं को कम करने में मदद करता है। भारत में गर्भावस्था के दौरान आपको प्रीनेटल केयर लागत लगभग 12,000-15,000 के बीच आ सकती है।

भारत में प्रसवपूर्व देखभाल में किस-किस तरह के खर्च शामिल हैं?

What type of expenses are involved in prenatal care in भारत in hindi

भारत me prasav purv dekhbhal mein kaun-kaun se kharch shamil hain in hindi

गर्भावस्था के दौरान प्रसवपूर्व देखभाल माँ व ब बच्चे के स्वस्थ रहने के लिए बेहद जरूरी है। प्रीनेटल केयर के दौरान डॉक्टर आपकी स्थिति और आपके गर्भ में पल रहे बच्चे की स्थिति को मॉनिटर करने के लिए कई तरह के टेस्ट कराने की सलाह देती हैं जैसे की ब्लड टेस्ट, यूरिन टेस्ट, ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट आदि और साथ ही बच्चे के विकास को देखने के लिए अल्ट्रासाउंड (ultrasound) भी कराने की सिफारिश की जाती है।

ऐसे में कहा जाए तो एंटीनेटल केयर के दौरान होने वाले खर्च में जहाँ एक ओर डॉक्टर परामर्श शुल्क (consultation fee) शामिल होती है तो वहीं दूसरी ओर गर्भावस्था के दौरान होने वाले टेस्ट और अल्ट्रासाउंड के खर्च भी शामिल होते हैं। टेस्ट की मदद से गर्भवती महिला की कंडीशन के बारे में पता चलता है और अल्ट्रासाउंड की मदद से बच्चे के विकास की स्थिति और बच्चे में संभावित स्वास्थ्य समस्याओं के संकेतों या ख़तरों का पता लगाया जाता है।

भारत में प्रसवपूर्व देखभाल का खर्च किन कारकों पर निर्भर करता है?

What are the factors on which cost of prenatal care depends in hindi

Prenatal care ki laagat kin karakon par nirbhar karti hai in hindi

प्रसव से पहले देखरेख की लागत के अंतर्गत डॉक्टर से अपॉइंटमेंट की लागत, प्रेगनेंसी के दौरान होने वाले टेस्ट और अल्ट्रासाउंड का खर्च शामिल होता है। हालांकि, प्रीनेटल केयर की लागत कई परिस्थितियों में अधिक भी हो सकती है और या यूं कहे कि ऐसे कई कारक होते हैं जो खर्च को प्रभावित कर सकते हैं।

प्रसवपूर्व देखभाल की लागत को प्रभावित करने वाले कारक :

  1. अधिक उम्र के कारण हो सकती है प्रसवपूर्व देखभाल की लागत प्रभावित (Older women may have high expenses during pregnancy care)

    अगर गर्भावस्था के दौरान महिला की उम्र 35 वर्ष से अधिक है, तो गर्भावधि मधुमेह (gastational diabetes) और प्रीक्लेम्पसिया (preeclampsia) का रिस्क बढ़ जाता है। जिसके स्थिति में महिला की स्थिति पर निगरानी रखने के लिए सामान्य से अधिक कई अतिरिक्त टेस्ट जैसे जीटीटी (GTT - Glucose Tolerance Test) कराने की सलाह दी जा सकती है और इससे आपकी लागत बढ़ सकती है। वहीं अधिक उम्र में प्रेग्नेंट हुई महिलाओं के बच्चे में जन्म दोष होने का ख़तरा अधिक होता है और ऐसे में इस समस्या का पता लगाने के लिए आपके डॉक्टर प्रीनेटल केयर के दौरान कई और टेस्ट कराने की सलाह दे सकते हैं जो प्रीनेटल केयर की लागत को प्रभावित कर सकती है।
  2. जेनेटिक समस्या के कारण हो सकती है प्रसवपूर्व देखभाल की लागत प्रभावित (Genetic predisposition of couples can increase cost of prenatal care)

    अगर आपको आपके परिवार से जुड़ी कोई जेनेटिक समस्या है तो इससे आपका बच्चे के प्रभावित होने की संभावना होती है। इस स्थिति का समय से पहले पता लगाने के लिए डॉक्टर स्क्रीनिंग कराने की सलाह दे सकते हैं। एक जेनेटिक टेस्ट या स्क्रीनिंग की लागत 3000-4000 तक आ सकती है, जिससे एंटीनेटल केयर खर्च प्रभावित हो सकता है।
  3. हाई रिस्क प्रेगनेंसी के कारण हो सकती है प्रसवपूर्व देखभाल की लागत प्रभावित (High risk pregnancy can increase cost of antenatal care)

    उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था में महिलाओं को, अपने डॉक्टरों से अधिक बार मिलने की आवश्यकता होती है और साथ ही बच्चे की स्थिति को मॉनिटर करने के लिए सामान्य से अधिक टेस्ट की भी ज़रूरत पड़ती है। इस तरह से आपको कंसल्टेशन फीस सामान्य से अधिक बार देना होगा जिससे आपकी प्रीनेटल केयर खर्च प्रभावित हो सकता है।
  4. अन्य कारणों से भी हो सकती है प्रसवपूर्व देखभाल की लागत प्रभावित (Other reasons which can influence cost of prenatal care)

    ऊपर उल्लेख किये गए स्थितियों के अलावा प्रसवपूर्व देखरेख के दौरान आप किस हॉस्पिटल या क्लिनिक में जा रहीं हैं और वो क्लिनिक या अस्पताल कहाँ स्थित है, इससे भी आपकी लागत प्रभावित हो सकती है।आप जितने बड़े अस्पताल या क्लिनिक में जाएंगी, कंसल्टेशन चार्ज आपको उतना ही अधिक लग सकता है। इसके साथ ही आप किस तरह के लैब में टेस्ट करा रहीं हैं और अल्ट्रासाउंड कहां करा रहीं हैं, इस पर भी प्रसवपूर्व देखरेख की लागत निर्भर करती है।

भारत में प्रसवपूर्व देखभाल के दौरान डॉक्टर से कितनी बार मिलने आवश्यकता होती है?

How many antenatal appointments are required during pregnancy in hindi

Prenatal care ke dauran doctor se kitni baar milne ki avashyakta hoti hai in hindi

प्रसवपूर्व देखभाल के दौरान डॉक्टर से अपॉइंटमेंट कितनी बार लेनी है यह आपकी वर्तमान व पहली गर्भावस्था की स्थिति पर निर्भर करता है। इस दौरान डॉक्टर से अपॉइंटमेंट एंटीनेटल केयर के खर्च को प्रभावित कर सकती है।

प्रसवपूर्व देखभाल के दौरान अपॉइंटमेंट की फ्रिक्वेंसी और इससे प्रभावित होने वाली प्रसवपूर्व देखभाल की लागत :

अगर ये आपकी पहली गर्भावस्था है और सब कुछ सामान्य है, तो आपको कम से कम 10-12 बार परामर्श के लिए डॉक्टर के पास जाना होगा और इसमें आपको लगभग 3000-4000 तक खर्च करना पड़ सकता है।

अगर ये आपकी पहली और उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था (high risk pregnancy) है या इस दौरान आपको जटिलताओं का अनुभव होता है, तो आपको कम से कम 12-18 बार परामर्श के लिए डॉक्टर के पास जाना होगा और इसमें आपको लगभग 3500 से 5500 तक खर्च हो सकता है।

अगर ये आपकी दूसरी गर्भावस्था है और सब कुछ सामान्य है और आपकी पहली गर्भावस्था में आपको कोई जटिलता (complications) नहीं थी, तो आपको कम से कम 7-9 बार परामर्श के लिए डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता होगी और इसमें आपको लगभग 2000 से 3000 तक खर्च हो सकता है।

अगर ये आपकी दूसरी गर्भावस्था है और सब कुछ सामान्य है, लेकिन आपकी पहली गर्भावस्था में जटिलताएं थीं, तो आपको कम से कम 10-12 बार परामर्श के लिए डॉक्टर के पास जाने की आवश्यकता होगी और यह आपको लगभग 3000-4000 तक खर्च हो सकता है।

अगर ये आपकी दूसरी गर्भावस्था है और आपको जटिलताएं महसूस होती हैं या इस तरह की जटिलताएँ पहली गर्भावस्था में भी रह चुकी हैं , तो आपको कम से कम 12-18 बार परामर्श के लिए डॉक्टर के पास जाना होगा और इसकी खर्च लगभग 3500 से 5500 तक आ सकता है।

भारत में प्रसवपूर्व देखभाल में होने वाले टेस्ट कौन कौन से हैं और टेस्ट का लगभग खर्च कितना आता है?

What type of tests are required during antenatal care and average cost of tests during antenatal care in hindi

Prenatal care mei hone wale test ki kul la

आपके और आपके बच्चे के स्वास्थ्य की जांच करने के लिए गर्भावस्था के दौरान कई तरह के टेस्ट किये जाते हैं। आपकी प्रसवपूर्व विज़िट पर, आपके डॉक्टर कई टेस्ट कराने की सिफारिश कर सकते हैं।

सबसे पहले प्रसवपूर्व विज़िट के दौरान ब्लड टाइप और आरएच फैक्टर टेस्ट (Rh factor test) कराने की सलाह दी जाएगी और साथ ही यौन संचारित संक्रमण (sexually transmitted infection), जिसमें हेपेटाइटिस बी, सिफलिस, क्लैमाइडिया और एचआईवी की जांच की सिफारिश की जाएगी। इन सभी टेस्ट की लागत 300-500 के बीच आ सकती है।

इसके अलावा कुछ महत्वपूर्ण जाँच और प्रीनेटल केयर में होने वाली स्कींनिंग की भी सलाह दी जाएगी, जो इस प्रकार है:

पहली तिमाही में होने वाले टेस्ट/स्कैन

टेस्ट के नामटेस्ट क्यों किया जाता हैकितनी बार टेस्ट किया जाता हैप्रत्येक परीक्षण की लागत
यूरिन टेस्ट (Routine Urine test)शुगर (sugar), प्रोटीन (protein) के स्तर और संक्रमण के संकेतों की जाँच के लिए मूत्र परीक्षण किया जाता है।(1)200-300
कम्पलीट ब्लड काउंट (Complete blood count)जिसका उपयोग आपके समग्र स्वास्थ्य का मूल्यांकन करने, एनीमिया, संक्रमण और ल्यूकेमिया सहित विकारों की एक विस्तृत श्रृंखला का पता लगाने के लिए किया जाता है।(1)250
अल्ट्रासाउंड (Ultrasound)भ्रूण की स्थिति (fetal position) को देखने के लिए किया जाता है। स्कैन की मदद से ये देखा जाता है कि भ्रूण गर्भाशय के अंदर बढ़ रहा है या किसी अन्य स्थान की तरह विकसित हो रहा है। इसके अलावा अल्ट्रासाउंड की मदद से ड्यू डेट का भी पता लगाया जाता है।(1)800
पैप स्मीयर टेस्ट (Pap smear test)ये सर्वाइकल कैंसर, सर्विक्स से जुड़ी अन्य समस्याओं या यौन संचारित रोगों (sexually transmitted diseases) का पता लगा सकता है।(1)200-300
आरएच (Rh) फैक्टर टेस्टमाँ अगर आरएच नेगेटिव है तो बच्चे को एनीमिया और अन्य समस्याएं हो सकती हैं।(1)100

दूसरी तिमाही में होने वाले टेस्ट/स्कैन

टेस्ट के नामटेस्ट क्यों किया जाता हैकितनी बार टेस्ट किया जाता हैप्रत्येक परीक्षण की लागत
मल्टीप्ल मार्कर टेस्ट (Multiple marker test)बच्चे में जोखिम जैसे डाउन सिन्ड्रोम, ट्राइसॉमी 18, भ्रूण में न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट का पता लगाने के लिए किया जाता है।(1)2000
ग्लूकोज टॉलरेंस टेस्ट (Glucose tolerance test):गर्भवती महिला के ब्लड में शुगर के स्तर को देखने के लिए ये टेस्ट किया जाता है।(1)350
अल्ट्रासाउंडजो बच्चे में न्युक्चुअल ट्रांसलूसेंसी (nuchal translucency) का मूल्यांकन करने में मदद करता है।(1)800
लेवल II सोनोग्राम (level II sonogram)बच्चे के सभी अंगों के विकास को देखा जाता है और बच्चे के दिल की जाँच की जाती है।(1)800-1000

तीसरी तिमाही में होने वाले टेस्ट/स्कैन

टेस्ट के नामटेस्ट क्यों किया जाता हैकितनी बार टेस्ट किया जाता हैप्रत्येक परीक्षण की लागत
बायोफिज़िकल प्रोफाइल टेस्ट (biophysical profile test)भ्रूण के अल्ट्रासाउंड के साथ एक नॉनस्ट्रेस परीक्षण शामिल हो सकता है।(1)1100-2000

भारत में प्रिनेटल केयर के दौरान होने वाले विशेष टेस्ट और स्कैनिंग की लागत कितनी है ?

What is the cost of specialized test and scanning during antenatal care in hindi

Prenatal care ke dauran hone wale vishesh test or scanning ki laagat in hindi

गर्भावस्था के दौरान कुछ टेस्ट हर महिला के लिए आवश्यक होते हैं। लेकिन कुछ टेस्ट या अल्ट्रासाउंड कराने की आवश्यकता विशेष परिस्थितियों में पड़ती है या यूं कहे कि उन महिलाओं को पड़ती है जिनकी प्रेगनेंसी में रिस्क हो। इन विशेष टेस्ट से प्रीनैटल केयर की लागत प्रभावित हो सकती है।

प्रसवपूर्व देखभाल के दौरान विशेष टेस्ट और उनकी लागत निम्न है :

  1. गर्भावस्था के दौरान कोरियोनिक विलस सैंपलिंग (Chorionic villus sampling) टेस्ट की लागत

    प्रेगनेंसी के 10वें हफ़्ते से प्रेगनेंसी के 13वें हफ्ते के दौरान गर्भ में पल रहे शिशु में मौजूद किसी भी तरह की असमानताओं को जांचने के लिए कोरियोनिक विलस सैंपलिंग टेस्ट होती है। अगर प्रेग्नेंट स्त्री की उम्र 35 वर्ष से अधिक होती है या फिर अनुवांशिक रोगों से जुड़ा कोई पारिवारिक इतिहास है तो गर्भ में पल रहे शिशु में गुण सूत्र असामान्यताएं (chromosomal abnormalities) का पता लगाने के लिए ये टेस्ट किया जाता है। प्रसव पूर्व कोरियोनिक विलस सैंपलिंग टेस्ट की लागत लगभग 5000 - 7000 तक आती है।
  2. गर्भावस्था के दौरान एमनियोसेंटेसिस टेस्ट (amniocentesis) की लागत

    अगर आपकी गर्भावस्था उच्च जोखिम वाली है, तो आपकी डॉक्टर 15वें से 20वें सप्ताह के बीच एमनियोसेंटेसिस (amniocentesis) टेस्ट कराने की सलाह दे सकती हैं। इस टेस्ट से डाउन सिंड्रोम (down syndrome) जैसे आनुवंशिक विकारों (genetic disorder) का पता लगाया जाता है। इसकी सिफ़ारिश 35 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए की जाती है क्योंकि इस उम्र में क्रोमोसोमल असामान्यता (chromosomal abnormalities) की संभावना बहुत बढ़ जाती है। एमनियोसेंटेसिस टेस्ट (amniocentesis test) की लागत 8,000 - 12,000 तक आ सकती है।
  3. गर्भावस्था के दौरान नॉनस्ट्रेस टेस्ट (nonstress test) की लागत

    यह परीक्षण आपके बच्चे के स्वास्थ्य की निगरानी के लिए 28 सप्ताह के बाद किया जाता है। यह भ्रूण के संकट के लक्षण दिखा सकता है (show signs of fetal distress), जैसे कि बच्चे को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाना। नॉनस्ट्रेस टेस्ट (nonstress test) की लागत 300-600 रुपये तक पड़ सकती है।
  4. गर्भावस्था के दौरान ग्रुप बी स्ट्रेप्टोकोकस टेस्ट (Group B streptococcus) की लागत

    यह परीक्षण बैक्टीरिया का पता लगाने के लिए 36वें से 37वें सप्ताह में किया जाता है, जो नवजात शिशु में निमोनिया या गंभीर संक्रमण का कारण बन सकता है। प्रेनेटल केयर के दौरान होने वाले टेस्ट/जांच की लागत 1200-2000 रुपये आ सकती है।

भारत में एंटिनेटल केयर के लिए उपलब्ध पैकेजेज़ की लागत कितनी है ?

What is the cost of Prenatal/Antenatal packages in भारत in hindi

Antenatal care ke liye uplabdh packages in hindi

औसतन एंटिनेटल केयर पैकेज की लागत 8,000 से 10,000 हज़ार के बीच हो सकती है। प्रसवपूर्व देखरेख के पैकेज कई तरह के होते हैं। एंटिनेटल केयर पैकेज का खर्च इस बात पर निर्भर करते हैं कि आप इसमें कौन-कौन सी सर्विस ले रहे हैं।

प्रसव से पहले देखरेख लागत में डॉक्टर्स की कंसलटेशन, गर्भावस्था के दौरान किए जाने वाले परीक्षण, अस्पताल की सर्विस, डिलीवरी (सामान्‍य और सीजेरियन डिलीवरी), स्टेम सेल संरक्षण और पोस्ट डिलीवरी शामिल होते हैं। कुछ पैकेज में निजी डायटिशियन, निजी योग और एक्सरसाइज ट्रेनर और फोटोग्राफी भी शामिल होती हैं।

Zealthy आपको उपलब्ध कराता है उचित दरों पर बेहतरीन एंटिनेटल केयर पैकेज। ज्यादा जानकारी के लिए अभी हमसे संपर्क करें।

काश! नहीं, प्रयास करें!

अधूरे सपने को पूरा करने के लिए हमपर विश्वास करें!

प्राथमिक अपॉइंटमेंट के साथ बेस्ट फर्टिलिटी उपचार

प्राथमिक अपॉइंटमेंट के साथ बेस्ट फर्टिलिटी उपचार

बेस्ट फर्टिलिटी उपचार के लिए, हमसे जुड़े 15,000+ फर्टिलिटी विशेषज्ञ के साथ पाएं प्राथमिक अपॉइंटमेंट।

24/7 व्यक्तिगत और बेहतर केयर सपोर्ट

24/7 व्यक्तिगत और बेहतर केयर सपोर्ट

उपचार के दौरान 24/7 उपलब्ध रहने वाली हमारी केयर टीम के द्वारा हर फर्टिलिटी केस को अच्छी तरह समझा और निर्देशित किया जाता है

वित्तीय सहायता और सस्ती दरों पर उपचार

वित्तीय सहायता और सस्ती दरों पर उपचार

पूरी पारदर्शिता के साथ लागत-प्रभावी उपचार देने का आश्वासन और जरुरत पड़ने पर 0% इंटरेस्ट दर पर लोन दिया जाता है

services
services

आर्टिकल्स

पति-पत्नी को परिवार बढ़ाने से पहले कौन से टेस्ट करवाने चाहिए

पति-पत्नी को संतान को जन्म देने से पहले रक्त जांच, वीर्य जांच एच आई वी जांच व फर्टिलिटी जांच ज़रूर करवा लेने चाहिए। इससे निश्चिंत गर्भधारण व स्वस्थ शिशु के जन्म को सुनिश्चित किया जा सकता है।...और पढ़ें

Dr Rushabh Mehta

24 Mar, 2019