4हफ़्ते प्रेग्नेंट

आपका बच्चाखसखसके आकार का है

मुझे अपनी डिलीवरी की तारीख का पता नहीं है

अपनी डिलीवरी डेट पता करें

या

गाइड और नियमित सुझाव प्राप्त करने के लिए अपनी डिलीवरी की तारीख सेव करें

अपनी डिलीवरी की तारीख सेव करें

अपनी डिलीवरी की तारीख सेव करेंcalender

Week 4 of your pregnancy | Zealthy

आपकी गर्भावस्था का चौथा हफ्ता

Week 4 of your pregnancy in hindi

Aap Ki garbhavastha ka chautha hafta in hindi

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में आप किस तिमाही (your trimester) में हैं : आप गर्भावस्था की पहली तिमाही (first trimester) में हैं।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में आप कितने महीने की गर्भवती हैं : आप गर्भावस्था के पहले महीने में हैं।

कितने हफ्ते बचे हैं : 36 हफ्ते (252 दिन) बचे हैं।

गर्भावस्था के पहले हफ्ते में बच्चा कितना बड़ा हुआ है :

  • इस समय आपका शिशु ख़सख़स (poppy seed) के आकार का है।
  • आपके शिशु की लम्बाई लगभग 0.11 इंच (2 मिमी) है।
  • गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में शिशु का वजन लगभग एक ग्राम (1gm) होता है।

आप सभी महिलाओं का गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में स्वागत है। इस हफ्ते में आपको बधाई देना भी आवश्यक है क्योंकि अधिकतर महिला इस हफ्ते में पीरियड्स के मिस (miss) होते ही घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट कर लेती हैं।

अगर आपका प्रेगनेंसी टेस्ट पॉजिटिव आया है तो अब आप एक महीने की गर्भवती हो गयी हैं और ये आपकी पहली तिमाही चल रही है, जो आपके बच्चे के विकास के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

ऐसे में इस अच्छी खबर को अगर आपने अब तक अपने साथी से साझा नहीं किया तो उन्हें ये खुशख़बरी देने का ये सही समय है। हालांकि इस दौरान आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए, जहाँ वो प्रेगनेंसी कन्फर्म करने के लिए यूरिन या ब्लड टेस्ट करने को कहेंगे।

इस समय आपको क्या करना चाहिए :

  • घर पर प्रेगनेंसी टेस्ट करें।
  • अपने साथी के साथ खबर साझा करें।
  • प्रीनेटल विटामिन (prenatal vitamins) लेना जारी रखें।
  • डॉक्टर (gynecologist) से मिलें।
  • कैफीन और शराब के सेवन से बचें।
  • अपने डॉक्टर से चर्चा किए बिना कोई भी दवा न लें।
  • डाइट पर न रहें या उपवास न करें क्योंकि पोषक तत्वों की कमी भ्रूण के विकास को प्रभावित कर सकती है।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में आपका शरीर

Your body at week 4 of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke chauthe hafte mein aapka sharir in hindi

loading image

आपका बच्चा अभी-अभी आपके गर्भाशय का अस्तर (uterus lining) में प्रत्यारोपित (implant) हुआ है। आपका शरीर अब उन परिवर्तनों की श्रृंखला की शुरुआत कर रहा है, जो लगभग अगले 36 हफ्तों तक होते रहेंगे।

ये दर्शाता है कि आपका प्रोजेस्टेरोन (progesterone hormone) का स्तर आपके हार्मोनल बैलेंस को सपोर्ट कर रहा है, जो गर्भावस्था को बनाए रखने में मदद करता है।

इस दौरान आपके शरीर में ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (human chorionic gonadotropin) का स्तर बढ़ रहा है, जो न केवल सकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण (positive pregnancy test), बल्कि गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों को भी बताता है।

पहली तिमाही के दौरान, एचसीजी का स्तर हर दो से तीन दिनों में दोगुना हो जाता है। "इस हार्मोन का काम अंडाशय को प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन करने के लिए प्रेरित करना है, जो भ्रूण के विकास के लिए महत्वपूर्ण है।

हालांकि इस हार्मोन के बढ़ते स्तर के कारण कुछ महिलाओं को थकान, ऐंठन, जी मिचलाना या सिरदर्द की समस्या हो सकती है और नहीं भी हो सकती है।

चौथे हफ्ते की गर्भावस्था के दौरान पेट में बदलाव (4 weeks pregnant belly)

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में गर्भवती दिखने की संभावना न के बराबर होती है। अधिकतर मामलों में 12 हफ्ते तक शारीरिक रूप से गर्भवती होने के संकेत दिखाई नहीं देते हैं, जिसका मतलब है कि अभी आपके पेट को देखकर कोई प्रेग्नेंट होने का अनुमान नहीं लगा सकता है।

चौथे हफ्ते की गर्भावस्था के लक्षण (4 Weeks pregnancy symptoms)

गर्भावस्था के शुरुआती दौर में आपको अपने शरीर में कुछ खास बदलाव का एहसास नहीं हो सकता है।

वास्तव में अगर महिलाएं अपने मासिक धर्म चक्र का ट्रैक नहीं रखती हैं और अगर उनका पीरियड अनियमित रहता है तो उन्हें ये पता भी चलता है कि वो कुछ हफ़्तों से प्रेग्नेंट हैं। वहीं दूसरी ओर, आपकी गर्भावस्था के चौथे हफ्ते तक आप कुछ लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं, जो इस प्रकार हैं :

  • उल्टी (vomiting)
  • असामान्य थकान (unusual tiredness)
  • स्तनों में अकड़न (soreness in the breasts)
  • लगातार पेशाब आना (frequent urination)
  • जी मिचलाना (nausea)

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में शारीरिक और भावनात्मक परिवर्तन (Physical and emotional changes at 4 week of pregnancy)

प्रेग्नेंसी हार्मोंस का उत्पादन चौथे हफ्ते से शुरु हो जाता है, जिस कारण गर्भवती महिलाओं को उल्टी होने लगती है, सर में दर्द की समस्या उत्पन्न हो जाती है और जी मिचलाने लगता है।

इतना ही नहीं इस दौरान महिलाओं की सूंघने की क्षमता में वृद्धि हो जाती है और कभी-कभी भारीपन का भी एहसास होने लगता है।

वहीं भावनात्मक रूप में बदलाव के तौर पर मन में घबराहट हो सकती है या मूड में बदलाव हो सकता है। इसके अलावा पीरियड के ही लक्षण के सामान आप चिड़चिड़ा महसूस कर सकती हैं।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में आपका बच्चा

Your baby at week 4 of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke chauthe hafte mein aapka baccha in hindi

loading image

एक बार जब भ्रूण गर्भाशय के अस्तर (uterine lining) से जुड़ जाता है, तो वह ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (human chorionic gonadotropin-HCG) नामक एक हार्मोन का उत्पादन शुरू कर देता है। यह हार्मोन एंडोमेट्रियम की परत (endometrium lining ) को बनाए रखता है और आने वाले महीनों के लिए अंडाशय को और अधिक अंडे जारी नहीं करने का संकेत देता है।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते के दौरान भ्रूण का विकास (Growth of the baby at 4 week pregnancy)

भ्रूण में तीन परतें एक्टोडर्म (ectoderm), मेसोडर्म (mesoderm) और एंडोडर्म (endoderm) होती हैं, जो बाद में बच्चे के शरीर के अंगों (organs) और ऊतकों (tissue) का निर्माण करती हैं।

तीन परतों का कार्य इस प्रकार हैं :

  • एक्टोडर्म (upper layer) नर्वस सिस्टम (nervous system), मस्तिष्क( brain), त्वचा (skin), नाखून (nails), बाल (hair), पसीने की ग्रंथियों (sweat glands), कान (ear), स्तन ग्रंथियों (mammary glands) और दांतों के तामचीनी (teeth enamel) के गठन के लिए ज़िम्मेदार है।
  • मेसोडर्म (middle layer) सर्कुलेटरी सिस्टम (circulatory system), हृदय (heart), कनेक्टिव टिस्यूज़ (connective tissues), मूत्रजननांगी प्रणाली(urogenital system), कंकाल (skeleton) और मांसपेशियों (muscles) का निर्माण करता है।
  • एंडोडर्म (inner layer) फेफड़ों (lungs), श्वसन प्रणाली (respiratory system), जठरांत्र संबंधी मार्ग अस्तर (gastrointestinal tract lining), अग्न्याशय (pancreas), लिवर (liver) और थायरॉयड ( thyroid) में विकसित होगा।
  • इस सप्ताह के दौरान दो संरचनाएं, अर्थात् ऐम्निओन (amnion) और जर्दी थैली (yolk sac) का निर्माण होता है। एक एमनियोटिक थैली (amniotic salc), जिसे एमनियन भी कहा जाता है, वो आपके बच्चे को सहारा देने के लिए बनती है। यह थैली एमनियोटिक द्रव से भरी होती है, जो भ्रूण के लिए अनुकूल वातावरण प्रदान करती है।
  • वहीं योल्क साल्क सेलुलर कंपोनेंट्स (cellular components) बनाने के लिए ज़िम्मेदार होती है।
  • इसके अलावा, कोरियन (chorion) नामक बाहरी भ्रूण (outer embryonic membrane) प्लेसेंटा (placenta) का निर्माण करना शुरू कर देता है।

चौथे हफ्ते की गर्भवती अवस्था में शिशु की स्थिति (Baby position at 4 weeks pregnant)

जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि अभी आपके गर्भ में पल रहा खसखस के आकार का है, इस वक़्त वो आपके गर्भाशय अस्तर से चिपका हुआ है। हालांकि कुछ हफ़्तों या महीनों बाद से बच्चे की स्थिति सही अनुमान लगाया जा सकता है।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में माँ बननी वाली महिला के लिए आहार, स्वास्थ्य टिप्स और दिनचर्या

Diet, fitness tips and lifestyle for moms to at 4 week of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke chauthe hafte mein maa banne wali mahila ke liye diet, fitness or dincharya in hindi

loading image

आपकी गर्भावस्था आपके लिए एक चुनौतीपूर्ण समय हो सकती है, लेकिन स्वस्थ जीवन शैली का पालन करने की पूरी कोशिश करें। यह आपके और आपके बच्चे को प्रसव तक सर्वोत्तम सहायता प्रदान करेगा। ऐसे में इस दौरान माँ बनने वाली महिला को अपने खान-पान का ध्यान रखने के साथ-साथ योग और व्यायाम पर को अभी अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए।

प्रेगनेंसी के चौथे हफ्ते में आपको क्या खाना चाहिए (What you should eat at week 4 of pregnancy)

  • चौथे हफ्ते में आपको अपने डाइट में ताज़े फलों और सब्जियों को शामिल करना चाहिए, जो फॉलिक एसिड (follic acid) से भरपूर हो। इससे बच्चे के नर्वस सिस्टम के विकास में मदद मिलती है। पालक, गाजर, मूली, धनिया और मेथी के पत्तों में प्रचूर मात्रा में फॉलिक एसिड होता है। साथ ही फॉलिक एसिड से भरपूर फल संतरे, एवोकाडो और अमरुद खाना फ़ायदेमंद होता है और माँ बनने वाली महिला को 400-600 माइक्रोग्राम फोलिक एसिड नियमित रूप से लेना चाहिए। गर्भावस्था के दौरान अनुशंसित मात्रा में फोलिक एसिड लेने से ऑटिज़्म डिसऑर्डर्स की संभावना कम हो सकती है और साथ ही न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट 50-70% तक कम होने की संभावना हो सकती है।
  • वहीं आपको कैल्शियम के लिए दही, पनीर, दूध और हरी पत्तेदार सब्जियों का भी सेवन करना चाहिए।

प्रेगनेंसी के चौथे हफ्ते में आपको क्या नहीं खाना चाहिए (What you should not eat or avoid at week 4 of pregnancy)

इस दौरान माँ बनने वाली महिला को कैफीन और शराब के सेवन से बचना चाहिए। इसके साथ ही तले (fried) और वसायुक्त खाद्य पदार्थों (fatty foods) के साथ-साथ अतिरिक्त नमकीन (salty) और शुगर (sugar) युक्त खाद्य पदार्थों से बचें।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में कौन सा व्यायाम सबसे अच्छा है (Which exercise is best at 4 week of pregnancy)

गर्भावस्था के लक्षणों को कम करने और अपने शरीर और बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए व्यायाम भी एक शानदार तरीका है। आमतौर पर गर्भावस्था से पहले आप जो भी गतिविधि कर रही थीं, वह पहली तिमाही में जारी रखना सुरक्षित है। इसके साथी ही योग, स्विमिंग और वॉक करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में किन लक्षणों को देखते हुए डॉक्टर से जल्द-से-जल्द मिलना चाहिए

Which symptoms raise an alarm to visit doctor at 4 week of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke chauthe hafte mein kin lakshano ko dekhte hue doctor se jald se jald milna chahiye in hindi

loading image

इस समय महिलाओं को बहुत सावधानी बरतनी चाहिए और अपना ख्याल अच्छे से रखना चाहिए।

अगर आपको चौथे हफ्ते में ब्राउन डिस्चार्ज (brown discharge) होने लगे, चमकदार लाल धब्बे या रक्त के थक्के दिखे (bright red spotting or blood clots) या फिर बहुत ज़्यादा ऐंठन होने लगे और अचानक से गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण धीरे-धीरे गायब हो जाए तो आपको बिना कुछ सोच-विचार किये डॉक्टर से मिलना चाहिए।

ऐसा इसलिए करना चाहिए क्योंकि ये सब गर्भपात (miscarriage) के लक्षण हैं और इस दौरान गर्भपात होने की भी संभावना अधिक होती है।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में डॉक्टर से क्या उम्मीद करें

What to expect from your doctor in the fourth week of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke chauthe hafte mein doctor se kya umeed karein in hindi

loading image

प्रेगनेंसी के दौरान माँ बनने वाली महिला की डॉक्टर से पहली विज़िट 4-१3 हफ्ते के बीच होती है। इस समय अगर आपने घर में प्रेगनेंसी टेस्ट कर लिया है तो आपकी डॉक्टर अभी आपको सबसे पहले ब्लड टेस्ट कराने की सलाह देंगी।

इसके साथ ही डॉक्टर की ओर से सही खान-पान की सलाह दी जा सकती है, जैसे आपको अपने डाइट में किन खाद्य-पदार्थों को शामिल करना चाहिए और क्या खाने से बचना चाहिए।

चौथे हफ्ते की गर्भावस्था के दौरान अल्ट्रासाउंड या किसी अन्य परीक्षण की आवश्यकता है

Whether ultrasound or any other tests required during the fourth week of pregnancy in hindi

chauthe hafte ki garbhavastha ke dauran kya ultrasound ya any kisi parikshan ki avashyakta hai in hindi

loading image

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में सिर्फ आपकी प्रेगनेंसी की पुष्टि होती है और गर्भ में पल रहा आपका शिशु महज़ एक खसखस (poppy seeds) के आकार का होता है।

ऐसे में इस दौरान अल्ट्रासाउंड कराने की संभावना न के बराबर होती है।

गर्भवती महिलाओं का पहला अल्ट्रासाउंड सातवें सप्ताह में होता है, जिसकी मदद से ड्यू डेट का पता लगाया जाता है और इसके साथ ही मोलर (molar) या एक्टोपिक प्रेगनेंसी (ectopic pregnancy) से जुड़े रिस्क का पता चल सके।

वहीं इस समय किसी भी तरह के टेस्ट की आवश्यकता नहीं होती है।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में सेक्स

Sex in the fourth week of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke chauthe hafte mein sex in hindi

loading image

अगर आपकी गर्भावस्था सामान्य है और आपको कोई जटिलता नहीं है, तो यौन संबंध और संभोग करने से किसी भी तरह का जोखिम नहीं बढ़ेगा।

गर्भावस्था के चौथे हफ्ते में पिता के लिए टिप्स

Tips for father during fourth week of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke chauthe hafte mei pita ke liye tips in hindi

loading image

गर्भावस्था में महिला और पुरुष दोनों की भागीदारी अहम भूमिका निभाती है।

इस हफ्ते में जब माँ बनने वाली महिला भावनात्मक रूप से बेचैन रहती है या घबराती है, तो ऐसे में होने वाले पिता के प्यार और सहारे की उसे आवश्यकता होती है।

इस दौरान होने वाले पिता को अपनी पत्नी के साथ अच्छा व्यवहार करना चाहिए और उसके आसपास के माहौल को खुशनुमा रखना चाहिए।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें