योनि की देखभाल

योनि की देखभाल

Vaginal care in hindi

daily yoni ki dekhbhal karne ke tips in hindi

योनि (Vagina)

वेजाइना जिसे हिन्दी में योनि कहते हैं वास्तव में लेटिन भाषा का शब्द है जिसका मूल अर्थ है छल्लों जैसी आकृति। योनि महिला के प्राइवेट पार्ट का एक महत्वपूर्ण अंग माना जाता है। नारी शरीर का यह भाग प्रत्येक नारी का उसके शरीर की भांति सबका अलग-अलग होता है।

इसकी बनावट विभिन्न टिश्यू (Tissues), तन्तु (Fiber), मांसपेशियों (Muscles) और नसों (Nerves) से बनी एक ट्यूब के आकार की होती है। यह गर्भाशय ग्रीवा (Cervix) के जरिये गर्भाशय (Uterus) से जुड़ी होती है।

सेक्स प्रक्रिया में पुरुष लिंग योनि में प्रवेश करने से ही पुरुष वीर्य (Sperm) गर्भाशय में महिला के अंडाणु (Egg) से मिलकर शिशु जन्म की प्रक्रिया को आरंभ करते हैं। इसके अलावा शिशु का जन्म भी योनि के माध्यम से ही होता है।

क्लाइटोरिस (Clittoris)

योनि का बाहरी हिस्सा जो योनि द्वार पर स्थित होता है इसे क्लाइटोरिस कहा जाता है। इसकी बनावट मटर के दाने जैसी होती है और सेक्स प्रक्रिया में इसमें उत्पन्न उत्तेजना ही महिला को सेक्स में सहभागी बनने में मदद करती है।

योनि से संबंधित समस्याओ के लक्षण क्या है

Symptoms of vagina related issues in hindi

Yoni se related samasya ke lakshan in hindi

योनि से जुड़े रोगों में आमतौर पर जो लक्षण दिखाई दे सकते हैं वो हैं:

  1. योनि में खुजली या जलन (Itching or burning sensation) होना।
  2. योनि के आसपास की जगह का लाल (Redness) होना।
  3. योनी से बदबूदार या असामान्य स्त्राव (Abnormal discharge) होना।
  4. सेक्स करते समय या बाद में योनि में दर्द (Pain during or after sex) होना।
  5. पेशाब करते समय जलन (Burning sensation during urination) होना।

यह लक्षण विभिन्न महिलाओं को विभिन्न प्रकार से हो सकते हैं।

योनि के स्वास्थ्य से जुड़ी सामान्य बातें

Common issues related to vaginal area hygiene in hindi

vagina ki dekh baal se jude kuch common problems and issues in hindi

योनि के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए यह जरूरी है कि योनि में होने वाली परेशानियों के बारे में जानकारी रहे।

किसी समय इनमें से कोई भी परेशानी होती है तब इसका समय से उपचार किया जा सके:

  1. योनि से बदबू आना (Smelly Vagina)

    कई बार महिलाओं को अपनी योनि से अजीब सी बदबू आने लगती है। ऐसा आमतौर पर योनि में किसी प्रकार के इन्फेक्शन (Infection) या महिला का ओव्यूलेशन (Ovulation) का समय नजदीक होने के कारण हो सकता है ।

    इसके अलावा योनि में अधिक पसीने के कारण या अगर आप टेंपून (Tampoon) निकालना भूल गईं हैं तब भी बदबू आने लगती है। कई बार कुछ खाने-पीने की चीजें जैसे मछ्ली, लहसुन आदि चीजों के सेवन से भी योनि में बदबू आने लगती है।

  2. सेक्स के बाद योनि में ऐंठन (Vaginismus)

    इस परेशानी को वेजिनिसमस (Vaginismus) कहा जाता है। यह परेशानी अकसर महिला में इमोशनल (Emotional) परिवर्तन आने पर हो सकती है। इसके लिए समय पर उचित दवा और व्यायाम ही उपाय है।

  3. प्राइवेट पार्ट्स में मस्से (Genital warts)

    जब महिलाओं के प्राइवेट पार्ट्स में मस्से हो जाते हैं तब भी योनि में तकलीफ हो सकती है।

  4. योनि में त्रिकोमोकोनिसिस इन्फेक्शन (Trichomoniasis Infection)

    यह योनि में होने वह इन्फेक्शन है जो यौन संचारित रोगों के कारण होता है। यह एक प्रोटोज़ोआ ट्रिचोमोनास योनिटाइटिस वागिनालिस (Trichomonas vaginalis) के कारण होता है।

    इस रोग का फैलाव इस रोग से प्रभावित व्यक्ति से सेक्स संबंध स्थापित करने के कारण होता है।

  5. योनि में बैक्टीरियल इन्फेक्शन (Bacterial Vaginal Infection)

    योनि में बैक्टीरिया के अधिक होने के कारण जो इन्फेक्शन होता है उसे (Bacterial Vaginosis) कहा जाता है। इसे दवाइयों से ठीक किया जा सकता है।

  6. हरपीस (Herpes)

    यह भी एक यौन संचारित रोग (Sexually Transmitted Disease ) है जिसके कारण योनि में छोटे-छोटे छाले और अल्सर हो जाते हैं।

  7. गोनोरिया (Gonorrhoea)

    यह भी एक प्रकार का बैक्टीरियल इन्फेक्शन है जिसके कारण योनि से स्त्राव और खुजली की परेशानी हो सकती है। इससे बांझपन की समस्या भी हो सकती है।

  8. योनि का कैंसर (Vaginal cancer)

    यह एक अत्यंत कष्टकारी और दुर्लभ परेशानी है। इसके कारण योनि से असामान्य रक्त्स्त्राव की परेशानी हो सकती है।

  9. योनि का बाहर निकल आना (Vaginal prolapse)

    कई बार योनि का एक हिस्सा शरीर से बाहर भी निकल सकता है ।

    ऐसा आमतौर पर कूल्हे और आसपास की मांसपेशियाँ (Pelvic Muscles) के कमजोर होने के कारण मलाशय, गर्भाशय और मूत्राशय का भार योनि पर पड़ने लगता है।

  10. योनि की दीवार का पतला होना (Vaginal atrophy)

    इस परेशानी को वैजाइनल एट्रोफी (Vaginal Atrophy) कहते हैं। इसमें योनि में सूखापन आने लगता है।

    ऐसा वैसे तो रजोनिव्रती (Menopause) के बाद होता है लेकिन एस्ट्रोजन हार्मोन (Estrogen hormone) की कमी के कारण यह किसी भी उम्र में हो सकती है।

योनि की परेशानी से जुड़े सामान्य कारण

Common causes for vaginal related problems in hindi

yoni ki pareshaniyuin ke karan in hindi

योनि की परेशानी के कारण अलग-अलग हो सकते हैं।

फिर भी सामान्य कारण इस प्रकार के हो सकते हैं:

  1. बैक्टीरियल इन्फेक्शन (Bacterial infection)

    योनि में स्वस्थ बैक्टीरिया का होना सामान्य बात है। लेकिन जब इनकी संख्या में अनावश्यक वृद्धि हो जाती है तब यह परेशानी का कारण बन जाते हैं।

  2. यीस्ट इन्फेक्शन (Yeast infection)

    आमतौर पर योनि में कैंडीडा एल्बिकैन्स (Candida albicans) फंगस के कारण होने वाला इन्फेक्शन यीस्ट इन्फेक्शन कहलाता है।

    सामान्य रूप से यह फंगस शरीर के पाचन तंत्र और मुंह में पाया जाता है। लेकिन जब इनकी संख्या में अनावश्यक वृद्धि हो जाती है यानि इनका संतुलन बिगड़ जाता है तब यह योनि को नुकसान पहुंचा सकता है।

    ऐसा प्रायः तब भी होता है जब कुछ एंटीबायोटिक दवाइयों का सेवन लंबे समय तक किया जाता है। तब योनि के अच्छे बैक्टीरिया की संख्या कम हो जाती है और योनि में यीस्ट फंगस बढ़ जाता है।

  3. यौन संचारित रोग (Sexually transmitted Diseases)

    यौन संचारित रोग से प्रभावित व्यक्ति से यौन संबंध स्थापित करना।
  4. एस्ट्रोजेन हारमोन (Estrogen hormone)

    शरीर में एस्ट्रोजेन हारमोन के निर्माण का कम हो जाना।

  5. कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स (Cosmetic products)

    योनि को खुशबूदार साबुन से धोना या परफ्यूम का अधिक इस्तेमाल करना।

योनि की परेशनियों का उपचार

Treatment options for vagina related problems in hindi

yoni ki bimari ka upchar or treatments in hindi

योनि की परेशानियों का उपचार आमतौर पर बीमारी की प्रकृति पर निर्भर करता है। जैसे:

  1. बैक्टीरियल इन्फेक्शन के लिए उचित गोलियां या क्रीम दी जाती है।
  2. यीस्ट इन्फेक्शन का उपचार करने के लिए एंटी-फंगल क्रीम दी जाती है।
  3. वजाइनल एट्रोफी (Vaginal Atrophy) के लिए हार्मोनल क्रीम दी जा सकती है।
  4. यदि किसी साबुन या खुशबूदार चीज़ के प्रयोग से योनि में खुजली हो रही है तब उसे बंद करके उसके स्थान पर दूसरी चीज का ऑप्शन (option) देखा जाता है।

सारांश

Summary in hindi

योनि महिला शरीर के जननांग का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। जहां एक ओर यह सेक्स प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भाग निभाता है वहीं यह शिशु जन्म में भी मुख्य कार्य करता है।

योनि को स्वस्थ रखने के लिए इसका स्वच्छ रहना जरूरी है। समय-समय पर जांच करके योनि में होने वाले रोगों से बचा जा सकता है।

योनि में किसी भी प्रकार की परेशानी से बचने के लिए यह जरूरी है कि योनि को हमेशा स्वस्थ और स्वच्छ रखा जाए।

इसके लिए जरूरी है कि महिला अपने अन्तः वस्त्रों (undergarments) और शरीर के आंतरिक अंगों की ठीक से सफाई पर ध्यान दे और कभी भी योनि में किसी खुशबूदार प्रोडक्ट का इस्तेमाल न किया जाये।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें