अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी

Unexplained Infertility in hindi

Unexplained infertility


एक नज़र

  • अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी 10% इंफर्टाइल कपल में इंफर्टिलिटी का कारण है।
  • समय पर निदान और सटीक उपचार, अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी की समस्या को हल करने में मदद कर सकता है।
  • सही समय और अंतराल पर संभोग, जीवन शैली में बदलाव और प्रजनन उपचार द्वारा अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी को दूर करने की संभावना है।
  • घर पर, आहार परिवर्तन अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी को 80% तक कम करने में सहायक है।
triangle

Introduction

_Unexplained_Infertility_in_hindi_

यदि आप कम से कम एक वर्ष या उससे अधिक समय से गर्भवती होने की कोशिश कर रहें हैं, और इंफर्टिलिटी वर्क-अप जैसे पुरुषों में सीमेन एनेलाइसिस और महिलाओं में ओवुलेशन और फैलोपियन ट्यूब का असेसमेंट करने के बावजूद भी, गर्भधारण न कर पाने का कोई ठोस कारण नहीं पता चल पा रहा है यह अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी की स्थिति होती है।

क्या लगातार इंफर्टिलिटी चेकअप जिसमें स्पर्म एनेलाइसिस और फैलोपियन ट्यूब व ओवुलेशन फ़ंक्शन का मूल्यांकन शामिल है, करने के बाद भी आपकी प्रजनन समस्या बनी हुई है? अगर ऐसा है तो आपको या आपके पार्टनर को एक प्रकार की इंफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है जिसे ‘अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी’ कहते हैं।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी की व्यापकता: अध्ययनों के अनुसार, यह अनुमान है कि प्रजनन मूल्यांकन का एक स्टैंडर्ड मेथड, प्रेग्नेंट न हो पाने के वास्तविक कारण की पहचान नहीं कर सकता है जो 15% से 30% कपल में बांझपन का कारण बन रहा है।[1]

loading image

इस लेख़ में

 

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के कारण

Causes Of Unexplained Infertility in hindi

Unexplained infertility ke karan kya hai

यदि आप उन कपल में से एक हैं जो सप्ताह में कम से कम दो बार, विशेष रूप से कम से कम पिछले दो वर्षों से ओवुलेशन समय के दौरान असुरक्षित यौन संबंध बनाते हैं और अब तक प्रेग्नेंट नहीं हुए हैं तो आपको अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के निम्नलिखित कारणों पर विचार करना चाहिए।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी की स्थिति में समस्याएं मौजूद होती हैं लेकिन उन्हें वर्तमान विधियों द्वारा पता नहीं लगाया जा सकता है।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के अधिक संभावित कारणों को इस प्रकार बांटा गया है : -

निषेचन के साथ समस्याएं (Problems With Fertilization)

गर्भावस्था के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अंडे का पुरुष के शुक्राणु के साथ होता है। यदि निषेचन की प्रक्रिया में कोई विफलता या कोई स्टेप नहीं होता है तो आप गर्भवती नहीं होंगी

अंडे (Eggs)

गर्भावस्था के लिए, एक महिला की उम्र सबसे महत्वपूर्ण कारक है। उम्र के साथ, शरीर और अंडे की उम्र भी कम होती चली जाती है, जिसके परिणामस्वरूप अंडे की गुणवत्ता कम हो जाती है। इसीलिए ज्यादातर 35 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाएं, अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी की शिकार होती हैं। एक महिला की बढ़ती उम्र के साथ, उसके अंडों की गुणसूत्र संबंधी समस्याओं में भी वृद्धि होती है और इससे उसके गर्भाधान की संभावना कम हो जाती है। आमतौर पर यह सोचा जाता है कि जब एक महिला अपने 40 साल तक पहुँचती है, तो उसके 80% बचे अंडे में गुणसूत्र संबंधी (chromosonal) असामान्यताएं हो सकती हैं।

शुक्राणु (Sperm)

गर्भधारण होने के लिए, शुक्राणु को निषेचन के लिए फैलोपियन ट्यूब तक पहुंचना पड़ता है, अंडे के बाहरी आवरण या खोल को तोड़ना पड़ता है और फिर अंडे में प्रवेश करना पड़ता है, और अंत में जेनेटिक मटेरियल का आधा भाग अंडे को ऑफर करना पड़ता है। यह बताया गया है कि कुछ इनफर्टाइल कपल में पुरुष के शुक्राणु में आवश्यक एंजाइमों की कमी होती है जो अंडे को तोड़ने और अंडे को निषेचित करने के लिए आवश्यक होते हैं।

ट्यूब (Tubes)

आपके अंडे के रिलीज के समय के दौरान यानि ओवुलेशन समय, जो महीने में एक बार होता है, फैलोपियन ट्यूब, अंडे को पिकअप करने के लिए अंदर और बाहर की ओर मूव करते हैं और फिर ये अंडे को गर्भाशय में जाने की अनुमति देते हैं। अंडों को पकड़ने का यह काम फिम्ब्रिए (fimbriae or cilia) या फ़िंगरलाइज़ संरचनाओं (fingerlike structures) के द्वारा किया जाता है जो फैलोपियन ट्यूब के सिरों पर मौजूद होते हैं। अगर फिम्ब्रिए या सिलिया (cilia) को कोई नुकसान होता है, तो ओवरी से अंडे को पीक नहीं किया जा सकता है और यह फैलोपियन ट्यूब से प्रभावी रूप से भी नहीं गुजर सकेगा। इस प्रकार भ्रूण गर्भाशय तक नहीं पहुंच पाता है। अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के साथ निदान किए गए कुछ कपल में ऐसी ट्यूबल समस्याएं हो सकती हैं।

अंडे के प्रत्यारोपण के साथ समस्याएं (Problems With Implantation Of The Egg)

गर्भाशय का अस्तर (The lining of the uterus)

एक बार अंडाशय से अंडा निकल जाने के बाद, निषेचित अंडे के बेहतर आरोपण के लिए गर्भाशय की परत या एंडोमेट्रियम को हार्मोन द्वारा गाढ़ा किया जाता है। आरोपण के लिए, गर्भाशय की क्वालिटी लाइनिंग, प्रोजेस्टेरोन नामक गर्भावस्था हार्मोन द्वारा बनाए रखी जाती है।

कुछ मामलों में, प्रोजेस्टेरोन की रिलीज सामान्य से कम हो सकती है या इसका उत्पादन धीमा हो सकता है या इसका उत्पादन बहुत कम समय में हो सकता है। यह एंडोमेट्रियम को डिफएक्टिव बनाता है और यह अच्छी तरह से प्रतिक्रिया नहीं कर सकता है जिससे गर्भाशय की लाइनिंग अंडे के आगमन के लिए तैयार नहीं हो सकती है। अंडे और गर्भाशय की लाइनिंग के इस अनुचित समय को एक ल्यूटल फेज डिफ़ेक्ट (lutal phase defect) के रूप में जाना जाता है। यह आपके असफल आरोपण या गर्भपात का परिणाम होगा।

भ्रूण बंधन (Embryo binding)

जब निषेचित अंडा गर्भाशय तक पहुंचता है, तो प्लेसेंटा बनाने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए उसे खुद को तैयार यूटेराइन लाइनिंग से जोड़ना होगा। यह एक बहुत ही जटिल और संवेदनशील बाइंडिंग प्रक्रिया है। इसे कई प्रोटीन और रसायनों की आवश्यकता होती है। कभी-कभी, इन बाइंडिंग कारकों या रसायनों की कम या अपर्याप्त मात्रा या उनकी अनुपस्थिति से अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी होती है। ऐसे पेशेंट में, अन्य सभी कारक सामान्य होने पर भी गर्भावस्था को बनाए नहीं रखा जा सकता।

संक्रमण (Infection)

कुछ जोड़ों को अपने शरीर में लंबे समय तक संक्रमण के कारण अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी का अनुभव हो सकता है। यूरेलप्लाज़्मा (ureaplasma) जैसे जीवाणु जीव हो सकते हैं, जो कम संख्या में लोगों के प्रजनन पथ में मौजूद होते हैं, और बिना किसी लक्षण के बांझपन का कारण बनते हैं। इन यूरेलप्लाज्मा को समय से पहले जन्म का कारण कहा जाता है, लेकिन प्रजनन क्षमता पर इसके सटीक प्रभाव के बारे में अभी तक जानकारी ज्ञात नहीं है।

प्रतिरक्षा प्रणाली की समस्याएं (Problems of Immune)

प्रतिरक्षा प्रणाली में फ़ॉरेन माइटेरियल को पहचानने की और इसपर प्रतिक्रिया देकर इसे तुरंत हटाने की क्षमता होती है। कुछ पेशेंट में, प्रतिरक्षा प्रणाली, खुद की कोशिकाओं को फ़ॉरेन माइटेरियल समझकर उनपर ही गलत तरीके से हमला करना शुरू कर देती है। यह उन पुरुषों में होता है जिन्होंने पुरुष नसबंदी उलट (vasectomy reversal) कर दी गई है, जिनमें उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली अपने शुक्राणुओं पर ही एंटीबॉडी रिलीज करती है। ये एंटीबॉडी शुक्राणु कोशिकाओं पर हमला करना शुरू कर देते हैं, जिससे शुक्राणु एक-दूसरे से टकरा जाते हैं और एक-दूसरे से चिपक जाते हैं जिससे शुक्राणुओं को तैरने में असमर्थता होती है। परिणामस्वरूप अंडे में एंटर करने और बाइंड करने में असमर्थ होते हैं जो बांझपन का कारण बनता है।

मनोवैज्ञानिक कारक (Psychological Factors)

रोजमर्रा के जीवन में तनाव और अवसाद का अनुभव करने वाले पुरुषों और महिलाओं की प्रजनन क्षमता पर बड़ी मात्रा में नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। गर्भाधान पर मनोवैज्ञानिक कारकों के प्रभाव को जानने के लिए कई प्रकार के शोध हो रहे हैं। आपको पूरी तरह से समझना और स्वीकार करना चाहिए कि बांझपन से निपटना बहुत ही इमोशनल है और इसके प्रभाव को कम करने के लिए आराम करना चाहिए और खुद के लिए समय निकालना चाहिए। यदि आपने गर्भावस्था में देरी के कारण तनाव का अनुभव कर रहें हैं, तो आप एक अनुभवी फ़र्टिलिटी काउंसलर की मदद ले सकते हैं।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के ऊपर दिए गए कारणों के अलावा भी कुछ कारण हैं जो अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी की स्थिति पैदा करते हैं।

हल्के एंडोमेट्रियोसिस (Mild Endometriosis)

यदि आप में हल्के एंडोमेट्रियोसिस हैं, तो एंडोमेट्रियोसिस टिशू आपके यूटेराइन कैविटी जैसे फैलोपियन ट्यूब, और अंडाशय के बाहर बढ़ते हैं तो आपको गर्भधारण करने में समस्या हो सकती है। इन हल्के एंडोमेट्रियोसिस का पता लगाने में चूक हो सकती है यदि महिला कोई लक्षण नहीं दिखाती है। ऐसी महिलाएं, जिनमें हल्के एंडोमेट्रियोसिस का निदान नहीं किया जाता है या जिनमें इसका निदान मिस हो जाता है, उनकी इंफर्टिलिटी की स्थिति को अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी में बांटा जा सकता है। [2]

सामान्य से कम प्राकृतिक सामर्थ्य (Less Than Normal Natural Fecundability)

प्राकृतिक फीकेंडिबिलिटी क्या है? एक महिला के प्राकृतिक सामर्थ्य का स्त्री रोग संबंधी अर्थ "उसकी शारीरिक क्षमता या एक मासिक धर्म में गर्भवती होने की उसकी क्षमता" है। युवा दंपतियों में यह प्राकृतिक सामर्थ्य लगभग 20% होती है। जबकि अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के साथ एक महिला में, यह प्राकृतिक सामर्थ्य सामान्य से कम होती है।

loading image
 

महिलाओं में अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी का निदान

Diagnosis of Female for Unexplained Infertility in hindi

Mahilaon mein unexplained infertility ka nidan

अगर शुरुआती चरण में ही आप में बांझपन का निदान किया जाता है, तो उन कारकों का इलाज करना संभव है जो आपकी अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए जिम्मेदार हैं और इससे आपको तुरंत इसे खत्म करने में मदद मिल सकती है।

फ़ीमेल टेस्ट या प्रक्रियाओं में निम्न बेसिक चेकअप शामिल होना चाहिए : -

ओवेरियन रिजर्व टेस्ट (Ovarian Reserve Test)

आप में बचे हुए संभावित एग सेल्स की संख्या को ओवेरियन रिजर्व के रूप में जाना जाता है। यदि आपका ओवेरियन रिजर्व अधिक है, तो आपके पास गर्भ धारण करने का एक बेहतर मौका होगा और यदि यह कम है तो आपको गर्भवती होने में परेशानी होगी।

आपके ओवेरियन रिजर्व को जानने के लिए निम्नलिखित परीक्षण किए जाते हैं : -

  • सीरम एफएसएच परीक्षण (Serum FSH tests)

यह सबसे आम परीक्षण है जो आपके ओवेरियन रिजर्व को जानने के लिए किया जाता है। फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हार्मोन आपके मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करता है और अंडे के उत्पादन का कारण बनता है। एफएसएच का उच्चतम स्तर, अंडे के रिलीज होने से ठीक पहले देखा जाता है यानि ओव्यूलेशन के समय। जब आपके ब्लड सैंपल का एक सीरम एफएसएच स्तर> 10-20 आईयू / एमएल दिखाता है, तो यह दर्शाता है कि आपके पास कम ओवेरियन रिजर्व है या यह कभी-कभी ओवेरियन विफलता का भी संकेत देता है। एफएसएच परीक्षण से 2 महीने पहले आपको किसी भी तरह की गर्भनिरोधक दवाओं का उपयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि उनका उपयोग परीक्षा परिणामों में हस्तक्षेप कर सकता है। [3]

  • सीरम एएमएच परीक्षण (Serum AMH test)

यह परीक्षण आपके मासिक धर्म चक्र के किसी भी चरण में किया जा सकता है और यह आपके अंडाशय के अंडों की संख्या को जानने में मदद करता है। एक प्रजनन क्षमता वाली महिला के लिए सामान्य एएमएच स्तर 1.0 - 4.0 एनजी / एमएल है। यदि आपके एएमएच परीक्षण का परिणाम 1-2 एनजी / एमएल से कम है तो कम संख्या में अंडे देखे जाते हैं। [4]

  • एंट्रल फॉलिकल काउंट (Antral follicle count - AFC)

यह ओवेरियन रिजर्व को जानने के लिए किया जाने वाला परीक्षण है और इसे बेसल एंट्रल फॉलिकल काउंट (basal Antral follicle count) भी कहा जाता है। एक एंटेरल फॉलिकल एक छोटा तरल पदार्थ से भरी थैली है जिसमें एक अपरिपक्व अंडा होता है। इन एंट्रल फॉलिकल्स की गणना और ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड के माध्यम से, मासिक धर्म चक्र के 2, 3 और 5 दिन पर मापी जाती है। आपको पता होना चाहिए कि एंट्रल फॉलिकल्स का उत्पादन हर महीने बदलता रहता है। एएफसी, दोनों अंडाशय में 2-9 मिमी मापे गए फॉलिकल का योग (sum) है। सामान्य एएफसी को प्रति अंडाशय 3 से 6 माना जाता है। यदि आपका एएफसी प्रति अंडाशय 3 से 6 से कम है, तो यह समझना चाहिए कि आपकी प्रजनन क्षमता कम है और अंडे की संख्या भी कम है।

ओव्यूलेटरी फंक्शन टेस्ट (Ovulatory Function Tests)

इसमें ओवुलेटरी फ़ंक्शन का आकलन करने के 5 तरीके शामिल हैं : -

  • मासिक धर्म का इतिहास (Menstrual history)

किसी भी तरह के संबंधित समस्या के बारे में जानने के लिए आपके मासिक धर्म का पूरा इतिहास लिया जाता है। सामान्य मासिक धर्म चक्र और नियमित ओव्यूलेशन वाली महिलाएं, मासिक धर्म की शुरुआत के दौरान औसत ब्लीडिंग, हल्के से मध्यम मासिक धर्म के लक्षणों और तेज पैल्विक दर्द जैसे लक्षण दिखाती हैं। लंबे समय तक मासिक धर्म चक्र न होने पर या जब चक्रों की अनियमितता के साथ भारी रक्तस्राव होने पर एनोव्यूलेशन (anovulation) की स्थिति हो सकती है।

  • यूरिनरी एलएच (Urinary LH)

ओवुलेशन से 36 से 38 घंटे पहले, यूरीन में ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) नामक एक हार्मोन की वृद्धि होती है। बाजार में अलग-अलग ओव्यूलेशन प्रेडिक्टर किट उपलब्ध हैं जो यूरीन में एलएच के बढ़े स्तर को जानने में मदद करते हैं। [5] एक सकारात्मक परीक्षण यह जानने में मदद करता है कि आपका एलएच स्तर बढ़ रहा है और आप ओवुलेट कर रहे हैं।

  • मिड-ल्यूटल सीरम प्रोजेस्टेरोन स्तर (Mid-Luteal serum progesterone level)

यह परीक्षण, ओवरी के द्वारा रिलीज ब्लड में प्रोजेस्टेरोन के स्तर को मापता है। यह पीरियड्स के एक्सपेक्टेड टाइम से 1 सप्ताह पहले किया जाता है और यह जानने में मदद करता है कि आप वर्तमान में ओवुलेट कर रहे हैं या हाल ही में ओव्यूलेट हुए हैं। यदि वैल्यू> 3 एनजी / एमएल है, तो इसका मतलब है कि आप ओवुलेट कर रहे हैं। [6]

  • ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासाउंड (Transvaginal ultrasound)

यहां, आपके फॉलिकल की अल्ट्रासाउंड परीक्षणों की एक सीरिज़ के तहत जांच की जाती है, जो आपके डॉक्टर को फॉलिकल के विकास का मूल्यांकन करने में मदद करता है और फॉलिकल के आकार में कमी या वृद्धि, फॉलिकल्स की मौजूदगी, पेल्विस में फ्री फ्लूइड की मौजूदगी और फॉलिकल में ब्लड फ़्लो में वृद्धि की जांच करके ओव्यूलेशन के संकेतों को पहचानने में मदद करता है।

  • एंडोमेट्रियल बायोप्सी (Endometrial biopsy)

ओव्यूलेशन के बाद यूटेराइन लाइनिंग बदलता रहता है। एंडोमेट्रियल बायोप्सी यूटेराइन लाइनिंग के एक सैंपल का परीक्षण है जो यह निर्धारित करता है कि ओव्यूलेशन हुआ या नहीं। ओव्यूलेशन के 7 से 10 दिनों बाद आंतरिक गर्भाशय से एंडोमेट्रियल सैंपल लेकर यह परीक्षण किया जाता है। जैसा कि यह एक आक्रामक, दर्दनाक और महंगा परीक्षण है, यह शायद ही कभी ओव्यूलेशन को ट्रैक करने के लिए किया जाता है। यह केवल तब कराने के लिए कहा जाता है जब डॉक्टर को एंडोमेट्रैटिस (endometritis) का संदेह होता है। अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी वाली महिलाओं को एक टाइम्ड एंडोमेट्रियल बायोप्सी का सुझाव दिया जाना चाहिए।[7]

ट्यूबल पेटेंसी टेस्ट (Tubal Patency Tests)

ट्यूबल पेटेंट के आकलन के लिए, निम्नलिखित तकनीकों का उपयोग किया जाता है : -

  • एचएसजी हिस्टेरोस्लापिंगोग्राफी (HSG Hysterosalpingography)

यदि फैलोपियन ट्यूब या गर्भ या ट्यूबों में कोई अन्य समस्या है, तो डॉक्टर एचएसजी को पहले सुझाव के रूप में पेश करेंगे। यह एक स्पेशल एक्स-रे [8] है जिसमें डॉक्टर एंडोमेट्रियल कैविटी और फैलोपियन ट्यूब की तलाश करने के लिए डाई का उपयोग करेंगे। फैलोपियन ट्यूब के पेटेंसी को निर्धारित करने के लिए यह सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला स्टैंडर्ड तरीका है। यह किसी भी रुकावट या जमे हुए पदार्थ को धोने में मदद करता है जो आपके फैलोपियन ट्यूब को ब्लॉक करते हैं। यह एक न्यूनतम इनवेसिव और कम खर्चीली प्रक्रिया है जिसका उपयोग फैलोपियन ट्यूब की पेटेंसी को जानने के लिए किया जाता है।

  • सलाइन इंफ्यूजन सोनोग्राफी (Saline infusion Sonography)

इस परीक्षण में, आपके गर्भाशय में सलाइन इंजेक्शन लगाया जाता है और फिर किसी भी रुकावट की जांच के लिए अल्ट्रासाउंड किया जाता है। यह प्रक्रिया फैलोपियन ट्यूब की पेटेंसी जानने में मदद करती है। यदि ट्यूब बिना किसी ब्लॉक के क्लीयर हैं, तो सलाइन आसानी से पेल्विस में प्रवाहित होगा। इस तरह, फैलोपियन ट्यूबों की रुकावट को निर्धारित किया जा सकता है जो बांझपन का कारण बनती हैं।

  • डायग्नोस्टिक लेप्रोस्कोपी (Diagnostic Laparoscopy)

यह डॉक्टरों को फैलोपियन ट्यूब सहित पेट और पेल्विस का कंटेन्ट सीधे देखने में मदद करता है। लैप्रोस्कोपी द्वारा किसी भी तरह के आसंजन (adhesions) और एंडोमेट्रियोसिस का पता लगाया जा सकता है। यह बांझपन से पीड़ित कपल में ट्यूबल दोष की पहचान करने के लिए सबसे विश्वसनीय उपकरण है। यह एचएसजी की तुलना में अधिक आक्रामक और महंगी है। यदि आपका एंडोमेट्रियोसिस और पेल्विस सूजन की बीमारी का इतिहास रहा है, जिसके परिणामस्वरूप अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी होती है तो डॉक्टर लेप्रोस्कोपी की सिफारिश करेंगे।

यूटेराइन की असामान्यता पता लगाने के लिए टेस्ट (Test To Assess Uterine Abnormalities)

आमतौर गर्भाशय की विसंगतियां (anomalies) जो इंफर्टिलिटी का कारण बनती हैं, उनका पता निम्न तरीकों से लगाया जाता है : -

  • 2 डी, 3 डी अल्ट्रासाउंड (2D, 3D Ultrasound)

अगर किसी महिला को फाइब्रॉएड (fibroids), एडेनोमायोसिस (adenomyosis) और मुलेरियन विसंगति (mullerian anomalies) जैसी गर्भाशय संबंधी विसंगतियां हैं, तो वे गर्भावस्था में परेशानी का कारण बनते हैं। ऐसे मामलों में, 2 डी अल्ट्रासाउंड इसे पहचानने में मदद करता है।

  • एचएसजी हिस्टेरोस्लापिंगोग्राफी (HSG Hysterosalpingography)

यह मुलरियन और अधिग्रहीत गर्भाशय विसंगतियों (acquired uterine anomalies) को निर्धारित करने में भी मदद कर सकता है।

पुरुष नैदानिक ​​परीक्षण (Male Diagnostic Tests)

यदि आप और आपका साथी पिछले 12 महीनों से बच्चों के लिए प्रयास कर रहे हैं और यदि आप असफल रहे हैं, तो डॉक्टर सीमेन एनेलाइसिस की सिफारिश करेंगे। यह पुरुष बांझपन का कारण जानने के लिए मुख्य परीक्षण है। सीमेन एनेलाइ में, आपके सीमेन की गुणवत्ता और मात्रा जैसे [9] वॉल्यूम, काउन्ट, पीएच, गतिशीलता, चिपचिपाहट, आकार और व्हाइट ब्लड सेल्स मापी जाती हैं।

आपके सीमेन का सैंपल, प्रयोगशाला में एक कंटेनर में हस्तमैथुन करके एकत्र किया जाता है या यदि संभव न हो तो यौन क्रिया के दौरान विशेष लैटेक्स कंडोम में एकत्र किया जा सकता है। यदि आप घर पर सीमेन कलेक्शन करना चाहते हैं, तो सैंपल कमरे के तापमान पर होना चाहिए और यह 45 मिनट के भीतर प्रयोगशाला तक पहुंचना चाहिए। कपल को एआरटी प्रक्रियाओं का सुझाव दिया जाता है यदि सीमेन में असामान्यता दिखाई देती है।

 

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी का मैनेजमेंट

Management Of Unexplained Infertility in hindi

Unexplained infertility ka management

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए उपचार विशेष रूप से एक विशेष कारण से संबंधित नहीं हैं और इसए "एमपीरिकल" (empirical) कहा जाता है। कई बार, अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए एमपीरिकल उपचार द्वारा पेशेंट का सफलतापूर्वक इलाज किया जाता है।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी का प्रबंधन महिला की आयु जैसे विभिन्न मानदंडों पर निर्भर करता है जैसे महिला की उम्र, [10] गर्भधारण में कितनी देर हो रही है (यानि कि बांझपन की अवधि) साइड इफेक्ट्स, उपचार जो कपल के द्वारा पसंद किए जाते हैं, उपचार की लागत जो उपलब्ध हैं और स्वास्थ्य सुविधा है कि कपल के लिए उपलब्ध हैं।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए उपचार के विकल्पों में शामिल हैं : -

एक्सपेटैंट मैनेजमेंट (Expectant Management)

यह अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के उपचार का फर्स्ट लाइन माना जाता है। यदि आपकी आयु 25 वर्ष के आसपास है, और यदि आपकी बांझपन की अवधि बहुत कम है, तो यह बहुत प्रभावी है।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी में एक्सपेटैंट मैनेजमेंट के मुख्य उद्देश्य में कपल की काउंसलिंग शामिल है, जो बांझपन में शामिल तथ्यों और समस्याओं की व्याख्या करता है, और परिणामों के बारे में कपल के डर को कम करता है। यह देखा गया है कि एक्सपेटैंट मैनेजमेंट के साथ, कई युवा महिलाएं गर्भावस्था प्राप्त करती हैं।

एक्सपेटैंट मैनेजमेंट पद्धति ने 30 वर्ष से अधिक आयु की महिलाओं में और लंबे समय तक बांझपन की शिकार महिलाओं में कम सकारात्मक परिणाम दिए हैं।

क्लोमीफेन साइट्रेट और सही समय पर संभोग (Clomiphene Citrate And Timed Intercourse)

3 से 6 महीने के लिए क्लोमीफीन का उपयोग करने से, बिना किसी उपचार की तुलना में प्रजनन क्षमता में दोगुना सुधार हो सकता है। एक महिला जिसे पहले से ही नियमित मासिक धर्म चक्र आता है और हर महीने एक अंडे के साथ ओवुलेट करती है, उन्हें जब क्लोमिड या क्लोमीफीन दिया जाता है, तो उनकी ओवरी उत्तेजित होकर हर महीने में दो या तीन अंडे रिलीज करने लगती है।

छोटी महिलाओं में, 50mg से 250mg तक क्लोमीफीन की खुराक का उपयोग 3 से 6 चक्रों के लिए किया जाता है। [11] इसे मासिक धर्म के दूसरे दिन से 5 दिनों के लिए लिया जाता है। इस तरह, सिंगल फॉलिकल के विकास को बढ़ावा दिया जाता है और कई गर्भधारण और ओवेरियन हाइपरस्टीमुलेशन (hyperstimulation) जैसी जटिलताओं से बचा जा सकता है।

अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान (Intrauterine Insemination - IUI)

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी में आईयूआई का उपयोग करने का मुख्य उद्देश्य यह है कि आईयूआई सेक्स सेल्स यानि अंडे और शुक्राणुओं के उत्पादन में काफी वृद्धि करता है और यूटेराइन कैविटी को पास करके, इन अंडे और शुक्राणु को पुश करके सेक्स सेल्स को बहुत करीब लाता है। अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए, आमतौर पर, आईयूआई के साथ सुपरोव्यूलेशन (superovulation) की सलाह दी जाती है। [12] IUI उपचार के दिन पुरुष का सीमेन सैंपल एकत्र किया जाता है, और इसे कैथेटर के माध्यम से यूटेराइन कैविटी में इंजेक्ट किया जाता है।

आईवीएफ महंगी और आक्रामक प्रक्रिया है, रिसर्च से पता चलता है कि नौ चक्रों के लिए प्रजनन दवाओं के साथ आईयूआई गर्भावस्था को प्राप्त करने में मदद करने के लिए प्रभावी हैं।

इन-विट्रो निषेचन आई.वी.एफ (In-vitro fertilization IVF)

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए, आईवीएफ को एक प्रभावी उपचार विधि माना जाता है। परिपक्व अंडे की पहचान की जाती है और आईवीएफ या आईसीएसआई का उपयोग करके निषेचित किया जाता है। इन निषेचित अंडे को भ्रूण में उनके विकास की अनुमति देने के लिए इनक्यूबेटर (incubators) में रखा जाता है। इन भ्रूणों को अंडे की निकासी के 5 वें दिन गर्भाशय में वापस रखा जाता है।

आईवीएफ के साथ अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी की सफलता (Success of Unexplained infertility with IVF)

आईवीएफ के साथ अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए गर्भावस्था की सफलता दर प्रति चक्र 30.7% है। यह क्लोमिड के साथ IUI द्वारा हासिल की गई तुलना में तीन गुना अधिक है। यदि आप 38 वर्ष या उससे अधिक उम्र के हैं, तो आईयूआई को छोड़ कर आईवीएफ के साथ डायरेक्ट उपचार आपके लिए बेहतर विकल्प है।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए आईवीएफ चुनने के कारण (Reasons to choose IVF for unexplained infertility)

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए आईवीएफ चुनने के कुछ कारण हैं : -

  • यह सफल गर्भावस्था के लिए श्रेष्ठ सफलता दर देने के लिए सबसे अच्छा है।
  • कभी-कभी, आईवीएफ उपचार के दौरान अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के कारण की भी पहचान की जाती है।
  • अंडे की गुणवत्ता, निषेचन और भ्रूण के विकास की प्रक्रिया का निरीक्षण करना मात्र आईवीएफ उपचार के दौरान ही संभव है।
loading image
 

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी और प्राकृतिक उपचार

Unexplained Infertility And Natural Treatmentin hindi

Natural treatment for unexplained infertility

यदि आपको अज्ञात कारणों से बांझपन का निदान किया गया है, तो दैनिक जीवन शैली में और खाने की आदतों में बदलाव लाने से गर्भावस्था को प्राप्त करना स्वाभाविक रूप से संभव है।

प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा बहुत सुधार किया जा सकता है क्योंकि ये शरीर को वापस संतुलन में लाने में मदद करते हैं।

आइए एक सरल और आसान तरीका जानते हैं जो अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी को रोकने में मदद करता है।

अनएक्सप्लेंड इंफर्टिलिटी के लिए भारतीय पौष्टिक और संपूर्ण घने खाद्य पदार्थ (Indian Nutritious And Whole Dense Foods For Unexplained Infertility)

पोषक तत्वों की कमी मासिक धर्म चक्र में असंतुलन और अच्छे हार्मोन के उत्पादन में देरी का कारण बनती है, जिससे शुक्राणुओं की संख्या में कमी आती है और शरीर के समग्र स्वास्थ्य में गिरावट आती है। स्वस्थ मासिक धर्म को बनाए रखने के लिए कैल्शियम सहित, गर्भाधान से पहले लिया गया फोलिक एसिड जन्म दोषों को रोकने में मदद करता है, और विटामिन सी आपके शुक्राणुओं को स्वस्थ रखने में मदद करता है।

अपने खाने की आदतों पर ध्यान दें और उन खाद्य पदार्थों का सेवन न करें जो संसाधित (processed) हैं। प्राकृतिक खाद्य पदार्थ खाने से आपकी प्रजनन क्षमता को 80% तक बढ़ाने में मदद मिलती है, जैसा कि हार्वर्ड के एक अध्ययन द्वारा दिखाया गया है।

इसके लिए निम्न बदलाव अपनाएं : -

  • स्वस्थ आहार (Healthy diet)

अपने दैनिक भोजन में ताजी सब्जियां, फल, साबुत अनाज, कच्चे बीज, नट्स और ऑर्गेनिक मीट और सीमित डेयरी उत्पाद शामिल करें।

  • एंटी-न्यूट्रिएंट्स से बचें (Avoid anti-nutrients)

ये प्रोसेस्ड फूड में मौजूद होते हैं और इसमें डाइजेशन, प्रिजर्वेटिव्स होते हैं जो हार्मोनल असंतुलन के कारण फर्टिलिटी की समस्या पैदा करते हैं।

  • पर्याप्त पानी पियें (Drink adequate water)

शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और हाइड्रेटेड रखने के लिए कम से कम 8 गिलास पानी पियें।

  • जीवन शैली समायोजन (Lifestyle Adjustment)

दैनिक जीवन शैली की गतिविधियों में बहुत सारे बदलाव किए जा सकते हैं जो स्वस्थ शरीर को बनाए रखने में मदद करते हैं और इस प्रकार प्रजनन क्षमता में सुधार करते हैं।

  • तनाव पर नियंत्रण पाएं (Gain control over stress)

दोनों पार्टनर में उच्च-तनाव का स्तर, हार्मोन के स्तर, शुक्राणु और अंडे के स्वास्थ्य, और कामेच्छा पर भी नकारात्मक प्रभाव से जुड़ा हुआ है। तनाव कम करने और वर्कआउट और मेडिटेशन करने की योजना बनाएं। जड़ी-बूटियों और दैनिक व्यायामों से तनाव को शांत करने में मदद मिलती है।

  • व्यायाम (Exercise)

सप्ताह में 5 बार 30 मिनट का व्यायाम, विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने और शरीर को ठंडा रखने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। नियमित व्यायाम मांसपेशियों को मजबूत करने, सहनशक्ति में सुधार, विषाक्त पदार्थों को दूर करने और चिंता और अवसाद को कम करने में मदद करते हैं।

  • "बुरी आदतों न अपनाएं” (“No” to bad habits)

सभी बुरी आदतों को रोकने पर विचार करें। इनमें नियमित रूप से शराब पीना और धूम्रपान करना और कैफीन और शक्कर का अधिक सेवन शामिल है। इन सभी आदतों का पुरुष और महिला दोनों की प्रजनन क्षमता पर सीधा नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

Gelbaya A Tarek, Potdar Neelam, et al.“Definition and Epidemiology of Unexplained Infertility”.Obstet Gynecol Surv. 2014 Feb;69(2):109-15.PMID:25112489.

2 .

NICHD.NIH.GOV.“What are some possible causes of female infertility?”.NICHD.NIH.GOV.January 31,2017.

3 .

Medlineplus.gov.“Follicle-stimulating hormone (FSH) blood test”.Medlineplus.gov.June 30,2019.

4 .

Medlineplus.gov.“Anti-Mullerian Hormone (AMH) Test”.Medlineplus.gov.

5 .

Medlineplus.gov.“Ovulation home test”.Medlineplus.gov. March 28, 2019.

6 .

Medlineplus.gov.“Serum Progesterone”.Medlineplus.gov. March 28, 2019.

7 .

Klentzeris L D, Li T Centres, et al.“The Endometrial Biopsy as a Predictive Factor of Pregnancy rate in women with unexplained infertility”.NCBI.NLM.NIH.GOV.PMID:1499846.

8 .

Medlineplus.gov.“Hysterosalpingography”.Medlineplus.gov. January 14, 2018.

9 .

Medlineplus.gov.“Semen Analysis”.Medlineplus.gov.

10 .

Quaas Alexander, Dokras Anuja.“Diagnosis and Treatment of Unexplained Infertility”.NCBI.NLM.NIH.GOV. Rev Obstet Gynecol. Spring 2008;1(2):69-76.PMID:18769664

11 .

Sovino Hugo, Petermann-Teresa Sir, et al.“Clomiphene Citrate and Ovulation Induction”.NCBI.NLM.NIH.GOV.Reprod Biomed Online. May-Jun 2002;4(3):303-10.PMID:12709286.

12 .

Jasovic Vladimir, Jasovic-Siveska Emilija.“Success Rate of Intrauterine Insemination in Patients with Unknown Infertility”.NCBI.NLM.NIH.GOV.Vojnosanit Pregl. 2012 Apr;69(4):301-7.PMID:22624420.

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 27 Oct 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

महिला बांझपन के कारण, लक्षण, जोख़िम और उपचार

महिला बांझपन के कारण, लक्षण, जोख़िम और उपचार

हार्मोनल असंतुलन और प्रजनन क्षमता को समझना

हार्मोनल असंतुलन और प्रजनन क्षमता को समझना

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ाने की दवा

टेस्टोस्टेरोन हार्मोन बढ़ाने की दवा

महिला और पुरुष इनफर्टिलिटी के प्रकार, कारण और उपचार

महिला और पुरुष इनफर्टिलिटी के प्रकार, कारण और उपचार

पुरुष बांझपन के लक्षण, कारण, निदान व उपचार

पुरुष बांझपन के लक्षण, कारण, निदान व उपचार
balance
article lazy ad