sensitve skin ke bare mein janiye

सनकेयर

Suncare in hindi

suraj ki kirano se skin ki dekhbhal in hindi

 

हमारे शरीर को थोड़ी धूप की आवश्यकता होती है क्योंकि जब त्वचा धूप के संपर्क में आती है, तो हमारे शरीर में विटामिन-डी (Vitamin-D) का निर्माण होता है।

जो शरीर को मजबूत, और हड्डियों के लिए लाभदायक होता है।

हालांकि बहुत ज़्यादा सन एक्सपोज़र (sun exposure) स्किन के लिए अच्छा नहीं माना जाता है क्योंकि इससे एजिंग (ageing), टैनिंग (tanning), झुर्रियों, मोतियाबिंद (cataract) और स्किन कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

ऐसे में स्किन को हानिकारक यू-वी रेज़ (U-V rays) से प्रोटेक्ट करने के लिए जो उपाय हमे करते हैं उसे ही सनकेयर (suncare) कहा जाता है।

 

सनबर्न और सनटैन में अंतर

Difference between sunburn and suntan in hindi

Sunburn aur Suntan mein antar in hindi

Sunburn aur Suntan mein farak

लगातार सन एक्सपोज़र से त्वचा का रंग बदलने लगता है और यह सामान्य से डार्क दिखने लगती है और इसे सनटैन कहते हैं।

सनटैन होने पर त्वचा की ऊपरी परत मोटी और खुरदरी भी हो जाती है, जिससे इन्फेक्शन (infection) और झुरिर्यों (wrinkles) का खतरा बढ़ जाता है।

जबकि सनबर्न होने पर त्वचा लाल हो जाती है। इसमें जलन होती है।

ज्यादा बर्न होने पर त्वचा में सूजन और चकत्ते भी हो सकते हैं।

यह फ्लू की तरह दिख सकता है। ऐसे में बुखार, सिरदर्द, कमजोरी का अहसास भी हो सकता है।

 

किस तरह से सूर्य की किरणें आपकी स्किन को प्रभावित करती है

How sun rays affects your skin in hindi

Kiss tarah se sun rays aapki twacha ko affect karti hai in hindi

Sun rays ka nuksaan twacha par

सूर्य की रोशनी पृथ्वी पर इंफ्रारेड रेज़ (Infrared rays), विज़िबल लाइट (Visible light) और यूवी रेज़ (U-V rays) के रूप में आती है, लेकिन इन तीनों में यूवी किरणें स्किन को सबसे ज़्यादा नुकसान पहुँचाती है, जिस कारण सन टैनिंग और सनबर्न की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

आईये जानते कि किस तरह सूर्य की किरणें स्किन को नुकसान पहुंचाती है:  

सूरज की रोशनी जो हम तक पहुँचती है, वह दो प्रकार की हानिकारक किरणों से बनी होती है: लंबी तरंग पराबैंगनी -  यूवीए (Long wave ultra violet A - UVA) और छोटी लहर पराबैंगनी - यूवीबी (Short wave ultraviolet B-UVB)।

यूवीए किरणें त्वचा की सबसे मोटी परत डर्मिस (Dermis layer) में गहराई से प्रवेश करती हैं। दरअसल थोड़ी मात्रा में भी बार-बार यूवीए किरणें के संपर्क में आने से फोटो एजिंग (photoaging) हो सकती है डर्मिस के नुकसान के कारण त्वचा के प्रोटीन्स, कोलेजन (Collagen) और इलास्टिन (Elastin) सिकुड़ जाते हैं, जिससे त्वचा की ऊपरी परत पर झुर्रियां दिखाई देने लगती हैं। यूवीए किरणें त्वचा पर सफेद या भूरे रंग के धब्बे भी पैदा कर सकती हैं।
यूवीबी किरणें को "टैनिंग रेज़" (Tanning rays) के रूप में भी जाना जाता है। यह गर्मियों के दौरान बहुत सक्रिय हो जाती है और स्किन को आसानी से टैन कर देती है। यूवीबी किरणें केवल एपिडर्मिस (Epidermis) में प्रवेश करती हैं, जो त्वचा की ऊपर की परत होती है। यूवीबी किरणें मेलानोसाइट सेल्स (Melanocytes cells) का कारण बनती हैं जिससे मेलेनिन (Melanin) का उत्पादन बढ़ता है, जिससे झाई या उम्र के धब्बे बनते हैं।

 

सूर्य के यूवी रेज़ से प्रभावित त्वचा के लक्षण

Symptoms of skin affected by Sun's UV rays in hindi

Sun ki uv rays se prabhavit twacha ke lakshan in hindi

Sunburn ke lakshan

सूर्य की किरणें (धूप) से जली त्वचा के निम्न लक्षण होता है:

  1. स्किन पर गुलाबीपन या लालिमा का होना।
  2. त्वचा जो टच करने पर गर्म महसूस हो।
  3. स्किन पर दर्द और खुजली का होना।
  4. सनबर्न होने पर स्किन पर सूजन होना।
  5. छाले की समस्या होना।
  6. चेहरे पर रिंकल्स और महीन रेखाओं का होना।
  7. चेहरे का काला पड़ना।
 

अपनी त्वचा को धूप से कैसे बचाएं

How to protect your skin from sun rays in hindi

Apni twacha ko dhoop se kaise bachayein in hindi

dhoop se bachne ki cream

स्किन को सूरज की हानिकारक किरणों से बचाने के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना ज़रूरी होता है।

जिसे अपनाकर आप अपनी स्किन का बचाव कर सकते हैं।

  1. हर दिन सनस्क्रीन (sunscreen) का उपयोग करें, भले धूप न हो।
  2. बाहर जाने से कम से कम 15 से 30 मिनट पहले सनस्क्रीन लगाएं।
  3. एक ब्रॉड स्पेक्ट्रम (Broad spectrum) सनस्क्रीन चुनें जो यूवीए और यूवीबी (UVA and UVB) दोनों से स्किन का बचाव करे।
  4. हर दो घंटे में सनस्क्रीन जरूर लगाएं।
  5. धूप से अपनी स्किन का बचाव करने के लिए छतरी का इस्तेमाल करें।

कहते हैं ‘रोकथाम इलाज से बेहतर है’ ( Prevention is better than cure), एक अच्छी सनस्क्रीन खरीदने से आपकी त्वचा स्वस्थ, जवां और सुंदर बनी रहेगी।

हालांकि ये भी माना जाता है कि कोई भी सनस्क्रीन आपको सूरज की किरणों के 100% तक नहीं बचाता है, इसलिए बाहर निकलने से पहले सही कपड़े पहने और छतरी अपने साथ ज़रूर रखें।

 

सारांश

अधिक धूप में रहने से हमारी स्किन पर सनटैन और सनबर्न की समस्या हो जाती है।

ऐसे में अपनी स्किन को धूप से बचाने के लिए कुछ घरेलु उपायों को अपनाएं और संस्क्रीन का इस्तेमाल ज़रूर करें।