ओव्यूलेशन

ओव्यूलेशन

Ovulation in hindi

ovulation kya hota hai in hindi

ओव्यूलेशन का अर्थ है, महिलाओं में मासिक धर्म के दौरान एक अंडे की रिलीज। ओवरियन फोललिकल (ovarian follicle) जो अंडाशय (ovary) का एक हिस्सा, एक अंडे को रिलीज करता है। रिलीज के बाद, अंडा फैलोपियन ट्यूब (fallopian tube) के नीचे जाता है, जहां यह एक स्पर्म (sperm) से मिलने पर फर्टिलाइज(fertilize) हो सकता है। ऐसा होने पर महिला गर्भवती होती है।

ओव्यूलेशन के समय के आसपास एक महिला सबसे अधिक फर्टाइल (fertilie) होती है।

यह जानना उपयोगी है कि ओव्यूलेशन कब होने की संभावना है, क्योंकि इस समय के दौरान एक महिला सबसे अधिक फर्टाइल होती है, और गर्भधारण की संभावना अधिक होती है।

ओव्यूलेशन कब होता है

When does Ovulation occur in hindi

kab hota hai ovulation in hindi

loading image

एक महिला का मासिक धर्म औसत 28 और 32 दिनों के बीच रहता है। प्रत्येक चक्र की शुरुआत को मासिक धर्म का पहला दिन माना जाता है।

अंडे का रिलीज आम तौर पर (एक मासिक धर्म के पहले दिन से) माहवारी के 12वें से 16वें दिन के बीच होता है।

ज्यादातर महिलाओं को 10 से 15 साल की उम्र के बीच मासिक धर्म शुरू होता है। उसी समय, वे ओव्यूलेट करना शुरू कर देते हैं और गर्भ धारण करने में सक्षम हो जाती हैं।

ओव्यूलेशन आमतौर पर रजोनिवृत्ति (menopause) के बाद बंद हो जाता है, औसतन लगभग 50 से 51 वर्ष की आयु के बीच।

ओव्यूलेशन का महत्व

Importance of Ovulation in hindi

ovulation kyu important hai in hindi

loading image

ओव्यूलेशन 12 से 24 घंटे के बीच रहता है। ओवरी (ovary) द्वारा जारी अंडा तभी तक फर्टिलाइज (fertilise) होने लायक रहता है।

आपके मासिक धर्म चक्र में सबसे उपजाऊ दिन, जो आपको गर्भ धारण करने का सबसे बेहतरीन मौका देते हैं, को फर्टाइल विण्डो (fertile window) के नाम से जाना जाता है।

ओवुलेशन के पांच दिन पहले और ओवुलेशन वाले दिन नियमित रूप से संयोग करने से गर्भधारण की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है।

ओव्यूलेशन के दौरान अंडाशय से एक परिपक्व अंडा निकलता है। अंडा निकलने के बाद लगभग 12 से 24 घंटे तक फर्टिलाइज होने में सक्षम होता है।

इसके अलावा, पुरुष के स्पर्म (sperm) सही परिस्थितियों में, संयोग के पांच दिन बाद तक महिला प्रजनन पथ (reproductive path) के अंदर रह सकते हैं।

आपके गर्भवती होने की संभावना इन पाँच दिनों में भी रहती है जब जीवित स्पर्म फैलोपियन ट्यूब में मौजूद होते हैं।

इसका मतलब यह है कि अगर शुक्राणु (sperm) ओव्यूलेशन से पहले इन कुछ दिनों में महिला के भीतर मौजूद है, तो इससे गर्भाधान हो सकता है।

हालांकि, अंडोत्सर्ग (ovulation) के जितने करीब स्पर्म (sperm) होते हैं, गर्भाधान की संभावना उतनी ही अधिक होगी।

अतिरिक्त पांच फर्टाइल दिनों का मतलब है कि यदि आप ओव्यूलेशन से पहले पांच दिनों के दौरान संयोग करती हैं और स्पर्म जीवित रहते हैं, तो भी आप गर्भवती हो सकती हैं, भले ही आप ओवुलेशन के दिन संयोग न करें।

ओव्यूलेशन के लक्षण और संकेत

Ovulation signs and symptoms in hindi

ovulation pata karne ke tareeke ya kaise pata kare ki aapko ovulation ho raha hai ki nahi in hindi

loading image

यहां ओव्यूलेशन के सात मुख्य संकेत दिए गए हैं, जिनकी आपको पहचान होनी चाहिए:

  1. आपके शरीर का बेसल तापमान (Basal Body Temperature) थोड़ा गिर जाता है, फिर बढ़ जाता है।
  2. आपका सर्विकल म्यूकस (cervical mucus) अंडे की सफेदी के समान अधिक चिकना और पतला हो जाता है।
  3. आपका गर्भाशय ग्रीवा (cervix) नरम होकर खुल जाता है।
  4. आप अपने निचले पेट में दर्द या हल्के ऐंठन को महसूस कर सकती हैं।
  5. आप कुछ स्पॉटिंग (spotting) देख सकती हैं।
  6. आपकी योनि (vagina) में सूजन दिखाई दे सकती है।

ऐसे कई संकेत और टेस्ट्स होते हैं जो दिखाते हैं कि महिला ओवूलेटिंग है। इनमें से प्रमुख निम्नलिखित हैं:

  1. शरीर का बेसल तापमान (Basal Body Temperature - BBT)

    बेसल बॉडी टेम्परेचर (BBT या BTP) वह बॉडी टेम्परेचर है जो आराम के दौरान (आमतौर पर नींद के दौरान) होता है और यह शरीर का सबसे कम तापमान होता है।

    यह आमतौर पर जागने के तुरंत बाद, और किसी भी शारीरिक गतिविधि से पहले, एक बेसल थर्मामीटर (basal thermometer) की मदद से लिया जाता है।

    बेसल बॉडी टेम्परेचर नापने के लिए कम से कम दो घंटे की नींद ज़रूरी है।

    ओव्यूलेशन के बाद, एक महिला में, बेसल बॉडी टेम्परेचर कम से कम 0.2 ° C (0.4 ° F), 72 घंटों के लिए बढ़ जाएगा।

    ओव्यूलेशन के बाद शरीर में होने वाले हॉर्मोनल परिवर्तनों के कारण बीबीटी बढ़ता है। बीबीटी की मदद से ओवुलेशन के दिन का अनुमान लगाना आसान हो जाता है।

  2. पेट में हल्का दर्द (Stomach Pain)

    कुछ महिलाओं को पेट के निचले हिस्से में हल्का दर्द महसूस होता है। इसे मित्तेल्स्कर्म दर्द (Mittelschmerz pain ) कहा जाता है।

    यह कुछ मिनटों और कुछ घंटों के बीच रह सकता है।

  3. ओव्यूलेशन प्रेडिक्टर किट (Ovulation predictor kits - OPK)

    दवा की दुकानों में उपलब्ध ओव्यूलेशन प्रेडिक्टर किट, ओव्यूलेशन से ठीक पहले मूत्र (urine) में ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन-एलएच (Luteinizing hormone -LH) में वृद्धि का पता लगाकर 12 से 24 घंटे पहले ओव्यूलेशन का सटीक अनुमान लगा सकते हैं।

    ओव्यूलेशन प्रिडिक्टर किट (ओपीके) आसानी से ओवर-द-काउंटर मिल जाते हैं।

    OPK का उपयोग करना आसान है - आप केवल एक स्टिक पर यूरीन करती हैं और यह आपको बताता है कि आप ओव्यूलेट करने के लिए तैयार हैं या नहीं।

  4. ओव्यूलेशन कैलेंडर (Ovulation Calendar)

    ऐसे ऐप (mobile app) और वेबसाइट हैं जो इस बात का पता लगाने में मदद कर सकते हैं कि ओव्यूलेशन कब होगा।

    एक ओवुलेशन कैलेंडर इस बात की भविष्यवाणी करने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि महिला सबसे अधिक फर्टाइल कब होगी।

    कई वेबसाइट और ऐप मौजूद हैं जो इस प्रक्रिया में सहायता करते हैं।

    इसके लिए वे आपसे निम्नलिखित प्रकार के प्रश्न पूछते हैं:

    a. आपके अंतिम मासिक धर्म की शुरुआत कब हुई थी?
    b. आपके मासिक धर्म चक्र आम तौर पर कितने समय तक चलते हैं?

    इस प्रकार के कैलेंडर का उपयोग करने के लिए मासिक धर्म की जानकारी रिकॉर्ड करना ज़रूरी है। मासिक धर्म चक्र को ट्रैक रखना किसी भी अनियमितता का पता लगाने के लिए महत्वपूर्ण हो सकता है।

  5. गर्भाशय ग्रीवा में होनेवाले परिवर्तन (Changes in Cervix)

    आपके ओव्यूलेशन के पहले गर्भाशय ग्रीवा नीची, कठोर और बंद रहेगी। लेकिन जैसे-जैसे ओव्यूलेशन करीब होता है, यह शुक्राणु के इंतज़ार में थोड़ा सा खुलेगी, सॉफ्ट होगी और ऊपर की ओर उठेगी ताकि गर्भाधान (pregnant) होने में आसानी हो।

    कुछ महिलाएं इन परिवर्तनों को आसानी से महसूस कर सकती हैं।

    आप दो उंगलियों का उपयोग करके अपने गर्भाशय ग्रीवा की दैनिक जांच कर सकती हैं और अपने ओवुलेशन कैलेंडर पर अपने ओब्सेर्वेशन (observation) को चार्ट कर सकती हैं।

ओव्यूलेशन भविष्यवाणी के तरीके और परीक्षण संकेत देते हैं कि ओव्यूलेशन कब हो सकता है लेकिन वे गारंटी नहीं दे सकते हैं कि आप एक निश्चित समय पर ओव्यूलेट करेंगी या गर्भवती होंगी।

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस विधि या उपकरण को चुनती हैं - या आप उन सभी को आज़माती हैं। ओव्यूलेशन की सही भविष्यवाणी के लिए बहुत धैर्य की ज़रूरत होती है।

सारांश

Summary in hindi

saransh in hindi

ओव्यूलेशन मासिक धर्म चक्र के दौरान उस समय को कहते हैं जब एक अंडाशय एक अंडा जारी करता है। गर्भाधान (Pregnancy) के लिए ओव्यूलेशन महत्वपूर्ण है।

आपके ओव्यूलेशन की भविष्यवाणी करने के कई तरीके हैं जैसे कि तापमान चार्टिंग, सर्वाइकल परिवर्तनों को देखना आदि।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें