ओव्यूलेशन

ओवुलेशन - महत्व, लक्षण और संकेत

Ovulation - importance, signs, and symptoms in hindi

ovulation kya hota hai, ovulation kab hota hain aur ovulation period kitne dino ka hota hain in hindi, ovulation in hindi

ओवुलेशन क्या है? एक महिला ओवुलेट कब करती है? ओवुलेशन का प्रेगनेंसी से क्या संबंध है? अगर आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं तो ये सवाल आपके मन में भी उठ रहे होंगे।

हो सकता है कि आप प्रजनन अंगों (reproductive organ) को ले कर उत्सुक हो मगर अपने डॉक्टर से खुल कर बात करने में संकोच महसूस कर रही हों तो हम ये समझ सकते हैं।

ऐसे में इस लेख के माध्यम से आप ओवुलेशन से जुड़ी जानकरियां प्राप्त कर सकती हैं। आइये जानते हैं ओवुलेशन क्या है और इसकी जानकरी कैसे आपको जल्द गर्भवती होने में मदद कर सकती है

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

i’m confused, i need help

इस लेख़ में/\

  1. ओवुलेशन क्या होता है?
  2. ओवुलेशन कब होता है और ओवुलेशन कितने दिन तक रहता है?
  3. ओवुलेशन प्रेगनेंसी के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?
  4. ओवुलेशन के लक्षण और संकेत क्या हैं?
  5. ओवुलेशन पेन और ओवुलेशन पेन के लक्षण
  6. ओवुलेशन के लक्षण का संकेत देने वाले विभिन्न टेस्ट्स और किट
  7. ओवुलेशन का सही समय गर्भाशय ग्रीवा में होने वाले परिवर्तन से जानें
  8. निष्कर्ष
 

1.ओवुलेशन क्या होता है?

What is ovulation? in hindi

ovulation kya hain aur ovulation kaise hota hain in hindi, ovulation in hindi</strong>

कई सारी महिलाएँ ओवुलेशन के बारे में नहीं जानती हैं, ऐसे में उनका सवाल होता है कि ओवुलेशन क्या होता है?

ऐसे में आपको बता दें कि ओवुलेशन का अर्थ है, महिलाओं के मासिक धर्म के दौरान एक अंडे का रिलीज होना। [1]

हर माहवारी के दौरान महिला के शरीर में प्रजनन हार्मोन्स, अंडाशय (ovaries) को प्रोत्साहित करते हैं इस कारण अपरिपक्व अंडे जिन्हें ओक्साइट्स (oocytes) कहा जाता है, मैच्योर होने लगते हैं।

हालाँकि, ओवुलेशन के शुरुआती समय में बहुत सारे ओक्साइट्स (oocytes) मैच्योर होते हैं मगर सिर्फ एक अंडा ही परिपक्व होकर रिलीज होता है।

इस स्थिति में हर महीने माहवारी के दौरान ओवरियन फॉलिकल (ovarian follicle) जो अंडाशय (ovary) का एक हिस्सा होता है, एक अंडे को रिलीज करता है।

रिलीज के बाद, अंडा फैलोपियन ट्यूब (fallopian tube) से होते हुए नीचे जाता है, जहां यह एक स्पर्म (sperm) के मौजूद होने पर फर्टिलाइज (fertilize) भी हो सकता है। ऐसा होने पर महिला गर्भवती हो सकती है।

ओवुलेशन के समय के आस-पास, महिला सबसे अधिक फर्टाइल (fertile) होती है। यह जानना ज़रुरी है कि ओवुलेशन होने की संभावना कब है, क्योंकि इस समय के दौरान महिला सबसे अधिक फर्टाइल होती है और गर्भधारण की संभावना सबसे अधिक होती है।

कई महिलाओं में यह ग़लतफहमी होती है कि अंडा, बारी-बारी से अंडाशय से निकलता है। यानि अगर इस महीने में दाहिने अंडाशय (ovary) से अंडा (egg) निकलता है तो अगले महीने बायें तरफ के अंडाशय से अंडा निकलेगा।

यह बिलकुल गलत है, क्योंकि ओवुलेशन उस अंडाशय से होता है जिसमे अधिक परिपक्व यानि मैच्योर अंडे (eggs) मौजूद होते हैं। कुछ महिलाओं में कभी-कभी एक ओवरी या अंडाशय ज्यादा सक्रिय हो सकता है।

और पढ़ें:अजवायन से पाएँ पीरियड्स के दर्द से छुटकारा

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

2.ओवुलेशन कब होता है और ओवुलेशन कितने दिन तक रहता है?

When does Ovulation happen? in hindi

Ovulation kab hota hain, ovulation period for pregnancy kya hain aur ovulation kitne dino tk rehta hain , ovulation in hindi </strong>

loading image

आमतौर पर महिला का मासिक चक्र औसतन 28 दिनों का होता है। [2] इसके अनुसार ओवुलेशन 14वें दिन पर होता है।

लेकिन हर महिला का शरीर अलग होता है इस कारण मासिक चक्र के दिन 28 दिनों से ज्यादा या कम भी हो सकते हैं। इस कारण हर महिला के ओवुलेशन का समय मासिक चक्र के ठीक चौदहवें दिन न हो कर थोड़ा आगे-पीछे भी हो सकता है।

ज्यादातर महिलाओं में मासिक धर्म 10 से 15 साल की उम्र के बीच शुरू हो जाता है। मासिक धर्म के शुरू होने के बाद महिला ओव्यूलेट करना शुरू कर देती है और गर्भधारण करने में सक्षम हो जाती है।

आमतौर पर माहवारी के 12वें से 16वें दिन (मासिक धर्म के पहले दिन से) के बीच अंडा रिलीज़ होता है। इस प्रक्रिया को ओवुलेशन पीरियड (ovulation period) कहा जाता है। अगर आप प्रेग्नेंट होने का सोच रही हैं तो बहुत बार आपके मन में सवाल उठता होगा कि ओवुलेशन पीरियड्स के कितने दिनों में शुरू होता है।

अमेरिकन प्रेगनेंसी एस्सोसिशन के अनुसार, महिलाओं में ओवुलेशन, 11 से 21 दिनों के बीच में (आखिरी मासिक धर्म की पहली तारीख से) या अगले मासिक धर्म के शुरू होने के 12 से 16 दिन पहले हो सकता है।

आमतौर पर औसतन, लगभग 50 से 51 वर्ष की आयु के बीच ओवुलेशन बंद हो जाता है, जिस स्थिति को रजोनिवृत्ति (menopause) कहते हैं। [3]

अगर आप प्रेग्नेंट होने चाहती हैं और आपने ओवुलेशन डेट के बारे में जानना चाहती हैं तो आप आसानी से शारीरिक लक्षणों से ओवुलेशन को ट्रैक कर सकती हैं

और पढ़ें:अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

 

3.ओवुलेशन प्रेगनेंसी के लिए क्यों महत्वपूर्ण है?

Why ovulation is important for pregnancy? in hindi

Fertilization ovulation ke kitne din baad hota hain aur ovulation kitne din tak rahta hain, ovulation in hindi</strong>

loading image

जब महिला का एक अंडाणु पुरुष के शुक्राणु से मिल जाता है तो वह फ़र्टिलाइज होकर प्रेगनेंसी के पहले चरण को पार कर लेता है।

यहाँ ये बात ध्यान देने वाली है कि पुरुष का शुक्राणु सम्भोग के बाद महिला के शरीर में पांच दिन (5 days) तक जीवित रह सकता है, यानि अगर आप शुक्रवार को संभोग करते हैं तो पुरुष का शुक्राणु आपके शरीर में मंगलवार तक जीवित रह सकता है।

वहीं ओवुलेशन के बाद ओवरी (ovary) द्वारा जारी अंडा 12 से 24 घंटे तक ही फ़र्टिलाइज (fertilise) होने के लायक रहता है। [4] यानि महिला के अंडे 24 घंटे तक ही जीवित रहते हैं।

महिला के मासिक धर्म चक्र का वह समय जब आपका अंडाणु ओवरी से निकलता है यानि ओवुलेशन का समय, फर्टाइल विण्डो (fertile window) या ओवुलेशन पीरियड फॉर प्रेगनेंसी के नाम से जाना जाता है। इन दिनों में आपके गर्भधारण करने के मौके सबसे अधिक होते हैं।

ओवुलेशन के पांच दिन पहले और ओवुलेशन वाले दिन, नियमित रूप से संभोग करने से गर्भधारण की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है।

यह बात ध्यान रखने वाली है की ओवरी से अंडा रिलीज़ होने के बाद लगभग 12 से 24 घंटे तक फर्टिलाइज होने में सक्षम होता है।

इसके अलावा, पुरुष के स्पर्म (sperm) अनुकूल परिस्थितियों में, संयोग के पांच दिन बाद तक महिला प्रजनन पथ (reproductive path) के अंदर रह सकते हैं।

आपके गर्भवती होने की संभावना इन पाँच दिनों में भी रहती है जब जीवित स्पर्म फैलोपियन ट्यूब में मौजूद होते हैं। [5]

इसका मतलब यह है कि अगर शुक्राणु (sperm) ओवुलेशन से ठीक पहले के कुछ दिनों में महिला के फैलोपियन ट्यूब में मौजूद हैं, तो प्रेगनेंसी हो सकती है।

हालांकि, ओवुलेशन (ovulation) के जितने करीब के दिनों में, स्पर्म (sperm) फैलोपियन में मौजूद होते हैं, प्रेगनेंसी की संभावना उतनी ही अधिक होती है।

यदि आप ओवुलेशन से पहले पांच दिनों के दौरान संयोग करती हैं और स्पर्म जीवित रहते हैं, तो भी आप गर्भवती हो सकती हैं, भले ही आप ओवुलेशन के दिन संयोग न करें।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

i’m confused, i need help
 

4.ओवुलेशन के लक्षण और संकेत क्या हैं?

What are the signs and symptoms of ovulation? in hindi

ovulation ke lakshan aur ande ki rihai ke lakshan, ovulation in hindi</strong>

loading image

ओवुलेशन के दौरान महिलाओं के शरीर में कई परिवर्तन आते हैं जिन पर नज़र रख कर आप ओवुलेशन को ट्रैक कर प्रेग्नेंट होने का प्रयास कर सकती हैं। आइये अंडा फटने के बाद गर्भावस्था के लक्षण के बारे में विस्तार से जानते हैं।

यहां ओवुलेशन के सात मुख्य संकेत दिए गए हैं, जिनकी पहचान आपको होनी चाहिए: [6]

  • आपके शरीर का बेसल तापमान (Basal Body Temperature) थोड़ा गिर जाता है, फिर बढ़ जाता है।
  • आपका सर्विकल म्यूकस (cervical mucus) अंडे की सफेदी के समान अधिक चिकना और पतला हो जाता है।
  • आपका गर्भाशय ग्रीवा (cervix) नरम होकर खुल जाता है।
  • कुछ महिलाओं को पेट के निचले हिस्से में हल्का दर्द महसूस होता है। इसे मित्तेल्स्कर्म दर्द (Mittelschmerz pain) या साधारण भाषा में ओवुलेशन भी कहा जाता है। यह कुछ मिनटों और कुछ घंटों के बीच रह सकता है।[7]
  • आप हलकी ब्लड स्पॉटिंग (blood spotting) देख सकती हैं।
  • आपकी योनि (vagina) में सूजन दिखाई दे सकती है।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी और गर्भ धारण

 

5.ओवुलेशन पेन और ओवुलेशन पेन के लक्षण

Reasons and symptoms of pain in ovulation in hindi

ovulation pain in hindi</strong>

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि ओवुलेशन के समय दर्द को मित्तेल्स्कर्म दर्द (mittelschmerz pain) कहा जाता है। यह ओवुलेशन पेन होता है। ओवुलेशन पेन पीरियड शुरू होने के लगभग दो सप्ताह पहले शुरू हो सकता है।

कुछ महिलाओं ओवुलेशन पेन कुछ सेकेंड्स के लिए महसूस हो सकता है तो वहीं कुछ महिलाओं को ओवुलेशन पेन कई घंटों तक भी महसूस हो सकता है। आइये जानते हैं ओवुलेशन में दर्द के लक्षण क्या हैं!

ओवुलेशन में दर्द (ovulation pain) के लक्षण निम्न हैं :

  • ओवुलेशन पेन आमतौर पर पेट के किसी एक साइड में होता है। साधारण शब्दों में समझें तो अगर आपको एक मासिक धर्म से पहले ओवुलेशन पेन पेट के दाहिने तरफ हो रहा हो और तो अगले मासिक धर्म से पहले यह ओवुलेशन पेन आपको पेट के बाएँ हिस्से में हो सकता है।
  • महिला के गर्भाशय की दोनों तरफ एक-एक अंडाशय होता है। प्रत्येक चक्र में किसी भी तरफ के अंडाशय से अंडे की रिहाई यानि अंडा रिलीज हो सकता है। ऐसे में ओवुलेशन पेन की साइड में प्रत्येक चक्र में परिवर्तन हो सकता है।
  • कुछ महिलाओं को ओवुलेशन पेन तेज़ और लंबे समय तक हो सकता है वहीं अन्य महिलाओं को ओवुलेशन में दर्द हल्का और कम समय के लिए हो सकता है।
  • यह दर्द अचानक हो सकता है, जिसके लिए आप पहले से तैयार नहीं होती हैं।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी का इलाज

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

i need guidance in choosing the best doctor
 

6.ओवुलेशन के लक्षण का संकेत देने वाले विभिन्न टेस्ट्स और किट

Tests and kit that helps to track ovulation in hindi

Ovulation janane ke liye test aur kit, ovulation in hindi</strong>

loading image

शरीर का बेसल तापमान (Basal Body Temperature - BBT)

बेसल बॉडी टेम्परेचर (Basal body temperature), वह बॉडी टेम्परेचर है जो आराम के दौरान (आमतौर पर नींद के दौरान) होता है और यह शरीर का सबसे कम तापमान होता है।यह आमतौर पर जागने के तुरंत बाद और किसी भी शारीरिक गतिविधि से पहले, एक बेसल थर्मामीटर (basal thermometer) की मदद से मापा जाता है।

बेसल बॉडी टेम्परेचर मापने के लिए कम से कम दो घंटे की नींद ज़रूरी है।ओवुलेशन के दौरान, महिलाओं में, बेसल बॉडी टेम्परेचर कम से कम 0.2 ° C (0.4 ° F), 72 घंटों के लिए बढ़ जाता है।

ओवुलेशन के समय पर महिलाओं के शरीर में हार्मोनल परिवर्तन होता है यही हार्मोनल परिवर्तन शरीर के तापमान को भी ओवुलेशन के दौरान बढ़ाता है, जिसे बेसल बॉडी तापमान (basal body temperature) या बीबीटी कहते हैं।

बीबीटी की मदद से ओवुलेशन के दिन का अनुमान लगाना आसन हो जाता है।[8]

ओवुलेशन प्रेडिक्टर किट (Ovulation predictor kits - OPK)

फार्मेसी (Pharmacy) में उपलब्ध ओवुलेशन प्रेडिक्टर किट, ओवुलेशन से ठीक पहले मूत्र (urine) में ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (Luteinizing hormone-LH) , जिसे एलएच के नाम से जाना जाता है, में वृद्धि का पता लगाकर 12 से 24 घंटे पहले ओवुलेशन का सटीक अनुमान लगाया जा सकता है।

ओवुलेशन प्रिडिक्टर किट (ओ.पी.के) आसानी से किसी भी फार्मेसी में ओवर-द-काउंटर मिल जाते हैं।

OPK का उपयोग करना आसान है - आप केवल एक स्टिक पर यूरीन करें और यह आपको बताएगा कि आप ओव्यूलेट करने के लिए तैयार हैं या नहीं।[9]

ओवुलेशन कैलेंडर (Ovulation Calendar)

आज कल ऐसे कई मोबाईल ऐप (mobile app) और वेबसाइट हैं जो इस बात का पता लगाने में मदद कर सकते हैं कि ओवुलेशन कब होगा। [10]

एक ओवुलेशन कैलेंडर इस बात की भविष्यवाणी करने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि महिला सबसे अधिक फर्टाइल कब होगी। कई वेबसाइट और ऐप मौजूद हैं जो इस जांच में सहायता करते हैं।

इसके लिए आपसे निम्नलिखित प्रश्न पूछे जा सकते हैं:

  • आपके अंतिम मासिक धर्म की शुरुआत कब हुई थी?
  • आपके मासिक धर्म चक्र आमतौर पर कितने समय तक होते हैं?

इस प्रकार के कैलेंडर का उपयोग करने के लिए मासिक धर्म की जानकारी रिकॉर्ड करना ज़रूरी है। मासिक धर्म चक्र को ट्रैक रखना किसी भी अनियमितता का पता लगाने के लिए महत्वपूर्ण है।

और पढ़ें:इन 6 टिप्स से जानें पीरियड्स का साइकिल नियमित है या नहीं

 

7.ओवुलेशन का सही समय गर्भाशय ग्रीवा में होने वाले परिवर्तन से जानें

Know your exact time of ovulation in hindi

ovulation ke baad kya hota hai, ovulation in hindi</strong>

loading image

आपके ओवुलेशन के पहले गर्भाशय ग्रीवा नीची, कठोर और बंद रहेगी। लेकिन जैसे-जैसे ओवुलेशन करीब होता है, यह शुक्राणु के इंतज़ार में थोड़ा सा खुलेगी, सॉफ्ट होगी और ऊपर की ओर उठेगी ताकि गर्भाधारण (pregnant) होने में आसानी हो।

कुछ महिलाएं इन परिवर्तनों को आसानी से महसूस कर सकती हैं। आप दो उंगलियों का उपयोग करके अपने गर्भाशय ग्रीवा की दैनिक जांच कर सकती हैं [11] और अपने ओवुलेशन कैलेंडर पर अपने ओब्सेर्वेशन (observation) को चार्ट कर सकती हैं।

ओवुलेशन भविष्यवाणी के तरीके और परीक्षण संकेत देते हैं कि ओवुलेशन कब हो सकता है लेकिन वे गारंटी नहीं दे सकते हैं कि आप एक निश्चित समय पर ओव्यूलेट करेंगी या गर्भवती होंगी।

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस विधि या उपकरण को चुनती हैं - या आप उन सभी को आज़माती हैं। ओवुलेशन की सही भविष्यवाणी के लिए बहुत धैर्य की ज़रूरत होती है।

और पढ़ें:एचआरटी टेबलेट्स से क्यों बढ़ जाता है ब्लड क्लॉट का ख़तरा

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

8.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh of ovulation in hindi</strong>

ओव्यूलेशन मासिक धर्म चक्र के दौरान उस समय को कहते हैं जब एक अंडाशय एक अंडा जारी करता है। गर्भधारण के लिए ओव्यूलेशन महत्वपूर्ण है।

आपके ओव्यूलेशन की भविष्यवाणी करने के कई तरीके हैं जैसे कि तापमान चार्टिंग [12], सर्वाइकल परिवर्तनों को देखना[13] आदि। इसके अलावा आप टेस्ट किट की मदद से भी ओवुलेशन को ट्रैक कर सकती हैं।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: 11 Mar 2020

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

i’m confused, i need help

संदर्भ/\

  1. Mayoclinic. “Women's health”. Mayoclinic, 12 April 2018.

  2. Beverly G Reed, MD and Bruce R Carr. "The Normal Menstrual Cycle and the Control of Ovulation". Feingold KR, Anawalt B, Boyce A, et al., editors. South Dartmouth (MA): MDText.com, Inc.; 2000, PMID: 25905282.

  3. NCBI. "Menopause: Overview". NCBI, Cologne, Germany: Institute for Quality and Efficiency in Health Care (IQWiG); 2006, 27 September 2017.

  4. AmericanPregnancyAssociation. "Understanding Ovulation". AmericanPregnancyAssociation, 8 January 2020.

  5. NCBI. "Initial advice to people concerned about delays in conception". NICE Clinical Guidelines, No. 156.National Collaborating Centre for Women’s and Children’s Health (UK).London: Royal College of Obstetricians & Gynaecologists; 2013 Feb.

  6. AmericanPregnancyAssociation. "Signs of Ovulation". AmericanPregnancyAssociation, Accessed 18 Feb 2020.

  7. Mayoclinic. “Mittelschmerz”. Mayoclinic, 25 July 2019.

  8. Kaitlyn Steward; Avais Raja et al. "Physiology, Ovulation, Basal Body Temperature"Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan, 24 August 2019.

  9. Medline Plus. "Ovulation home test". Medline Plus, 04 February 2020.

  10. Johnson, Marriott, Zinaman M. "Can apps and calendar methods predict ovulation with accuracy". Curr Med Res Opin. 2018 Sep;34(9):1587-1594, PMID: 29749274 .

  11. American Pregnancy Association. "Cervical Mucus And Your Fertility". American Pregnancy Association, Accessed 18 Feb 2020.

  12. Mayoclinic. “Basal body temperature for natural family planning”. Mayoclinic, 13 November 2018.

  13. Parenteau-Carreau S1, Infante-Rivard C. "Self-palpation to assess cervical changes in relation to mucus and temperature". Int J Fertil. 1988;33 Suppl:10-6, PMID: 2902020.

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें