प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होना - कारण, लक्षण और उपचार

Leaking amniotic fluid in pregnancy - causes, symptoms and treatment in hindi

Pregnancy mein premature rupture of membranes ke karan, lakshan or upchar


Introduction

_Pregnancy_mein_premature_rupture_of_membranes_ke_karan__lakshan_or_upchar

गर्भावस्था के दौरान जहाँ कुछ महिलाओं को सामान्य परेशानियों का सामना करना पड़ता है वहीं अन्य महिलाओं को गंभीर परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

इन्हीं समस्याओं में से एक है प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड का लीक होना। इस स्थिति में माँ के गर्भ में फ्लूइड की मात्रा कम हो जाती है।

जो बच्चे के जन्म से पहले मृत्यु का कारण बन सकती है। ऐसे में ये समझने की कोशिश करते हैं कि एमनियोटिक फ्लूइड लीक क्यों होने लगता है और ये गर्भावस्था को किस तरह से प्रभावित करता है।

loading image

इस लेख़ में

  1. 1.प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होना क्या है?
  2. 2.एमनियोटिक फ्लूइड का सामान्य स्तर क्या माना जाता है?
  3. 3.प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होना कितना आम है?
  4. 4.प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने के लक्षण क्या हैं?
  5. 5.प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने के जोखिम क्या हैं?
  6. 6.प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड के लीक होने का इलाज क्या है?
  7. 7.अपने डॉक्टर को कब बुलाएं?
 

प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होना क्या है?

What is leaking of amniotic fluid or premature rupture of membranes in hindi

Pregnancy mein amniotic fluid ka zyada hona kya hai

loading image

एमनियोटिक फ्लूइड, वह तरल पदार्थ है, जो गर्भाशय में बच्चे को चारों ओर से घेरकर रखता है या यूं कहे कि बच्चे को प्रोटेक्ट करता है, जहाँ आपका शिशु 40 सप्ताह की गर्भावस्था के दौरान विकसित होता है। ये बच्चे को एक स्थिर तापमान बनाए रखने में मदद करता है और सुरक्षा प्रदान करता है।

एमनियोटिक फ्लूइड बच्चे के फेफड़े और पाचन तंत्र को विकसित करने में भी मदद करता है। इसके साथ यह बच्चे को घूमने और मांसपेशियों और हड्डियों को विकसित करने की क्षमता भी देता है। इस महत्वपूर्ण तरल पदार्थ में हार्मोन, इम्यून सिस्टम सेल्स, पोषक तत्व और आपके बच्चे का यूरिन होता है।

भ्रूण और तरल पदार्थ एमनियोटिक थैली (amniotic sac) में रहते हैं, जो आमतौर पर तब टूटता है जब एक महिला का लेबर शुरू होता है।

हालांकि, कभी-कभी फ्लूइड की अधिकता होने पर ये गर्भावस्था के 37वें सप्ताह से पहले फट सकता है, जिसे समय से पहले झिल्ली का टूटना (premature rupture of membranes or PROM) कहा जाता है। एक बार जब थैली फट जाती है, तो संक्रमण का ख़तरा बढ़ जाता है।

loading image
 

एमनियोटिक फ्लूइड का सामान्य स्तर क्या माना जाता है?

What is considered a normal level of amniotic fluid in hindi

Amniotic fluid ka normal level kya mana jata hai

loading image

गर्भावधि उम्र के अनुसार एम्नियोटिक फ्लूइड (amniotic fluid) का सामान्य स्तर भिन्न होता है।

गर्भाधान के 12 दिनों के बाद एम्नियोटिक फ्लूइड बनने लगता है और 36 वें सप्ताह में पहुंचने के साथ इसकी मात्रा सबसे अधिक हो जाती है।

हालांकि, जैसे-जैसे जन्म का समय नज़दीक आता है वैसे-वैसे इसका स्तर कम होने लगता है।

प्रीनेटल विज़िट के दौरान, आपके डॉक्टर अल्ट्रासाउंड की मदद से एम्नियोटिक फ्लूइड की मात्रा को मापेंगे।

एक सामान्य एमनियोटिक फ्लूइड 9 सेमी और 22 सेमी के बीच होता है।

आपकी गर्भावस्था के दौरान एमनियोटिक फ्लूइड का स्तर निम्न हो सकता है: -

  • 12 सप्ताह के गर्भ में 60 मिलीलीटर
  • 16 सप्ताह के गर्भ में 175 मिलीलीटर
  • गर्भधारण के 34 से 38वें सप्ताह के बीच 400-1200 मिलीलीटर
  • 38 वें सप्ताह के बाद, प्रसव तक एमनियोटिक फ्लूइड का स्तर कम होने लगता है

एमनियोटिक फ्लूइड मापने के लिए डॉक्टर दो तरीकों का उपयोग करते हैं। एक है एमनियोटिक फ्लूइड इंडेक्स (amniotic fluid index - AFI) और दूसरा है मैक्सिमम वर्टीकल पॉकेट (maximum vertical pocket - MPV)।

अगर आपका AFI 5 सेंटीमीटर (सेमी) से कम है या आपका MPV 2 सेमी से कम है, तो डॉक्टर आपके द्रव के स्तर को कम मानते हैं।

और पढ़ें:अस्थानिक गर्भावस्था के लक्षण, कारण और उपचार
 

प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होना कितना आम है?

How common is leaking amniotic fluid during pregnancy in hindi

Pregnancy mein premature rupture of membranes hona kitna common hai

loading image

लेबर में जाने से पहले वॉटर का ब्रेक होना आम बात नहीं है। प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड का लीक होना 37 सप्ताह के बाद होता है, जो लगभग 8-15 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं के साथ होता है।

loading image
 

प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने के लक्षण क्या हैं?

Leaking amniotic fluid symptoms in hindi

Prom ke lakshan kya hain

loading image

जब झिल्ली (membrane) फट जाती है तो एमनियोटिक फ्लूइड पूरे दबाव में बाहर आता है। इसे वॉटर ब्रेक होने के रूप में भी जाना जाता है।

आमतौर पर ये तब होता है, जब लेबर की शुरुआत होती है। अगर एमनियोटिक थैली में एक छोटा सा छेद होता है, तो इसके परिणामस्वरूप एमनियोटिक फ्लूइड का धीमा रिसाव हो सकता है।

हालांकि, प्रेगनेंसी के दौरान ब्लैडर भर जाने के कारण आपको यूरिन के लीक होने का भी अंदेशा हो सकता है या वेजाइनल टिश्यू भी आपकी डिलीवरी को आसान बनाने के लिए अतिरिक्त फ्लूइड का उत्पादन कर सकते हैं।

ऐसे में यह निर्धारित करना मुश्किल हो सकता है कि क्या फ्लूइड यूरिन है? एमनियोटिक फ्लूइड है? या वेजाइनल फ्लूइड है?

एमनियोटिक फ्लूइड में निम्नलिखित रूप में हो सकता है :

  • साफ़ या बेरंग
  • ये म्यूकस या खून के साथ हो सकता है
  • गंध रहित
  • अक्सर फ्लूइड के कारण इनरवेयर गिला हो जाता है

ये एमनियोटिक फ्लूइड नहीं हो सकता है अगर:

  • गंध हो
  • हल्का- या पीले रंग का हो
  • गाढ़ा या दूधिया रंग का म्यूकस हो

एमनियोटिक फ्लूइड को पहचानने के लिए आप सेनेटरी पैड का इस्तेमाल कर सकती हैं।

अगर पैड पर लगे फ्लूइड का रंग पीला है, तो ये यूरिन हो सकता है। अगर इसका रंग पीला नहीं है, तो फ्लूइड एमनियोटिक फ्लूइड हो सकता है।

यह जानने का एक और तरीका है कि कुछ सेकंड के लिए अपने पैल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को पकड़ने की कोशिश करें।

अगर रिसाव बंद हो जाए तो ये यूरिन है। अगर ये बंद नहीं होता है, तो यह संभवतः यह एमनियोटिक फ्लूइड का लीक होना है।

एमनियोटिक फ्लूइड की पुष्टि करने के लिए ये घरेलू परीक्षण सभी महिलाओं के लिए उपयोगी नहीं हो सकते हैं। ऐसे में आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

और पढ़ें:कोरोना वायरस के बारे में क्या जानना जरुरी है?
 

प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने के जोखिम क्या हैं?

Leakage of amniotic fluid risk in hindi

Premature rupture of membranes risk in hindi

loading image

अधिकांश महिला का एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने के कुछ ही समय बाद लेबर शुरू हो जाता है।

अगर कुछ ही समय में लेबर शुरू नहीं होता है तो किसी भी तरह की जटिलता से बचाव करने के लिए को लेबर को प्रेरित किया जाता है, क्योंकि फ्लूइड की कमी के कारण बच्चा 24 घंटे से ज़्यादा जीवित नहीं रह सकता है।

अगर गर्भावस्था के अंतिम चरण के पहले फ्लूइड लीक हो जाता है या झिल्ली फट जाती है, तो ये चिंता का विषय हो सकता है और जोखिमों को जन्म दे सकता है।

प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने के जोखिमों में शामिल हैं: -

  • संक्रमण (माँ और बच्चे दोनों के लिए)
  • अम्बिलिकल कॉर्ड की समस्याएं
  • गर्भाशय से प्लेसेंटा का अलग होना
  • सिजेरियन डिलीवरी

पहली और दूसरी तिमाही में एमनियोटिक फ्लूइड का लीक होना, जन्म दोष (birth defecs), गर्भपात (miscarriage), स्टिलबर्थ (stillbirth) या प्रीटर्म लेबर (preterm labor) के जोखिम से जुड़ा हो सकता है, जबकि तीसरी तिमाही में, ये प्रसव में कठिनाइयों का कारण बन सकता है।

loading image
 

प्रेगनेंसी में एमनियोटिक फ्लूइड के लीक होने का इलाज क्या है?

Treatment for leaking amniotic fluid in hindi

Leaking amniotic fluid treatment in hindi

loading image

ट्रीटमेंट प्लान एक महिला से दूसरी महिला में भिन्न होती है, क्योंकि ये गर्भकालीन आयु, फ्लूइड डिस्चार्ज और माँ और बच्चे के स्वास्थ्य की स्थिति पर निर्भर करते हैं।

अगर बच्चा पूरी तरह से विकसित हो जाता है या अंतिम चरण में एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने लगे तो आपके लेबर को प्रेरित करने और प्रसव कराने की भी सिफारिश की जा सकती है।

अगर समय से पहले एमनियोटिक फ्लूइड लीक होने लगे तो माँ और बच्चे को मॉनिटर करने के बाद निम्न कदम उठाए जा सकते हैं:

  • अगर गर्भधारण के 24 से 34वें सप्ताह के बीच एमनियोटिक फ्लूइड लीक होता है, तो भ्रूण के फेफड़े को विकसित करने के लिए एंटेनाटल कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स (antenatal corticosteroids) दिए जाते हैं।
  • संक्रमण को रोकने के लिए एंटीबायोटिक (antibiotics) दवाएं प्रेस्क्राइब की जाती हैं।
  • समय से पहले प्रसव को रोकने के लिए टोकोलाईटिक्स (tocolytics) नामक दवाएं दी जा सकती हैं।
  • अगर गर्भावस्था के 32 सप्ताह से पहले 24 घंटे के अंदर प्रसव की उम्मीद की संभावना होती है तो उस स्थिति में सेरेब्रल पाल्ज़ी (cerebral palsy) जैसे न्यूरोलॉजिकल जटिलताओं से भ्रूण की रक्षा के लिए मैग्नीशियम सल्फेट (magnesium sulphate) दिया जाता है।
और पढ़ें:गर्भकालीन मधुमेह के कारण, लक्षण और उपचार
 

अपने डॉक्टर को कब बुलाएं?

When to call your doctor in hindi

Doctor ko kab call karein

जब आपको ये पता चल जाये कि आपकी योनि से निकलने वाला तरल पदार्थ डिस्चार्ज या यूरिन नहीं है बल्कि एमनियोटिक फ्लूइड है, तो आपको जल्द-से-जल्द अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए।

आपको इन निम्न स्थितियों में भी डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए:

  • अगर फ्लूइड का रंग हल्का पीला हो या भूरा-पीला हो या उसमें दुर्गंध आ रही हो
  • अगर आपको योनि से खून आ रहा हो
  • जब आपको बुख़ार या फ्लू जैसे लक्षण महसूस होते हैं जैसे कि गर्माहट और कंपकंपी हो
  • जब आपकी हृदय गति बढ़ गई हो
  • यदि पेट दर्द या संकुचन हो

अगर आप 38 सप्ताह में एमनियोटिक फ्लूइड के रिसाव को नोटिस करती हैं, तो ये लेबर शुरू होने का संकेत हो सकता है। अगर रिसाव पहले होता है, तो तुरंत निदान के लिए अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श करना सबसे अच्छा है।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 07 Jul 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

प्रसवोत्तर रक्तस्राव के लक्षण, कारण, उपचार, निदान, और जोखिम

प्रसवोत्तर रक्तस्राव के लक्षण, कारण, उपचार, निदान, और जोखिम

गर्भावस्था के दौरान राउंड लिगामेंट पेन के कारण, लक्षण और उपचार

गर्भावस्था के दौरान राउंड लिगामेंट पेन के कारण, लक्षण और उपचार

सबकोरियोनिक हिमाटोमा क्या है और आपकी गर्भावस्था को ये कैसे नुकसान पहुँचाता है

सबकोरियोनिक हिमाटोमा क्या है और आपकी गर्भावस्था को ये कैसे नुकसान पहुँचाता है

प्रसव के दौरान बच्चे से पहले गर्भनाल का बाहर आना - अम्ब्लिकल कॉर्ड प्रोलैप्स: कारण, निदान और प्रबंधन

प्रसव के दौरान बच्चे से पहले गर्भनाल का बाहर आना - अम्ब्लिकल कॉर्ड प्रोलैप्स: कारण, निदान और प्रबंधन

गर्भपात के लक्षण, कारण और उपचार क्या हैं

गर्भपात के लक्षण, कारण और उपचार क्या हैं
balance
article lazy ad