क्या शराब, कैफीन और धूम्रपान आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं?

Can alcohol, caffeine, and smoking affect your fertility in hindi

Kya sharab, caffeine aur dhumrapan apki prajnn kshmta ko prabhavit kar sakte hain


एक नज़र

  • रिसर्च के अनुसार दिन में 5 बार या उससे अधिक शराब पीने से प्रजनन क्षमता 50% तक कम हो सकती है।
  • शराब, धूम्रपान और कैफीन पुरुष और महिलाओं, दोनों की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती है।
  • गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को धूम्रपान और शराब या कैफीन या का सेवन नहीं करना चाहिए।
triangle

Introduction

sharab_aur_dhumrapan_prajnn_kshmta_ko_prabhavit_karta_hain

पिछले कुछ वर्षों में, वयस्कों की जीवनशैली में भारी बदलाव आया है। आजकल लोग ऐसी जीवनशैली जीते हैं, जिसमें अत्यधिक कॉफी, शराब का सेवन, सिगरेट पीना आदि शामिल हैं। यह स्थिति शहरों में ज्यादा देखने को मिलती है। ज्यादातर समय, लोग इस तथ्य से अनजान रहते हुए इनका सेवन करते हैं, कि ये उनके स्वास्थ्य को किस तरह प्रभावित कर सकता है।

जब कोई व्यक्ति, शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित करने वाली अपनी जीवनशैली के बारे में विचार करता है, तो ज्यादातर कैंसर, हृदय की स्थिति और मधुमेह जैसी बड़ी बीमारियों के बारे में ही सोचता है। हालांकि, इन खाद्य पदार्थों का प्रजनन स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव कुछ ऐसा है जो शायद ही कभी दिमाग में आता है।

युवा उम्र में ज्यादातर लोग अपनी प्रजनन क्षमता को लेकर सचेत नहीं होते हैं। इस उम्र में लोग धूम्रपान जैसी आदतों में भी पड़ जाते हैं, जो प्रजनन क्षमता को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकती है। लेकिन, शादी के बाद, जब परिवार आगे बढ़ाने की बात आती है, तो ये आदतें समस्याएं पैदा कर सकती हैं।

चाहे आप पुरुष हों या महिला, आपकी जीवनशैली का निश्चित रूप से आपकी प्रजनन क्षमता पर प्रभाव पड़ता है। आपके खाने-पीने की आदतें, व्यायाम की आदतें, आपकी सोच, सभी आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती हैं।

जीवनशैली में कुछ बदलाव करने से एक स्वस्थ गर्भावस्था की संभावना बढ़ती है, जबकि अस्वास्थ्यकर आदतें जैसे अत्यधिक शराब का सेवन, धूम्रपान और बड़ी मात्रा में कैफीन के सेवन से पुरुषों और महिलाओं दोनों की प्रजनन क्षमता कमजोर हो जाती है। आइए देखें कि ये कारक आपकी प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित कर सकते हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

शराब आपकी प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?

How does alcohol affects your fertility in hindi

Sharab a pki prajnan kshamta ko kaise prabhavit karti hai

शराब पीना ज्यादातर युवाओं की जीवनशैली का हिस्सा बन गया है। हर कोई इसके बड़े दुष्प्रभावों को जानता है जैसे लीवर और हृदय रोग। हालांकि, कम ही लोग पुरुषों और महिलाओं दोनों की प्रजनन क्षमता पर इसके नकारात्मक प्रभावों के बारे में जानते हैं।

पिछले कुछ वर्षों में कई अध्ययन किए गए हैं जो प्रजनन क्षमता पर शराब के प्रभाव को दिखाते हैं। हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि एल्कोहल की कितनी मात्रा इंफर्टिलिटी का कारण बन सकती है।

पुरुषों में, शराब के सेवन से शुक्राणुओं की संख्या में कमी, अंडकोष का सिकुड़ना (testicular atrophy) और कामेच्छा में कमी की समस्या हो सकती है। इसके कारण जब वे परिवार आगे बढ़ाने की कोशिश करते हैं, तो उनकी कमजोर प्रजनन क्षमता उनके रास्ते में आ सकती है।

महिलाओं के लिए, शराब का सेवन सीधे तौर पर उनकी घटती प्रजनन क्षमता से जुड़ा हुआ है। यह स्थिति दर्शाती है कि महिलाओं के द्वारा सेवन किए जा रहे एल्कोहल की मात्रा भी उनकी प्रजनन क्षमता पर असर डालती है। अध्ययन का दावा है कि सप्ताह में एक ड्रिंक से लेकर, दिन में 5 बार शराब पीने से सफल गर्भावस्था की संभावना 50% तक कम हो सकती है और आरोपण यानि इमप्लानटेशन (एक प्रक्रिया जब फर्टिलाइज एग गर्भ की दीवार से जुड़ जाता है) की दर में कमी हो आ सकती है [1], जो एक असफल गर्भावस्था का कारण बनती है। इसका मतलब यह है कि शराब का सेवन न करने वाली महिलाओं की तुलना में शराब पीने वाली महिलाओं को गर्भवती होने में अधिक समय लग सकता है।

इसके अतिरिक्त, जो महिलाएं भारी मात्रा में शराब पीती हैं (एक सप्ताह में 7 या अधिक ड्रिंक या एक ऑकेजन पर 3 या अधिक ड्रिंक), उन्हें अनियमित पीरियड्स और प्रजनन समस्याओं से पीड़ित होने का अधिक खतरा होता है।

अध्ययनों से पता चलता है कि भारी शराब के सेवन से ओवेरियन रिजर्व (एक महिला के अंडे की संख्या) में कमी हो सकती है। ओवेरियन रिजर्व आसानी से एएमएच परीक्षण (AMH -anti- mullerian hormone test) द्वारा निर्धारित किया जा सकता है।

मिशिगन में अफ्रीकी अमेरिकी महिलाओं पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि जिन महिलाओं ने नियमित रूप से सप्ताह में दो या अधिक बार शराब पी थी, उनमें शराब न पीने वाली महिलाओं 26% कम एएमएच स्तर था। [2] कम एएमएच स्तर ओवेरियन रिजर्व गिरावट का संकेत देता है, जिससे स्वभाविक रूप से गर्भवती होने की क्षमता कम हो जाती है।

loading image
 

धूम्रपान आपकी प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

How smoking affects your fertility in hindi

Dhumrapan apki prajnan kshmta ko kaise prabhavit karta hai

यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो धूम्रपान न करने वाले की तुलना में आपको प्रेग्नेंट होने में अधिक समय लग सकता है। आमतौर पर, एक कपल जो हर 2 से 3 दिन में एक बार असुरक्षित संभोग करते हैं, वे एक वर्ष के अंदर प्रेग्नेंट हो जाते हैं। हालांकि, धूम्रपान करने वाले दंपत्ति के लिए हर महीने ये संभावना लगभग आधी हो जाती है।

अध्ययनों का अनुमान है कि सिगरेट में लगभग 4,000 + विषाक्त रसायन (toxic chemicals) होते हैं जो मानव शरीर के लिए हानिकारक हैं। इन रसायनों से प्रजनन क्षमता पर भी असर पड़ता है। एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि बांझपन से जूझ रहे 1,786 पुरुषों में, धूम्रपान के कारण स्पर्म डेंसिटी (sperm density) में 15.3% की कमी आई और कुल शुक्राणुओं की संख्या (total sperm count) में 17.5% की कमी आई। [3]

इसके अलावा, सिगरेट में पाए जाने वाले रसायन जैसे कार्बन मोनोऑक्साइड (monoxide), निकोटीन (nicotine) और साइनाइड (cyanide) महिलाओं में रजोनिवृत्ति यानि मेनोपॉज की गति को तेज कर सकते हैं। इसका मतलब यह है कि आप रजोनिवृत्ति की स्थिति में (मासिक धर्म और गर्भ धारण करने की क्षमता की अनुपस्थिति) एक्सपेक्टेड उम्र (51 वर्ष रजोनिवृत्ति के लिए औसत वर्ष माना जाता है) से पहले पहुंच जाएंगी।

धूम्रपान गर्भावस्था से जुड़े इन समस्याओं को बढ़ाने में बहुत तक जिम्मेदार है : -

सिगरेट पीने से बचने के लिए, कई लोग इन दिनों ई-सिगरेट पर स्विच करते हैं। ई-सिगरेट में तंबाकू नहीं होता है और न ही ये हानिकारक रसायनों का उत्पादन करते हैं, जैसा अन्य सिगरेट करते हैं। हालांकि, अभी भी रिसर्च चल रहा है कि ई-सिगरेट कितने सुरक्षित हैं और मानव शरीर पर इसके प्रभाव क्या हैं!

 

कैफीन आपके प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

How caffeine affects your fertility in hindi

Caffeine apki prajnan kshmta ko kaise prabhavit karta hai

कैफीन, कॉफी, सॉफ्ट ड्रिंक्स (विशेष रूप से कोला युक्त ड्रिंक), चाय और चॉकलेट में पाया जाने वाला मुख्य घटक (ingrdient) है। आज के समय में कैफीन का सेवन जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है अब चाहे यह चाय, कॉफी या अन्य रूपों के माध्यम से हो।

व्यापक शोध यानि एक्सटेंसिव रिसर्च (extensive research) की कमी के कारण, इस बात का कोई स्पष्ट प्रमाण नहीं है कि कैफीन गर्भ धारण करने की आपकी क्षमता को कैसे प्रभावित करता है। हालांकि, जब आप गर्भवती होने की योजना बना रहे हों, तो प्रजनन विशेषज्ञ, कैफीन के सेवन को सीमित करने की सलाह देते हैं। [4]

कई प्रकाशित अध्ययनों से पता चलता है कि अत्यधिक कैफीन का सेवन गर्भावस्था में देर, गर्भपात, मृत शिशु का जन्म (stillbirth) और कम वजन के शिशु के जन्म (low birth weight) का कारण कारण हो सकता है। सामान्य तौर पर, एक दिन में चार कप से अधिक कॉफी का सेवन गर्भावस्था के समय को साढ़े नौ महीने से अधिक तक बढ़ा सकता है। स्वस्थ प्रजनन क्षमता और गर्भावस्था की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए विशेषज्ञ, कैफीन का सेवन प्रति दिन 200 मिलीग्राम या इससे कम करने की सलाह देते हैं।

प्रजनन समस्याओं से पीड़ित लोग इन पदार्थों को शायद ही कभी बांझपन का कारण मानते हैं। लेकिन, एक स्वस्थ जीवनशैली जीने और शराब, धूम्रपान व कैफीन के सेवन को सीमित करने से, आपको सफल गर्भधारण में सफलता मिल सकती है।

हालाँकि, अगर नुकसान पहले से ही हो चुका है, तो उपभोग (consumption) में कटौती करने से प्रजनन समस्याओं को कम करने में मदद नहीं मिलेगी। ऐसे में आपको अपनी प्रजनन क्षमता को बेहतर बनाने के लिए कुछ अतिरिक्त मदद की आवश्यकता हो सकती है। आपके डॉक्टर कुछ दवाओं की सलाह दे सकते हैं, जो आपके प्रजनन समस्याओं को कम करने में मदद करेंगी। इसके अलावा आपके डॉक्टर आपको कृत्रिम प्रजनन उपचार (artificial reproductive treatments) का सुझाव भी दे सकते हैं। आप अपनी प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए घर पर कुछ प्राकृतिक उपचार भी आज़मा सकते हैं।

loading image
 

पुरुषों की प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए घरेलू नुस्खे

Home remedies to boost male fertility in hindi

Purush prajnn kshamta ko boost karne ke gharelu nuskhe

जैसा कि ऊपर बताया गया है कि सिगरेट, शराब और कैफीन जैसे पदार्थ पुरुषों में कम शुक्राणुओं की संख्या (low sperm count), स्तंभन दोष (erectile dysfunction), कम शुक्राणु गतिशीलता (sperm motility) और कम सेक्स ड्राइव (low libido) जैसी समस्याओं का कारण बन सकते हैं। हालांकि, यह अच्छा है कि प्रजनन क्षमता बढ़ाने में कुछ घरेलू नुस्खे आपकी मदद कर सकते हैं।

पुरुष की प्रजजन क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय : -

नियमित रूप से व्यायाम करना (Exercise regularly)

अध्ययन बताते हैं कि नियमित रूप से व्यायाम करने से टेस्टोस्टेरोन (testosterone) का स्तर बढ़ सकता है, जो कम सेक्स ड्राइव को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, अधिक व्यायाम न करें। बहुत अधिक व्यायाम भी आपके शुक्राणु के स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव डाल सकता है।

विटामिन सी का सेवन बढ़ाएँ (Increase vitamin C intake)

शोध पर आधारित एविडेंस बताते हैं कि विटामिन सी शुक्राणु की गुणवत्ता में सुधार करता है। आप विटामिन सी के सप्लीमेंट्स खरीद सकते हैं जो ऑनलाइन और फार्मेसियों में उपलब्ध हैं। आप अपने भोजन में विटामिन सी से भरपूर खाद्य पदार्थ भी शामिल कर सकते हैं।

  • अमरूद, स्ट्रॉबेरी, कीवी, संतरा, पपीता, टमाटर, नींबू जैसे फल विटामिन सी से भरपूर होते हैं।
  • हरी सब्जियाँ जैसे ब्रोकोली, केल, थाइम (thyme), गोभी भी विटामिन सी के अच्छे स्रोत हैं।

जिंक का सेवन बढ़ाएँ (Increase zinc intake)

जिंक का सेवन, कम स्पर्म काउंट को कम करने और टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने में मदद कर सकता है। आप या तो जिंक सप्लीमेंट का विकल्प चुन सकते हैं या अपने आहार में जिंक युक्त खाद्य पदार्थ शामिल कर सकते हैं।

  • एवोकाडो, ब्लैकबेरी, अनार, रसभरी, अमरूद, आड़ू, आदि जैसे फल जिंक से भरपूर होते हैं।
  • हरे मटर, पालक, चुकंदर, साग, ब्रोकोली, भिंडी, स्वीट कॉर्न आदि सब्जियां जिंक से भरपूर होती हैं।

अश्वगंधा का सेवन करें (Consume Ashwagandha)

अश्वगंधा भारतीय आयुर्वेद की महत्वपूर्ण जड़ी-बूटी है। यह कई रोगों का उपचार कर सकता है। हाल के अध्ययनों से यह भी पता चला है कि यह पुरुष प्रजनन क्षमता में भी सुधार कर सकता है।

46 पुरुषों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि अश्वगंधा की जड़ों को लेने से उनके शुक्राणु की मात्रा में 53%, शुक्राणु की गतिशीलता में 57% और शुक्राणुओं की संख्या में 167% की वृद्धि हुई।[5]

आप अश्वगंधा के सप्लीमेंट्स आसानी से ऑनलाइन खरीद सकते हैं। इसके अलावा, भारत में कई प्रसिद्ध हर्बल कंपनियां हैं, जिनके अश्वगंधा के उत्पाद, फार्मेसी और उनके स्वयं के डेजीगनेटेड दुकानों (designated shop) में उपलब्ध हैं।

 

महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए घरेलू नुस्खे

Home remedies to boost female fertility in hindi

mahila prajnn kshamta ko boost karne ke gharelu nuskhe

महिलाओं को गर्भाधान के लिए अधिक समय लग सकता है, यदि वे बेहद अधिक धूम्रपान करती हैं और भारी मात्रा में शराब और कैफीन का सेवन करती हैं। अगर वे गर्भवती हो जाती हैं, तो भी उन्हें गर्भावस्था से संबंधित अन्य जोखिम होते हैं। यदि आप अपने गर्भाधान के अवसरों और गर्भावस्था के जोखिम के बारे में चिंतित हैं तो आप नीचे बताए गए कुछ घरेलू उपचारों का पालन कर सकते हैं।

महिला की प्रजजन क्षमता बढ़ाने के घरेलू उपाय : -

खजूर (Dates)

खजूर विटामिन बी और के से भरपूर होते हैं। ये आयरन और फोलेट का भी अच्छा स्रोत हैं, जो एक सफल गर्भाधान के लिए आवश्यक पोषक तत्व हैं। बेहतर परिणाम के लिए, धनिया की कुछ जड़ों के साथ 10 से 12 बीज रहित खजूर को पीस लें। इसे गाय के दूध में मिलाएँ और उबाल लें। पीरियड्स खत्म होने के बाद एक हफ्ते तक इस मिश्रण को पिएं।

बरगद के पेड़ की जड़ें (Banyan Tree Roots)

गर्भाधान के अवसरों को बढ़ाने के लिए बरगद के पेड़ की जड़ें एक अच्छा घरेलू उपाय है। आप ऑनलाइन या फार्मेसियों से बरगद के पेड़ की जड़ का पाउडर खरीद सकते हैं। इस पाउडर को दूध में मिलाएं और अपने पीरियड्स के बाद तीन दिन तक पिएं। बेहतर परिणामों के लिए कुछ महीनों तक इस विधि को फॉलो करें।

अनार (Pomegranate)

अनार विटामिन-के और विटामिन-सी से भरपूर होता है और इसमें कई एंटीऑक्सिडेंट (anti-oxidant), पोटेशियम (potassium) और फोलेट (folate) होते हैं। ये पोषक तत्व गर्भाधान में मदद करते हैं और गर्भपात की संभावना को भी कम करते हैं। अच्छे परिणाम के लिए, अनार के पेड़ की छाल और इसके बीजों को बराबर मात्रा में लें और इसका पाउडर बना लें। कुछ हफ्तों तक रोजाना आधा चम्मच इस पाउडर का सेवन करें।

जायफल (Nutmeg)

जायफल को महिला प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए भी जाना जाता है। गर्भाधान के बेहतर अवसर के लिए आप इसे अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं। एक चम्मच जायफल पाउडर व चीनी लें और इसे एक गिलास गाय के दूध में मिलाएं। अपने पीरियड्स के दौरान इस घोल को रोज पिएं।

loading image

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

Rakesh Sharma, Kelly R Biedenharn, et al. “Lifestyle factors and reproductive health: taking control of your fertility”. Reprod Biol Endocrinol. 2013; 11: 66, PMID: 23870423.

2 .

Hawkins Bressler L, Bernardi LA, et al. “Alcohol, cigarette smoking, and ovarian reserve in reproductive-age African-American women”. Am J Obstet Gynecol. 2016;;215(6):758.e1-758.e9; PMID: 27418446.

3 .

Jason R. Kovac, Abhinav Khanna, et al. “The Effects of Cigarette Smoking on Male Fertility”. Postgrad Med. 2015 Apr; 127(3): 338–341, PMID: 25697426.

4 .

Cynthia K. Stanton, Ronald H. Gray, “Effects of Caffeine Consumption on Delayed Conception”, American Journal of Epidemiology, Volume 142, Issue 12, 15 December 1995, Pages 1322–1329.

5 .

Vijay R. Ambiye, Deepak Langade, et al. “Clinical Evaluation of the Spermatogenic Activity of the Root Extract of Ashwagandha (Withania somnifera) in Oligospermic Males: A Pilot Study”. Evid Based Complement Alternat Med. 2013; 2013: 571420, PMID: 24371462.

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 28 Sep 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

संभोग का समय, गर्भवती होने के अवसर से कैसे जुडा है?

संभोग का समय, गर्भवती होने के अवसर से कैसे जुडा है?

तनाव और प्रजजन क्षमता पर इसका प्रभाव

तनाव और प्रजजन क्षमता पर इसका प्रभाव

वजन प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

वजन प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

उम्र आपकी प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?

उम्र आपकी प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?
balance
article lazy ad