आई पिल-गर्भनिरोधक टैबलेट - प्रयोग, दुष्प्रभाव, सावधानियां

I pill-Contraception Tablet - uses, side-effects, precautions in hindi

I pill - Contraception Tablet - prayog, dushprabhav, savdhaniya in hindi


Introduction

I_pill_-_Contraception_Tablet_-_prayog__dushprabhav__savdhaniya_in_hindi

आई-पिल टेबलेट एक बेहद प्रभावी गर्भनिरोधक गोली है जो व्यापक रूप से महिलाओं द्वारा अनचाहे गर्भधारण से बचने के लिए उपयोग की जाती है।

आमतौर पर असुरक्षित यौन संबंध या गर्भनिरोधक के अन्य रूपों की विफलता के मामलों में महिलाओं द्वारा आई-पिल का सेवन किया जाता है।

आई-पिल शुक्राणुओं के मार्ग को बदलकर उन्हें अंडों तक पहुंचने से रोकती है या गर्भाशय की लाइन को प्रभावित करके विभिन्न तरीकों से ओव्यूलेशन को रोकती है। आई-पिल को इमरजेंसी कंट्रासेप्टिव पिल के नाम से भी जानी जाती है।

आई पिल में मुख्य घटक लेवोनोर्गेस्ट्रेल (Levonorgestrel) होता है जो रजोनिवृत्ति (menopause) के परिवर्तनों को कम या समाप्त करता है।

हार्मोनल गर्भनिरोधक की विधि के रूप में भी आई पिल का इस्तेमाल किया जाता है।

असुरक्षित यौन क्रिया के बाद 72 घंटे के भीतर या गायनोक्लोजिस्ट द्वारा निर्देशित होने पर आई पिल का उपयोग किया जा सकता है।

आज इस लेख में आई पिल गर्भनिरोधक टैबलेट के फायदे और उपयोग, इसके दुष्प्रभाव, खुराक और इससे संबंधित पूछे जाने वाले सवालों के बारे में चर्चा करेंगे।

इस लेख़ में

 

आई पिल क्या है?

What is I Pill in hindi

I pill kya hai in hindi

पिरामल हेल्थरकेयर मैन्युफैक्चर्ड आई-पिल एक आपातकालीन गर्भनिरोधक है जिसे कई लोग गर्भपात की गोली मान लेते हैं, जबकि ये सही नहीं है।

आई पिल, अनियोजित गर्भावस्था को रोकने में मदद करती है।

आई पिल का फायदा संभोग के सिर्फ 72 घंटे के भीतर लेने पर ही होता है।

असुरक्षित यौन संबंध के 12 घंटे के भीतर लेने पर यह सबसे प्रभावी रूप से काम करती है।

किशोरियों के लिए आई-पिल उपयुक्त नहीं है।

यदि आप आई-पिल लेने के बारे में सोच रहे हैं तो सुनिश्चित करें कि आपकी उम्र 25 वर्ष से अधिक हो।

 

आई पिल के फायदे और उपयोग क्या हैं?

What are the benefits and uses I pill in hindi

I Pill ke fayde aur upyog in hindi

आई पिल के फ़ायदे और उपयोग निम्न हैं :

  • आई पिल का उपयोग (I pill uses)

लेवोनोर्जेस्ट्रेल (आई पिल) को महिलाओं द्वारा बर्थ कंट्रोल फेल्योर (birth control failure) जैसे - कंडोम का फटना या असुरक्षित यौन संबंध के बाद गर्भावस्था को रोकने के लिए उपयोग किया जाता है।

आई पिल को रोज़ाना बर्थ कंट्रोल पिल के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाता।

ये एक प्रोजेस्टिन हार्मोन है जो मुख्य रूप से आपके मासिक धर्म के दौरान ओव्यूलेशन के रिलीज को रोकने का काम करता है।

ये वैजाइनल फ्लूईड (fluid) को मोटा करके स्पर्म को निषेचित अंडे (फर्टाइल एग) तक पहुंचने से रोकता है।

आई पिल लगभग 74 किलो या इससे अधिक वजन वाली महिलाओं में बहुत असरकारक नहीं है।

साथ ही जो महिलाएं पहले से ही कुछ दवाओं का सेवन कर रही हो उनके लिए भी ये कारगर नहीं है।

  • बर्थ कंट्रोल दवाओं के फायदे ( Birth control medicine Benefits)

अनचाहे गर्भ को रोकने वाली महिलाओं के लिए हार्मोनल बर्थ कंट्रोल आई पिल एक जीवन रक्षक है।

आई पिल के फ़ायदे निम्न हैं :

  • मासिक धर्म को नियमित कर सकती है।
  • मासिक धर्म के दौरान होने वाली ऐंठन को ठीक कर सकती है।
  • मुंहासे के लिए उपचार के लिए सर्वश्रेष्ठ है।
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) के उपचार में मदद कर सकती है।
  • एनीमिया के जोखिम को कम कर सकती है।
  • यूट्रेस और गर्भाशय जैसे कैंसर के लिए जोखिम को कम कर सकती हैं।
 

आई-पिल के दुष्प्रभाव क्या हैं?

What are the side-effects of I-pill in hindi

I pill ke dushprabhav in hindi

मतली, पेट दर्द, सिरदर्द, चक्कर आना या स्तनों में कोमलता, आई पिल के संभावित दुष्प्रभाव हैं।

ये दुष्प्रभाव नियमित गर्भनिरोधक गोलियों के समान है।

कुछ महिलाओं में मासिक धर्म परिवर्तन होता है जैसे - उनकी अगली अवधि से पहले स्पॉटिंग या रक्तस्राव होता है।

कुछ महिलाओं को आई पिल के सेवन से अगली माहवारी जल्दी या देर से होती है और माहवारी के दौरान बहुत हेवी या लाइट ब्लीडिंग हो सकती है।

आई पिल के अन्य दुष्प्रभाव निम्न हैं :

  • आई-पिल के कारण एलर्जी की प्रतिक्रिया हो सकती है यानि स्किन पर इचिंग, रैशेज, फेस, लिप्स, आई लैशेज, गले और जीभ पर सूजन, श्वास लेने के दौरान कठिनाई या निगलने में कठिनाई हो सकती है।
  • यदि आपको किसी गंभीर एलर्जी की प्रतिक्रिया के लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे - दाने, खुजली / सूजन (विशेषकर चेहरे / जीभ / गले पर), लगातार चक्कर आना और सांस लेने में परेशानी तो डॉक्टर को बिना देर किए बताएं।
  • आई पिल (लेवोनोर्गेस्ट्रेल) लेने के 3 से 5 सप्ताह बाद पेट के निचले हिस्से में दर्द बना रहता है तो डॉक्टर को तुरंत सूचित करें।
  • उल्टी, थकान, योनि से रक्तस्राव, सिरदर्द और चक्कर आ सकते हैं।
    यदि इनमें से कोई भी प्रभाव लगातार बना रहता है या बिगड़ जाता है, तो अपने डॉक्टर को तुरंत बताएं।
  • यदि आपके डॉक्टर ने इस दवा का उपयोग करने के लिए निर्देशित किया है, तो डॉक्टर की सलाह पर ही इसका सेवन करें।
    इस दवा का उपयोग करने वाले कई महिलाओं को गंभीर दुष्प्रभाव नहीं होते हैं।
 

आई-पिल के सेवन के दौरान क्या सावधानियां बरतें?

What precautions should be taken while taking I Pill in hindi

I pill ke sevan se kab bachey in hindi

आई पिल के सेवन के समय कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है।

निम्न स्थितियों में आपको आई पिल गर्भनिरोधक टेबलेट का सेवन नहीं करना चाहिए :

  • लेवोनोर्गेस्ट्रेल घटक से एलर्जी के मामले में आई-पिल से नहीं लेनी चाहिए।
  • आई-पिल का उपयोग नियमित जन्म नियंत्रण विधि के रूप में नहीं किया जाना चाहिए।
  • गर्भवती होने के दौरान आई-पिल का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।
  • ट्यूबल गर्भावस्था (tubal pregnancy) की प्रवृत्ति से पीड़ित होने पर आई-पिल का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।
  • योनि से असामान्य रक्तस्राव के इतिहास होने पर आई पिल का सेवन न करें।
  • यदि आपको स्तन कैंसर, मधुमेह, स्ट्रोक, लिवर में ट्यूमर या लिवर की बीमारी, क्लॉटिंग डिसऑर्डर (clotting disorder) या पोरफायरिया जेनेटिक डिसऑर्डर (porphyria genetic disorder) है तो आई पिल का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • सत्रह साल से कम उम्र की महिलाओं को आई-पिल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • थायरॉयड फंक्शन टेस्ट करवा रहे हैं तो आई पिल के सेवन से बचें ये टेस्ट के नतीजों में हस्तक्षेप कर सकता है।
 

आई-पिल से संबंधित चेतावनियां और सुरक्षा संबंधी ध्यान देने योग्य बातें

Related warnings and safety advice I pill in hindi

I pill se sambhandhit chetavnian aur suraksha sambhandi dhyaan dene yogya baatain in hindi

आई-पिल से संबंधित चेतावनियां और सुरक्षा संबंधी ध्यान देने योग्य बातें :

  • यदि महिला पहले से ही गर्भवती है और ये सोचकर आई पिल लेती है कि वे गर्भधारण को रोक सकती है, ऐसा करने से कोई फायदा नहीं होगा।
  • असुरक्षित यौन संबंध के तुरंत बाद आई-पिल ले लेना चाहिए, आदर्श रूप से 24 घंटों के भीतर और सामान्य रूप से 72 घंटों के भीतर लेना सही है।
  • अगर आप गर्भवती नहीं होना चाहती तो 72 घंटों के भीतर हुए असुरक्षित यौन संबंधों के बाद आप एक ही बार में आई-पिल का उपयोग कर सकती हैं।
    हालांकि, दूसरी गोली पहली गोली लेने के 12 घंटे के बाद भी ली जा सकती है।
  • यदि लंबे समय से किसी ड्रग का सेवन कर रहे हैं तो आई-पिल के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से जरूर परामर्श लें।
  • यह ध्यान रखना चाहिए कि आई-पिल एचआईवी या अन्य यौन संचारित रोगों से रक्षा नहीं करती है।
  • लेवोनोर्गेस्ट्रेल (आई पिल) से एलर्जी की हिस्ट्री वाली महिला को इन गोलियों को लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।
  • आई पिल का उपयोग करने से पहले लेबल को ध्यान से पढ़ें और उस पर लिखे दिशा-निर्देशों का पालन करें।
  • आई पिल को बच्चों की पहुंच से दूर रखें।
  • निश्चित खुराक से अधिक का सेवन न करें।
  • आई पिल नियमित गर्भनिरोधक विधि नहीं हैं इसे लेने से पहले डॉक्टर से सलाह मशवरा जरूर करें।
  • आई पिल को 40 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर या कमरे के तापमान पर रखना चाहिए।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 31 Mar 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

balance
article lazy ad