सफ़ेद बाल

सफ़ेद बाल

Grey hair in hindi

Safed baal kaise kam karein in hindi

 

झुर्रियों की तरह, बाल सफ़ेद होना भी उम्र बढ़ने का एक संकेत है। यह भी जीवन का एक हिस्सा है। अगर एक उम्र के बाद बाल सफ़ेद हो रहे हैं तो इसमें परेशानी की कोई बात नहीं है।

पर आजकल 20 साल से कम उम्र के युवाओं में भी सफ़ेद बाल दिखने को मिल रहे है। बालों का असमय सफ़ेद हो जाना किसी को भी परेशान कर सकता है।  

डॉक्टरों की मानें तो युवाओं में बाल सफ़ेद होना एक बीमारी है जिसे डॉक्टरी भाषा में केनाइटिस (Canities) कहते हैं।

दरअसल, बाल सफेद होना शरीर में मौजूद मेलेनिन (melanin) की कमी के कारण होता है।

बढ़ते समय के साथ आपके शरीर में मौजूद वर्णक कोशिकाएं यानी की मेलेनिन अपना रंग खोने लगती हैं। फलस्वरूप, बाल सफ़ेद होने लगते हैं।

 

सफ़ेद बाल के शुरूआती लक्षण

Initial signs of hair greying in hindi

safed baal ke shuruati lakshan in hindi

अगर आपके बाल कम उम्र में सफ़ेद हो रहे हैं तो उसके लक्षण इस प्रकार हो सकते हैं :

  1. बाल झड़ना (Hair fall)

    कम उम्र में बाल कमजोर होकर झड़ने लगते हैं। बाल काफी तेज़ी से झड़ते हैं। आपके कंघे, बिस्तर, कपड़ों और फर्श हर जगह बाल देखने को मिलेंगे। ये लक्षण बाल सफ़ेद होने के शुरूआती लक्षण हैं।

  2. बाल सफ़ेद होना (Hair greying)

    शुरुआत में आपके 1 या 2 बाल सफ़ेद दिखेंगे। फिर धीरे-धीरे कई बाल सफ़ेद दिखने लगेंगे। और सफ़ेद बालों की संख्या बढ़ती ही जायेगी।

  3. उम्र बढ़ने के साथ बाल सफ़ेद होना (Hair Graying with age)

    ये एक बहुत ही सामान्य प्रक्रिया है। जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है बाल पकने यानी सफ़ेद होने लगते हैं। भारत में 40 वर्ष के बाद बाल सफ़ेद होना सामान्य माना जाता है।

 

बाल सफ़ेद होने के कारण

Causes of grey hair in hindi

baal safed hone ke karan in hindi

बाल सफ़ेद होने के कारण

उम्र के अलावा ऐसे कई और कारण हैं जिसके कारण बाल सफ़ेद हो सकते हैं।

आइये उन कारणों के बारे में जानें: 

  1. अनुवांशिक (Genetic reasons)

    अगर आपके परिवार में किसी को भी कम उम्र में सफ़ेद बाल हुए हैं, या परिवार के इतिहास में सफ़ेद बाल होता रहा है।

    तो आप सफ़ेद बाल होने की सम्भावना को नहीं बदल सकते।

    कई बार अनुवांशिक कारणों से भी आपके बाल सफ़ेद हो सकते हैं।

    कम उम्र में बाल सफ़ेद होने का कारण अधिकतर बार अनुवांशिक होता है।

  2. तनाव (Stress)

    तनाव आपके बालों को भी प्रभावित कर सकता है।

    2013 में चूहों पर एक अध्ययन किया गया जिसमे पाया गया की तनाव के दौरान चूहों के बालों के रोम में स्टेम सेल्स (stem cells) की कमी पायी गयी।

    तो अगर आपको बहुत ज्यादा सफ़ेद बाल दिख रहे हैं तो तनाव इसका एक कारण हो सकता है।

  3. थाइरोइड (Thyroid)

    थाइरोइड के कारण शरीर में हार्मोनल (hormonal) बदलाव होते हैं।

    हाइपर थाइरोइड (hyperthyroid) और हाइपो थाइरोइड (hypothyroid) भी समय से पहले सफ़ेद बाल के कारक हो सकते हैं।

    एक अति सक्रिय या कम सक्रिय थाइरोइड ग्रंथि (thyroid gland) आपके शरीर में कम मेलेनिन (melanin) के उत्पादन का कारण बन सकती है।

  4. विटामिन बी-12 की कमी (Vitamin B12 deficiency)

    कम उम्र में सफेद बाल विटामिन बी-12 की कमी के कारण भी होते हैं।

    यह विटामिन आपको ऊर्जा देता है और साथ ही स्वस्थ बालों के विकास में इसका काफी योगदान होता है।

    लाल रक्त कोशिकाओं (red blood cells) के लिए आपके शरीर में विटामिन बी -12 की आवश्यकता होती है, जो बालों सहित आपके शरीर में कोशिकाओं तक ऑक्सीजन ले जाता है।

    इसकी कमी बाल कोशिकाओं (hair cells) को कमजोर कर सकती हैं और मेलेनिन उत्पादन को प्रभावित कर सकती है।

  5. ऑटोइम्यून बीमारी (Autoimmune diseases)

    ऑटोइम्यून बीमारी भी समय से पहले सफेद बालों का कारण बन सकती है।

    इसमें शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली (immune system) अपनी कोशिकाओं (cells) पर हमला करती है।

    खालित्य (alopecia) और विटिलिगो (vitiligo) के मामले में, प्रतिरक्षा प्रणाली बालों पर असर करती हैं और बालों के रंग को भी नुकसान पहुँचाती है।

  6. धूम्रपान (Smoking)

    धूम्रपान से बाल समय से पहले सफ़ेद होते हैं, ये कई अध्ययनों द्वारा साबित किया जा चुका है।

    2013 में इतालियन डर्मेटोलॉजी ऑनलाइन जर्नल (Italian dermatology online journal) के द्वारा किये गए अध्ययन के मुताबिक़ युवाओं में धूम्रपान से सफ़ेद बाल होते हैं।

    जो युवा धूम्रपान नहीं करते उनके मुकाबले धूम्रपान करने वाले युवाओं में ढाई गुना तेजी से बाल सफ़ेद होते हैं।  

    धूम्रपान रक्त वाहिकाओं (blood vessels) को संकुचित करता है, जो बालों के जड़ों में रक्त के प्रवाह को कम कर सकता है और बालों के झड़ने का कारण बन सकता है।

    इसके अतिरिक्त, सिगरेट में विषाक्त पदार्थ होते हैं, जो आपके बालों को जड़ सहित नुकसान पहुंचा सकते हैं, जिससे बाल सफ़ेद होने की शुरुआत होती है।

 

सफ़ेद बाल को और सफ़ेद होने से कैसे बचाएं

How to prevent further graying of hair in hindi

safed balo ko aur safed hone se kaise bachaye in hindi

सफ़ेद बाल को और सफ़ेद होने
  1. हेयर ड्रायर का इस्तेमाल कम करें (Avoid using hair dryer)

    अपने बालों को खुली हवा या धूप में सूखने दें। हेयर ड्रायर का इस्तेमाल ना के बराबर करें।

    सूखे और सफ़ेद बालों को हेयर ड्रायर से सुखाने पर बाल ख़राब होते हैं।

  2. स्ट्रैटनर का उपयोग ना करें (Do not use hair straightener)

    अक्सर बालों को सीधा करने के लिए स्ट्रैटनर का उपयोग किया जाता है।

    सफ़ेद बालों में गर्म लोहे का उपयोग करने से बाल और भी ज्यादा फ्रीजी (frizzi) हो जाते हैं।

  3. सीधे धूप में ना निकलें (Avoid direct sun exposure)

    सूर्य से निकलने वाली यू-वी किरणे (U-V rays) बालों को नुकसान पहुंचाती है।

    इसलिए जब तेज़ धूप में बाहर निकलें तब सर को दुप्पटे, स्कार्फ, टोपी आदि से ढँक लें।

  4. हेयर स्पा और हेयर स्ट्रैटनिंग न करायें (Avoid hair spa and hair straightening)

    हेयर स्पा और स्ट्रैटनिंग में इस्तेमाल किये जाने वाले क्रीम सफ़ेद बालों को बहुत नुक्सान पहुंचाते हैं। खासकर तब जब क्रीम बालों की जड़ों में इस्तेमाल की जाये।

    ये बाल को काला करने वाली कोशिकाओं को प्रभावित कर सकती हैं।

  5. बालों में वैक्स का इस्तेमाल ना करें (Do not use wax on hair)

    अक्सर बालों में स्टाइलिंग के लिए महिलाएं वैक्स का इस्तेमाल करती हैं। बालों में वैक्स का इस्तेमाल  करने से बाल ख़राब होता है।

    वैक्स की जगह एलोवेरा जेल का इस्तेमाल करना चाहिए। जो बालों के लिए बेहतर है।

 

सफ़ेद बालों का इलाज़

Treatment for grey hair in hindi

safed balo ka ilaj in hindi

सफ़ेद बालों का इलाज़
  1. खून जांच (Blood test)

    सफ़ेद बालों के इलाज के लिए डॉक्टर पहले जानना चाहेंगे की इसके पीछे कारण क्या है? इसके लिए डर्मेटोलॉजिस्ट (dermatologist) पहले आपको कुछ जांच कराने को कह सकते हैं।

    जैसे आपके शरीर में आयरन, फोलिक एसिड, विटामिन बी-12 और थाइरोइड हार्मोन का स्तर पता चल सके।

  2. सप्लीमेंट टेबलेट्स (Supplements tablet)

    यदि जांच के पश्चात् आपके शरीर में किसी पोषक तत्व जैसे आयरन, फोलिक एसिड, विटामिन बी-12 की कमी दिखाई देगी तो डॉक्टर आपको उसके सप्लीमेंट्स टेबलेट्स देंगे।

    साथ ही आपके आहार में भी उन सब्जियों और फलों को जोड़ने के लिए कहेंगे जिसमे इनकी प्रचुरता हो।

  3. थाइरोइड का इलाज (Thyroid treatment)

    अगर आपको हाइपरथाइरोइड (hyperthyroid) या हाइपोथाइरोइड (hypothyroid) की समस्या है तो डॉक्टर आपको थाईरोक्सिन (thyroxin) या थाइरोनॉर्म (thyronorm) दवाएं दे सकते हैं।

    डॉक्टर के सलाह के बाद ही दवा लें या आगे का इलाज़ जारी रखें।

  4. आयुर्वेदिक इलाज़ (Ayurvedic treatment)

    सफ़ेद बालों के लिए कई आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां और तेल हैं। जिनसे बालों में मसाज करने से बाल और सफ़ेद होने से बचाये जा सकते हैं।

    इसके लिए भी आयुर्वेद के जानकार से ही संपर्क करें।

इन सभी इलाजों के लिए एक बार डॉक्टर से संपर्क जरूर करें। अगर आपकी समस्या आनुवंशिक है तो फिर इसका उपाय मिलना मुश्किल हो सकता है।

फिर प्राकृतिक रंगों से बालों को डाई करके भी आप बालों को काला कर सकते हैं।

कोशिश करें की केमिकल वाली डाई का उपयोग ना करें। क्योंकि ये आपके बालों को और नुकसान पहुंचा सकती है।

 

सारांश

Summary in hindi

Saransh in hindi

बालों का सफ़ेद होना शायद ही किसी को पसंद हो। इसलिए अगर आप चाहते हैं कि कम उम्र में बालों को सफ़ेद होने से बचाएं, तो अपने जीवन शैली में बदलाव करें। तनाव, धूम्रपान से दूर रहें।

प्रदूषण और धूप से बालों को बचाएं और अपने खाने में विटामिन, आयरन को शामिल करें।