कंडोम के बारे में पूरी जानकारी

All you need to know about Condoms in hindi

कॉन्डम की जानकारी, कंडोम के प्रकार, उपयोग और महिला और पुरुष कंडोम


Introduction

Male and female condoms ki jaankari, prakaar, aur upyog

सदियों से गर्भनिरोध के रूप में, सुरक्षित दिनों में सेक्स करने की परंपरा चली आ रही है। लेकिन 16वीं या 17वीं शताब्दी से कंडोम का उपयोग गर्भनिरोधक के रूप में पूरे विश्व में होने लगा है।

हालांकि, इसके इतिहास के संबंध में एक मत नहीं है। कुछ लोगों का मानना है कि कंडोम का प्रयोग सबसे पहले स्वीडन में हुआ तो वहीं कुछ लोग इसे फ्रांस [1] की देन मानते हैं।

लेकिन कॉन्डम की पैदाइश कहीं की भी हो, वर्तमान समय में यह सेक्स करने के लिए सबसे सुरक्षित उपाय माना जाता है। कंडोम का उपयोग करने से पहले आपको कॉन्डम की जानकारी होनी चाहिए ताकि कभी बाद मे किसी भी तरह के समस्या का सामना ना करने पड़े |

कंडोम के प्रयोग से न केवल पुरुष का वीर्य (Sperm) महिला के एग (Egg) से नहीं मिल पाता है बल्कि इससे, सेक्स के समय संचारित होने वाले यौन संचारित रोग (Sexually Transmitted Diseases) से भी बचाव होता है। [2]

आज के युवा शादी के बाद प्रेगनेंसी का प्लान बहुत सोच-समझ कर करते हैं। इसलिए उन्हें गर्भनिरोधक की पूरी जानकारी होना अति आवश्यक है, ऐसे में कंडोम का प्रयोग आसान और असरदार होता है।

loading image

इस लेख़ में

 

कंडोम किस सामग्री से बनता है?

What material is used to manufacture condoms? in hindi

condom kisse banta hai

लोगों में यह धारणा काफी प्रबल है कि कंडोम सिर्फ पुरुषों के इस्तेमाल के लिए ही बना है। लेकिन, हम आपको यहाँ ये बताना चाहेंगे कि महिलाओं के इस्तेमाल के लिए भी फ़ीमेल कंडोम मार्केट में उपलब्ध होते हैं।

पुरुष कंडोम पाउच या थैलीनुमा आकार के होते हैं जिन्हें पुरुष सेक्स प्रक्रिया से पहले लिंग (penis) पर चढ़ा लेते हैं।

इससे सेक्स प्रक्रिया के दौरान पुरुष का वीर्य इस थैली नुमा कंडोम में इकट्ठा हो जाता है और महिला की योनि में प्रवेश करने से बच जाता है।

वही महिला कंडोम, एक पतली छली के समान होता है जो महिला के योनि में स्थापित होता है। यह पुरुष का वीर्य महिला के शरीर में जाने से रोकता है।

पुरुष कंडोम को बनाने के लिए एक विशेष प्रकार के रबड़, लैटेक्स (latex) का प्रयोग किया जाता है। [3]

यह नरम प्लास्टिक (पोलियोरेथेन, नाइट्रिल या पोलिसोर्प्रेन) मैटीरियल के भी बने होते हैं। इस मैटीरियल से बने कंडोम का प्रयोग वो लोग नहीं कर सकते हैं जिन्हें लैटेक्स से एलर्जी होती है।

महिला कंडोम पॉलीयुथेराइन (polyurethane) और नाइट्राइल (nitrile) से बने होते हैं [4]और दो सिरे वाले होते हैं, जिसमे एक सिरा खुला और एक सिरा बंद होता है।

loading image
 

कंडोम की श्रेणियाँ क्या हैं?

What are the categories of condoms? in hindi

condom kitne prakar ke hote hain, कंडोम कितने प्रकार की होता है, फ़ीमेल कंडोम इन हिन्दी

जैसा हम पहले बता चुके हैं, महिलाओं और पुरुषों के लिए अलग अलग कंडोम मिलते है। [5]आइये कंडोम के प्रकार के बारे में जानते हैं।

कंडोम, प्रयोग करने वालों के आधार पर दो श्रेणियाँ में बांटा गया है:

  • पुरुष कंडोम (Male condom)

पुरुष कंडोम का प्रयोग सेक्स प्रक्रिया से पहले, पुरुष अपने लिंग को ढकने के लिए करते हैं।

  • महिला कंडोम (Female condom)

लेडीज कंडोम के बारे में हालांकि अभी अधिकतम महिलाओं को जानकारी नहीं है, फिर भी यह महिला स्वतंत्रता की ओर एक और कदम माना जाता है। इसे महिलाएं अपनी योनि में रखकर गर्भनिरोध की तरह इस्तेमाल करती हैं।

और पढ़ें:अजवाइन, प्याज़ एवं लहसुन बढ़ाते है यौन इच्छा
 

कंडोम के प्रकार और उनकी जानकारी

What are the types of male condoms? in hindi

condom kitne prakar ke hote hai in hindi, condom ke naam,

loading image

सामान्य रूप से, पुरुष कंडोम सुरक्षित सेक्स के उपाय के रूप में इस्तेमाल होते है। लेकिन समय के साथ बदलती तकनीक ने सुरक्षा उपाय को एक आनंददायी खेल में बदलने का भी उपाय कर दिया है।

इसके लिए बाज़ार में पुरुष कंडोम के विभिन्न प्रकार उपलब्ध हैं जो सेक्स में सुरक्षा के साथ ही उन अंतरंग पलों को खुशगवार भी बना देते हैं।

कंडोम के प्रकार निम्न हैं :

  1. अंधेरे में जुगनू की तरह चमकने वाले कंडोम (Glow-in-the-Dark Condoms)
  2. खुशबू देने वाले कंडोम (Flavored Condoms)
  3. आकृति वाले या उभरी आकृति वाले कंडोम (Studded or Textured Condoms)
  4. गर्म कंडोम (Warming Condoms)
  5. प्लेजर शेप वाले कंडोम (Pleasure-Shaped condoms)
  6. रंगीन कंडोम (Colored Condoms)
  7. लुब्रिकेटेड कंडोम (Lubricated Condoms)
  8. किस ऑफ मिंट कंडोम (Kiss of Mint Condoms)
  9. फ्रेंच टिकलर (French Ticklers)
  10. खाने लायक कंडोम (Edible Condoms)
  11. लैटेक्स कंडोम (latex Condom)
  12. नॉन-लैटेक्स कंडोम (Non-Latex Condom)
  13. इनहैंस्ड परफॉरमेंस कंडोम (Enhanced Performance Condom)

कंडोम के ये सभी प्रकार अपने नाम की तरह अनुभव करवाने में सक्षम हैं। जैसे, अंधेरे में चमकने वाले कंडोम, अंधेरे में चमकने लगते हैं।

इसी प्रकार गर्म कंडोम, सेक्स प्रक्रिया में थोड़ा गर्मी का एहसास देते हुए उत्तेजना को बढ़ाने में सहायक होते हैं। यह सभी कंडोम पुरुष व महिला की उत्तेजना को बढ़ाकर सेक्स को आनंदायी प्रक्रिया बनाने में सहयोग करते हैं।

loading image
 

पुरुष कंडोम का प्रयोग और निस्तारण कैसे करें?

How to use and discard male condoms? in hindi

condom ka istemal karne ka tarika, कॉन्डम की जानकारी, निरोध के प्रकार

कंडोम को सही तरीके से निकालना, प्रयोग करना और उसके बाद उसको सही तरीके से निस्तारण करना (dispose-off) बहुत जरूरी काम है।

आपको इस काम में कोई परेशानी न हो, इसके लिए निम्न विधि का प्रयोग करें: [6]

  1. कॉन्डम को प्रयोग करने के लिए सबसे पहले उसे पैकेट से बाहर निकाल लें। यह ध्यान रखें कि कंडोम को पैकेट में से निकालने के लिए न तो दांतों का ही इस्तेमाल करें और न किसी अन्य नुकीली वस्तु का प्रयोग करें। ऐसा करने से कंडोम में छेद होने का डर रहता है।
  2. कंडोम को पैकेट में से निकाल कर उत्तेजित लिंग के ऊपरी हिस्से पर रखें।
  3. अगर कंडोम में हवा का बुलबुला दिखाई दे तो उसे अंगूठे और उंगली की सहायता से दबा कर बाहर निकाल दें।
  4. अब कंडोम को बहुत आराम से हाथों की सहायता से रोल करते हुए नीचे की ओर इस तरह ले जाएँ जिससे वह लिंग पर पूरा आ जाये।
  5. अगर किसी कारण से कंडोम लिंग पर पूरा नहीं आ पाता है तब उसे हटाकर नया कंडोम ले लें, क्योंकि एक बार लिंग पर आने के बाद इसे दोबारा प्रयोग नहीं किया जा सकता है।
  6. सेक्स प्रक्रिया के बाद कंडोम को लिंग पर सावधानी से उतार लें। इस बात का ध्यान रखें कि इसमें जमा हुआ वीर्य किसी भी तरह से बाहर न छलक जाये।
  7. अब इसे किसी कागज़ में लपेटकर कूड़ेदान में फेंक दें। इसको कभी भी फ्लश में न डालें। ऐसा करने से फ्लश के बंद होने का डर होता है।

अगर दोबारा सेक्स प्रक्रिया करनी हो तब नया कंडोम लेना चाहिए। एक बार प्रयोग किया हुआ कंडोम दोबारा इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

और पढ़ें:ओरल सेक्स दे सकता है कई बिमारियों को न्योता
 

महिला कंडोम की जानकारी ?

What are Female Condoms? in hindi

लेडीज कंडोम डिटेल्स, लेडीज कंडोम, निरोध के प्रकार, mahila कंडोम, condom ki jankari

loading image

लेडीज कंडोम का प्रयोग नारी जगत में सेक्स प्रक्रिया में महिला की निजी स्वतंत्रता का प्रतीक माना जाता है। महिलाओं के कंडोम को, महिला की योनि में रखा जाता है।

इसका प्रयोग करने की स्थिति में अगर पुरुष साथी कंडोम या अन्य किसी गर्भनिरोधक उपाय का प्रयोग नहीं करता है तब भी महिला को किसी प्रकार का भय नहीं हो सकता है।

हालांकि, कुछ आधुनिक (advanced) देशों को छोड़कर अन्य देशों में महिला कंडोम के बारे में जागरूकता अभी नहीं है। लेकिन फिर भी कंडोम बनाने वाली कंपनियाँ इस ओर भी ध्यान दे रही हैं।

महिला कंडोम का उद्देश्य पुरुष कंडोम की ही भांति महिला को सुरक्षित सेक्स और यौन संचारित रोगों से सुरक्षा प्रदान करना होता है।

महिला कंडोम भी पुरुष कंडोम की भांति लैटेक्स (latex) के बने होते हैं। अगर इनका सही तरीके से इस्तेमाल किए जाएँ तो यह 95% प्रभावी होते हैं।

इन्हें सेक्स प्रक्रिया के आरंभ करने से पूर्व ही महिला की योनि में रखा जाता है। इन्हें भी पुरुष कंडोम की तरह ही, केवल एक ही बार प्रयोग में लाया जा सकता है।

loading image
 

महिला कंडोम का प्रयोग और डिस्पोज कैसे करें?

How to use and dispose female condoms? in hindi

Mahila condoms ka istemal, महिला कंडोम के बारे में

महिला कंडोम को प्रयोग और डिस्पोज करने के लिए निम्न तरीके से करें : [7]

  1. पैकेट से कंडोम को सावधानी से बाहर निकाल लें। ऐसा करते समय इस बात का ध्यान रखें कि पैकेट खोलने के लिए नाखून, कैंची या किसी भी नुकीली चीज़ का इस्तेमाल न करें। ऐसा करने से कंडोम में छेद होने का डर हो सकता है।
  2. इस कंडोम में दोनों ओर रिंग बने होते हैं जो आकार में एक छोटा और दूसरा बड़ा होता है और इसका एक हिस्सा बंद होता है।
  3. अब कंडोम के बंद हिस्से को, उंगली की मदद से, योनि के अंदर डालें। जहां तक संभव हो इसे योनि के अंदर कर दें।
  4. अब अपनी उंगली को धीरे से योनि से बाहर निकाल कर कंडोम को अंदर ही छोड़ दें। अब कंडोम का दूसरा सिरा बाहर ही लटका रहने दें।
  5. सेक्स प्रक्रिया में यह सुनिश्चित करें कि पुरुष लिंग इस कंडोम में ही प्रवेश करे और यह कंडोम अपनी जगह से हिल न जाये।
  6. सेक्स प्रक्रिया के बाद कंडोम का वह हिस्सा जो बाहर लटक रहा है उसे थोड़ा सा मोड़ कर पकड़ लें। इस बात का ध्यान रखें कि इसके अंदर जो वीर्य है वह बाहर न निकल जाये।
  7. अब बाहर निकलते हिस्से को धीरे-धीरे बाहर निकल कर कंडोम को पूरी तरह से बाहर निकाल लें।
  8. इस प्रयोग किए कंडोम को कागज़ में लपेटकर कूड़ेदान में फेंक दें। इसे कभी भी फ्लश में न डालें।

पुरुष कंडोम हो या महिला कंडोम, दोनों का उद्देश्य और कार्य एक ही होता है। इसलिए सुरक्षित सेक्स के उद्देश्य से केवल एक बार में एक ही कंडोम का प्रयोग किया जाना उचित होता है।

यदि महिला और पुरुष दोनों कंडोम का एक साथ प्रयोग करेंगे तो घर्सन के कारण कंडोम के फटने का डर रहता है और इससे कंडोम का सही उद्देश्य पूरा नहीं होगा। इसलिए एक समय में केवल एक ही कंडोम का प्रयोग उचित होता है।

loading image
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

सुरक्षित सेक्स प्रक्रिया और यौन संचारित रोगों (sexually transmitted disease) से बचाव के लिए सेक्स प्रक्रिया में कंडोम का प्रयोग किया जाना चाहिए।

तकनीक के विकास के साथ पुरुष कॉन्डम में विभिन्नता और महिला कंडोम का विकास हो चुका है। सुरक्षा और स्वास्थ्य की दृष्टि से एक समय में केवल एक ही कंडोम का प्रयोग करना उचित रहता है। हम आशा करते है हमारे लेख से आपको कॉन्डम की जानकारी मे काफी मदद मिली होगी |

जैसा की हमने ऊपर बता रखा है की भारत मे कंडोम के कई प्रकार है जैसे सरल गैर - बनावट वाले कंडोम से लेकर अलग अलग फ्लेवर वाले कॉन्डम भी बाज़ार मे व्यापक रूप से उपलब्ध है | इनके मे कुछ प्रमुख ब्रांड है जिनका नाम आप लोगो ने सुना होगा जैसे की - "मूड्स, ड्यूरेक्स, कोहिनूर, कामसूत्र, और स्कोर जैसे कंपनियो के पुरुष और महिला कंडोम बाज़ार मे उपलब्ध है |

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

अक्सर पूछे गए प्रश्न

सभी प्रश्न बंद करें

कंडोम क्या है?

कंडोम एक म्यान के आकार का अवरोधक (sheath-shaped barrier) उपकरण होता है। जिसका उपयोग संभोग के दौरान गर्भावस्था या यौन संचारित संक्रमण (sexually transmitted infection) की संभावना से बचने के लिए किया जाता है।

क्या कॉन्डम का इस्तेमाल महिलाएं भी कर सकती हैं?

जी हां, कई आधुनिक देशों में महिलाएं कंडोम का उपयोग बहुत हद तक कर रही हैं। हालांकि, कुछ देशों में इसे लेकर अभी भी जागरूकता की कमी है।

पुरुष कंडोम की ही तरह महिला कंडोम के इस्तेमाल से महिलाओं को यौन संचारित रोगों (sexually transmitted disease) और सुरक्षित सेक्स प्रदान किया जाता है।

महिला कंडोम का इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

लेडीज़ कंडोम का इस्तेमाल सेक्स प्रक्रिया में महिला की निजी स्वतंत्रता को दर्शाता है। लेडीज़ कंडोम को महिला की वेजाइना में रखा जाता है।

अगर पुरुष साथी कंडोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं तो उस स्थिति में महिला कंडोम मददगार साबित हो सकता है।

क्या मेल और फ़ीमेल कंडोम एक साथ इस्तेमाल करने से सेक्स सुरक्षित होता है?

ऐसा नहीं होता है और ये बस एक तरह का मिथक है। वहीं दोनों द्वारा कंडोम का इस्तेमाल करने से सुरक्षा की संभावना कम हो जाती है।

ऐसे में सेक्स के समय पुरुष या महिला किसी एक को ही कंडोम का इस्तेमाल करना चाहिए।

क्या सेक्स के दौरान कॉन्डम टूट सकता है?

जी हाँ! कंडोम टूट सकते हैं - कोई भी गर्भनिरोधक 100% सुरक्षा की गारंटी नहीं दे सकता है। हालांकि, ठीक से उपयोग करने पर शायद ही कंडोम टूटता है।

मेरे पास कुछ कंडोम हैं जो पैकेज के अनुसार एक्सपायर्ड हो गए हैं! क्या मैं उनका उपयोग कर सकता हूं?

नहीं, कंडोम का उपयोग समाप्ति की तारीख तक पहुंचने के बाद यानि एक्सपायर्ड डेट के बाद नहीं किया जाना चाहिए।

क्या पुरुष अधिक सुरक्षा के लिए एक बार में 2 या 3 कंडोम लगा सकता है?

इस संबंध अब तक कोई ऐसे शोध नहीं हुए हैं या फिर कोई प्रमाण नहीं मिले हैं कि दो या इससे अधिक कंडोम का इस्तेमाल करना अधिक सुरक्षित होता है।

आमतौर पर ये रेकमेंड नहीं किया जाता है क्योंकि अधिक कंडोम से फ्रिक्शन हो सकता है और इससे कंडोम के टूटने की संभावना बढ़ सकती है।

क्या गर्भावस्था को रोकने में कंडोम प्रभावी होते हैं?

हाँ, पुरुष कंडोम प्रभावी होते हैं, लेकिन तब जब, सेक्स के दौरान सही तरीके से इसका उपयोग किया जाए।

लगातार और सही तरीके से उपयोग करने वाली प्रत्येक 100 महिलाओं में से केवल 2 महिला उपयोग के पहले वर्ष में गर्भवती हो जाती हैं।

क्या बटुए में कंडोम रखना ठीक है?

कंडोम को डैमेज होने से बचाने के लिए, उन्हें अपने बटुए में नहीं रखना चाहिए। कंडोम को उनके पैकेट में, एक ठंडी सूखी जगह में ही रखना चाहिए।

क्या खुशबूदार कंडोम के इस्तेमाल से महिला की योनि को नुकसान पहुंच सकता है?

ऐसी सलाह दी जाती है कि योनि सेक्स के लिए फ्लेवर्ड कंडोम का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इस तरह के कंडोम में स्वाद और खुशबू डालने के लिए शुगर कोटिंग की जाती है।

जब इस तरह का कंडोम योनि में जाता है तो इससे योनि का नेचुरल पीएच लेवल प्रभावित हो जाता है और फंगस इन्फेक्शन का रिस्क बढ़ सकता है।

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

Fahd Khan, Saheel Mukhtar et al." The story of the condom".Indian J Urol. 2013 Jan-Mar; 29(1): 12–15, PMID: 23671357.

2 .

King K. Holmes, Ruth Levine, et al. "Effectiveness of condoms in preventing sexually transmitted infections". Bull World Health Organ. 2004 Jun; 82(6): 454–461, PMID: 15356939.

3 .

Mayo clinic. “Male condoms”. Mayoclinic, 11 Mar 2017.

4 .

Center of Young Women's Health. "Female Condoms". Center of Young Women's Health, Accessed 12 Feb 2020.

5 .

William Gossman; Ari D et al. "Condoms". Treasure Island (FL): StatPearls Publishing; 2020 Jan, PMID: 29261966.

6 .

WebMD. "Condoms: Effectiveness, Types, and Proper Use". WebMD, 7 August 2019.

7 .

Center for Disease Control and Prevention. "Female Condom Use".Center for Disease Control and Prevention, 18 November 2016.

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 27 Feb 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad