कलर्ड बाल

रंगीन बालों (कलर्ड बाल) की देखभाल

Colored hair care in hindi

coloured balo ki dekhbhal kaise karein in hindi

हम सभी काले बालों के साथ ही जन्म लेते है लेकिन आज आपको ब्लैक नेचुरल हेयर कम ही देखने को मिले क्योंकि आज कल अलग अलग रंगों के बाल बहुत फैशन में है।

बाल रंगना, बालों का रंग बदलने का अभ्यास है।

इसका मुख्य कारण एक ओर जहाँ फैशन में शामिल होना है तो वही दूसरी ओर कुछ लोग मज़बूरी में आकर अपने ग्रे या सफेद बालों (grey hair) को कवर करने के लिए ऐसा करते है ।

हर कोई फैशनेबुल (fashionable) दिखना चाहता है इसलिए लोग बालों के ओरिजिनल (origional) कलर को चेंज करके बाल कलर करवाते है।

कलर्ड बाल आपके लुक को चेंज करने में बहुत मददगार साबित होते है।

बालों को रंगने का ये फैशन नया नहीं है। ये ट्रेंड 1961 में ब्रिटेन में शुरू हुआ था। जहाँ लोग अपने बालों को कलर किया करते थे।

फ़र्क़ सिर्फ इतना है कि इस्तेमाल किये जाने वाले हेयर कलर्स तब हल्दी, आवला, हिना और पौधों के जड़ो और उनके तेल से बना करते थे जो पुरे तरीके से नेचुरल (natural) हुआ करते थे।

आज इस दौर में इस्तेमाल होनेवाले हेयर डाइस (hair dye) में भरी मात्रा में केमिकल्स (chemicals) पाए जाते है।

बालों के रंग के प्रकार

Types of hair colors in hindi

colored balo kitne prakar ke hote hai in hindi

बालों के रंगों के कई प्रकार इन दिनों फैशन में है, जो आपके लुक को पूरी तरह से चेंज कर देते है। आप अपने बालों के लिए किस तरह के हेयर कलर चुनाव करेंगे ये आपके बाल के टाइप पर भी निर्भर करता है।

बालों के हेयर कलर टाइप का चुनाव करने से पहले सबसे जरुरी होता है उसके प्रकारों के बारे में जानना:

  1. टेम्परोरी कलर (Temporary color)

    टेम्परोरी कलर, हेयर कलर टाइप्स में नया इनोवेशन है। ये ग्रे और पेस्टल्स (grey or pastel) के शेड्स के होते है। यह बोल्ड लुक देने के काम में आता है।

    हर कोई बोल्ड लुक के साथ ज्यादा लम्बे वक़्त तक नहीं रह सकता इसलिए इसे टेम्परोरी कलर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है जो की शैम्पू करने पे धीरे धीरे चला जाता है।

  2. सेमि परमानेंट हेयर डाई (Semi-Permanent hair dye)

    यदि आप अपने टेम्परोरी हेयर कलर को थोड़े और लम्बे समय तक के लिए रखना चाहते है तो ये सेमी परमानेंट हेयर डाई आपके लिए बेस्ट ऑप्शन है।

    ये बालों को चमक प्रदान करते है। ये 8-10 washes तक रह सकते हैं।

  3. स्थायी बाल रंग (Permanent Hair color)

    स्थायी रंगों का उपयोग आपके बालों के ओरिजिनल कलर को कम करके उसके ऊपर नए कलर की कोटिंग चढाने जैसा होता है।

    इसमें लाइट ब्राउन और ग्रे कलर्स (colors) का ज्यादा चलन है। स्थायी कलर्स को जितना भी वाश कीजिये वो फेड नहीं होते है, हाँ समय के साथ उनकी चमक जरूर कम हो जाती है।

    इन स्थायी कलर्स से कैंसर होने का खतरा बढ़ भी जाता है।

  4. हाइलाइट्स (Highlights)

    हेयर कलरिंग का ये स्टाइल आज कल बहुत फैशन में है। हर ऐज ग्रुप इस स्टाइल को अपनाना चाहते है।

    इसमें पुरे बालों को कलर करने के बजाय बालों के पतले पतले स्ट्रीक्स (streaks) को हाईलाइट किया जाता है, वो भी आपकी मनमर्जी वाले कलर्स से।हाइलाइट्स भी लम्बे समय तक टिकते है।

    हाइलाइट्स में और भी कई ओप्शन्स ( options ) शामिल है जैसे-

    1. ओंब्रे (Ombre)

      ओम्ब्रे हेयर कलर नेचुरल कलर को जड़ से छोड़ देता है और धीरे-धीरे बालों के नीचे हल्के हाइलाइटेड टोन में फेड हो जाता है।

    2. बालायगे (Balayage)

      इस हाइलाइटिंग तकनीक में हाइलाइट्स पर पेंटिंग की जाती है और थके हुए दिखने वाले बालों को एक युवा चमक देने में मदद करते हैं।

    3. लौलइटस (Lowlights)

      बालों के कलर को हल्का करने के लिए अलग अलग प्रोडक्ट्स चुनने के बजाय, यह तकनीक बालों में गहरे रंग की टोन पेश कर सकती है जो बालों को चमक देती है।

    4. टेक्सचरड हाईलाइट (Textured highlights)

      हाईलाइट का यह तरीका कई तरह से काम करके आपको नया लुक देता है। इसमें कई तरह के हेयर कलर्स का इस्तेमाल किया जा सकता है।

  5. जड़ रंग (Root color)

    ग्रे या भूरे बाल (Grey or brown) आपकी पर्सनालिटी ख़राब कर सकते है, इसलिए ऐसे लोगों को एक कम्पलीट हेयर डाई (complete hair dye) की जरुरत पड़ती है ताकि आपके ग्रे, सफ़ेद या भूरे बाल किसी को दिखे नहीं।

    ऐसे में आपके प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में मदद करने के लिए रूट टच अप (root touch up) सबसे अच्छा तरीका हो सकता है।

    अगर आपको जल्दी में कही जाना हो और अपने ग्रे और को छुपाना चाहती है तो उसके लिए भी एक अस्थायी रूट कवर अप स्प्रे आता है।

    जो कम समय में टेशन को दूर कर देगा, ये लास्ट मिनट टच उप (last minute touch up) के लिए बेस्ट ऑप्शन है।

  6. हेयर ब्लीच (Hair bleach)

    इसका इस्तेमाल बालों के कलर को हल्का करने के लिए किया जाता है। ब्लीच बालों के कलर को हल्का और चमकदार बनाने का एक बहुत ही शानदार तरीका है।

    ब्लीच से नुक्सान भी पहुँचता है इसलिए, सोच समझकर करें। कभी भी इसे खुद से घर में करने की कोशिश न करें।

बालों को कलर करने के नुक्सान

Harmful effects of hair coloring in hindi

balo ko color karna aap ke balo ke kaise nuksan pahucha sakta hai in hindi

अपने लुक को बदलने के लिए हेयर कलर इन दिनों लोगों की पहली पसंद है।

हेयर कलर देखने में अट्रैक्टिव (attractive) जरूर लगता है पर क्या आपने कभी सोचा है कि इंस्टेंट (instant) आपके लुक को बदलने वाले ये हेयर कलर आपको कोई नुक्सान तो नहीं पहुचायेंगे।

इनमे बहुत सारे केमिकल्स का इस्तेमाल होता है जो न सिर्फ बाल बल्कि आपके सेहत के लिए भी हानिकारक है:

  1. एलर्जी की प्रतिक्रिया (Allergic Reaction)

    हेयर डाई में पैराफेनिलिडामाइन (paraphenylenediamin) होता है जो एलर्जी का कारण बनता है जैसे खुजली, त्वचा में जलन, लालिमा या सूजन।

  2. प्रजनन पर प्रभाव (Effects on Fertility)

    स्थायी रंगों में उपयोग किए जाने वाले एसीटेट (acetate) पुरुषों और महिलाओं में प्रजनन संबंधी समस्याओं का कारण बनता है।

  3. आँख आना (Conjunctivitis)

    हेयर डाई आपके शरीर के संवेदनशील हिस्से (sensitive parts) को प्रभावित कर सकते हैं।

    जब हेयर डाई के रसायन आपकी आंखों से संपर्क बनाते हैं, तो Conjunctivitis, सूजन और कई अन्य परेशानियां हो सकती है।

  4. दमा (Asthma)

    डाई बाल, अस्थमा को बढ़ाते हैं। जब हम इन रसायनों (chemicals)को अंदर लेते हैं, तो इससे खांसी, घरघराहट, फेफड़ों में सूजन, गले में तकलीफ और अस्थमा के दौरे पड़ सकते हैं।

सारांश

Summary in hindi

saransh in hindi

कलर्ड बाल इन दिनों फैशन में है। आप भी फैशन में रहे लेकिन फैशन के चलते, अपने सेहत से खिलवाड़ भूल कर भी न करें, क्योंकि हो सकता है जो चीज़ आपको दूसरों की पसंद आ रही है वो आपको सूट न करे।

हेयर कलर्स हमेशा प्रोफेशनल हेयर कलर स्पेशलिस्ट (professional hair specialist) से ही करवाए।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें