गर्भावस्था में क्लैमाइडिया का उपचार और रोकथाम

Chlamydia treatment and prevention in pregnancy in hindi

Pregnancy Ke dauran chlamydia hai ek yaun sankraman beemari aur yaun sankramit beemari in hindi


Introduction

Pregnancy_Ke_dauran_chlamydia_hai_ek_yaun_sankraman_beemari_aur_yaun_sankramit_beemari_in_hindi


यौन संचारित रोग (एसटीडी-STD) गर्भवती महिला के लिए कई जोखिम पैदा कर सकते हैं। गर्भवती महिलाओं को यौन संक्रमण बीमारी से बचाव के लिए विशेष रूप से सावधान रहना चाहिए।

किसी भी यौन संक्रमित बीमारी की जांच के लिए सभी गर्भवती महिलाओं की, गर्भावस्था की पहली तिमाही में स्क्रीनिंग की जानी चाहिए। यह सुनिश्चित कर सकता है कि गर्भवती होने से पहले महिला को कोई संक्रमण नहीं था।

क्लैमाइडिया संक्रमण (chlamydia infection) एक यौन संक्रमित बीमारी है जो कि गर्भावस्था के दौरान आपके बच्चे को भी पास (pass) हो सकती है। क्लैमाइडिया नवजात शिशुओं में निमोनिया और आंखों की सूजन का कारण भी बन सकता है।

बीमारी का प्रारंभिक निदान जल्दी उपचार शुरू करने के लिए ज़रूरी है। इससे यह सुनिश्चित किया जा सकता है कि बच्चे तक संक्रमण न फैले या माँ के लिए जटिलताएं न पैदा हों।

आज इस लेख में हम क्लैमाइडिया संक्रमण से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातें बताने जा रहे हैं, जिन्हें जानना एक गर्भवती महिला के लिए बेहद जरुरी है।

loading image

इस लेख़ में

 

क्लैमाइडिया संक्रमण के जोखिम कारक क्या हैं?

What are the risk factors associated with chlamydia infection in hindi

Chlamydia infection ka risk sabse adhik kise hota hai in hindi

loading image

2 से 30% गर्भवती महिलाएं क्लैमाइडिया से प्रभावित होती हैं। हालांकि, क्लैमाइडिया से कोई भी महिला प्रभावित हो सकती है, लेकिन कुछ ऐसे कारक हैं जो क्लैमाइडिया होने के जोख़िम को बढ़ाते हैं।

पुरुषों की तुलना में महिलाओं में क्लैमाइडिया होने की अधिक संभावना होती है। 25 साल से कम उम्र की यौन सक्रिय महिलाओं को क्लैमाइडिया का जोखिम सबसे अधिक होता है। डॉक्टर इससे बचने के लिए वार्षिक स्क्रीनिंग की सलाह देते हैं।

निम्न महिलाओं में क्लैमाइडिया होने का जोखिम बढ़ जाता है :

  • सार्वजनिक स्वास्थ्य क्लीनिकों में देखभाल करने वाली महिलाएं
  • नॉनवेज रेस की महिलाएं
  • कई यौन साथी रखने वाली महिलाएं
  • पिछले 3 महीने में एक नया यौन साथी रखने वाली महिला
  • मौखिक गर्भनिरोधक (oral contraception) का उपयोग करने वाली
  • ऐसी महिला जो गर्भनिरोधक (barrier contraception) का उपयोग नहीं करती
  • अन्य एसटीडी के इतिहास वाली महिला
loading image
 

क्लैमाइडिया के लक्षण क्या हैं?

What are symptoms of chlamydia infection in hindi

Chlamydia ke symptoms kya hain in hindi

loading image

अधिकांशतः क्लैमाइडिया के कोई लक्षण नहीं होते हैं। यदि लक्षण होते हैं, तो वे संक्रमण के बाद कई हफ्तों तक दिखाई नहीं पड़ते हैं।

यदि लक्षण दिखाई पड़े, तो इनमें निम्नलिखित शामिल हो सकते हैं:

  • पेशाब करते समय जलन होना
  • योनि से पीले या हरे रंग का डिस्चार्ज (discharge)
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द
  • संभोग करते समय दर्द

यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई पड़े, खासकर गर्भावस्था के समय, तो अपने डॉक्टर से तुरंत मिलें और सलाह लें।

 

क्लैमाइडिया का निदान कैसे संभव है?

How is chlamydia infection diagnosed in hindi

Chlamydia ka pata kaise chalta hai

loading image

केवल शारीरिक परीक्षण के आधार पर क्लैमाइडिया का निदान संभव नहीं है। क्लैमाइडिया के लक्षण कुछ अन्य यौन संक्रमित बीमारियों से मिलते-जुलते होते हैं। इसलिए सिर्फ लक्षणों के आधार पर इसका निदान मुश्किल हो सकता है।

क्लैमाइडिया के सही निदान के लिए प्रयोगशाला में परीक्षण की आवश्यकता होती है। लक्षणों की अनुपस्थिति में आप वर्षों तक इस बात से अंजान रह सकते हैं कि आपको क्लैमाइडिया है। इस कारण से, नियमित जांच, संक्रमण के निदान और उपचार के लिए आवश्यक है।

क्लैमाइडिया का निदान आमतौर पर एक डॉक्टर द्वारा, मरीज़ के चिकित्सा इतिहास की जांच के बाद किया जाता है। डॉक्टर शारीरिक परीक्षण, मूत्र परीक्षण या फिर महिलाओं में एन्डोकेरिकल कनाल (endocercal canal) व योनि के नमूने के परीक्षण द्वारा इस बीमारी का निदान करते हैं।

loading image
 

गर्भावस्था के दौरान क्लैमाइडिया का इलाज कैसे किया जाना चाहिए?

What is the treatment for chlamydia during pregnancy in hindi

Pregnancy ke dauran chlamydia ka kya upchar hai in hindi

loading image

क्लैमाइडिया का इलाज़ डायाग्नोसिस के बाद जल्द से जल्द शुरू होना चाहिए। एंटीबायोटिक्स का उपयोग लक्षणों को कम करने और संक्रमण के इलाज के लिए किया जा सकता है।

आपके डॉक्टर यह सुनिश्चित कर पाएंगे कि एंटीबायोटिक्स आपके लिए प्रभावी होंगे या नहीं। इस यौन संक्रमण बीमारी के इलाज के लिए दी जाने वाली दवा से एलर्जी की प्रतिक्रिया (side effects) भी संभव है। हर किसी का शरीर अलग होता है और कुछ लोगों में दवाएं दुष्प्रभाव पैदा कर सकती हैं।

कुछ डॉक्टर ये सुझाव देते हैं कि आप उनके कार्यालय में ही क्लैमाइडिया की दवा लें। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि पहली खुराक के बाद आपको कोई साइड-इफेक्ट न हो।

एंटीबायोटिक दवाएं बैक्टीरिया को भी बदल सकती हैं जो सामान्य रूप से योनि या आंतों में रहती हैं। इससे यीस्ट इन्फेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है।

गर्भावस्था के दौरान उपयोग करने के लिए एंटीबायोटिक्स (Antibiotics to use during pregnancy)

गर्भावस्था के दौरान क्लैमाइडिया के इलाज़ के लिए तीन एंटीबायोटिक दवाओं की सिफारिश की जाती है।

प्रेगनेंसी के दौरान क्लैमाइडिया के उपचार के लिए सिफारिश की जाने वाली दवाएं निम्न हैं :

1. एज़िथ्रोमाइसिन (Azithromycin)

एज़िथ्रोमाइसिन एक सुरक्षित और प्रभावी उपचार माना गया है।

एज़िथ्रोमाइसिन की सिंगल-खुराक के बहुत कम दुष्प्रभाव अब तक सामने आए हैं।

रिपोर्ट किए गए साइड-इफेक्ट्स में निम्न शामिल हैं:

  • दस्त
  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • पेट में दर्द
  • जल्दबाज़ी

२. एरिथ्रोमाइसिन (Erythromycin)

एरिथ्रोमाइसिन के साइड-इफेक्ट्स में नीचे दिये गए दुष्प्रभाव शामिल हो सकते हैं:

  • त्वचा के लाल चकत्ते
  •  दस्त
  • उलटी अथवा मितली
  • सांस लेने मे तकलीफ़
  • अनियमित दिल की धड़कन या सीने में दर्द
  • मुंह के छाले
  • लिवर की सूजन

3. एमोक्सिसिलिन (Amoxicillin)

यदि डॉक्टर द्वारा आपको एमोक्सिसिलिन (amoxicillin) दी जाती है, तो दवा लेने के तीन सप्ताह बाद आपको फिर से टेस्ट्स करवाने की ज़रूरत होगी ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि संक्रमण खत्म हो गया है।

एमोक्सिसिलिन के दुष्प्रभावों में शामिल हैं :

  • त्वचा के लाल चकत्ते
  • दस्त
  • सांस लेने मे तकलीफ़
  • यूरिन पास करने में परेशानी
  • चक्कर आना
  • सरदर्द
  • पेट की ख़राबी


गर्भावस्था के दौरान किन एंटीबायोटिक्स से बचने की ज़रूरत है (Antibiotics to avoid during pregnancy)

  • डोक्सीसायक्लीन (doxycycline)

डोक्सीसायक्लीन (doxycycline) का उपयोग गर्भावस्था के दौरान नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि वे भ्रूण के विकास में बाधा डाल सकती हैं।

डोक्सीसायक्लीन बच्चे के दांतों पर भी असर डाल सकता है।

इसके अलावा यह दवा दस्त, उलटी-मतली, जिगर विषाक्तता (liver toxication) या ग्रासनली के अल्सर (esophageal ulcers) जैसे दुष्प्रभाव भी छोड़ सकती है।

  • ओफ़्लोक्सासिन (Ofloxacin)

ओफ़्लोक्सासिन (ofloxacin) का उपयोग भी गर्भावस्था के दौरान नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि यह बच्चे में डीएनए गठन को रोक सकता है और बच्चे के कन्नेक्टिव टिशू (connective tissue) को घायल कर सकता है।

ओफ्लॉक्सासिन के संभावित दुष्प्रभावों में दस्त, उलटी अथवा मतली, सिरदर्द, अनिद्रा, बेचैनी, चक्कर आना, जिगर विषाक्तता आदि शामिल हैं।

वे महिलाएं जो गर्भवती नहीं हैं, क्लैमाइडिया के इलाज़ के लिए कोई भी एंटीबायोटिक दवा ले सकती हैं, बशर्ते उनका प्रतिक्रिया का कोई पूर्व इतिहास न हो।

अपने लिए सही एंटीबायोटिक के बारे में डॉक्टर से बात करें।

नोट : बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी दवा का सेवन न करें!

 

क्लैमाइडिया से जुड़ी जटिलताएं क्या हैं?

What are complications of chlamydia infection in hindi

Chlamydia ke complications kya hain in hindi

loading image

क्लैमाइडिया के सही उपचार नहीं होने पर यह कई संभावित जटिलताएं पैदा कर सकता हैं। अनुपचारित क्लैमाइडिया की जटिलताएं माँ और बच्चे, दोनों के लिए हो सकती हैं।

क्लैमाइडिया से जुड़ी जटिलताएं निम्न हैं : -

  • पीआईडी (PID)

महिलाओं में क्लैमाइडिया के कारण उत्पन्न होने वाली सबसे आम जटिलता है पीआईडी (PID)! एक ऐसी स्थिति जो 10 से 15 प्रतिशत अनुपचारित महिलाओं में होती है।

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) एक प्रकार का संक्रमण है जो महिला के प्रजनन अंगों को प्रभावित करता है।

असुविधा का कारण बनने के अलावा, यह पेल्विक दर्द (pelvic pain) और बांझपन भी पैदा कर सकता है।

  • एक्टोपिक गर्भावस्था (Ectopic pregnancy)

इसके अलावा यह एक्टोपिक गर्भावस्था का कारण भी बन सकता है।

  • एचआईवी संक्रमण (HIV infection)

क्लैमाइडिया संक्रमण पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए एचआईवी संक्रमण के जोखिम को भी बढ़ा सकता है।

  • समय से पहले बच्चे का जन्म (premature birth and stillbirth)

गर्भावस्था के दौरान अनुपचारित क्लैमाइडिया समय से पहले बच्चे का जन्म और प्रसव का कारण बन सकता है।

  • माँ से बच्चे में संक्रमण (Chlamydia affected mother)

जिन शिशुओं का जन्म क्लैमाइडिया से ग्रस्त माँ से होता है, उन्हें आंखों में संक्रमण या निमोनिया होने का खतरा रहता है।

गर्भवती महिलाओं में क्लैमाइडिया संक्रमण अतिरिक्त जोखिम भीक्लैमाइडिया पैदा करता है।

इन अतिरिक्त जोखिमों में शामिल हैं :

  • समय से पहले झिल्ली का टूटना (Premature rupture of membranes- PROM)
  • जन्म के वक़्त शिशु के वजन में कमी होना
  • अंतर्गर्भाशयी विकास रिटार्डडेशन (Intrauterine growth retardation)
  • एंडोमेट्रैटिस (Postpartum and postabortal endometritis)

संक्रमित बर्थ केनाल (infected birth canal) के माध्यम से गुजरने के बाद, शिशुओं में भी कुछ बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

loading image
 

भविष्य में क्लैमाइडिया संक्रमण से कैसे बच सकते हैं?

What to do for the prevention of future chlamydia infection in hindi

Chlamydia ki roktham kaise sambhav hai in hindi

loading image

क्लैमाइडिया के जोखिम को कम करने के लिए उपचार पूरा होने तक संभोग से बचना चाहिए।क्लैमाइडिया को रोकने का सबसे विश्वसनीय तरीका इलाज के दौरान सेक्स से बचना है।

यदि आप और आपके साथी दोनों में क्लैमाइडिया संक्रमण पाया गया है, तो आपको तब तक यौन संपर्क से बचना चाहिए जब तक कि आप दोनों ने उपचार पूरा नहीं किया हो।

यदि आपको क्लैमाइडिया से संक्रमित पाया गया है, तो आपके परीक्षण किए जाने से 60 दिनों पहले आपके सभी यौन साथियों का परीक्षण और उपचार किया जाना ज़रूरी है।

क्लैमाइडिया की रोकथाम के कुछ तरीकों में शामिल हैं :

  • कंडोम का उपयोग करना
  • सुरक्षित सेक्स करना
  • नियमित जांच

गर्भावस्था की पहली तिमाही में एसटीडी के लिए जांच अवश्य करवाएं और जो भी एंटीबायोटिक्स आप ले रही हैं उनके संभावित दुष्प्रभावों से अवगत रहें।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 10 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

प्रेगनेंसी के दौरान फ्लू

प्रेगनेंसी के दौरान फ्लू

गर्भावस्था में साइटोमेगालोवायरस: कारण, लक्षण और उपचार

गर्भावस्था में साइटोमेगालोवायरस: कारण, लक्षण और उपचार

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारण, लक्षण और उपचार

बैक्टीरियल वेजिनोसिस के कारण, लक्षण और उपचार

गर्भावस्था के दौरान यूरिन इन्फेक्शन (यूटीआई)

गर्भावस्था के दौरान यूरिन इन्फेक्शन (यूटीआई)
balance
article lazy ad