Stano mein dard in hindi

स्तनों में दर्द

Breast pain in hindi

stano me dard in hindi

स्तन में दर्द होना आजकल आम समस्या बनती जा रही है जिसके कारण हर आठवां व्यक्ति स्तन दर्द से पीड़ित होता है।

महिलाओं से जुड़ी कुछ बीमारियों में स्तन दर्द या ब्रेस्ट पैन एक आम समस्या हैं। 47 प्रतिशत महिलाओं में स्तन दर्द की समस्या होती हैं जिसमे से 55 प्रतिशत महिलाएं स्तन दर्द के प्रबंधन के लिए कोई उपाय नहीं कर पाती हैं।

प्रीमेनोपॉज़ल (Premenopausal) और पेरिमेनोपॉज़ल (Peri-Menopausal) महिलाओं में स्तन दर्द सबसे आम दर्द है।

कई कारणवश स्तन दर्द होना सामान्य माना जाता है लेकिन कई बार ये किसी गंभीर बीमारी की वजह भी हो सकता है।

स्तनों में दर्द क्या है? - परिभाषा और परिचय

What is breast pain? Definition and introduction in hindi

breast me dard hona kya hota hai, paribhasha aur parichay in hindi

loading image

स्तन दर्द को मास्टाल्जिआ (Mastalgia), मम्माल्जिआ (Mammalgia) और मास्टोडायनिआ (Mastodynia) के रूप में भी जाना जाता हैं।

ब्रेस्ट पैन एक ऐसी स्थिति है जिसमे स्तन टिश्यू (Breast tissue )या अंडरआर्म (Underarm) भाग में दर्द, भारीपन, जकड़न, जलन या ब्रेस्ट टेंडरनेस (Tenderness) होता हैं।

ज्यादातर मामलों में स्तनों में दर्द ब्रेस्ट कैंसर का संकेत नहीं होता है।

ब्रेस्ट में दर्द एक या दोनों स्तनों के ऊपरी, बाहरी क्षेत्र को प्रभावित करता है और कभी-कभी यह दर्द बाहों तक फैल जाता है।

स्तन में पैन को "चक्रीय स्तन दर्द" और "गैर चक्रीय स्तन दर्द" के रूप में बांटा गया हैं।

चक्रीय स्तन दर्द जो पीरियड्स में होने वाले ब्रेस्ट पैन से सम्बंधित होता है उसे साइक्लिकल मास्टाल्जिया (Cyclical Mastalgia) या साइक्लिकल ब्रेस्ट पैन (Cyclical breast pain) कहते हैं।

महिलाओं के स्तन में दर्द जो पीरियड्स से संबंधित नहीं होता है उसे गैर-चक्रीय स्तन दर्द (Non-cyclical Mastalgia) या नॉन साइक्लिकल ब्रेस्ट पैन (Non-cyclical breast pain) कहते हैं।

स्तन में दर्द के लक्षण क्या है?

What are symptoms of breast pain in hindi

breast mein dard ke lakshan aur Stano me dard ke lakshan in hindi

loading image

स्तन दर्द के लक्षणों में शामिल हैं - टेंडर ब्रेस्ट (Tender breasts), स्तन में सूजन आना , स्तन में सॉफ्ट गांठ का बन जाना, स्तन दर्द में असहजता महसूस होना, थकान और अनिंद्रा, स्तन का लाल होना, शरीर में भारीपन और जकड़न, स्तन ऊतक (breast tissue) में जलन आदि।

स्तन दर्द के कारणों के आधार पर इसके लक्षणों को मुख्य रूप से इस प्रकार बांटा जाता हैं -

  1. साइक्लिकल मास्टाल्जिया या साइक्लिकल ब्रेस्ट पैन (Cyclical mastalgia or cyclical breast pain)

    इसमें स्तनों के बाहरी और ऊपरी क्षेत्र में दर्द होता है। इसमें कभी-कभी दर्द बगल तक पहुंच जाता हैं।

  2. गैर-चक्रीय स्तन दर्द या नॉन साइक्लिकल ब्रेस्ट पैन (Non-cyclical mastalgia or non-cyclical Breast pain)

    इसमें स्तनों में दर्द, भारीपन, कोमलता, जकड़न और ब्रेस्ट के टिश्यू (Breast tissue) में जलन का अनुभव होता हैं।

  3. मैस्टाइटिस (Mastitis)

    इसमें बुखार, स्तन पर सूजन, जलन, ब्रेस्ट टेंडरनेस और दर्द वाले भाग में गर्मी महसूस होती है।

    इसमें ब्रेस्ट और निप्पल लाल हो सकते है। ये स्तन दर्द स्तनपान कराने वाली महिलाओ में अधिक तीव्र होता हैं।

  4. कॉस्टोकॉन्ड्राइटिस (Costochondritis)

    इस स्तन दर्द को चरम दर्द भी कहा जाता हैं। इसमें स्तनों में बहुत तीव्र दर्द होता है।

  5. फाइब्रोसिस्टिक स्तन दर्द (Fibrocystic breast pain)

    फाइब्रोसिस्टिक स्तन में स्तन में गांठ बन जाती है जो स्तन दर्द का कारण बनती हैं। इसके लक्षणों में ब्रेस्ट में स्वेलिंग होना या उनका मोटा होना, ब्रेस्ट का कठोर व आकार में बड़ा होना शामिल हैं।

  6. मायोकार्डिटिस (Myocarditis) स्तन दर्द

    इसके लक्षण दिल का दौरा पड़ने के समान होते हैं। इसमें थकान (Fatigue), साँस की तकलीफ, दिल में दर्द, पैर में सूजन, बुखार (Fever) और सिरदर्द होता हैं।

ब्रेस्ट में दर्द होने का क्या कारण है?

What are causes of breast pain ? in hindi

breast mein dard ke karan ya stano me dard ka karan in hindi

loading image

कई कारणवश स्तन में दर्द होना सामान्य माना जाता है लेकिन कई बार ये किसी गंभीर बीमारी की वजह भी हो सकता है।

महिलाओं के स्तन में दर्द होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे:

  1. हार्मोन में बदलाव (Hormone imbalance)

    हार्मोन्स शरीर की सभी गतिविधियों को नियंत्रित करके शरीर का विकास करते हैं। जब हमारे शरीर में हार्मोन के स्राव में असंतुलन होता है तो शरीर अस्वस्थ हो जाता हैं। एस्ट्रोजेन (Estrogen) और प्रोजेस्टेरॉन (Progesterone) हार्मोन्स की अधि‍कता या कमी के कारण चक्रीय स्तन दर्द होता हैं। पीरियड्स के दौरान हार्मोनल असंतुलन से तनाव होता है जो चक्रीय ब्रेस्ट पैन को बढाता हैं।

  2. स्तनों में चोट लगना (Breast injury)

    कभी -कभी हमें स्तन में कोई चोट लगने से भी ब्रेस्ट मे दर्द हो जाता हैं।

  3. स्तनों का आकार बड़ा होना (Breast size)

    जिन महिलाओं के स्तनों का आकार का अधिक बड़ा होता है उन्हें ब्रेस्ट में दर्द की समस्या रहती हैं। इसका मुख्य कारण बड़े स्तन होने से ब्रेस्ट मसल्स (Breast muscles) में खिचाव होता हैं।

  4. स्तनों की सर्जरी (Breast surgery)

    ब्रेस्ट सर्जरी से स्तनों में गांठ होने की संभावना बढ़ जाती हैं जिसके कारण स्तनों में दर्द होना आम बात हैं।

  5. फैटी एसिड के असंतुलन (Fatty acid imbalance)

    जब हमारे शरीर की कोशिकाओं (cells) के अंदर फैटी एसिड असंतुलन होता है तो स्तन दर्द होता हैं।

    फैटी एसिड के संतुलन(fatty acid balance) से हमारे शरीर में स्वस्थ कोशिका झिल्ली (healthy cell membranes) का निर्माण होता है।

    स्वस्थ कोशिका झिल्ली (healthy cell membranes) होने से ये हार्मोन उन सेल्स (cells) तक पहुंचता हैं जिन्हे इसकी जरुरत होती हैं।

    फैटी एसिड असंतुलन(fatty acid imbalance) से शरीर के टिश्यू (tissue)की सेंसिटिविटी (sensitivity) पर भी असर पड़ता हैं।

  6. दवाओं के कारण (Medications)

    बर्थ कण्ट्रोल पिल (Birth control pill) और हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (HRT - Hormone replacement therapy) में जिन दवाइयों का सेवन किया जाता हैं उनके कारण स्तनों में दर्द होता है।

  7. खान पान (Food habits)

    चाय, कॉफी, सोडा और चॉकलेट जैसे खाद्य पदार्थ और पेय, ब्रेस्ट दर्द के संभावित कारणों में जाने जाते हैं।

    इनमे मौजूद कैफीन ब्लड वेसल्स (blood vessels) में खिचाव लाता हैं जो स्तनों मे पैन का कारण बनता हैं।

  8. स्तन में दर्द के अन्य कारण (Other reasons for breast pain)

    तनाव और डिप्रेशन, पसली में फ्रैक्चर, स्तन अल्सर (Breast ulcer), खराब फिटिंग वाली ब्रा पहनना, जरुरत से ज्यादा एक्‍सरसाइज करना आदि।

स्तनों में दर्द से राहत पाने के लिए घरेलू उपाय करने के साथ -साथ कुछ बातों का ध्यान रखें जैसे सूती और आरामदायक ब्रा पहने, चाय -कैफीन का कम सेवन करे, संतुलित और पौष्टिक भोजन खाएं, कम से कम 8 -10 गिलास पानी पिएं और हर माह ब्रेस्ट सेल्फ एग्जामिनेशन (Breast self examination) अवश्य करें।

इससे आपको राहत मिलेगी और साथ ही कोई साइड इफ़ेक्ट (side effect) भी नहीं होगा।

सारांश

महिलाओं से जुड़ी कुछ बीमारियों में ब्रेस्ट पैन कई कारणवश सामान्य माना जाता है लेकिन स्तनों मे दर्द ब्रेस्ट कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की वजह भी हो सकता है।

स्तन दर्द कई अलग-अलग कारणों से हो सकता है।

यदि आप नियमित रूप से अपने स्तनों में दर्द का अनुभव कर रहे हैं और यह दर्द आपके पीरियड्स (Periods) या प्रेगनेंसी (Pregnancy) से संबंधित नहीं है, तो आप डॉक्टर से अवश्य संपर्क करें।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें