छोटी-छोटी बात पर गुस्सा आना कैसे करें कंट्रोल

How to control anger in hindi

jyada gussa aane ki bimari kya hai


एक नज़र

  • छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा आना सेहत के लिए अच्छा नहीं होता।
  • गुस्सा कंट्रोल करने के लिए संगीत की मदद लें।
  • गुस्सा काबू करने का उपाय है योग और ध्यान।
triangle

Introduction

क्रोध_प्रबंधन

क्रोध आना या गुस्सा आना एक तरह की आम प्रवृति है। गुस्सा हर किसी को आता है, किसी को अधिक तो किसी को कम। हालांकि, अगर गुस्सा अधिक आए या छोटी-छोटी बात पर गुस्सा आना अच्छा संकेत नहीं होता है। इस तरह की स्थिति शारीरिक और मानसिक रूप से आपको प्रभावित कर सकती है।[1] ऐसे में गुस्से को कंट्रोल करना आवश्यक हो जाता है। हालांकि, ऐसा करना बहुत आसान नहीं होता है क्योंकि जब किसी को गुस्सा आता है तो उसे समझ में भी नहीं आता कि क्या सही है या क्या गलत है।

इस स्थिति में गुस्से पर काबू करना एक कठिन कार्य होता है। जब गुस्सा आता है तो इंसान के सोचने और समझने की क्षमता तक प्रभावित हो जाती है। यही कारण है कि आज हम अपने इस लेख के माध्यम से विस्तार से आपको बताएंगे कि आखिर छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा क्यों आता है, बार-बार गुस्सा आने के कारण (baar baar gussa aane ka karan) क्या हैं और क्रोध से होने वाले रोग से बचने के क्या उपाय हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

गुस्सा क्या है

What is anger in hindi

क्रोध आना क्या है

क्रोध यानी गुस्सा एक बहुत ही आम भाव है, जो हम सभी में होता है। चाहे बड़ा हो या बच्चा, क्रोध सभी को आता है। गुस्सा एक मन से जुड़ी स्थिति या भावनात्मक स्थिति होती है। इस स्थिति में भावनाओं को ठेस पहुंचने पर या जलन होने पर नकारात्मक बहु उत्पन्न हो जाते हैं। जब भी किसी व्यक्ति पर गुस्सा हावी हो जाता है तो उसे छीलकर, बोलकर या फिर शारीरिक हाव-भाव उसे प्रकट करने की कोशिश करता है।

हमें बचपन से क्रोध नहीं करने के लिए कहा जाता है, लेकिन क्रोध पर नियंत्रण के बारे में नहीं बताया जाता है। कई हालिया समीक्षाओं से ये बात सामने आयी है कि अवसाद, बेचैनी और गुस्सा के कारण कोरोनरी हार्ट डिसीज़ का जोखिम बढ़ जाता है।[2] ऐसे में क्रोध प्रबंधन यानी एंगर मैनेजमेंट (anger management) में हम अपने क्रोध को कैसे नियंत्रण में रखें या उसे कैसे कम किया जाए, सीखते हैं।

एंगर मैनेजमेंट में रोगी को अपनी भावनाओं पर काबू करना सिखाया जाता है, जिससे क्रोध के कारण होने वाली शारीरिक और मानसिक समस्याओं को कम करने में मदद मिलती है। एंगर मैनेजमेंट में रोगी को अपनी भावनाओं पर काबू करना सिखाया जाता है, जिससे क्रोध के कारण होने वाली शारीरिक और मानसिक समस्याओं को कम करने में मदद मिलती है। क्रोध प्रबंधन आमतौर पर किसी मनोवैज्ञानिक की मदद से, योगासन द्वारा मन को शांत करके और खान-पान पर विशेष ध्यान रखकर किया जा सकता है।

loading image
 

गुस्से से जुड़ी समस्याओं से पीड़ित होने के लक्षण

Sign and symptoms for anger related problems in hindi

gussa aane ke karan kya hain

loading image

गुस्सा के कारण व्यक्ति पूरी तरह से अशांत हो जाता है और उसके व्यवहार परिवर्तन आ जाता है। ऐसे में ये जानना बहुत जरूरी है कि हम गुस्से या उससे होने वाली किसी समस्या से पीड़ित हैं या नहीं, इसे कैसे समझे।

अगर आप में भी नीचे दिए गए लक्षण दिखाई देते हैं तो आप भी गुस्से से होने वाली समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं :-

  1. छोटी छोटी बातों पर गुस्सा आना और क्रोधित हो जाना (Getting angry on small issues)
    कई बार अत्यधिक गुस्से के कारण, हम शार्ट टेम्पर्ड (short tempered) हो जाते हैं और छोटी सी बात पर भी जरूरत से ज्यादा क्रोधित हो जाते हैं।
  2. काम में ध्यान ना लगना (Unable to concentrate)
    कई बार क्रोध शांत हो जाने के बाद भी अगर आप काम पर ध्यान नहीं लगा पा रहें हैं और आपके दिमाग में बस क्रोध से जुड़ी बातें हीं घूम रहीं है।
  3. चिड़चिड़ापन (Getting easily irritated)
    कई बार क्रोध के कारण स्वभाव में चिड़चिड़ापन आ आता है। जिस कारण से हम सामान्य सी बातचीत में ही चिढ़ने लगते हैं।
  4. नकारात्मक और हिंसक सोच (Negative and violent thinking)
    अत्यधिक क्रोध से पीड़ित व्यक्ति की सोच नकारात्मक हो जाती है और उसके स्वभाव में भी हिंसकता झलकने लगती है।
  5. अशांत व्यवहार (Disturbed behavior)
    अगर किसी व्यक्ति का व्यवहार काफी अशांत है, वो ज़रा सी बात पर भी धैर्य (patience) खोने लगता है तो ये गुस्से के नियंत्रण से बहार होने का लक्षण है।
और पढ़ें:अकेलापन कैसे दूर करें
 

छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा क्यों आता है

Common causes of anger in hindi

baar baar gussa aane ka karan jane

loading image

गुस्सा यानी क्रोध एक मन का भाव है, जो हम सभी में होता है। किसी व्यक्ति को ज्यादा गुस्सा आता है तो किसी को कम, इसके कई कारण हो सकते हैं। आइए, अब जानते हैं कि गुस्सा आने के कारण क्या होते हैं।

गुस्सा आने के कुछ मुख्य कारण नीचे बताएं गये हैं :-

  1. नींद का पूरा न होना (Disturbed sleep)
    हमारे दिमाग को शांत और स्वस्थ रहने के लिए पर्याप्त नींद की बहुत जरुरत होती है।
    जब भी हमें पर्याप्त नींद नहीं मिलती है तो हमारे दिमाग को सही रूप से आराम नहीं मिल पाता है। आराम ना मिल पाने के कारण मानसिक तनाव (mental stress) बढ़ता जाता है और क्रोध आने की सम्भावना बढ़ जाती है।
  2. मानसिक बीमारी (Mental disorders)
    कई बार व्यक्ति पहले से ही किसी दूसरी मानसिक बीमारी से जूझ रहा होता है, जिसकी वजह से उसकी मनोस्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ रहा होता है और उसे अत्यधिक क्रोध आता है।
  3. पूर्व का कोई सदमा (Past shocking experiences)
    कई बार पूर्व (past) में किसी बड़े सदमे या हादसे से अगर कोई इंसान गुजरा है तो उस कारण भी उसकी मनोदशा कई बार ठीक नही रह पाती है और वह अपने गुस्से पर काबू नहीं कर पाता।
  4. मनोवैज्ञानिक परिस्थितियां (Psychological conditions)
    इंसान की पारिवारिक समस्याएं, नौकरी, तनाव आदि मनोवैज्ञानिक पस्थितियां भी उसके गुस्से पर प्रभाव डालती हैं। अगर इंसान की मनोवैज्ञानिक स्थिति किसी भी कारण ठीक नही है तो वह अपने क्रोध पर काबू नहीं कर पाता है।
  5. माइग्रेन (Migraine)
    अधिक क्रोध आने का एक कारण माइग्रेन भी हो सकता है। बार-बार माइग्रेन के दौरे की वजह से हमारे दिमाग पर अधिक ज़ोर पड़ता है और गुस्से का कारण बनता है।
  6. सही खान-पान न होना (Improper eating habits)
    आमतौर पर हम जो खाते हैं, उसका हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है। देखा गया है कि जो लोग शराब, ड्रग्स, स्मोकिंग आदि करते हैं और पौष्टिक आहार नहीं लेते उन्हें अधिक गुस्सा आता है।
  7. अन्य बीमारीयां (Other diseases)
    कई बीमारीयां जैसे कि उच्च रक्तचाप (high blood pressure), सिर दर्द (headache), दिल संबंधित बीमारी (heart deseases) आदि भी क्रोध को बढ़ाने का कारण होती है।
loading image
 

क्रोध प्रबंधन के तरीके

Ways of anger management in hindi

क्रोध से होने वाले रोग क्या हैं

loading image

एंगर मैनेजमेंट में गुस्से को नियंत्रण करने के तरीके सिखाये जाते है। ये करना आवश्यक होता ताकि गुस्से से आपको निजात मिल सके और आपकी जीवन की परेशानियां दूर हो सके।

गुस्सा कंट्रोल करने के तरीके :-

  1. गुस्सा कंट्रोल करने का तरीका है - उलटी गिनती करें (Counting)
    अगर बहुत तेज गुस्सा आ रहा हो और नियंत्रण से बाहर हो रहा हो तो, तुरंत 10 से 1 तक से उल्टी गिनती शुरू कर दें। इस तरह से उलटी गिनती तब तक करते रहें, जब तक कि आपका गुस्सा शांत ना हो जाए। जब भी आपको बहुत तेज़ गुस्सा आए तो उलटी गिनती करना एक अच्छा विकल्प है। गिनती की जगह पहाड़ा भी पढ़ सकते है। बस वो काम करें जिसको करने से आपका ध्यान गुस्से से हटकर उस काम मे लग जाएं।
  2. गुस्सा कंट्रोल करने का तरीका है - लाफ्टर थेरेपी (Laughter therapy)
    अक्सर आपने सुबह-सुबह पार्क में बुजुर्गों को ज़ोर-ज़ोर से हंसते हुए देखा होगा। यही लाफ्टर थेरेपी है। सुबह उठकर पार्क में जाएं और ऐसे ही किसी लाफ्टर क्लब का हिस्सा बनकर ज़ोर-ज़ोर से हंसे। आपका गुस्सा नियंत्रण में रहेगा।
  3. गुस्सा कंट्रोल करने का तरीका है- गहरी सांस लें (Deep long Breathing)
    गुस्सा कम करने का उपाय आपकी सांस लेने की क्रिया में ही छिपा होता है। जी हां, आपको जब भी तेज़ गुस्सा आने लगे तो आपको गहरी सांस लेनी चाहिए। दरअसल, जब गुस्सा आने पर व्यक्ति सांस की ओर ध्यान केंद्रित करता है तो इससे गुस्सा नियंत्रित होने लगता है।
  4. गुस्सा कंट्रोल करने का तरीका है - मनपसंद संगीत सुनना (Music therapy)
    गुस्सा शांत करने का मधुर उपाय है संगीत। संगीत सुनने से जैसे आपका मन ताज़ा हो जाता है, ठीक उसी प्रकार से संगीत की मदद से क्रोध पर भी काबू पाया जा सकता है। कभी आपको किसी बात पर गुस्सा आ रहा हो तो, आप अपनी पसंद का कोई भी मधुर संगीत सुन सकते हैं।
    संगीत सुनने से क्रोध पर नियंत्रण करने में सहायता मिलती है। एक शोध के मुताबिक, म्यूज़िक थेरेपी से मन में आने वाले नकारात्मक विचारों को दूर करने में सहायता मिलती है, जिससे गुस्सा कंट्रोल किया जा सकता है।[3]
  5. गुस्सा कंट्रोल करने का तरीका है - पौष्टिक और कम तेल मसाले का भोजन करना (Eat less oily or spicy food)
    तेज तेल मसाले का भोजन करने से शरीर का ब्लड प्रेशर बढ़ता है और गुस्सा भी अधिक आता है। कम मसाले का भोजन करने से गुस्सा आना कम हो जाता है।
  6. गुस्सा कंट्रोल करने का तरीका है - लिखने की आदत बनाना (Develop diary writing habit)
    अगर आप किसी बात से गुस्सा है, तो वो बात कागज पर पूरे विस्तार से लिखें। सभी पहलुओं को उसमें लिखें। जब हम वो ही बात लिखते हैं, तो हमारा गुस्सा शांत हो जाता है। लिखने के बाद चाहें तो कागज को फाड़कर फेंक दें या जला दें।
  7. गुस्सा कंट्रोल करने का तरीका है - अच्छी नींद (Proper sleep for anger) - अगर आप चाहते हैं कि आपका गुस्सा कंट्रोल हो जाए तो इसके लिए अच्छी और पर्याप्त नींद लेना आवश्यक है। कोरोनरी हार्ट डिसीज़ से ग्रसित रोगियों पर किए गए एक शोध की मदद से पता चला है कि नींद की कमी के कारण रोगियों में तेज़ गुस्सा देखा गया।[4] ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि नींद की कमी के कारण गुस्से को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में गुस्सा कम करने का अच्छा और अचूक उपाय है अच्छी और पर्याप्त नींद लें।

गुस्सा सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है इसलिए आपको समय रहते इन उपायों को करना चाहिए। इसके अलावा आप योग की मदद से भी क्रोध पर काबू पा सकते हैं या फिर गुस्सा आने पर मेडिटेशन भी कर सकते हैं।

और पढ़ें:अच्छी नींद और मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए आहार
 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

gussa aane ke karan janein

क्रोध यानी गुस्सा आना बहुत ही आम है। आमतौर पर हम गुस्से को या तो नज़रअंदाज़ कर देते हैं या फिर उसे अपनी शक्ति का प्रतीक समझ बैठते हैं। गुस्से में अक्सर हम अनजाने में ही अपने कई दुश्मन भी बना बैठते हैं। ऐसे में ये बेहद जरूरी है कि हम क्रोध प्रबंधन के तरीकों का इस्तेमाल करके अपने गुस्से को काबू में रखें।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

Staicu ML, Cuţov M.”Anger and health risk behaviors”. J Med Life. PMID: 21254733

3 .

Hakvoort L, Bogaerts S, et al.“Influence of Music Therapy on Coping Skills and Anger Management in Forensic Psychiatric Patients: An Exploratory Study”. Int J Offender Ther Comp Criminol. PMID: 24379454

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 18 Sep 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

तनाव के कारण, लक्षण, प्रकार, बचाव और उपचार

तनाव के कारण, लक्षण, प्रकार, बचाव और उपचार

10 भारतीय मशहूर हस्तियां जो हुए थे एंग्जायटी या अवसाद के शिकार

10 भारतीय मशहूर हस्तियां जो हुए थे एंग्जायटी या अवसाद के शिकार

बेचैनी के कारण रात को नींद ना आए तो क्या करें

बेचैनी के कारण रात को नींद ना आए तो क्या करें

जानें पैरों की थकान दूर करने के उपाय

जानें पैरों की थकान दूर करने के उपाय

अचानक घबराहट होना - कारण, लक्षण और उपचार

अचानक घबराहट होना  -  कारण, लक्षण और उपचार
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad