क्रोध प्रबंधन

क्रोध प्रबंधन

Anger management in hindi

gusse ko kaise karein control in hindi

क्रोध यानी गुस्सा एक बहुत ही आम भाव है जो हम सभी में होता है। चाहे बड़ा हो या बच्चा, क्रोध सभी को आता है। हमें बचपन से क्रोध नहीं करने के लिए कहा जाता है, लेकिन क्रोध पर नियंत्रण के बारे में नहीं बताया जाता है।

क्रोध प्रबंधन यानी एंगर मैनेजमेंट (anger management) में हम अपने क्रोध को कैसे नियंत्रण में रखें या उसे कैसे कम किया जाए, सीखते हैं।

एंगर मैनेजमेंट में रोगी को अपनी भावनाओं पर काबू करना सिखाया जाता है, जिससे क्रोध के कारण होने वाली शारीरिक और मानसिक समस्याओं को कम करने में मदद मिलती है।

क्रोध प्रबंधन आमतौर पर किसी मनोवैज्ञानिक की मदद से, योगासन द्वारा मन को शांत करके और खान-पान पर विशेष ध्यान रखकर किया जा सकता है।

गुस्से से जुडी समस्याओं से पीड़ित होने के लक्षण

Sign and symptoms for anger related problems in hindi

gusse se jude problems hone par kis tarah se lakshan aate hai in hindi

ये जानना बहुत जरूरी है कि हम गुस्से या उससे होने वाली किसी समस्या से पीड़ित हैं या नहीं।

अगर आप में भी नीचे दिए गए लक्षण दिखाई देते हैं तो आप भी गुस्से से होने वाली समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं :

  1. छोटी छोटी बातों पर क्रोधित हो जाना (Getting angry on small issues)

    कई बार अत्यधिक गुस्से के कारण हम शार्ट टेम्पर्ड (short tempered) हो जाते हैं और छोटी सी बात पर भी जरूरत से ज्यादा क्रोधित हो जाते हैं।

  2. काम में ध्यान ना लगना (Unable to concentrate)

    कई बार क्रोध शांत हो जाने के बाद भी अगर आप काम पर ध्यान नहीं लगा पा रहें हैं और आपके दिमाग में बस क्रोध से जुडी बाते हीं घूम रहीं है।

  3. चिड़चिड़ापन (Getting easily irritated)

    कई बार क्रोध के कारण स्वभाव में चिडचिडापन आ आता है जिस कारण से हम सामान्य सी बातचीत में ही चिढ़ने लगते हैं।

  4. नकारात्मक और हिंसक सोच (Negative and violent thinking)

    अत्यधिक क्रोध से पीड़ित व्यक्ति की सोच नकारात्मक हो जाती है और उसके स्वभाव में भी हिंसकता झलकने लगती है।

  5. अशांत व्यवहार (Disturbed behavior)

    अगर किसी व्यक्ति का व्यवहार काफी अशांत है, वो जरा सी बात पर भी धैर्य (patience) खोने लगता है तो ये गुस्से के नियंत्रण से बहार होने का लक्षण है।

क्या हैं गुस्सा आने के आम कारण

Common causes of anger in hindi

gussa kyun aata hai ya kya hai gusse ke karan in hindi

गुस्सा यानी क्रोध एक मन का भाव है जो हम सभी में होता है। किसी व्यक्ति को ज्यादा गुस्सा आता है तो किसी को कम, इसके कई कारण हो सकते हैं।

गुस्सा आने के कुछ मुख्य कारण नीचे बताएं गये हैं:

  1. नींद का पूरा न होना (Disturbed sleep)

    हमारे दिमाग को शांत और स्वस्थ रहने के लिए पर्याप्त नींद की बहुत जरुरत होती है।

    जब भी हमें पर्याप्त नींद नहीं मिलती है तो हमारे दिमाग को सही रूप से आराम नहीं मिल पाता है।

    आराम ना मिल पाने के कारण मानसिक तनाव (mental stress) बढ़ता जाता है और क्रोध आने की सम्भावना बढ़ जाती है।

  2. मानसिक बीमारी (Mental disorders)

    कई बार व्यक्ति पहले से ही किसी दूसरी मानसिक बीमारी से जूझ रहा होता है, जिसकी वजह से उसकी मनोस्थिति पर बुरा प्रभाव पड़ रहा होता है और उसे अत्यधिक क्रोध आता है।

  3. पूर्व का कोई सदमा (Past shocking experiences)

    कई बार पूर्व (past) में किसी बड़े सदमे या हादसे से अगर कोई इंसान गुजरा है तो उस कारण भी उसकी मनोदशा कई बार ठीक नही रह पाती है और वह अपने गुस्से पर काबू नहीं कर पाता।

  4. मनोवैज्ञानिक परिस्थितियां (Psychological conditions)

    इंसान की पारिवारिक समस्याएं, नौकरी, तनाव आदि मनोवैज्ञानिक पस्थितियां भी उसके गुस्से पर प्रभाव डालती हैं।

    अगर इंसान की मनोवैज्ञानिक स्थिति किसी भी कारण ठीक नही है तो वह अपने क्रोध पर काबू नहीं कर पाता है।

  5. माइग्रेन (Migraine)

    अधिक क्रोध आने का एक कारण माइग्रेन भी हो सकता है। बार-बार माइग्रेन के दौरों की वजह से हमारे दिमाग पर अधिक जोर पड़ता है और गुस्से का कारण बनता है।

  6. सही खान-पान न होना (Improper eating habits)

    आमतौर पर हम जो खाते हैं उसका हमारे शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही मानसिक स्वास्थ्य पर भी असर पड़ता है। देखा गया है कि जो लोग शराब, ड्रग्स, स्मोकिंग आदि करते हैं और पौष्टिक आहार नहीं लेते उन्हें अधिक गुस्सा आता है।

  7. अन्य बीमारीयां (Other diseases)

    कई बीमारीयां जैसे कि उच्च रक्तचाप (high blood pressure), सिर दर्द (headache), दिल संबंधित बीमारी (heart deseases) आदि भी क्रोध को बढ़ाने का कारण होती हैं।

क्रोध प्रबंधन के तरीके

Ways of Anger management in hindi

gusse ko kaise kabu mein rakhe in hindi

एंगर मैनेजमेंट में गुस्से को नियंत्रण करने के तरीके सिखाये जाते है।

ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण तरीके यहां बताए गए हैं:

  1. गिनती गिने (Counting)

    अगर बहुत तेज गुस्सा आ रहा हो और नियंत्रण से बाहर हो रहा हो तो, तुरंत 100 से उल्टी गिनना शुरू कर दें। तब तक गिनते रहें जब तक कि आपका गुस्सा शांत ना हो जाये।

    गिनती की जगह पहाड़ा भी पढ़ सकते है। बस वो काम करें जिसको करने से आपका ध्यान गुस्से से हटकर उस काम मे लग जाएं।

  2. लाफ्टर थैरेपी से गुस्सा होगा नियंत्रण (Laughter therapy)

    अक्सर आपने सुबह-सुबह पार्क में बुजुर्गों को जोर जोर से हंसते हुए देखा होगा। ये ही लाफ्टर थैरेपी है।

    सुबह उठकर पार्क में जाएं और ऐसे ही किसी लाफ्टर क्लब का हिस्सा बनकर जोर-जोर से हंसे। आपका गुस्सा नियंत्रण में रहेगा।

  3. पेट से लंबी सांस ले (Deep long Breathing)

    जब भी गुस्सा आये पेट से लंबी सांस ले और धीरे धीरे बाहर छोड़े। सांस को बाहर छोड़ते समय शरीर को बिल्कुल ढीला छोड़ दे।

    सांस छोड़ते समय चाहें तो किसी भी मंत्र या ॐ का जाप भी कर सकते हैं।

  4. मनपसंद संगीत सुने (Music therapy)

    कभी आपको किसी बात पर गुस्सा आ रहा हो तो आप अपनी पसंद का कोई भी मधुर संगीत सुन सकते है।

    संगीत सुनने से क्रोध पर नियंत्रण करने में सहायता मिलती है।

  5. पौष्टिक और कम तेल मसाले का भोजन करें (Eat less oily or spicy food)

    तेज तेल मसाले का भोजन करने से शरीर का ब्लड प्रेशर बढ़ता है और गुस्सा भी अधिक आता है।

    कम मसाले का भोजन करने से गुस्सा आना कम हो जाता है।

  6. जिस बात पर गुस्सा आ रहा है वो कागज में लिखे (Develop diary writing habit)

    अगर आप किसी बात से गुस्सा है तो वो बात कागज पर पूरे विस्तार से लिखें। सभी पहलुओं को उसमें लिखें।

    जब हम वो ही बात लिखते है तो हमारा गुस्सा शांत हो जाता है। लिखने के बाद चाहें तो कागज को फाड़कर फेंक दें या जला दे।

सारांश

Summary in hindi

saransh in hindi

क्रोध यानी गुस्सा आना बहुत ही आम है। आमतौर पर हम गुस्से को या तो नज़रअंदाज़ कर देते हैं या फिर उसे अपनी शक्ति का प्रतीक समझ बैठते हैं।

गुस्से में अक्सर हम अनजाने में ही अपने कई दुश्मन भी बना बैठते हैं।

ऐसे में ये बेहद जरूरी है कि हम क्रोध प्रबंधन के तरीकों का इस्तेमाल करके अपने गुस्से को काबू में रखें।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें