Anaj aur uske prakar kya hai or kya hote hai iske fayde in hindi

अनाज क्या हैं, अनाज के प्रकार और फ़ायदे क्या हैं

What are grains, its types and benefits in hindi

Anaj aur uske prakar kya hai or kya hote hai iske fayde in hindi

 

अनाज, जिसे आमतौर पर 'सिरियल्स' (cereals) या 'सिरल ग्रेन्स’ (cereal grains) के रूप में जाना जाता है, विभिन्न पौधों के बीज होते हैं।

अनाज के तीन भाग होते हैं, चोकर (bran), रोगाणु (germ) और एंडोस्पर्म (endosperm)। चोकर अनाज का वह हिस्सा है जो बाहर की तरफ देखा जा सकता है।

यह आयरन (iron), मैग्नीशियम (magnesium), फास्फोरस (phosphorus), ज़िंक (zinc), राइबोफ्लेविन (riboflavin), नियासिन (niacin)और थायमिन (thiamine) का समृद्ध स्रोत है।

अनाज हमारे आहार का महत्वपूर्ण घटक (component) है।

इतना ही नहीं अनाज में मौजूद चोकर (bran) कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कंट्रोल या कम करने में मदद करते हैं और दिल की बिमारियों से भी आपका बचाव करते हैं।

एक स्वस्थ व्यक्ति को एक दिन में लगभग 2000 कैलोरी (calorie) की आवश्यकता होती है, उसके लिए कम से कम 200 ग्राम अनाज लेना अच्छा माना जाता है।

 

अनाज के प्रकार

Types of grains in hindi

Anaj ke prakar in hindi

Anaj ke prakar

अनाज हमारे स्वास्थ्य के लिए ऊर्जा का सबसे अहम स्रोत हैं।

हमारे प्रतिदिन के भोजन में हमें लगभग 30-35 प्रतिशत कैलोरी अनाज से मिलती है।

अनाज समूह के अंदर दो उप-श्रेणियां (sub-categories) होती हैं : 

  • साबुत अनाज (whole grains) और 
  • परिष्कृत अनाज (refined grains) 

आइए जानते हैं अनाज के प्रकार के बारे में :

1. साबुत अनाज (Whole grains)

साबुत अनाज, अनाज के उस प्रकार को कहते हैं जिसे रोगाणु (germ), चोकर (bran) और एंडोस्पर्म (endosperm) सहित कटाई के समय काटा जाता है।

दरअसल कटाई के दौरान अनाज के गिरी को हटाया नहीं जाता है। इसलिए अनाज में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन और फाइबर होता है।

लेकिन इसमें फैट (fat) की मात्रा अधिक हो सकती है। फिर भी, वे आमतौर पर अपने परिष्कृत अनाज की तुलना में अधिक स्वस्थ माने जाते हैं।

साबुत अनाज में शामिल हैं :
  • जौ (Barley)

  • भूरा चावल (brown rice)

  • एक प्रकार का अनाज 

  • बुलगुर (bulgur (cracked wheat)

  • सन का बीज (flaxseed)

  • बाजरा (millet)

  • मुसली (muesli)

  • दलिया (oats)

  • साबुत अनाज जौ (whole grain barley)

2. परिष्कृत अनाज (Refined Grains)

परिष्कृत अनाज में कीटाणु और चोकर को हटा दिया जाता है, जो उन्हें एक महीन बनावट (fine texture) देता है और उनके शेल्फ जीवन (shelf life) का विस्तार करता है।

रिफाइनिंग प्रक्रिया फाइबर (fiber) सहित कई पोषक तत्वों को भी हटा देती है।

परिष्कृत अनाज में शामिल हैं :
  • मकई की रोटी (Corn bread)

  • मक्कई के फ्लेक्स (Corn flakes)

  • ब्रेडक्रम्ब्स  (breadcrumbs)

  • बिस्कुट (biscuit)

  • केक (cake)

  • सफ़ेद ब्रेड (White bread)

  • सफ़ेद चावल (White rice)

  • नूडल्स (noodles) आदि।

 

अनाज के फ़ायदे

Benefits of grains in hindi

Anaj ke fayde in hindi

Anaj ke fayde

अनाज पोटैशियम (potassium), मैग्नीशियम (magnesium) और कैल्शियम (calcium) से भरपूर होता है।

इसके सेवन से कई तरह की स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं से निजात मिलती है और साथ ही यह आपको ऊर्जावान बनाये रखने में भी मदद करते हैं।

आइए जानते हैं अनाज के फायदे क्या-क्या हैं:

  • शारीरिक ऊर्जा प्रदान करता है।

  • कब्ज़ (constipation) और कोलोन डिसऑर्डर (colon disorder) जैसे विकारों को कम करने में सहायक साबित होता है।

  • फाइबर से समृद्ध अनाज मधुमेह के लिए फ़ायदेमंद होता है।

  • अनाज के सेवन से शरीर में प्रोटीन की गुणवत्ता बढ़ जाती है।

  • कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) को भी कम करने में मदद करता है अनाज।

 

अनाज से जुड़े तथ्य

Facts related to grains in hindi

Anaj se jude tathya in hindi

Anaj se jude tathya

अनाज  फाइबर, प्रोटीन, कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर होते हैं और ये ऊर्जा के अच्छे स्रोत भी होते हैं।

बावजूद इसके अनाज से जुड़े कुछ तथ्य हैं जिन्हें जानना आवश्यक है : - 

  • हमें अधिक मात्रा में रिफाइंड ग्रेन्स के सेवन से भी बचना चाहिए क्योंकि इसमें चीनी, नमक और फैट की मात्रा बहुत होती है। 

  • अधिक अनाज को अपने आहार का हिस्सा बनाने से गठिया जैसे बीमारी भी हो सकती है।

  • अनाज के दाने को बहुत ज़्यादा पकाने से बचना चाहिए क्योंकि इससे इसमें मौजूद मिनरल्स (minerals) और एंजाइम (enzymes) नष्ट हो जाते हैं।

 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

Nishkarsh in hindi

विभिन्न प्रकार के साबुत अनाज खाने से न केवल यह सुनिश्चित होता है कि आपको अधिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले पोषक तत्व मिलते हैं बल्कि यह आपके भोजन और नाश्ते को और अधिक रोचक बनाने में मदद करता है।

हालांकि किसी भी चीज़ का सेवन बहुत अधिक मात्रा में करने से बचना चाहिए और थोड़ा और संतुलित लेना चाहिए।