उम्र आपकी प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?

How age affects your fertility in hindi

Umr aap ki prajnan kshamta ko kaise prabhavit karti hain


एक नज़र

  • बढती उम्र के साथ गर्भधारण और एक स्वस्थ बच्चे के जन्म की संभावना को कम होती जाती है।
  • 40 वर्ष की उम्र तक एक मासिक चक्र में गर्भधारण के संभावना मात्र 5% रह जाती है।
  • अगर आप देर से गर्भधारण करना चाहती हैं तो एग फ्रीजिंग आपके लिए एक बेहतर विकल्प है।
triangle

Introduction

Umr ke saath prajnan kshamta km ho jati hai

आज के आधुनिक समय में उम्र बहुत-सी चीजें करने के लिए एक बाधा नहीं है, चाहे वह यह एक नया कैरियर हो या नया शौक! मगर यह दुर्भाग्यवश, बढ़ती उम्र आपके गर्भाधान के मौके को बहुत हद तक कम कर सकती है। कई शोधों के अनुसार, उम्र बढ़ने से पुरुषों और महिलाओं दोनों की प्रजनन क्षमता कम होती चली जाती है।

कैरियर और शिक्षा पर अधिक ध्यान केंद्रित करने से हुए मौजूदा सामाजिक बदलाव ने देर से गर्भधारण के ट्रेंड को जन्म दिया है। आंकड़े बताते हैं कि साल 1990 से 2010 के बीच 30 साल की उम्र के बाद बच्चे को जन्म देने वाली महिलाओं में छह गुना बढ़ोतरी आई है। ऐसे कई मामले हैं जहां दंपत्ति लंबे समय तक इससे बचने के बाद गर्भधारण के लिए संघर्ष करते हैं क्योंकि प्राकृतिक कारणों से उम्र के साथ गर्भाधान की संभावना कम हो जाती है। बढ़ती उम्र के साथ न केवल गर्भावस्था की संभावना कम होती है, बल्कि गर्भावस्था के दौरान अजन्मे बच्चे के लिए जोखिम भी बढ़ता है।

बढ़ती उम्र के साथ-साथ पुरुषों और महिलाओं दोनों की प्रजनन क्षमता में गिरावट आती है, लेकिन प्रजनन क्षमता में गिरावट के सही समय की पहचान करना मुश्किल है, क्योंकि यह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में भिन्न होती है। महिलाओं के लिए सबसे अच्छा प्रजनन वर्ष 20-30 वर्ष के बीच होता है, 30 वर्ष की आयु के बाद बच्चों को गर्भ में रख पाने की क्षमता धीरे-धीरे कम हो जाती है, ऐसा विशेष रूप से 35 वर्ष की आयु के बाद होता है। 40 वर्ष की आयु तक, एक मासिक चक्र में महिला के गर्भधारण की संभावना 5 प्रतिशत से कम रह जाती है। मतलब हर 100 में से 5 से कम महिलाएं हर महीने सफलतापूर्वक गर्भधारण कर सकती हैं। जबकि, पुरुषों में में 40 वर्ष की आयु के बाद शुक्राणु की गुणवत्ता में कमी आने लगती है।

loading image

इस लेख़ में

 

उम्र महिला की प्रजजन क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?

How does age affect female fertility? in hindi

Umr mahila ki prajnan kshamta ko kaise prabhavit karti hai

जैसा कि पहले बताया गया है, महिलाओं में प्रजनन क्षमता उम्र के साथ कम हो जाती है, विशेष रूप से 35 वर्ष की आयु के बाद, क्योंकि अंडे की गुणवत्ता और संख्या दोनों घट जाती है। अपनी आयु के अनुसार एक वर्ष के भीतर गर्भ धारण करने वाली महिलाओं की जानकारी नीचे टेबल में दी गई है :[1]

महिला की उम्र (साल में)

वार्षिक प्रजनन दर (% में)

20 - 24 साल

47 %

25 - 29 साल

45%

30 - 34 साल

41%

35 - 39 साल

34%

40 - 44 साल

20%

45 साल से अधिक

4%

यह सब जानते हैं कि मेनोपॉज के बाद, महिलाएं गर्भधारण नहीं कर सकती, लेकिन मेनोपॉज से 5-10 साल पहले ही गर्भधारण कर पाना मुश्किल हो जाता है। इसलिए, एक महिला के गर्भधारण करने की सबसे सही उम्र 35 वर्ष से पहले होती है। महिला प्रजनन क्षमता में होने वाली यह गिरावट कई कारणों से होती है, जिसके बारे में नीचे बताया गया है :

महिलाओं में उम्र ओवुलेशन और मासिक धर्म को प्रभावित करती है (Age affects ovulation and menstruation in women)

अपने पूरे जीवन काल में स्पर्म प्रोड्यूस करने वाले पुरुषों के विपरीत महिलाएं उन सभी एग फॉलिकल्स के साथ जन्म लेती हैं, जो उनके पूरे जीवन काल में उनके पास होंगे। प्यूबर्टी के समय ये फॉलिकल्स मैच्योर होना शुरू कर देते हैं, और हर महीने एक अंडा रिलीज होता है। अंडों के रिलीज होने की प्रक्रिया को ओवुलेशन कहा जाता है। रिलीज होने के बाद अगर एग, स्पर्म के साथ निषेचित हो जाता है और फिर यूटेरस वॉल (uterus wall) में इम्प्लांट हो जाता है, तो प्रेग्नेंसी निश्चित होती है। अगर प्रेग्नेंसी नहीं होती है तो ब्लड के साथ, यूटेरस लाइनिंग (uterus lining) शेड हो जाती है, जिसे पीरियड्स भी कहा जाता है।

मासिक धर्म चक्र हर महिला में भिन्न होता है और आमतौर पर लगभग 28 दिनों तक रहता है। 35-40 (पेरिमेनोपॉज़) की उम्र के दौरान, मासिक धर्म चक्र की अवधि लगभग 28 दिनों से 24-26 दिन कम हो जाती है और जब महिलाएं रजोनिवृत्ति यानि मेनोपॉज तक पहुंचती है, तब रुक भी जाती है । ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अंडाशय मैच्योर फॉलिकल्स का उत्पादन कर पाने की क्षमता खोना शुरू कर देते हैं।

महिला का जन्म लगभग एक मिलियन एग फॉलिकल्स के साथ होता है, प्यूबर्टी के साथ एग फॉलिकल्स की संख्या लगभग 300,000 तक घट जाती है। और अपने पूरे जीवनकाल के दौरान, महिलाएं केवल 400 से 500 अंडे प्रोड्यूस करती हैं। उम्र के साथ, एग फॉलिकल्स की संख्या और गुणवत्ता कम होने लगती है। अंडे की मात्रा में गिरावट (एट्रेसिया के रूप में जाना जाता है) प्राकृतिक घटना है और हर महिला में होता है। हालांकि, धूम्रपान करने वाली महिलाओं में यह गिरावट तेजी से होती है। रजोनिवृत्ति तक महिलाएं हमेशा फर्टाइल नहीं रहती हैं। मेनोपॉज के लिए औसत आयु 51 है, लेकिन अधिकांश महिलाएं अपने मध्य 30 के दशक में गर्भाधान में कठिनाई का सामना करना शुरू कर देती हैं।

उम्र के साथ अंडों की संख्या कम होती है (Egg quantity declines with age)

जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है, एक महिला सभी अंडों के साथ पैदा होती है। जन्म से अंडे के इस संग्रह को डिम्बग्रंथि रिजर्व यानि ओवेरियन रिजर्व (ovarian reserve) के रूप में जाना जाता है। महिला की उम्र के साथ ओवेरियन रिजर्व कम होने लगता है और स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करने में असमर्थता पैदा करता है। भले ही कम ओवेरियन रिजर्व ज्यादातर महिला की उम्र से संबंधित है, लेकिन युवा महिलाओं में भी ओवेरियन रिजर्व कम हो सकता है। [2] यह विभिन्न कारणों से हो सकता है जैसे समय से पहले रजोनिवृत्ति का पारिवारिक इतिहास, पूर्व ओवेरियन सर्जरी या धूम्रपान।

उम्र के साथ अंडों की गुणवत्ता कम होती है (Egg quality decreases with age)

उम्र के साथ अंडों की गुणवत्ता में कमी आने से महिलाओं में गर्भधारण की संभावना कम और गर्भपात की संभावना अधिक होती है। 20 से 25 की उम्र के बीच अंडों की गुणवत्ता सबसे अच्छी होती है और 35 वर्ष के बाद इनके गुणवत्ता में गिरावट आने लगती है।

इस तरह की एक आनुवंशिक असामान्यता जो अंडे की गुणवत्ता को काफी कम कर देती है, उसे एन्यूप्लोइडी (aneuploidy) के रूप में जाना जाता है। विभाजन (जैसे सामान्य 46 क्रोमोसोम के बदले 45 या 47) में समस्या आने कारण, एक सेल में असामान्य क्रोमोसोम की संख्या होना एन्यूप्लोइडी कहलाता है। निषेचन की एक सामान्य स्थिति में, एक अंडे के पास आवश्यक रूप से 23 क्रोमोसोम होने ही चाहिए, जब यह अंडा, पुरुष के स्पर्म (स्पर्म में भी 23 क्रोमोसोम मौजूद होते हैं) के साथ निषेचित होगा, तब 46 क्रोमोसोम के साथ एम्ब्रयो का निर्माण होगा। [3]

भले ही सभी उम्र में एन्यूप्लोइडी आम है, लेकिन एन्यूप्लोइडी की दर मध्य-बीसवीं (mid-twenties) से आरंभिक 30 के दशक (सबसे अच्छी गुणवत्ता वाले अंडों का समय) में सबसे कम होता है। इसलिए, डॉक्टर इसे गर्भ धारण के लिए सबसे अच्छा समय मानते हैं। 35 वर्ष की आयु से ऊपर की गर्भवती महिलाओं में एन्यूप्लोइडी (असामान्य गुण सूत्र) के साथ भ्रूण काफी बढ़ जाता है और यह 40 वर्ष से अधिक आयु में लगभग 33% से 50% तक होता है। ऐसे मामलों में ज्यादातर गर्भावस्था नहीं होती है, और यदि होती भी है, तो गर्भपात हो जाता है। यह गर्भावस्था की कम संभावना और अधिक उम्र की महिलाओं में गर्भपात की अधिक संभावना के बारे में बताता है।

हमने देखा है कि महिलाओं में उम्र के साथ अंडे की गुणवत्ता और मात्रा दोनों में गिरावट आती है और वे रजोनिवृत्ति यानि मेनोपॉज के बाद स्वाभाविक रूप से गर्भ धारण करने में सक्षम नहीं होती हैं। अब देखते हैं कि उम्र पुरुषों में प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती है या नहीं।

loading image
 

पुरुष प्रजनन क्षमता को उम्र कैसे प्रभावित करती है?

How age affects male fertility? in hindi

Purush prajnan kshmata ko umr kaise prabhavit karti hai

भले ही पुरुष अपने पूरे जीवन में शुक्राणुओं का उत्पादन कर सकते हैं, लेकिन शुक्राणुओं की गुणवत्ता (शुक्राणु गतिशीलता और मृत्यु दर) उम्र के साथ कम हो जाती है। शुक्राणु की गतिशीलता पुरुष के शुक्राणु के तैरने और अंडे तक पहुंचने की क्षमता है। शोध बताते हैं कि शुक्राणु की गतिशीलता प्रति वर्ष 0.8% की दर से घटती है। जैसे-जैसे पुरुष की उम्र बढ़ती है, वे कम गति वाले शुक्राणु का उत्पादन करते हैं, जो एक लिनीयर पाथ (linear path) में ट्रैवल करने में कम सक्षम होते हैं, इस प्रकार प्रति यूनिट समय में कम दूरी को कवर करते हैं। [4] इसलिए, शुक्राणु समय पर अंडे तक पहुंचने में सक्षम नहीं होते हैं, जिससे गर्भावस्था में देरी होती है। इसके अलावा, अध्ययन यह भी बताते हैं कि बढती उम्र के साथ असामान्य शुक्राणु और कम कम सीमेन (semen) से भी पितृत्वता पर प्रभाव पड़ता है।

 

जीवन-शैली और खाने में बदलाव जो अच्छी गुणवत्ता वाले स्पर्म और अंडों के उत्पादन में सहायक है

Lifestyle and diet plan that will help you maintain good sperm and egg health in hindi

jivan shaili mein badlav se banaye sperm aur egg healthy

भले ही उम्र से संबंधित कारकों को ठीक नहीं किया जा सकता है और जैसे-जैसे आपकी उम्र बढ़ती है अंडे और शुक्राणु की गुणवत्ता में स्वाभाविक रूप से गिरावट आएगी। हालांकि, एक स्वस्थ जीवन शैली बनाए रखने और उचित आहार लेने से आप अंडे और शुक्राणु की गुणवत्ता की प्राकृतिक गिरावट की गति को कम कर सकते हैं। जीवनशैली में बदलाव और आहार संबंधी आदतें जो इसमें आपके के लिए सहायक हो सकती हैं, नीचे दी गई हैं,

जीवनशैली में बदलाव

पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए अपनी प्रजनन क्षमता को लंबे समय तक बनाए रखने और गर्भ धारण करने की क्षमता को बढ़ाने के लिए यहाँ कुछ स्टेप्स हैं।

आदर्श वजन बनाएं रखें

आजकल ज्यादातर लोगों का आहार शुगर ड्रिंक और स्नैक्स, प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों और ट्रांस फैट से भरा होता है। आहार के इस रूप से न केवल इंसुलिन प्रतिरोध और पुरानी बीमारियों का खतरा होता है, बल्कि प्राकृतिक गर्भाधान की संभावना भी कम हो जाती है। पहली चीज जिसे आप अपनी प्रजनन क्षमता को संरक्षित करने के लिए कर सकते हैं वह है वजन कम करना। हेल्दी बीएमआई बनाए रखने के लिए नियमित रूप से हल्के व्यायाम करना शुरू करें। पौधों से पर्याप्त प्रोटीन, लीन मीट, साबुत अनाज, बहुत सारी ताज़ी सब्जियाँ और फल का सेवन करें और चीनी के सेवन से बचें। आप वसा रहित (no fat) या लो फैट प्रॉडक्ट्स के बजाय फुल फैट दूध और दही जैसे डेयरी उत्पादों का सेवन कर सकते हैं। (यहाँ पढ़े - बीन्स की मदद से घटाए वजन )

धूम्रपान न करें और कैफीन का सेवन कम करें

धूम्रपान पुरुषों और महिलाओं दोनों में प्रजनन क्षमता को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। यह आपकी प्रजनन आयु में दस साल जोड़ने के लिए जाना जाता है, जिसका अर्थ है कि यदि आप 25 साल के हैं, तो आपके पास 35 साल की उम्र वाली प्रजनन क्षमता होगी। कैफीन के लिए भी यही सच है, एक दिन में 200 मिलीग्राम से अधिक कैफीन पीने से शुक्राणु और अंडे की गुणवत्ता में कमी देखी गई है। इसलिए, धूम्रपान करना बंद करें और अपनी दैनिक कैफीन की मात्रा को कम करें। इसके अलावा, एनर्जी ड्रिंक्स से दूर रहें, क्योंकि इनमें कैफीन की मात्रा काफी अधिक होती है।

तनाव व विषैले पदार्थ से दूर रहें

भले ही गर्भावस्था के लिए प्रयास करना तनावपूर्ण हो सकता है, लेकिन गर्भावस्था की संभावना को बेहतर बनाने के लिए आपको तनाव से दूर रहना चाहिए। आराम करने के लिए आपको हर दिन अपने लिए कुछ समय निकालना चाहिए। आप टहलने के लिए जा सकते हैं या लॉन्ग बाथ ले सकते हैं, या अपनी दिनचर्या में ध्यान या योग को शामिल कर सकते हैं, या जो भी आपको अच्छा लगता है। इसके साथ ही वातावरण में मौजूद विषाक्त पदार्थों से दूर रहें। जैविक फल और सब्जियां शामिल करें। इसके अलावा, कीटनाशकों के बारे में जानने के लिए उत्पाद के ऊपर दिया गया लेबल पढ़ें।

गर्भावस्था की अपनी योजना के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। यदि आप नियमित रूप से कोई दवा ले रहे हैं, तो आपके डॉक्टर डोज को एडजस्ट करेंगे या आपको दूसरी दवा देंगे जो आपकी प्रजनन क्षमता को नुकसान नहीं पँहुचाएगा।

खाने की आदतों में बदलाव

सामान्य तौर पर, आप अपने समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए जो कुछ भी करते हैं, वह अच्छे शुक्राणु और अंडे के स्वास्थ्य को बढ़ावा देगा। स्वस्थ अंडे के लिए क्या खाएं और क्या न खाएं, इस पर कुछ सुझाव दिए गए हैं,

अंडे और हरी पत्तेदार सब्जियां शामिल करें

हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, केल, लेट्यूस, और अंडे सामान्य स्वास्थ्य और प्रजनन क्षमता में सुधार करते हैं। हरी पत्तेदार सब्जियां फोलेट / फोलिक एसिड (विटामिन बी का एक प्रकार) से समृद्ध होती हैं, और अंडे कोलाइन (choline) से भरपूर होते हैं। ये दोनों तत्व न केवल पुरुष और महिला दोनों की प्रजनन क्षमता में सुधार करते हैं बल्कि नवजात शिशुओं में जन्मजात जन्म दोष को भी रोकते हैं। अन्य खाद्य पदार्थ जिनमें कोलाइन होते हैं वे हैं झींगा, फूलगोभी, स्कैलप्प्स (scallops)। इसके अलावा, संतरे और अंगूर जैसे खट्टे फल फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत हैं।

विटामिन डी सप्लीमेंट

चूंकि बहुत सारी महिलाओं में विटामिन डी की कमी होती है, जो महिलाएं अपने अंडे फ्रीज करना चाहती हैं उन्हें अपने विटामिन डी के स्तर की जांच करवानी चाहिए। यदि यह कम है, तो आपको सप्लीमेंट लेना चाहिए, क्योंकि भोजन विटामिन डी का अच्छा स्त्रोत नहीं है।

ट्रांस फैट से दूर रहें और हेल्दी फैट खाएं

प्रोसेस्ड और हाइड्रोजेनेटेड (hydrogenated) तेलों से बचें और जैतून के तेल और घी जैसे स्वस्थ विकल्पों को चुनें। यदि आप गर्भावस्था की योजना बना रहे हैं, तो बादाम, अखरोट और एवोकैडो खाएं, क्योंकि इनमें हेल्दी फैट होते हैं।

loading image
 

अगर आप 35 वर्ष की उम्र के बाद गर्भाधान करना चाहते हैं तो क्या करें?

What if you want to conceive after the age of 35 in hindi

Agar aap 35 varsh ki umar ke baad garbh dharan karna chahte hain to kya kare

एक बच्चे के लिए योजना बनाना पति-पत्नी दोनों का निर्णय है, और नवविवाहित जोड़ों के लिए इसमें कुछ समय लग सकता है। यदि आप उन जोड़ों में से एक हैं, जो देर से गर्भधरण की योजना बना रहे हैं, तो अभी के लिए, एग फ्रीजिंग आपके लिए एक विकल्प हो सकता है। यदि आप प्राकृतिक तरीके से गर्भधारण नहीं कर पाती है, तो आधुनिक प्रजनन तकनीकों, जैसे आईवीएफ की मदद से आप अपने फ्रीज किए हुए अंडे से गर्भ धारण कर सकते हैं (अगर उम्र के साथ आपके अंडों की गुणवत्ता कम हो गई है)।

एग फ्रीजिंग जिसे ओसाइट क्राइपोप्रिजर्वेशन (oocyte cryopreservation) के रूप में भी जाना जाता है, महिला के अंडे को निकालने, डिहाइड्रेट करने, फ्रीज़ करने और बाद में इस्तेमाल के लिए संग्रहीत करने की प्रक्रिया है। एग फ्रीजिंग की सबसे अच्छी 25 से 30 के बीच की उम्र है क्योंकि इस उम्र के दौरान ओवेरीयन रिजर्व (अच्छे अंडों की संख्या) उच्च होती है, और संग्रहीत करने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले अधिक अंडे आसानी से निकाले जा सकते हैं। यदि आप 30 वर्ष से कम आयु के हैं, तो आप अपने डॉक्टर से एग फ्रीजिंग के विकल्पों के बारे में बात कर सकते हैं।

एक बार जब आप गर्भावस्था के लिए तैयार होती हैं, तो प्रजनन विशेषज्ञ आईवीएफ प्रक्रिया के लिए आपके अंडों को पिघला देंगे और उनका उपयोग करेंगे। फिर भ्रूण को बढ़ने के लिए आपके गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाएगा। आप अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ या प्रजनन विशेषज्ञ से एग फ्रीजिंग के विकल्प के बारे में बात कर सकते हैं,

यदि आप 30 वर्ष से अधिक उम्र की हैं, तो हम आपको गर्भधारण में देरी न करने और कम से कम छह महीने से एक साल तक प्राकृतिक गर्भाधान के लिए प्रयास करने की सलाह देते हैं। यदि आप एक साल कोशिश करने के बाद भी गर्भ धारण करने में सक्षम नहीं होती हैं, तो अपने प्रजनन विशेषज्ञ से बात करें। प्रजनन विशेषज्ञ आपके प्रजनन स्वास्थ्य के आधार पर आईयूआई (IUI) और आईवीएफ (IVF) जैसे आधुनिक प्रजनन उपचार के बारे सुझाव दे सकते हैं।

यदि आपके अंडे की गुणवत्ता कम है, तो आपके डॉक्टर आपको डोनर अण्डों द्वारा आईवीएफ करने का सुझाव दे सकते हैं। डोनर के अंडे स्वस्थ और अच्छी गुणवत्ता वाले होते हैं क्योंकि उन्हें 20 वीं या 30 वें दशक की शुरुआत में अन्य महिलाओं से एकत्र किया जाता है। इसलिए, डोनर अंडे के साथ आईवीएफ की सफलता अधिक होती है। एग डोनेशन के साथ सफलता की उच्च दर से पता चलता है कि अधिक उम्र की महिलाओं में अंडे की गुणवत्ता, गर्भावस्था की प्राथमिक बाधा है। [5]

अगर आप गर्भधरण कुछ वर्ष देर से करना चाहते हैं तो इसके बारे में अपने डॉक्टर से बात करें। ओवेरियन रिजर्व परीक्षण के बाद, आपके डॉक्टर आपको विकल्पों के बारे में गाइड कर सकते हैं और यह बता सकते हैं कि आप अंडे फ्रीज़ कर सकते हैं या नहीं। ओवेरीयन रिजर्व परीक्षण, आपको स्वस्थ अंडों की संख्या के बारे में बताता है और इसलिए आपको यह संकेत भी देता है कि आपके पास प्राकृतिक गर्भावस्था, आईयूआई, आईवीएफ या एग फ्रीजिंग के लिए कितना समय है।

यहां पर गौर करने वाली बात यह है कि प्रजनन उपचार की सफलता भी महिलाओं की उम्र की तरह कम हो जाती है। 40 और उससे अधिक उम्र की महिलाओं में IVF सफलता दर कम है। यह आमतौर पर प्रति चक्र 20% से कम है। [6] इसलिए, यदि आप गर्भावस्था में देरी करने की सोच रही हैं, तो प्रजनन विशेषज्ञों का मार्गदर्शन लेना सबसे अच्छा है। आपके प्रजनन और सामान्य स्वास्थ्य को देखते हुए, आपका डॉक्टर आपको सुरक्षित गर्भावस्था की योजना बनाने के लिए मार्गदर्शन करेगा।

 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ प्रजनन क्षमता में गिरावट आना स्वाभाविक है। हालांकि, जिस समय प्रजनन क्षमता में गिरावट शुरू होती है और जिस दर से यह बढ़ती है, यह महिलाओं में व्यापक रूप से भिन्न हो सकती है। आमतौर पर, 35 साल की उम्र के बाद प्रजनन क्षमता तेजी से कम होने लगती है। इसलिए, सबसे अच्छा विकल्प है कि आप 35 तक पहुंचने से पहले गर्भधारण करें या एग फ्रीजिंग से अपनी प्रजनन क्षमता को बचाए रखें। यदि आप 30 के बाद गर्भ धारण करने की योजना बनाते हैं, तो आपको अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से ओवेरीयन रिजर्व टेस्ट के बारे में भी सलाह लेनी चाहिए। अपनी खुद की ज़रूरतों और लक्ष्यों के बारे में और सभी विकल्पों के बारे में जानने से, आप और आपके पार्टनर सबसे अच्छे निर्णय लेने में सक्षम होंगे।

loading image

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

www.nice.org.uk. “Fertility Problems: Assessment and Treatment”. Clinical Guidelines [CG 156], National Institute of Health and Care Excellence, 06 September 2017.

2 .

Dr. Matthew Lederman. “Ovarian Reserve: What You Need to Know About Your Egg Quality and Quantity”. progyny.com, 22 July 2020.

3 .

Yajie Chang, Jingjie Li, et al. “Egg Quality and Pregnancy Outcome in Young Infertile Women with Diminished Ovarian Reserve”. Med Sci Monit. 2018;7279-7284, PMID: 30310048.

4 .

Sloter E, Schmid TE, et al.”Quantitative effects of male age on sperm motion” Hum Reprod.2006;21(11):2868-2875. PMID: 16793993

6 .

Abbas Aflatoonian, Maryam Eftekhar, et al. “Outcome of assisted reproductive technology in women aged 40 years and older”. Iran J Reprod Med. 2011 Autumn, PMID: 26396576.

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 28 Sep 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

तनाव और प्रजजन क्षमता पर इसका प्रभाव

तनाव और प्रजजन क्षमता पर इसका प्रभाव

क्या शराब, कैफीन और धूम्रपान आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं?

क्या शराब, कैफीन और धूम्रपान आपकी प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकते हैं?

वजन प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

वजन प्रजनन क्षमता को कैसे प्रभावित करता है?

संभोग का समय, गर्भवती होने के अवसर से कैसे जुडा है?

संभोग का समय, गर्भवती होने के अवसर से कैसे जुडा है?
balance
article lazy ad