गर्भावस्था सप्ताह दर सप्ताह

Pregnancy week by week in Hindi

जाने प्रेगनेंसी सप्ताह-दर-सप्ताह की पूरी जानकारी! प्रेगनेंसी के 40 हफ्ते में क्या खाएं और क्या नहीं! प्रेगनेंसी में माँ और बच्चे की शारीरिक विकास और सप्ताह दर सप्ताह प्रेगनेंसी टिप्स | ड्यू डेट कैलकुलेटर की मदद से जानें प्रसव की नियत तिथि और बेबी नेम फाइंडर से चुनें अपने बच्चों के यूनिक और इंट्रेस्टिंग नाम |

क्या आप अपने गर्भावस्था का सप्ताह जानती हैं?

प्रयोग करें सप्ताह दर सप्ताह गर्भावस्था कैलेंडर

सप्ताह दर सप्ताह

पहली तिमाही

दूसरी तिमाही

तीसरी तिमाही

या

डिलीवरी तिथि कैलकुलेटर का प्रयोग करें और जानिए अपनी एक्सपेक्टेड डेट ऑफ डिलीवरी

डिलीवरी तिथि कैलकुलेटर

calender

कैलकुलेटर टाइप सेलेक्ट करें

आपकी पीरियड की अंतिम अवधि का पहला दिन

02/06/2020

पीरियड की औसत चक्र की लंबाई

कैलकुलेट करें

...

हमें जानकार अच्छा लगा की आपको आपके सबसे कीमती पल का पता है!

इस सफर को और भी आनंदमय बनाने के लिए अपने

बच्चे के नाम खोजें

भारत में प्रेगनेंसी सप्ताह दर सप्ताह से जुड़े प्रश्न के बारे में अधिक जानें


प्रेगनेंसी की तिमाही कैसे निर्धारित कैसे कर सकते हैं?

प्रेगनेंसी की तिमाही को तीन भागों में बांटा गया है : -

पहली तिमाही1 से 13वें हफ्ते1 से 91 दिन
दूसरी तिमाही14वें से 27वें हफ्ते92 से 189 दिन
तीसरी तिमाही28वें से 40वें हफ्ते190 से 280 दिन

मैं कैसे जान सकती हूँ कि मैं कितने वीक प्रेग्नेंट हूँ ?

आप प्रेगनेंसी कैलकुलेटर की मदद से जान सकती हैं कि गर्भावस्था के कौन से हफ्ते में हैं। अपनी प्रेगनेंसी डेट कैलकुलेट करने के लिए अभी क्लिक करें - डिलीवरी तिथि कैलकुलेटर

गर्भावस्था के दौरान मुझे कितनी बार अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए?

गर्भावस्था के दौरान आपके डॉक्टर आपको मीटिंग का शेड्यूल देंगे, जिसके अनुसार आप उनसे नियमित चेकअप के लिए मिल सकती हैं।

आप डॉक्टर से इस प्रकार मिल सकती हैं : -

  • पहली विजिट चौथे से 13वें हफ्ते के बीच में
  • 14वें हफ्ते से लेकर 28वें हफ्ते तक, हर महीने में एक बार
  • 29वें हफ्ते से लेकर 35वें हफ्ते तक हर महीने में दो बार
  • 36वें हफ्ते से हर हफ्ते में एक बार
  • यदि आप 35 वर्ष से अधिक उम्र की हैं या आपकी गर्भावस्था में किसी प्रकार का जोखिम है, तो आप आपको कई बार डॉक्टर से मिलना पड़ सकता है

प्रेगनेंसी के बाद पहली बार डॉक्टर से मिलने पर क्या होता है ?

प्रेगनेंसी के बाद पहली बार डॉक्टर से मिलने पर :

  • वे आपसे आपके मेडिकल इतिहास के बारे में पूछ सकते हैं जैसे कोई बीमारी, ऑपरेशन या पूर्व प्रेगनेंसी
  • आपके परिवार के मेडिकल इतिहास के बारे में पूछा जा सकता है
  • आपकी पूरी जांच कर सकते हैं जिसमें पेलविक और पैप टेस्ट भी शामिल है
  • लैब टेस्ट के लिए आपके ब्लड व यूरिन का सैंपल ले सकते हैं
  • आपके ब्लड प्रेशर, लंबाई और वज़न को नोट कर सकते हैं
  • आपके ब्लड प्रेशर, लंबाई और वज़न को नोट कर सकते हैं
  • आपके ड्यू डेट का आकलन कर सकते हैं।
  • आपके सवालों के जबाव देंगे।

ध्यान रखें कि पहली अपॉइंटमेंट में आप अपने मन के सभी सवाल बेझिझक डॉक्टर से पूछ सकती हैं।

प्रेगनेंसी के 40 हफ्ते के दौरान देखभाल क्यों जरुरी है?

गर्भावस्था के दौरान देखभाल आपको और आपके बच्चे को स्वस्थ रखने में मदद कर सकती है। आमतौर पर जिन महिलाओं की प्रसव पूर्व देखभाल नहीं होती उनकी तुलना में देखभाल की जाने वाली महिलाओं व उनके बच्चे का स्वास्थ्य बेहतर होता है। खासतौर पर प्रेगनेंसी में देखभाल माँ व होने वाले बच्चे में वक़्त रहते किसी बीमारी का पता लगाने व उसका उपचार करने में सहायक है।

गर्भावस्था के दौरान टेस्ट क्यों जरुरी है?

प्रसवपूर्व परीक्षण यानि प्रिनैटल टेस्टिंग विभिन्न प्रक्रियाएं हैं जो सुनिश्चित करती हैं कि आप और भ्रूण स्वस्थ हैं। प्रिनैटल टेस्टिंग बच्चे में जन्म दोष का पता लगाने, माँ व बच्चे के स्वास्थ्य की जांच करने और अन्य जोखिमों का पता लगाने के लिए ज़रूरी है।

गर्भावस्था के दौरान पहली तिमाही से लेकर तीसरी तिमाही तक कौन-कौन से टेस्ट किये जाते हैं ?

  • सीबीसी
  • ब्लड टाइपिंग
  • यूरिन रूटीन
  • यूरिन कल्चर
  • फस्टिंग ब्लड शुगर (एफ़बीएस)
  • रैंडम बल्ड शुगर/ पीपी ब्लड शुगर
  • ओजीटीटी (75g.,2घंटे)
  • पैप स्मियर
  • एचआईवी 1&2
  • एचबीएसएजी (हेप बी)
  • वीडीआरएल/आरपीआर
  • रूबेला, आईजीसी एयूआर आईजीएम
  • टीएसएच
  • एफ़टी3 और एफ़टी4 (फ्री थाईरॉक्साइन)
  • हेपैटाईटीस सी (एचसीवी)
  • डबल मार्कर/ट्रिपल मार्कर/ क्वाड्रैपल मार्कर
  • अल्ट्रासाउंड इंवेस्टिगेशन
  • सीटीजी मौनिट्रिंग
  • टेटनस इंजेक्शन

डॉक्टर आपकी व आपके बच्चे की स्थिति को देखते हुए इनमें से किसी भी टेस्ट की सलाह दे सकते हैं।

प्रेगनेंसी तिमाही संबंधित जानकारी

प्रेगनेंसी हफ्ते-दर-हफ्ते में क्या होंगे गर्भावस्था के लक्षण? कब सुन पाएंगी आप अपने शिशु की धड़कन और कब आपका शिशु पहचानेगा आपकी आवाज़! यहाँ पढ़ें गर्भावस्था के 40 हफ़्तों की पूरी जानकारी! किसी तरह की उलझन के लिए लें हमारे सप्ताह-दर-सप्ताह गर्भावस्था कैलेंडर की मदद।

हमारी महिला कम्यूनिटी से जुड़े और साझा करें अपने अनुभव और टिप्स, साथ दूसरी महिलाओं के अनुभव से सीखें।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही

बधाई हो! आप अपनी गर्भावस्था के अंतिम चरण में पहुंच चुकी है। इस दौरान आपको थकान, मूड स्विंग जैसे लक्षण अनुभव हो सकते हैं। मगर खुशी की बात यह ही कि आप बस तीन महीने में अपने बच्चे से मिलने वाली हैं। जानें सप्ताह-दर-सप्ताह गर्भावस्था कैलेंडर गाइड के साथ तीसरी तिमाही से जुड़ी पूरी जानकारी!

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही

बधाई हो! आप अपनी गर्भावस्था के अंतिम चरण में पहुंच चुकी है। इस दौरान आपको थकान, मूड स्विंग जैसे लक्षण अनुभव हो सकते हैं। मगर खुशी की बात यह ही कि आप बस तीन महीने में अपने बच्चे से मिलने वाली हैं। जानें सप्ताह-दर-सप्ताह गर्भावस्था कैलेंडर गाइड के साथ तीसरी तिमाही से जुड़ी पूरी जानकारी!

प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही

बधाई हो! आप अपनी गर्भावस्था के अंतिम चरण में पहुंच चुकी है। इस दौरान आपको थकान, मूड स्विंग जैसे लक्षण अनुभव हो सकते हैं। मगर खुशी की बात यह ही कि आप बस तीन महीने में अपने बच्चे से मिलने वाली हैं। जानें सप्ताह-दर-सप्ताह गर्भावस्था कैलेंडर गाइड के साथ तीसरी तिमाही से जुड़ी पूरी जानकारी!