Introduction

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन - डोज़, उपयोग फ़ायदे और दुष्प्रभाव

Human Chorionic Gonadotropin - HCG - Dose, use, benefits and side-effects in hindi

HCG injection ke dose, upyog, fayde aur side-effects in hindi

इंफर्टिलिटी (infertility) से प्रभावित महिलाओं के इलाज के लिए मार्किट में कई तरह की दवाएं और इंजेक्शन (injection) उपलब्ध हैं।

अगर हम इंजेक्शन की बात करें तो, ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी (Human Chorionic Gonadotropin - HCG) ऐसा इंजेक्शन है जो महिला की ओवरी (ovary) में अंडे की उत्पत्ति के लिए ज़रूरी हार्मोन का काम करता है।

जब कोई महिला गर्भवती नहीं हो पाती तो इस इंजेक्शन का इस्तेमाल किया जाता है। इस इंजेक्शन से अंडे की उत्पत्ति, अंडे की फर्टाइल दर में सुधार होता है।

इंफर्टिलिटी इलाज की तकनीक आईयूआई (IUI) ट्रीटमेंट में, इस इंजेक्शन के इस्तेमाल से महिला को गर्भधारण के लिए तैयार किया जाता है।

एचसीजी इंजेक्शन के हार्मोन, एक तरह से ल्युटनाइजिंग हॉर्मोन (luteinizing hormone - LH) हार्मोन जैसे होते हैं जो ओवुलेशन (ovulation) की प्रक्रिया को तेज करते हैं।

इस इंजेक्शन की मदद से महिला के गर्भाशय में हार्मोन डाले जाते हैं और फिर महिला की ओवुलेशन गति तेज होता है, जिससे महिला गर्भवती हो पाती है।

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के कुछ दुष्प्रभाव भी होते हैं जैसे - सिरदर्द, बेचैनी, पेल्विक एरिया में बहुत ज्यादा दर्द, हाथों के साथ-साथ पैरों में सूजन, पेट में दर्द, चिड़चिड़ापन, अवसाद, स्तन सूजन, इंजेक्शन की साइड पर हल्का दर्द, सांस की तकलीफ़, वजन कम, दस्त, मतली या उल्टी,सामान्य से कम पेशाब आना और अपच आदि।

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image

इस लेख़ में/\

  1. ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी इंजेक्शन) की डोज़ क्या होनी चाहिए?
  2. ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी इंजेक्शन) की सलाह कब दी जा सकती है?
  3. ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के दुष्प्रभाव से कैसे बचें?
  4. ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के साइड-इफेक्ट्स क्या हैं?
 

1.ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी इंजेक्शन) की डोज़ क्या होनी चाहिए?

What should be the dose of HCG injection in hindi

HCG injection ki khurak kya honi chahiye in hindi

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन का उपयोग जिस तरह से किया जाता है वह एक से दूसरे व्यक्ति की स्थिति से भिन्न हो सकता है और ये उस स्थिति पर निर्भर करता है जिसका आप इलाज करवाने की कोशिश कर रहे हैं।

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन की खुराक कई कारकों पर निर्भर करती है जैसे व्यक्ति की आयु, स्वास्थ्य और कुछ अन्य स्थितियां।

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन की खुराक लेने के बारे में कोई सही जानकारी नहीं है लेकिन इसको हमेशा डॉक्टर के परामर्श से लेना चाहिए।

ध्यान रखें कि, इंजेक्‍शन लेने से पहले हमेशा डॉक्टर के दिए निर्देशों का पालन करें।

एचसीजी इंजेक्शन की खुराक इस बात पर भी निर्भर करती है कि आप पुरुष हैं या महिला।

इसके अलावा आप जिस बीमारी (आपके डॉक्टर द्वारा दिए गए प्रिस्क्रिप्शन के अनुसार) का इलाज करवा रहे हैं, उसकी स्थिति पर भी एचसीजी इंजेक्शन की खुराक निर्भर करती है।

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

2.ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी इंजेक्शन) की सलाह कब दी जा सकती है?

When HCG injection can be suggested in hindi

HCG injection ka sevan kab kiya ja sakta hai in hindi

एचसीजी 2000 आईयू इंजेक्शन (HCG 2000 IU Injection) आमतौर पर प्रोजेस्टेरोन हार्मोन को प्रोड्यूस करने के लिए ओवरी को उत्तेजित करती है।

ये इंजेक्शन महिलाओं में अंडाशय में एग प्रोडक्शन को बढ़ावा देता है जो गर्भधारण करने में सहायक है।

एचसीजी 2000 आईयू इंजेक्शन (HCG 2000 IU Injection) पुरुषों में एंड्रोजन (टेस्टोस्टेरोन और अन्य पुरुष हार्मोन) का उत्पादन करने के लिए और टेस्टिकल्स की समस्या क्रिप्टोर्चिडिज़्म (Cryptorchidism) में उपयोग किया जाता है।

निम्न स्थितियों के लिए ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी इंजेक्शन) की सलाह दी जा सकती है :

  • महिला बांझपन (Female Infertility)

एचसीजी इंजेक्शन का उपयोग महिलाओं में इंफर्टिलिटी के इलाज के लिए किया जाता है।

जब किसी महिला के शरीर में हार्मोनल असंतुलन होता है और वो गर्भधारण कर पाने में असमर्थ होती है तो एचसीजी इंजेक्शन के उपयोग से उनके हार्मोन को संतुलित कर गर्भ धारण करने में मदद मिलती है।

  • पुरूष बांझपन (Male Infertility)

कुछ मामलों में पुरुष इंफर्टिलिटी के इलाज के लिए एचसीजी इंजेक्शन का उपयोग किया जाता है।

पुरूष के शरीर में विशिष्ट हार्मोनल स्राव होने से महिला गर्भधारण नहीं कर पाती हैं।

इस विशिष्ट हार्मोनल कमी को एचसीजी इंजेक्शन के द्वारा हार्मोन्स को संतुलित किया जाता है।

  • क्रिप्टोर्चिडिज़्म (Cryptorchidism)

इस दवा का प्रयोग लड़कों में भी किया जाता है।

अंडकोष या टेस्टिकल (testicle) से जुड़ी समस्या को क्रिप्टोर्चिडिज़्म कहते हैं, जो लड़कों में सबसे आम जेनिटल समस्याओं में से एक है।

क्रिप्टोर्चिडिज्म तब होता है जब एक या दोनों अंडकोष या टेस्टिकल (testicle) भ्रूण के विकसित होने पर स्क्रोटम (scrotum) में नहीं होते हैं।

  • पुरुष हाइपोगोनाडिज्म (Male Hypogonadism)

पुरुष हाइपोगोनाडिज्म, पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन की कमी के कारण होता है।

पुरुष सेक्स हार्मोन टेस्टोस्टेरोन शरीर में शुक्राणु की संख्या को नियंत्रित करने या शुक्राणु उत्पादन करने के लिए जिम्‍मेदार होता है।

इसकी कमी के कारण पुरुषों में देरी से यौवन आता है।

एचसीजी इंजेक्शन के उपयोग से पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन हार्मोन का स्तर नियंत्रित होता है जिससे महिला को गर्भ धारण करने में सहायता मिलती है।

 

3.ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के दुष्प्रभाव से कैसे बचें?

How to avoid the side-effects of HCG injection in hindi

HCG injection ke dushprabhav se kaise bache in hindi

ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन-एचसीजी इंजेक्शन लेने से पहले निम्न बातों का रखें ध्यान :

  • ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन को डॉक्टर के परामर्श के बिना नहीं लेना चाहिए।
  • ध्यान रखें कि, मरीज़ को ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन से एलर्जी न हो।
    रोगी को ये सुनिश्चित करना चाहिए कि ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन से उसे कोई एलर्जी ना हो।
  • दवा के सेवन के बाद रोगी को अपने शरीर में होने वाले प्रतिकूल परिवर्तनों की सूचना डॉक्टर को तुरंत देनी चाहिए जैसे कि चेहरे पर सूजन, त्वचा पर खुजली, लाल चकत्ते, अस्थमा का दौरा, पेट में रक्तस्राव या नाक में जलन।
  • लिवर और किडनी के रोगियों को यह दवा लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।
  • हृदय रोग, हार्ट फेल्योर या स्ट्रोक के मरीज़ों को दवा के सेवन के बाद कोई दुष्प्रभाव होता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।
  • ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के सेवन के दौरान शराब का सेवन ना करें।
  • पहले से किसी दवा का सेवन कर रहे हैं तो ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन लेने से पहले डॉक्टर को बताएं।

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

loading image
 

4.ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के साइड-इफेक्ट्स क्या हैं?

What are the side-effects of HCG injection in hindi

HCG injection ke side-effects kya hai in hindi

जैसे हर दवा के फायदे और नुकसान होते हैं। वैसे ही ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के भी कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हैं।

कुछ स्थितियों में ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन के दुष्प्रभाव निम्न हैं:

  • पेट फूलना (Bloating)
  • पेट दर्द (Stomach Pain)
  • श्रोणि दर्द (पेल्विक दर्द) (Pelvic Pain)
  • मतली और उल्टी (Nausea Or Vomiting)
  • तेजी से वजन बढ़ना (Rapid Weight Gain)
  • एलर्जिक स्किन रिएक्शन (Allergic Skin Reaction)
  • चिड़चिड़ापन (Irritability)
  • स्तनों का बढ़ना (Enlargement Of Breasts)
  • सिरदर्द (Headache)
  • इंजेक्शन साइट दर्द (Injection Site Pain)
  • अनिद्रा (Sleeplessness)

इन दवाओं के साथ ह्यूमन कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - एचसीजी इंजेक्शन का सेवन हो सकता है खतरनाक :

  • जीनाडोट्रोपिक दवाओं (Gonadotropic drugs)

जो लोग जीनाडोट्रोपिक दवाओं (Gonadotropic drugs) ले चुके हैं या जो अभी भी जीनाडोट्रोपिक ड्रग्स का इस्तेमाल कर रहे हैं उन लोगों को एचसीजी इंजेक्शन को लेने से एलर्जी हो सकती है।

  • एलर्जी (Allergy)

कुछ महिलाओं को एचसीजी इंजेक्शन में मौजूद हार्मोन से एलर्जी हो सकती है।

  • प्रीकोशियस प्यूबर्टी (Precocious Puberty)

कभी-कभी किसी कारणवश कम उम्र में शारीरिक संबंध बनाने के कारण महिलाएं प्रीकोशियस प्यूबर्टी की शिकार हो जाती हैं।

इस दवा को ऐसी महिलाओं पर उपयोग करने के लिए सही नहीं माना जाता जिन्होंने बहुत कम उम्र में यौवन में कदम रख दिया हो।

  • प्रोस्टेट कैंसर (Prostate Cancer)

जिन पुरुषों को प्रोस्टेट कैंसर है या फिर पहले कभी हुआ है, उनके लिए एचसीजी इंजेक्शन उपयुक्त नहीं माना जाता।

अगर प्रोस्टेट कैंसर के होने का संकेत भी पुरुष में है तो इस इंजेक्शन का उपयोग सही नहीं हैं।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि:: 01 Apr 2020

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें