Chorionic Gonadotropin  Injection ke dose, upyog, fayde aur side-effects in hindi

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन - डोज़, उपयोग फ़ायदे और दुष्प्रभाव

Chorionic Gonadotropin Injection- Dose, use, benefits and side-effects in hindi

Chorionic Gonadotropin Injection ke dose, upyog, fayde aur side-effects in hindi

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन (chorionic gonadotropin injection) एक महिला के प्लेसेन्टा (placenta) द्वारा निर्मित पॉलीपेप्टाइड (polypeptide) हार्मोन होता है, जो एक अल्फा और एक बीटा सब यूनिट (unit) से बना होता है।

सीजी (CG) का उपयोग पुरुषों और महिलाओं में कई विभिन्न कारणों के लिए किया जाता है। सीजी का उपयोग महिला गर्भावस्था की संभावना बढ़ाने के लिए कई अन्य प्रजनन दवाओं के संयोजन के साथ किया जाता है।

पुरुषों या किशोर लड़कों में, सीजी का इस्तेमाल टेस्टोस्टेरोन और शुक्राणु के उत्पादन को बढ़ाने में उपयोग में लाया जाता है। सीजी का उपयोग छोटी उम्र के लड़कों में क्रिप्टोर्चिडिज़म (cryptorchidism) की समस्या का इलाज करने के लिए भी होता है। ये समस्या जन्म के समय से लड़कों में होती हैं।

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन (CGI) का इस्तेमाल इनफर्टिलिटी के इलाज के लिए भी किया जाता हैं। जब महिला की ओवरी (Ovary) में अंडे की उत्पत्ति कम होती है और वो गर्भधारण नहीं कर पा रही होती तब कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन (Chorionic Gonadotropin Injection) का इस्तेमाल होता है।

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन हॉर्मोन एग रिलीज (egg release), एग प्रोडक्शन (Egg production) और फॉलिकल प्रोडक्शन (Follicle production) में बहुत बड़ा योगदान निभाता है।

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image

इस लेख़ में/\

  1. कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन की खुराक क्या होनी चाहिए
  2. कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन की सलाह कब दी जा सकती है?
  3. कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन के दुष्प्रभाव से कैसे बचें ?
  4. कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन के साइड इफेक्ट्स क्या हैं ?
 

1.कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन की खुराक क्या होनी चाहिए

What should be the dose of Chorionic Gonadotropin Injection in hindi

Chorionic Gonadotropin Injection ki khurak kya honi chahiye in hindi

  • कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन (chorionic gonadotropin injection) का उपयोग इंट्रामस्क्युलर (intramuscular) तरीके से किया जाता हैं।
    इसकी खुराक रोगी के उपयोग, उम्र और वजन पर निर्भर करता हैं।
  • कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन - मेनोट्रोपिन (menotropin) की आखिरी खुराक के बाद 1 दिन में इसकी 5000 से 10,000 यूनिट आईएम लेनी चाहिए।
  • रिकॉम्बिनेंट कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन - आर-एचसीजी (recombinant chorionic gonadotropin - R-HCG) इस उत्तेजक एजेंट की अंतिम खुराक के बाद इसकी खुराक 250 एमसीजी एक दिन में एक बार।

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

2.कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन की सलाह कब दी जा सकती है?

What are the situations in which Chorionic Gonadotropin injection can be suggested in hindi

Chorionic Gonadotropin Injection lene ki salaah kab di ja sakti hai in hindi

आईयूआई ट्रीटमेंट में कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन का इस्तेमाल

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन का इस्तेमाल आईयूआई (IUI) ट्रीटमेंट के दौरान किया जाता हैं।

इस इंजेक्शन को लेने के बाद महिला के गर्भ धारण करने के चांस बढ़ जाते हैं।

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन एक ल्युटनाइजिंग हॉर्मोन (luteinizing hormone - LH) जैसा होता है।

ल्युटनाइजिंग हॉर्मोन (luteinizing hormone) एक महिला में ओवुलेशन (ovulation) की प्रक्रिया को तेज कर देता है और गर्भधारण के चांस बढ़ जाते हैं।

आईवीएफ ट्रीटमेंट में कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन का इस्तेमाल

इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन - आइवीएफ (In-vitro fertilization -IVF) ट्रीटमेंट में इस इंजेक्शन का उपयोग किया जाता हैं।

इसको महिलाओं को एग को अच्छे से मैच्योर करने के लिए किया जाता हैं।

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन की खुराक महिला के वेट (weight) और मास (mass) का माप लेने के बाद दी जाती हैं।

जब एम्ब्रायो (embryo) के दूसरे ट्रांसप्लांट (transplant) के 2 दिन गुज़र जाते हैं तब डॉक्टर यह इंजेक्शन देते हैं।

गर्भावस्था के दौरान कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन का इस्तेमाल

अगर किसी महिला को गर्भ धारण करने में समस्या आती है या उसका बार-बार गर्भपात हो जाता है तो उसको कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन दिया जाता है जिसके कारण उस महिला में गर्भपात होने की समस्या दूर हो जाती है और गर्भ धारण के चांस बढ़ जाते हैं।

जिन महिलाओं में गर्भधारण करने के बाद अक्सर गर्भपात हो जाता है उनके लिए इसकी एक निश्चित डोज फायदेमंद रहती हैं।

यह पीरियड्स में अनियमितता और इससे जुड़ी समस्याओं का भी समाधान करता हैं।

हार्मोनल डिस्बैलेंस (Hormonal disbalance) के लिए कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन का इस्तेमाल -

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन का इस्तेमाल हार्मोनल डिसबैलेंस का इलाज करने के लिए भी होता हैं।

 

3.कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन के दुष्प्रभाव से कैसे बचें ?

How to avoid the side-effects of Chorionic Gonadotropin Injection in hindi

Chorionic Gonadotropin Injection ke dushprabhav se kaise bache in hindi

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन लेने से पहले निम्न बातों का रखें ध्यान :

  • इस इंजेक्शन का उपयोग ठीक उसी तरह करना चाहिए जैसा आपके डॉक्टर ने निर्धारित किया हो।
    अधिक मात्रा में या गलत समय पर इसका उपयोग न करें।
    आपको अपने डॉक्टर द्वारा दिए गए प्रिस्क्रिप्शन पर लिखे निर्देशों का पालन करना चाहिए।
  • कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन को नसों में इंजेक्शन की तरह दिया जाता है।
    ये इंजेक्शन आपका डॉक्टर, नर्स या कोई अन्य मेडिकल व्यक्ति आपको लगा सकता हैं।
    यह इंजेक्शन आप डॉक्टर से सीखकर खुद भी घर पर लगा सकते हैं।
    कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन को इंजेक्ट करने से पहले आप पूरी तरह से इसके इस्तेमाल की विधि समझ लें।
    इस्तेमाल के बाद सुई और सिरिंजों का एक डस्टबिन में फेंके।
  • एक बार इंजेक्शन के लिए उपयोग की गई सुई का दोबारा इस्तेमाल ना करें।
    इस्तेमाल हुई पंचर प्रूफ कंटेनर (puncture proof container) सुइयों को फेंक दें।
    इस पंचर प्रूफ कंटेनर (puncture proof container)को छोटे बच्चों और घर के पालतू जानवरों से दूर रखने की कोशिश करें।
  • इस इंजेक्शन के इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर से यह सुनिश्चित कर लें कि आप इस इंजेक्शन को लेने की स्थिति में है और इसको लगवाने के बाद अपने डॉक्टर से नियमित रूप से अपनी जांच करवाएं।
  • सीजी इंजेक्शन की कुछ ब्रांड इसको अलग -अलग तरल साथ पाउडर के रूप में आते हैं जिन्हें आपको इस्तेमाल से पहले एक साथ मिलाना होता हैं ।
    कुछ अन्य ब्रांडो की खुराक प्रीफ़िल्ड सीरिंज में मिलती है।
  • इस इंजेक्शन का उपयोग तब ना करें अगर रखे हुए इंजेक्शन का रंग बदल गया हो या इसकी दवाई में कोई कण चला गया हो।
  • इसको कमरे के तापमान पर रखें।
    सीजी के पाउडर फॉर्म को लाइट, नमी और गर्मी से दूर रखें।
    जब आप इसके तरल को पाउडर के साथ मिलकर मिश्रण बना देते है तो इस मिश्रण को रेफ्रिजरेटर में रखे।
  • यदि आप एचसीजी के प्रेगनिल ब्रांड (preganil brand) का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो इस दौरान कोई भी ऐसी दवा के मिश्रण का इस्तेमाल ना करें जिसे मिश्रित किए हुए आपको तकरीबन 2 महीने हो चुके हो।
    यदि आप एचसीजी के नोवेल ब्रा (novel bra) का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो इस दौरान कोई भी ऐसी दवा के मिश्रण का इस्तेमाल ना करें जिसे मिश्रित किए हुए आपको तकरीबन 1 महीने हो चुका हो।
  • यदि आपको कभी भी सीजी से एलर्जी की प्रतिक्रिया हुई है या आपको एलर्जी हो रखी है तो आपको इस दवा को उपयोग करने से बचना चाहिए।
  • हालांकि सीजी आपको गर्भ धारण करने में मदद करता है।
    लेकिन अगर आप गर्भावस्था के दौरान इसका इस्तेमाल करती हैं तो इससे आपके बच्चे को कई गंभीर बीमारियां जैसे जन्म दोष भी हो सकता है।
    गर्भावस्था के दौरान इसका बिल्कुल भी इस्तेमाल ना करें।
    यदि आप इलाज के दौरान गर्भवती हो गई हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर को इस बारे में बताएं।
  • यदि आप अपने बच्चे को स्तनपान करवा रही है तो अपने डॉक्टर को बताए बिना इसका उपयोग न करें।
  • कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन को डॉक्टर की सलाह के बिना बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • यदि कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन लेने के बाद मरीज़ के शरीर में कोई बदलाव आता है जैसे चेहरे पर अचानक सूजन आना, शरीर में खुजली की समस्या होना, त्वचा पर जगह-जगह लाल चकत्ते आना, अस्थमा अटैक पड़ना, नाक में जलन की समस्या या रक्तस्राव की समस्या‍ होने पर तुरंत अपने डॉक्ट‍र को इस बारे में जानकारी दें।
  • पेट में रक्तस्राव या आंतों के अल्सर, लिवर और किडनी के मरीज़ों को इस कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन से इस्तेमाल से पहले अपने डॉक्टर को अपनी इन गंभीर बीमारियों और इसकी वास्तविक स्थिति के बारे में बताना चाहिए।
  • अगर आप किसी गंभीर बीमारी के इलाज के लिए या अन्य किसी भी तरह की दवा का सेवन कर रहे हैं तो कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन लेने से पहले डॉक्टर को बताएं।

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

loading image
 

4.कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन के साइड इफेक्ट्स क्या हैं ?

What are the side-effects of Chorionic Gonadotropin Injection in hindi

Chorionic Gonadotropin Injection ke side-effects kya hai in hindi

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन के कुछ सामान्य दुष्प्रभाव अन्य दवाओं की तरह ही हैं।

आपको इसका उपयोग करना बंद कर देना चाहिए अगर आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखाई दें तो :

  • एलर्जी की प्रतिक्रिया
  • श्वास के दौरान तकलीफ़
  • फेस, लिप्स, गले या जीभ पर सूजन।
  • रक्त के थक्के
  • पित्ती का समस्या
  • शरीर में दर्द
  • अत्यधिक गर्मी लगना
  • शरीर के पार्ट्स पर लालिमा आना
  • हाथ या पैरों में सुन्नता
  • हाथ या पैर में झुनझुनी
  • अत्यधिक चक्कर आना
  • गंभीर सिरदर्द आदि।

अन्य गंभीर दुष्प्रभाव निम्न हैं -

  • सिरदर्द
  • बेचैन या चिड़चिड़ा महसूस करना
  • हल्की सूजन
  • शरीर में पानी की मात्रा बढ़ जाना
  • डिप्रेशन
  • स्तन कोमलता या सूजन
  • इंजेक्शन वाली जगह पर दर्द, सूजन, या जलन

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन के अन्य दुष्प्रभाव -

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन का इस्तेमाल करने से कुछ महिलाओं में डिम्बग्रंथि हाइपरस्टीमुलेशन सिंड्रोम - ओएचएसएस (ovarian hyperstimulation syndrome - OHSS) नामक एक विकार की स्थिति विकसित हो जाती है, खासकर जब इसका पहला उपचार चक्र शुरू होता हैं।

ओएचएसएस इस समय जानलेवा हो सकता है जब आपको निम्नलिखित लक्षणों में से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत अपने डॉक्टर को संपर्क करें -

  • गंभीर पैल्विक दर्द
  • हाथ या पैर की सूजन
  • पेट में दर्द और सूजन
  • साँस लेने में परेशानी
  • वजन बढ़ना
  • दस्त लगना
  • उलटी आना
  • पेशाब में कमी आना।

इस दवा के इस्तेमाल से लड़कों में छोटी उम्र में ही यौवन के लक्षण दिखाई देने लगते हैं।

यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण हो जैसे आवाज़ गहरी हो जाना, जांघों के बाल बढ़ना, अधिक मुंहासे होना या जरूरत से अधिक पसीना आना, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

  • गर्भावस्था और स्तनपान (Pregnancy and breastfeeding)

यदि आप गर्भवती हैं तो कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन का उपयोग न करें।

गर्भावस्था के दौरान इसका उपयोग करने से गर्भ में पल रहे बच्चे और मां को नुकसान हो सकता हैं।

स्तनपान के दौरान कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन के उपयोग से बचें।

  • मधुमेह (Diabetes)

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन ब्लड शुगर के स्तर को कम कर सकता है।

मधुमेह के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दवाओं के साथ इसको लेने से दवाइयों का असर कम होता हैं।

  • उच्च या निम्न रक्तचाप (High or low blood pressure)

कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन इंजेक्शन रक्तचाप को कम कर सकता है।

इससे निम्न रक्तचाप वाले लोगों में रक्तचाप कम हो सकता है या उच्च रक्तचाप के इलाज के लिए उपयोग की जाने वाली दवाओं के साथ इसका सेवन करने से दवाइयों का असर कम हो सकता हैं।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: 01 Apr 2020

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें