Eczema mei kya khaye or kya na khaye in hindi

एक्ज़िमा में क्या खाएं और क्या न खाएं

What to eat and what to avoid in eczema in hindi

Eczema mei kya khaye or kya na khaye in hindi

एक नज़र


  • गलत खान-पान के कारण भी होती है एक्जिमा की समस्या।

  • एक्ज़िमा के मरीज़ों को डेयरी प्रोडक्ट्स से दूरी बनानी चाहिए।

  • अंडा खाने से भी होती है ये समस्या।

  • मछली खाना होता है फायदेमंद।

एक्ज़िमा एक ऐसी स्किन से संबंधित समस्या है, जो स्किन को खराब भी कर सकती है।

अगर किसी व्यक्ति को एक्ज़िमा की समस्या है, तो सबसे पहले उसका खान-पान अच्छा होना चाहिए।

कई बार एक्ज़िमा के समय अगर आप अपने खान-पान पर ध्यान नहीं देते हैं, तो उससे भी स्किन की ये समस्या काफी बढ़ जाती है।

एक्ज़िमा में कई ऐसी खाने की चीजें हैं, जो व्यक्ति को अवॉइड करनी ही चाहिए।

आइए हम आपको ऐसी चीजों से रू-ब-रू कराते हैं, जिन्हें आपको एक्ज़िमा के समय खाने से बचना चाहिए और साथ ही ये बताते हैं किन-किन चीज़ों का सेवन करना चाहिए।

 

1.एक्ज़िमा में किन खाद्य-पदार्थों से दूरी बनानी चाहिए

Foods to avoid in eczema in hindi

Eczema mein kin khane ki cheezo se duri rakhni chahiye in hindi

Eczema mein kin khane ki cheezo se duri rakhni chahiye in hindi
  • डेयरी प्रोडक्ट (Dairy Products) :

    एक्जिमा होने पर पैस्चराइज़्ड मिल्क जैसे डेयरी प्रोडक्ट से बचें, इससे हालत ज्यादा खराब हो सकती है।

    दरअसल पैस्चराइज़्ड मिल्क में मौजूद केसीन (casein) प्रोटीन से एक्जिमा से पीड़ित लोगों को परेशानी हो सकती है।

  •  ग्लूटेन (Gluten) :

    अगर आप एक्जिमा से पीड़ित हैं, तो आपको ग्लूटेन से भरपूर गेहूं, राई और जौ आदि खाने से बचना चाहिए।

    इसके बजाय आप किनोआ, अनाज और बाजरा खा सकते हैं।

  • सोया प्रोडक्ट (Soya Product) :

    सोया प्रोडक्ट्स में सोया मिल्क, टोफू और सोया नगेट्स आते हैं, जिनके सेवन से भी आपको बचना चाहिए।

    डॉक्टरों का कहना है कि जिन लोगों को एक्जिमा की समस्या होती है, उन्हें सोया प्रोडक्ट्स से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसे में उन्हें ये सभी पदार्थ रिएक्शन कर सकते हैं।

  • प्रेसेर्वटिवेस और पैकेज फूड्स युक्त (Preservatives and package products) :

    इस तरह के फूड्स से हालत अधिक गंभीर हो सकती है।

    दरअसल फूड ऐडिटिव एमएसजी (MSG- Monosodium glutamate) का फ्लेवर के रूप में इस्तेमाल किया जाता है, जिसे इंफ्लेमेशन (inflammation ) बढ़ने का खतरा होता है।

  • खट्टे पदार्थ (Sour Foods) :

    अगर आपको स्किन से संबंधित कोई भी परेशानी है, तो ऐसे में आपको नींबू, अनानास, स्ट्रॉबेरी (strawberry) और टमाटर (tomato) जैसे खट्टे खाने की चीजों से बचना चाहिए।

    इनका सेवन करने से आपको बैचेनी महसूस हो सकती है। 

  • अंडे (Eggs) :

    कई मामलों में अंडे एक्जिमा का कारण बन सकते हैं। वास्तव में अंडा खाने से आपकी हालत और गंभीर हो सकती है।

 

2.एक्ज़िमा में क्या खाना चाहिए

What to eat in eczema in hindi

Eczema mein kya khana chaiye in hindi

Eczema mein kya khana chaiye in hindi
  • मछली (Fish) :

    मछली, ओमेगा -3 फैटी एसिड (Omega-3 fatty acid) का एक नेचुरल सोर्स है, जो शरीर में सूजन से लड़ सकता है।

    जो सामन (salmon), अल्बाकोर ट्यूना( albacore tuna), मैकेरल (mackerel), सार्डिन(sardines) और हेरिंग (herrring) जैसी मछलियों में होता है।

  • क्वेरसेटिन (Quercetin) युक्त खाद्य पदार्थ :

    क्वेरसेटिन एक प्लांट-आधारित फ्लेवोनोइड (Flavonoids) है।

    ये कई फूलों, फलों और सब्जियों को उनके समृद्ध रंग देने में मदद करता है।

    यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट (antioxidant) और एंटीहिस्टामाइन (antihistamine) भी है।

    इसका मतलब यह आपके शरीर में हिस्टामाइन के स्तर के साथ-साथ सूजन को कम कर सकता है।

  • क्वैरसेटिन में उच्च खाद्य पदार्थों में शामिल हैं :

    • सेब (Apple)

    • ब्लू बैरीज़ (Blueberries)

    • चेरी (Cherry)

    • ब्रोकोली (Broccoli)

    • पालक (Spinach)

    • गोभी (Cauliflower)

  • प्रोबायोटिक्स (Probiotics) में उच्च खाद्य पदार्थ :

    प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थ, जैसे दही, में मौजूद बैक्टीरिया इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाने में मदद करता है।

    जो एलर्जिक रिएक्शन को कम करने में मददगार साबित होता है।

  • प्रोबायोटिक युक्त खाद्य पदार्थों में शामिल हैं :

    • सॉफ्ट चीज़ (cottage cheese, pot cheese)

    • दहीc(Yoghurt)

    • डार्क चॉकलेट (Dark chocolate)

    • एप्पल साइडर विनेगर (Apple cider vinegar)

    • प्राकृतिक रूप से बनाया गया अचार (Homemade pickle)

 

3.निष्कर्ष

Conclusion in hindi

Nishkarsh in hindi

एक्ज़िमा को कंट्रोल करने के लिए ज़रूरी है कि आपकी स्किन में नमी बरकरार रहे।

ऐसे में इसके लिए आप नियमित रूप से मॉइस्चरायज़र का इस्तेमाल ज़रूर करें।

इससे न सिर्फ त्वचा को ज़रूरी पोषण मिलता है बल्कि स्किन को ड्राई होने से भी बचाता है।