भारतीय कानून में पी.सी.पी.एन.डी.टी ऐक्ट (प्री-कांसेप्शन एंड प्री-नैटल डायगनोस्टिक टेकनिक्स), 1994 के तहत जन्म से पहले लिंग परीक्षण क़ानूनन अपराध है - इसके लिए पूछने वाले पर भी कार्रवाई की जाएगी। हम (zealthy) ऐसी किसी भी तकनीक का समर्थन नहीं करते हैं।

Weight gain what is weight gain and reasons of weight gain  Zealthy

वजन बढ़ना : क्या है वजन का बढ़ना और इसके कारण

Weight gain: what is weight gain and what are the reasons of weight gain in hindi

Wajan ka badhna: Kya hai vajan ka badhna aur iske karan in hindi

एक नज़र


  • तेजी से वजन का बढ़ना किसी गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है।

  • मोटापे का सबसे बड़ा कारण ख़राब जीवनशैली और अत्यधिक कैलोरी वाला खाना होता है।

  • कई लोगों के शरीर के वजन में अस्थिरता रहती है।

उम्र के साथ ज्यादातर लोगों में वजन का बढ़ना देखा गया है।

यदि किसी व्यक्ति का वजन कुछ ही समय में ज्यादा बढ़ा है तो उसे अपने डॉक्टर से सलाह ज़रूर लेनी चाहिए।

तेजी से वजन का बढ़ना किसी गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है।

अगर समय रहते उस बीमारी इलाज करा लिया जाए तो वजन का बढ़ना रोका जा सकता है।

आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि क्या है वज़न का बढ़ना और तेज़ी से वज़न बढ़ने के क्या कारण हो सकते हैं।

 

1.क्या है वजन का बढ़ना?

What is weight gain? in hindi

Kya hai wajan ka badhna in hindi

कई लोगों के शरीर के वजन में अस्थिरता रहती है।

कभी उनका वजन कम हो जाता है और कभी बढ़ जाता है।

समय के साथ-साथ वजन का बढ़ना एक आम बात है और ज्यादातर लोग अपने बढ़े हुए वजन को लेकर चिंतित भी रहते हैं।

लेकिन अगर व्यक्ति का वजन कुछ ही समय में अत्यधिक बढ़ जाए तो यह अधिक चिंता का कारण है।

कम समय में तेजी से वजन का बढ़ना शरीर में छुपी हुई किसी बीमारी की तरफ इशारा कर सकता है।

अगर शरीर का वजन एकदम से बढ़ जाए और वो रोज़मर्रा पर असर डालना शुरू कर दे तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

अगर शरीर में चर्बी ज्यादा हो जाए तो व्यक्ति मोटापे का शिकार हो जाता है।

मोटापे का सबसे बड़ा कारण ख़राब जीवनशैली और अत्यधिक कैलोरी वाला खाना होता है।

 

2.तेजी से वजन के बढ़ने के क्या कारण हो सकते हैं?

What are the causes of instant weight gain? in hindi

Teji se vajan ke badhane ke kya kaaran ho sakte hai in hindi

निम्न कारणों से शरीर का वजन तेजी से बढ़ सकता है :

  • दवाइयां (Medications)

    वजन का बढ़ना कई दवाइयों का साइड इफेक्ट्स (side effects) होता है।

    इनमें डिप्रेशन (depression) कम करने की दवा, स्टेरोइड्स (steroids), गर्भ-निरोधक दवाएं, डायबिटीज़ (diabetes) और ब्लड प्रेशर (blood pressure) की दवाइयां प्रमुख हैं।

    इस बात का अवश्य ध्यान रखें की कोई भी दवा डॉक्टर की सलाह के बिना लेना बंद या शुरू ना करें।

  • नींद न आना (Insomnia)

    नींद न आना भी वजन के बढ़ने का प्रमुख कारण है।

    नींद ना आने की वजह से व्यक्ति का निद्रा-चक्र असंतुलित हो जाता है जो उसके खान-पान और मूड को प्रभावित करता है।

    जिस कारण से व्यक्ति के खाने की मात्रा में वृद्धि होने लगती है, जो मोटापा का कारण है।

  • सिगरेट आदि छोड़ना (Quitting smoking)

    निकोटीन (nicotine) भूख को कम करता है।

    सिगरेट आदि छोड़ने के बाद कुछ दिन तक भूख अधिक लगती है और व्यक्ति अधिक खाना खाने लगता है।

    इसके अलावा सिगरेट छोड़ने के बाद तनाव की स्थिति उत्पन्न होती है जिसकी वजह से भी वजन बढ़ जाता है।

  • किडनी की समस्या (Problem in kidneys)

    अगर किडनी (kidney) में कोई दिक्कत आती है तो शरीर में पानी जमा होने लग जाता है जिसकी वजह से वजन बढ़ सकता है।

    किडनी (kidney) शरीर से हानिकारक पदार्थों को बाहर नहीं निकाल पाती, जिसके कारण वज़न बढ़ सकता है।

  • हृदय-सबंधित रोग (Heart related disorders)

    कुछ विशेष जगहों पर सूजन का आना या वजन का बढ़ना हृदय की बीमारी का संकेत हो सकता है।

    अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (American Heart Association) के अनुसार, 24 घंटे में 1-1.5 किलो से ज्यादा वजन का बढ़ना या एक सप्ताह में 2.25 किलो से ज्यादा वजन बढ़ना हृदय की बीमारी का संकेत है।

  • पोलीसिसटीक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic ovary syndrome)

    यह बीमारी महिलाओं में होती है। इसमें महिलाओं के अन्दर पुरुष होर्मोनेस (hormones) ज्यादा बनने लगते हैं।इस बीमारी की वजह से भी वजन बढ़ सकता है।

  • थाइरोइड-सम्बन्धी विकार (Thyroid disorders)

    थायरोक्सिन हॉर्मोन (thyroxine hormone) हमारे शरीर के मेटाबोलिज्म (metabolism) को बढ़ता है।

    शरीर में इस हॉर्मोन (hormone) की कमी से भी वजन बढ़ सकता है।

  • लीवर सिरहोसिस (Liver cirrhosis)

    अगर किसी व्यक्ति का वजन तेजी से बढ़ रहा है और उसका पेट फूला हुआ है तो यह लीवर सिरहोसिस (liver cirrhosis) का संकेत हो सकता है।
  • ओवरी का कैंसर (Ovarian cancer)

    ओवेरियन कैंसर (ovarian cancer) की वजह से भी वजन बढ़ सकता है।

    ओवेरियन कैंसर (ovarian cancer) के संकेत काफी बाद में नज़र आते हैं।

    इसलिए किसी भी महिला का वजन अचानक बढ़ा हो और उसके पेट में दर्द है तो उन्हें जल्द-से-जल्द डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

  • तनाव (Stress)

    तनाव में होने की वजह से व्यक्ति के खान-पान का तरीका असंतुलित हो जाता है।

    असंतुलित खान-पान की वजह से भी वजन बढ़ने की संभावना होती है।

  • कशिंग सिंड्रोम (Cushing’s syndrome)

    कुशीनग सिंड्रोम (Cushing’s syndrome) के कारण भी पेट, गर्दन, और चेहरे का वजन बढ़ सकता है।
  • अनुवांशिकता (Hereditary)

    वजन के बढ़ने में अनुवांशिकता महत्वपूर्ण भूमिका अदा करती है।

    इसके अलावा जो लोग पश्चिमी सभ्यता का खान-पान अपनाते हैं, उनका वजन ज्यादा तेजी से बढ़ता है।

  • उम्र (Aging)

    हमारी मांसपेशियां बहुत सारी कैलोरीज (calories) का इस्तेमाल करती हैं।

    जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, हमारी मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, जिसकी वजह से ज्यादा कैलोरीज (calories) का इस्तेमाल नहीं हो पाता।

    यह भी वज़न बढ़ने का कारण हो सकता है।

 

3.निष्कर्ष

Conclusion in hindi

Nishkarsh in hindi

कई कारणों से वजन तेजी से बढ़ता है। कुछ कारण मानसिक होते हैं तो कुछ शारीरिक और कुछ कारण खराब जीवनशैली के कारण उत्पन्न होते हैं।

वजन का बढ़ना कुछ दवाइयों का साइड इफ़ेक्ट (side effect), तनाव, अनिद्रा, किडनी (kidney), लीवर (liver) एवं हृदय की समस्याएं, ओवरी का कैंसर (ovarian cancer), थाइरोइड-विकार (thyroid disorder), कशिंग सिंड्रोम (Cushing syndrome), अनुवांशिकता और लीवर सिरहोसिस (liver cirrhosis) के कारण हो सकता है।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें