Pregnancy ke liye sahi umar kya honi chahiye

प्रेग्नेंसी के लिए सही उम्र क्या होनी चाहिए

What can be the right age to get pregnant in hindi

Pregnancy ke liye sahi umar kya honi chahiye

एक नज़र

  • स्वस्थ गर्भकाल के लिए सही उम्र का चयन जरूरी है।
  • कम आयु में गर्भधारण करने से माँ-बच्चा को ख़तरा हो सकता है।
  • 30 वर्ष की आयु से पहले पहले बच्चे का जन्म सही रहता है।
  • महिला की शारीरिक अवस्था भी माँ बनने की सही उम्र बताती है।

विश्व के हर हिस्से में युवक व युवती के विवाह की आदर्श उम्र के बारे में अलग-अलग विचार देखे गए हैं।

भारत व अन्य एशिया मूल के देशों में विवाह और उसके बाद संतान को जन्म देने के लिए युवक के लिए 20-25 वर्ष व युवती के लिए 18-23 वर्ष देखी जाती थी।

लेकिन आधुनिकता के दौर ने इस मान्यता को बदल दिया है और आज के युवक-युवती अपने काम को प्राथमिकता देते हुए परिवार बसाने के निर्णय को प्राथमिकता के दूसरे क्रम में देखते हैं।

इसी कारण अधिकतर युवतियाँ 25-30 वर्ष के बाद पहली संतान और 30-35 वर्ष के बाद दूसरी संतान को जन्म देने लगी हैं।

अपने कैरियर को संवारने में डूबे पति-पत्नी, प्रेग्नेंसी के लिए सही उम्र क्या होनी चाहिए जैसे महत्वपूर्ण प्रश्न को जैसे भूल ही गए हैं।

आज हम इस लेख में आपको बताएँगे कि गर्भधारण कि सही उम्र क्या है।

आइये देखें :

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

इस लेख़ में/\

  1. सामाजिक दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र
  2. मेडिकल दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र
  3. आर्थिक दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र
  4. शारीरिक दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र
  5. प्रेग्नेंसी के लिए सही उम्र क्या होनी चाहिए
  6. निष्कर्ष
 

1.सामाजिक दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र

Right age to get pregnant from social point of view in hindi

samajik drishti se maa banne ki sahi umar kya honi chahiye in hindi

भारतीय समाज में कुछ समय पहले तक बाल-विवाह की परंपरा थी, जिसके आधार पर 10-11 वर्ष के लड़के और 7-9 वर्ष की बालिका का विवाह करना अच्छा माना जाता था।

इसके परिणामस्वरूप छोटी बालिका का मासिक धर्म शुरू होने को ही माँ बनने की उम्र माना जाता था।

इसके कारण 13 वर्ष की आयु ही माँ बनने की सही उम्र मानी जाती थी।

लेकिन 1947 के बाद इस उम्र को बढ़ा कर पुरुष की विवाह योग्य आयु वैधानिक रूप से 21-25 वर्ष व स्त्री की 18-21 वर्ष कर दी गई है।

इसके परिणामस्वरूप माँ बनने की सही उम्र युवती की 20 वर्ष की आयु के बाद ही मानी जाती है।

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

 

2.मेडिकल दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र

Right age to get pregnant from medical point of view in hindi

medically maa banne ki sahi umar kya honi chahiye in hindi

चिकित्सा जगत के विशेषज्ञों का यह मानना है कि औसत रूप में महिलाओं कि प्रजनन क्षमता (Fertility) 20 वर्ष से 30 वर्ष तक अधिकतम रहती है।

इस आयु के बाद महिलाओं के प्रजनन अंगों में शिथिलता आने लगती है और प्रजनन क्षमता भी कम हो जाती है।

यदि 30-35 वर्ष की आयु में महिला मां बनने के उपाय करतीं हैं तब शिशु को किसी प्रकार का विकार होने की संभावना हो सकती है।

35 वर्ष की आयु के बाद स्त्री अगर बच्चे को जन्म देती हैं तब उन बच्चों में शारीरिक या मानसिक अथवा दोनों ही प्रकार की विकलांगता की संभावना बढ़ जाती है।

इसलिए चिकित्सक 20-30 वर्ष की आयु को ही प्रेग्नेंसी प्लान (pregnancy planning tips in hindi) करने की सही उम्र मानते हैं।

 

3.आर्थिक दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र

Right age to get pregnant from financial point of view in hindi

financially maa banne ki sahi umar kya honi chahiye in hindi

परिवार में एक बच्चे का जन्म खुशी ही नहीं बल्कि ज़िम्मेदारी भी बढ़ाता है।

इसलिए जब तक शिशु के माता-पिता इस ज़िम्मेदारी को सही तरीके से निभाने में समर्थ न हों, उन्हें परिवार आगे बढ़ाने के बारे में नहीं सोचना चाहिए।

सामान्य रूप से 25 वर्ष की आयु तक एक युवक आर्थिक रूप से व्यवस्थित हो जाता है।

लेकिन वर्तमान समय में कुछ युवक स्वयं को 27-28 वर्ष की आयु तक वित्तीय रूप से स्वतंत्र मानते हैं।

इस अर्थ में 25-27 वर्ष की आयु से पहले स्त्री, गर्भधारण के लिए कैसे तैयार हों (how to prepare for trying for a baby) के प्रश्न में ही उलझी रह सकती है।

loading image

अस्सिटेड रिप्रोडक्टिव तकनीक से मातृत्व का अनुभव करें| हम कर सकते हैं आपकी मदद!

बुक करें

 

4.शारीरिक दृष्टि से माँ बनने की सही उम्र

Right age to get pregnant from physical health point of view in hindi

physical health ke point of view se maa banne ki sahi umar in hindi

सामान्य रूप से एक औसत महिला के प्रजनन अंग 20 वर्ष की आयु के बाद गर्भधारण करने के लिए तैयार हो जाता है।

इस समय महिलाओं की सभी अंगों में विशेष कर हड्डियों में पूर्ण रूप से लोचशीलता होती है।

इसके अतिरिक्त 30 वर्ष के बाद और 35 वर्ष की आयु के होने तक महिलाओं के शरीर में हार्मोनल परिवर्तन आने शुरू हो जाते हैं।

प्रजनन अंगों में सूखापन और कठोरता शुरू होने के कारण गर्भधारण और प्रसव में कठिनाई आ सकती है।

इसके अतिरिक्त ब्रेस्ट कैंसर, गर्भाशय का कैंसर आदि जैसी परेशानियाँ भी खड़ी हो सकती हैं।

आधुनिक समय में कैरियर ओरियंटिड महिलाएं 40 वर्ष की आयु के बाद जब माँ बनने का निर्णय लेती हैं तब वे शिशु के स्वास्थ्य के साथ एक तरह से जोखिम लेती हैं।

इसलिए शरीर की सुनें तो 30 वर्ष के बाद और अधिकतम 35 वर्ष की आयु के बाद माँ बनना एक जोखिम को जानते-बूझते आमंत्रण देना माना जाता है।

और पढ़ें:How to conceive a baby boy - A Scientific Approach

 

5.प्रेग्नेंसी के लिए सही उम्र क्या होनी चाहिए

Right Age to get pregnant in hindi

pregnancy ke liye sahi umar kya honi chahiye in hindi

सामान्य रूप से यह देखा गया है कि एक स्वस्थ स्त्री के लिए माँ बनने का सही उम्र 30 वर्ष से कम मानी जाती है।

स्त्री के शरीर में 20 से 30 वर्ष की आयु तक प्रजनन क्षमता अधिकतम रहती है और इसके बाद इसमें कमी आने लगती है।

इस कारण प्राकृतिक रूप से माँ बनने की संभावनाएँ कम होने लगती हैं।

इसके अतिरिक्त उम्र बढ़ने के साथ ही महिला के शरीर में अंडाणु का निर्माण होना भी धीरे-धीरे कम होने लगता है जो गर्भधारण करने में परेशानी खड़ी कर सकता है।

इसलिए चिकित्सकों की दृष्टि से 20 से 30 वर्ष की आयु ही स्त्री के लिए उचित और उपयुक्त मानी जाती है।

परिवार में एक बच्चे का जन्म अनेकों ख़ुशियों का कारण होता है।

इन ख़ुशियों को हमेशा के लिए बनाए रखने के लिए जरूरी है कि बच्चे के जन्म के समय माता-पिता की आयु और आर्थिक व शारीरिक क्षमता भी उपयुक्त स्तर पर होनी चाहिए।

और पढ़ें:Uterine Fibroids and its treatment

 

6.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

एक स्त्री कब माँ बने, सामान्य रूप से यह उसका निजी निर्णय होता है।

लेकिन महिला के शरीर की संरचना को ध्यान में रखते हुए 20-30 वर्ष की आयु तक माँ बनने के निर्णय लेना सही माना जाता है।

30 वर्ष की आयु के बाद स्त्री के शरीर में होने वाले परिवर्तन, शिशु जन्म को कठिन और माँ व बच्चा को विभिन्न प्रकार के रोगों का शिकार बना सकते हैं।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि:: 26 May 2020

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें