pregnancy se pahle exercise karne sambandhi upyogi tips

प्रेग्नेंसी के लिए शरीर को तैयार करते समय व्यायाम संबंधी उपयोगी टिप्स

Tips of exercising when you are preparing your body to conceive in hindi

pregnancy se pahle exercise karne sambandhi upyogi tips

एक नज़र

  • प्रेग्नेंट होने से पहले शारीरिक व्यायाम शरीर को स्वस्थ रख सकता है।
  • व्यायाम को चुनते समय अपनी शारीरिक अवस्था को ध्यान में रखें।
  • एक अच्छा चिकित्सक सही व्यायाम की सलाह दे सकता है।
  • जीवनसाथी के साथ किए जाने वाले व्यायाम प्रसन्नता और स्वास्थ्य दे सकते हैं।

किसी भी महिला की जिंदगी में गर्भावस्था या प्रेग्नेंसी वह समय होता है जो महिला को आंतरिक खुशी देता है तो कभी इनके कारण शारीरिक कष्ट भी उठाने पड़ते हैं।

अधिकतर महिलाएं इस बात को भूल जाती हैं कि अगर वे चाहें तो गर्भधारण के निर्णय से पूर्व अपने शरीर को इन परिवर्तनों के लिए तैयार भी कर सकती हैं।

दूसरे शब्दों में कहा जाए तो शरीर को प्रेग्नेंसी के लिए तैयार करने के लिए कुछ काम करने अनिवार्य होते हैं।

किसी महिला द्वारा गर्भधारण से पहले नियमित व्यायाम के द्वारा स्वयं को शारीरिक और मानसिक रूप से सुदृढ़ बनाना एक अच्छा कदम माना जाता है।

नियमित व्यायाम के द्वारा न केवल गर्भकाल सुरक्षित रूप से व्यतीत हो सकता है बल्कि प्रसव प्रक्रिया में भी आसानी हो सकती है।

आज हम आपको इस लेख में गर्भ से पहले शरीर को तैयार करने के लिए व्यायाम करने संबंधी कुछ उपयोगी टिप्स दिये जा सकते हैं जिनके कारण आपको व्यायाम का पूर्ण लाभ मिल सकता है।

एक नज़र टिप्स पर :

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

इस लेख़ में/\

  1. गर्भ के लिए शरीर को तैयार करने के लिए कितना व्यायाम करना चाहिए
  2. ओव्यूलेशन के अनुसार ही व्यायाम करें
  3. गर्भधारण की कोशिश करते समय कब व्यायाम न करें
  4. गर्भधारण से पहले भारी व्यायाम से बचें
  5. गर्भधारण की कोशिश करने वाले व्यायाम में पति को शामिल करें
  6. निष्कर्ष
 

1.गर्भ के लिए शरीर को तैयार करने के लिए कितना व्यायाम करना चाहिए

How much exercise should be done before trying to get pregnant in hindi

garbh ke liye sharir ko taiyar karne ke liye kitna vyayam karna chahiye

सामान्य रूप से एक इस प्रश्न का उत्तर किसी भी महिला के लिए सरल होते हुए भी थोड़ा कठिन प्रतीत होता है।

इसके लिए आपको यह ध्यान रखना होगा कि अगर आप हफ्ते में दो दिन कुछ कदम टहलने को ही व्यायाम मानती हैं तो आपको एकदम से मुश्किल व्यायाम शुरू नहीं करना है।

अपने व्यायाम की शुरुआत हफ्ते में 2.5 घंटे के समय से शुरू कर सकती हैं।

इस समय को आप धीरे-धीरे 5 घंटे तक बढ़ा सकती हैं।

लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि आपको प्रसव होने तक केवल मध्यम स्तर के व्यायाम ही करने होंगे क्योंकि कठिन व्यायाम से आपकी प्रजनन क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।

इसलिए बेहतर होगा की प्रजनन क्षमता के लिए सर्वश्रेष्ठ व्यायाम के लिए या तो किसी अच्छे डाइटीशियन से या फिर अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

इसके बाद उनकी सलाह के अनुसार ही आप अपने लिए अच्छी और सही व्यायाम दिनचर्या का चयन कर लें।

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

 

2.ओव्यूलेशन के अनुसार ही व्यायाम करें

Select the exercise programme according to your ovulation cycle in hindi

Ovulation ke anusar hi vyayam kare

गर्भधारण की कोशिश करते समय ओवुलेशन पीरियड (ओवुलेशन का समय - वह समय जब महिला की ओवरी से अंडाणु निकल कर फैलोपिन ट्यूब तक पहुँच जाते हैं) पुरुष के साथ सेक्स करने पर प्रेंगनेट होने की संभावना सबसे अधिक होती है।

इसलिए इस समय आप अगर गर्भधारण का प्रयास कर रहीं हैं तो जल्दी गर्भधारण करने के लिए व्यायाम का चयन करते समय मध्यम स्तर के व्यायाम को ही अपनाएँ।

भारी व्यायाम आपके गर्भ धारण के प्रयासों में बाधा पहुंचा सकते हैं।

इसलिए हल्की सैर, सुबह-शाम का टहलना इन दिनों के लिए उपयुक्त व्यायाम माने जा सकते हैं।

 

3.गर्भधारण की कोशिश करते समय कब व्यायाम न करें

When you shouldn't exercise while trying to conceive in hindi

Garbh Dharan ki koshish karte samay kab vyayam na kare

जब एक स्त्री गर्भधारण का प्रयास कर रही हो तब वो काम जो गर्भधारण की कोशिश करते समय नहीं करने चाहिए ध्यान रखने बहुत ज़रूरी होते हैं।

इनमें सबसे प्रमुख हैं कि कुछ विशेष स्थितियों में व्यायाम या तो नहीं करने चाहिए या फिर बिना डॉक्टर की सलाह लिए नहीं करने चाहिए।

यह स्थितियाँ में व्यायाम नहीं करने चाहिए:

  • मासिक धर्म का न होना (Amenorrhea)

  • अनियमित मासिक धर्म होना

  • कम शारीरिक वजन

  • शरीर में चर्बी का न्यूनतम लेवल

  • प्रोटीन की कमी

  • रेस लगाने में परेशानी

  • भारी समान उठाने में तकलीफ़ होना

इनमें से किसी भी परेशानी या अन्य कोई भी ऐसी परेशानी होने पर कभी भी अपने आप कोई भी व्यायाम, चाहे वो एक साधारण सैर भी क्यों न हो, नहीं करना चाहिए।

इसका मुख्य कारण है कि प्रत्येक शरीर किसी भी प्रकार के व्यायाम या एक्टिविटी का जवाब अलग तरह से देता है। जैसे यदि किसी को चलने में परेशानी हो तब थोड़ी सी सैर में भी उन्हें तकलीफ़ हो सकती है।

अगर किसी महिला के शरीर में चर्बी सामान्य से भी कम है तो उन्हें किसी भी व्यायाम से तकलीफ़ हो सकती है।

इसके अतिरिक्त व्यायाम के बाद अनिवार्य रूप से लिया जाने वाला पानी और नींद और विशेष स्थितियों में प्रोटीन भी महिला की शारीरिक स्थितियों और बनावट के आधार पर ही लिया जाना चाहिए।

loading image

अस्सिटेड रिप्रोडक्टिव तकनीक से मातृत्व का अनुभव करें| हम कर सकते हैं आपकी मदद!

बुक करें

 

4.गर्भधारण से पहले भारी व्यायाम से बचें

Avoid heavy exercise while trying to conceivein hindi

Garbh dharan se pahle bhari vyayam se bache

गर्भधारण के लिए शरीर को पोषक तत्व देने और व्यायाम के माध्यम से उसे स्वस्थ रखना अनिवार्य है।

इसलिए मध्यम स्तर के व्यायाम जैसे टहलना, हल्की दौड़ आदि से शुरू करके गर्भवती होने से पहले तक भारी व्यायाम या कार्डियो एक्सरसाइज़ ज़रूर करें।

इसके लिए लंबी दौड़, तैरना, रेस लगाना और जॉगिंग जैसे व्यायाम ज़रूर करें।

इससे आपके शरीर में आंतरिक मज़बूती के साथ ही हृदय भी पूर्ण रूप से स्वस्थ रह पाएगा।

इसके साथ ही आप डॉक्टर की सलाह के अनुसार फैट युक्त भोजन भी कर सकती हैं।

इस प्रकार के संतुलन से आपको पूर्ण गर्भकाल में दुरुस्त सेहत बनाए रखने में आसानी हो सकती है।

और पढ़ें:अल्फा-फेटोप्रोटीन टेस्ट क्या है और क्यों पड़ती है इसकी ज़रूरत

 

5.गर्भधारण की कोशिश करने वाले व्यायाम में पति को शामिल करें

Include your husband in exercise programme while trying to conceivein hindi

Garbh dharan ki koshish karne waale vyayam me pati ko shamil kare

जिस प्रकार आप जीवन के हर काम में अपने पति का साथ लेती हैं उसी प्रकार प्रेग्नेंट की तैयारी के लिए किए जाने वाले व्यायाम में भी जीवन साथी का साथ लें।

उनके आपके साथ व्यायाम करने से न केवल दोनों के मध्य प्रेम भरे पलों में वृद्धि होगी बल्कि पुरुष शुक्राणु के स्वास्थ्य में भी वृद्धि हो सकेगी।

पुरुष द्वारा व्यायाम किए जाने पर स्वस्थ शुक्राणुओं की संख्या में वृद्धि होती है और इससे महिला के गर्भधारण की संभावना भी बढ़ जाती है।

और पढ़ें:एचसीजी गर्भावस्था परीक्षण - आमतौर से पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर

 

6.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

गर्भधारण से पूर्व स्वस्थ होने के लाभ में नियमित व्यायाम का विशेष महत्व माना जाता है।

इसलिए गर्भधारण के लिए शरीर को तैयार करते समय किए जाने वाले व्यायाम की दिनचर्या को बनाने में डॉक्टर की सलाह अवश्य लें

डॉक्टर आपकी शारीरिक, मानसिक और चिकित्सीय परिस्थितियों के आधार पर उपयुक्त व्यायाम दिनचर्या का चयन करने में मदद कर सकते हैं।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: 11 Jul 2019

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें