Semen Analysis male fertility | Zealthy

वीर्य विश्लेषण प्रक्रिया और पुरुष बांझपन उपचार में भूमिका

Semen analysis procedure and it's role in male infertility treatment in hindi

Semen Analysis kya hai, iski prakriya aur Male Infertility mein yah kaise sahayak hai in hindi

एक नज़र


  • वीर्य विश्लेषण परीक्षण पुरुष के वीर्य नमूने का एक संपूर्ण टेस्ट रिपोर्ट है।

  • इसकी मदद से आप पुरूष बांझपन के कारणों का पता लगा सकते हैं।

  • भारत में वीर्य विश्लेषण परीक्षण का खर्च 800 रुपये तक हो सकता है।

यदि आप एक लंबे समय से (एक वर्ष से अधिक) गर्भधारण की कोशिश कर रही हैं और सफल नहीं हो पा रही हैं तो यह बांझपन विशेषज्ञ के पास जाने का सही समय है।

ऐसा इसीलिए ज़रूरी है क्योंकि आप और आपके साथी या दोनों भागीदारों में प्रजनन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। 

यदि हम विशेष रूप से पुरुष प्रजनन मुद्दों की बात करते हैं, तो इसका निदान वीर्य विश्लेषण परीक्षण की मदद से किया जा सकता है।

वीर्य विश्लेषण परीक्षण (semen analysis test) पुरुष के वीर्य नमूने पर एक संपूर्ण टेस्ट रिपोर्ट है। 

भारत में वीर्य विश्लेषण परीक्षण की लागत 250/ से 800/ तक हो सकती है।

लागत प्रयोगशाला पर निर्भर करती है। 

यहां वीर्य विश्लेषण की विस्तृत जानकारी और इसकी प्रक्रिया और आवश्यकताओं के बारे में बताया गया है।

 

1.वीर्य विश्लेषण क्या है?

What is semen analysis? in hindi

Semen analysis kya hota hai in hindi

जैसा कि नाम से पता चलता है, वीर्य विश्लेषण वीर्य (semen) का विश्लेषण है।

वीर्य में शुक्राणु पाए जाते हैं, जो प्रजनन के लिए जिम्मेदार होते हैं।

मेडिकल साइंस में प्रगति के साथ, वीर्य की गुणवत्ता और मात्रा का परीक्षण करने के लिए विभिन्न मापदण्डों पर वीर्य को टेस्ट करना संभव है।

इससे पहले कि हम बहुत विस्तार में जाएं, आपके लिए यह महत्वपूर्ण है कि आप किसी पुरुष के शरीर में मौजूद वीर्य की कुछ मूल बातें जान लें। 

वीर्य में शुक्राणु (sperms), वीर्य द्रव, एंजाइम (enzyme) और फ्रुक्टोज होते हैं।

वीर्य विश्लेषण के दौरान सबसे आम पैरामीटर शुक्राणुओं की संख्या की जांच होती है।

स्पर्म काउंट तब सामान्य कहा जाता है जब गिनती 15 मिलियन से 200 मिलियन प्रति मिलीलीटर से अधिक हो।

शुक्राणुओं की संख्या 15 मिलियन प्रति मिलीलीटर से कम होने पर स्पर्म काउंट में कमी मानी जाती है। 

जब शुक्राणुओं की संख्या 39 मिलियन प्रति एजाकुलेशन से कम होती है, तब भी लो स्पर्म काउंट (low sperm count) माना जाता है।

यदि रिपोर्ट शुक्राणु की संख्या कम दिखाती है, तो यह आवश्यक है कि आप बिना किसी देरी के आवश्यक पुरुष बांझपन उपचार करवाएँ।

शुक्राणु विश्लेषण परीक्षण रिपोर्ट आपको बांझपन के पीछे के कारणों का पता लगाने में मदद करती है।

 

2.वीर्य विश्लेषण की प्रक्रिया क्या है?

What is the procedure of semen analysis? in hindi

Semen analysis kaise kiya jata hai in hindi

इससे पहले कि आप वीर्य विश्लेषण प्रक्रिया शुरू करें, यह महत्वपूर्ण है कि आप वीर्य विश्लेषण प्रक्रिया के मूल चरणों को जान लें।

सबसे पहले, आपको वीर्य विश्लेषण प्रक्रिया के बारे में विशेषज्ञ से परामर्श करने की आवश्यकता है।

आपको यह तभी करवाना चाहिए जब डॉक्टर इस परीक्षण का सुझाव दें।

वीर्य विश्लेषण परीक्षण लैबोरेटरीज़ या डाइयग्नोस्टिक सेंटर में किया जा सकता है।

डॉक्टर आपको एजाकुलेशन की मदद से एक निजी कमरे में कंटेनर में वीर्य जारी करने के लिए कह सकते हैं।

यहां, डॉक्टर और कर्मचारी सुनिश्चित करते हैं कि आप हस्तमैथुन की मदद से वीर्य को एक कप में छोड़े और असहज महसूस न करें।

वीर्य इकट्ठा करने का एक और तरीका यह है कि आपको घर पर एजाकुलेट करने के लिए कहा जाता है और 24 घंटे की समयावधि में संग्रह कप में डॉक्टर के कार्यालय में वीर्य लाया जाता है।

इस समय के दौरान, यह आवश्यक है कि आप रूम टेंपरेचर (room temperature) पर वीर्य को संरक्षित करें।

वीर्य संग्रह के कदम से पहले, ज़रूरी है कि आप कम से कम 3-5 दिनों की अवधि के लिए सेक्स न करें या हस्तमैथुन न करें।

इससे सेंपल लेते वक़्त शुक्राणुओं की ऊंची संख्या को बनाए रखने में मदद मिलती है।

 

3.पुरुष बांझपन उपचार में वीर्य विश्लेषण कैसे मदद करता है?

How does semen analysis help in male infertility treatments? in hindi

Semen analysis male infertility me is tarah madad karta hai in hindi

यदि आप और आपकी पत्नी लंबे समय से बच्चा पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं, तो वीर्य विश्लेषण परीक्षण है यह समझने में मदद करेगा कि बांझपन का कारण क्या है। 

एक पुरुष के शुक्राणुओं से संबंधित कई निष्कर्ष वीर्य विश्लेषण प्रक्रिया की मदद से सामने आते हैं। उनमें से कुछ इस प्रकार हैं :-

  • स्पर्म काउंट (Sperm count)

    शुक्राणुओं की संख्या 15 मिलियन प्रति मिलीलीटर सामान्य बताई गई है।

    यदि शुक्राणु की संख्या 15 मिलियन प्रति मिलीलीटर से कम है, तो इसे ओलिगोस्पर्मिया (oligospermia) के रूप में जाना जाता है।

    यदि वीर्य के नमूने में शुक्राणु की संख्या शून्य है, तो इस स्थिति को एज़ोस्पर्मिया (azoospermia) के रूप में जाना जाता है।

    इस मामले में पुरुष साथी को पुरुष बांझपन उपचार से गुजरना पड़ता है। 

  • स्पर्म शेप (Sperm shape)

    शुक्राणु आकार एक महत्वपूर्ण पहलू है, जो एक व्यक्ति के शुक्राणु के स्वास्थ्य का भी फैसला करता है।

    लैब में, शुक्राणु का आकार शुक्राणु के सिर, मध्य-भाग और शुक्राणु की पूंछ जैसे भागों के टेस्ट की सहायता से निर्धारित किया जाता है।

    यदि स्पर्म काउंट का 50% से अधिक हिस्सा सामान्य आकार का है, तो इसे सामान्य माना जाता है।

    यदि असामान्य रूप से आकार वाले शुक्राणु 50% से अधिक हैं, तो आपको आवश्यक बांझपन उपचार की आवश्यकता है। 

  • पीएच वैल्यू (pH value)

    स्वस्थ प्रजनन प्रणाली के लिए शुक्राणु को 7.2 से 8.0 पीएच के बीच एक पीएच की आवश्यकता होती है।

    यदि यह इस स्तर से अधिक है, तो यह दिखाता है कि पुरुष को संक्रमण है।

    यदि परिणाम इस सीमा से कम हैं तो यह दिखाता कि एजाकुलेशन डक्ट (ejaculatory duct) में दोष है। 

  • शुक्राणु की गति (Sperm motility)

    यह सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है, जो सफल प्रेग्नेनन्सी की ओर ले जाता है।

    नॉर्मल स्पर्म मोटिलिटी के लिए कम से कम 50% शुक्राणुओं को एजाकुलेशन के एक घंटे बाद सामान्य तरीके से गतिशील होने की ज़रूरत होती है।

  • वीर्य की मात्रा (Sperm volume)

    डब्यूएचओ के अनुसार, वीर्य की मात्रा कम से कम 1.5 मिलीलीटर के होनी चाहिए।

    वीर्य की एक कम मात्रा सेमीनल वेसिकल्स (seminal vesicles) के आंशिक या पूर्ण ब्लॉकेज (blockage) या सेमीनल वेसिकल्स के जन्मजात अभाव का परिणाम हो सकती है।

  • फ्रुक्टोज स्तर (Fructose level)

    13 माइक्रोमोल / नमूने का फ्रुक्टोज की स्तर सामान्य माना जाती है।

    इससे कम स्तर सेमीनल वेसिकल्स में रुकावट या उनकी पूर्ण अनुपस्थिति का संकेत दे सकता है।

  • द्रवीकरण  समय (Liquefaction time)

    एनआईसीई दिशा निर्देशों के अनुसार, 60 मिनट से कम का द्रवीकरण समय सामान्य माना जाता है।

    यह वीर्य को द्रवीभूत करने के लिए लिया गया समय है।

 

4.पुरुषों में कम शुक्राणुओं की संख्या के कारण क्या हैं?

What are the causes of low sperm count in men? in hindi

Purushon me kam sperm count kyon ho jaate hain in hindi

निम्न कारणों से एक आदमी में कम शुक्राणु की संख्या होती है :- 

  • व्यावसायिक तनाव

  • अस्वस्थ जीवन शैली

  • नियमित शराब का सेवन

  • भावनात्मक तनाव

  • लंबे समय तक मोटापा  (Sperm testing issues)

  • शुक्राणु परीक्षण के मुद्दे

  • तंबाकू इस्तेमाल

  • प्रोस्टेट और अंडकोष में संक्रमण (Infections in the prostate and testicles)

  • हार्मोनल असंतुलन (मुख्य रूप से टेस्टोस्टेरोन प्रभावित होता है)

  • यौन संचारित रोगों का इतिहास  (Sexually transmitted diseases)

 

5.निष्कर्ष

Conclusion in hindi

Nishkarsh in hindi

वीर्य विश्लेषण प्रक्रिया प्रजनन स्तर का पता लगाने का बेहतरीन तरीका है।

इससे आपको एक पिता बनने के अवसरों को जानने में मदद मिलेगी।

यदि आप एक वर्ष से अधिक समय से गर्भधारण की कोशिश कर रही हैं, और सफल नहीं हो पा रही हैं तो आपके पति का वीर्य विश्लेषण टेस्ट यह पता लगाने में सहायता करेगा कि कहीं वो पुरुष बांझपन का शिकार तो नहीं।