ओव्यूलेशन क्रैम्प के लक्षण, कारण, और इलाज क्या है

ओव्यूलेशन क्रैम्प के लक्षण, कारण, और इलाज क्या है

Ovulation cramps: symptoms, causes and treatment in hindi

Ovulation cramps ke lakshan, karan aur ilaj kya hai

एक नज़र

  • ओव्यूलेशन दर्द पेल्विक और निचले पेट में होने वाला दर्द है, जो कुछ महिलाओं को ओव्यूलेशन के दौरान अनुभव होता है।
  • ओव्यूलेशन दर्द आम है और किसी गंभीर समस्या का संकेत नहीं माना जाता।
  • इस दर्द को मित्तेल्स्चर्ज़ (mittelschmerz) के नाम से भी जाना जाता है।

कुछ महिलाओं को ओव्यूलेशन के समय के आसपास हल्के ऐंठन या दर्द का अनुभव हो सकता है। इस दर्द को चिकित्सकीय रूप से मित्तेल्स्चर्ज़ (mittelschmerz) के नाम से जाना जाता है।

यह जानना ज़रूरी है कि हर महिला को ओवुलेशन के दौरान दर्द नहीं होता। यहां तक कि अगर आप नियमित रूप से ओवुलेशन के साथ दर्द का अनुभव करती हैं, तो जरूरी नहीं कि आप हर महीने यह दर्द महसूस करें।

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image

इस लेख़ में/\

  1. ओवुलेशन दर्द की पहचान
  2. ओवुलेशन दर्द का कारण
  3. ओव्यूलेशन दर्द और अन्य दर्द के बीच अंतर
  4. ओव्यूलेशन दर्द का उपचार
  5. निष्कर्ष
 

1.ओवुलेशन दर्द की पहचान

Identification of ovulation cramps in hindi

ovulation ke doran hone wale dard ko kaise pehchane

ओव्यूलेशन दर्द एक या दो दिन से अधिक समय तक रह सकता है, आम तौर पर यह कुछ मिनटों से लेकर कुछ घंटों तक ही चलता है।

यह ओव्यूलेशन से ठीक पहले होता है और आमतौर पर आपके पेट के निचले हिस्से में एक तरफ हल्का, सुस्त, दर्द महसूस होता है।

कुछ महिलाओं में दर्द तेज और तीव्र हो सकता है।

और पढ़ें:अजवायन से पाएँ पीरियड्स के दर्द से छुटकारा

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

2.ओवुलेशन दर्द का कारण

Causes of ovulation cramps in hindi

ovulation ke doran hone wale dard ke karan

ओव्यूलेशन तब होता है जब ओवेरियन फोल्लिकल (ovarian follicle) से एक मेच्युर अंडा (mature egg) रिलीज होता है।

यह आमतौर पर एक महिला के मासिक धर्म चक्र के मध्यम से होता है। यदि आपका मासिक धर्म चक्र 28 दिनों का है, तो ओव्यूलेशन 14वें दिन होगा (यानि कि पीरियड्स के पहले दिन से 14वें दिन)।

ओवुलेशन दर्द का सटीक कारण पूरी तरह से ज्ञात नहीं है, लेकिन यह विभिन्न कारणों से हो सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  • ओवेरियन फोल्लिकल का तेजी से विकास और विस्तार - इस स्ट्रेचिंग (stretching) से दर्द हो सकता है।

  • ओव्यूलेशन के समय होने वाली रक्त, तरल पदार्थ और अन्य रसायनों की क्रिया जिसके फलस्वरूप पेट की परत और पेल्विस (Pelvis) में जलन होने लगती है। यह जलन भी ओवुलेशन दर्द का कारण बन सकती है।

और पढ़ें:अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

 

3.ओव्यूलेशन दर्द और अन्य दर्द के बीच अंतर

Difference between ovulation cramps and other pains in hindi

kaise pehchane ki dard ovulation ke karan ho raha hai ya kisi anya karan se

ओव्यूलेशन दर्द और अन्य प्रकार के दर्द के बीच अंतर बताना मुश्किल हो सकता है, खासकर तब जब आप अपने मासिक धर्म चक्र को ट्रैक नहीं करती हैं या आप नहीं जानती हैं कि ओव्यूलेशन कब हो रहा है।
ओव्यूलेशन दर्द के कुछ लक्षणों में शामिल हैं:

  • अचानक दर्द, ऐसा दर्द जो समय के साथ तीव्र नहीं होता

  • दर्द जो दो मासिक धर्म चक्रों के बीच में अचानक से प्रकट होता है

  • शरीर के केवल एक तरफ दर्द

ओव्यूलेशन दर्द तेज या सुस्त हो सकता है। यह एक सनसनी या ऐंठन की तरह लग सकता है।

ओव्यूलेशन दर्द आमतौर पर गंभीर नहीं होता। यह आमतौर पर अपने आप होता है, यदि यह अन्य लक्षणों के साथ होता है, तो संभवतः इसके कारण और हैं।
नीचे दिये गए संकेत बताते हैं कि ये दर्द ओव्यूलेशन के कारण नहीं, बल्कि अन्य कारण से हैं:

  • शरीर के दोनों तरफ दर्द

  • दर्द जो लगातार बदतर हो जाता है

  • दर्द जो कई दिनों तक रहता है

  • योनि से खून बह रहा है

  • चोट लगने के बाद होने वाला दर्द

  • सूजन

  • उल्टी या दस्त

  • मूत्र त्याग करने में दर्द

और पढ़ें:अनियमित माहवारी का इलाज

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

4.ओव्यूलेशन दर्द का उपचार

Treatment of ovulation cramps in hindi

ovulation cramps ka ilaj kaise karein

ओव्यूलेशन दर्द आमतौर पर हल्का होता है और उपचार की आवश्यकता नहीं होती है।

जिन महिलाओं को बहुत तीव्र दर्द होता है, वे निम्नलिखित उपचारों में से एक को आजमा सकती हैं:-

  • एक नॉन-स्टेरायडल एंटी-इंफ़्लेम्मटरी दवा (Non-Steroidal Anti-inflammatory Drug - NSAID), जैसे कि इबुप्रोफेन (Ibuprofen) लेना,

    जो महिलाएं अपने माहवारी चक्रों का चार्ट बनाती हैं, वे ओवुलेशन के दिन की भविष्यवाणी करने में सक्षम हो सकती हैं और दर्द शुरू होने से पहले एनएसएआईडी (NSAID) लेने पर विचार कर सकती हैं।

  • स्ट्रेचिंग (Stretching)

    मांसपेशियों में तनाव को दूर कर दर्द को कम करने में मदद कर सकता है।

  • हॉट पैक (Hot pack)

    दर्द वाली जगह पर 20 मिनट के लिए हॉट पैक लें।

ये हल्के उपचार उन लोगों के लिए सही हैं जिन्हें कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या नहीं है। यदि आपको शक है की आपका दर्द मिट्टेल्सर्माज़ के कारण नहीं है, तो आपको डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी में गर्भधारण कैसे करे

 

5.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

ओव्यूलेशन दर्द आम है और किसी विशेष समस्या का संकेत नहीं है। कई महिलाओं को अपने ओव्यूलेशन का समय नहीं मालूम होता, जिससे अन्य प्रकार के दर्द के साथ मित्तेल्शर्ज़ दर्द का कन्फ़्युशन (confusion) पैदा हो जाता है।

यदि आपका दर्द गंभीर है या भारी रक्तस्राव, बुखार या मतली के साथ है तो एक डॉक्टर से बात करें।

एक डॉक्टर की सलाह दर्द का निदान करने में मदद कर सकती है, और आपको किसी भी गंभीर समस्या की चिंता से मुक्त कर सकती है।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: 04 Jun 2019

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें