गर्भपात के बाद ओवुलेशन

Ovulation after miscarriage in hindi

Miscarriage ke baad ovulation, गर्भपात के कितने दिन बाद मासिक धर्म आता है, abortion ke baad ovulation kab hota hai


एक नज़र

  • गर्भपात के चार से छह सप्ताह बाद पीरियड्स फिर से शुरू हो जाते हैं।
  • गर्भपात के दो सप्ताह बाद भी ओव्यूलेशन हो सकता है।
  • अधिकांश महिलाएँ गर्भपात के बाद स्वस्थ बच्चे पैदा करती हैं और इसमें कोई खास दिक्कत नहीं आती।
triangle

Introduction

गर्भपात_के_बाद_ओव्यूलेशन

गर्भपात एक महिला को भावनात्मक रूप से तोड़ सकता है। एक महिला को पूरी तरह से स्वस्थ होने और फिर से गर्भवती होने में थोड़ा समय लग जाता है। गर्भपात के बाद मासिक धर्म कब आता है? महिलाओं मे यह चिंता होना स्वाभाविक है। ज्यादातर मामलों में गर्भपात के 2 सप्ताह बाद ओव्यूलेशन शुरू हो सकता है। अधिकांश महिलाओं में अर्ली गर्भपात होने पर और उस समय होने वाली ब्लीडिंग रुकने के बाद पीरियड्स का रक्तस्राव लगभग एक सप्ताह में आ सकता है।
यदि पहली या दूसरी तिमाही में गर्भपात हुआ हो तो पीरियड्स के आने में अधिक जैसे ४-६ सप्ताह का समय लग सकता है। [1] चार सप्ताह तक कुछ स्पॉटिंग भी हो सकती है। जैसे ही रक्तस्राव कम होता है और हार्मोन का स्तर सामान्य होता है, आपका मासिक धर्म भी फिर से शुरू हो जाएगा।

गर्भपात के बाद अधिकतर महिलाओं की अवधि 4 से 6 सप्ताह के भीतर लौट आती है। गर्भपात के बाद महिलाओं के शरीर में हार्मोनल इम्बैलेंस हो जाता है और हार्मोन के नियमित होने के के लिए और आपका पीरियड्स नियमित आने के लिए कुछ समय लग सकता हैं। गर्भपात के कुछ हफ्तों बाद ही आपका मासिक धर्म वापस सामान्य हो जाता है, इसलिए गर्भपात को लेकर कोई खास घबराने की ज़रूरत नहीं है।

loading image

इस लेख़ में

 

गर्भपात के बाद मासिक धर्म चक्र कैसे बदलता है

Change in periods after miscarriage in hindi

kya garbhpat ke baad periods mein badlav aata hai, गर्भपात के बाद मासिक धर्म कब आता है

loading image

गर्भपात के बाद मासिक धर्म रेगुलर और स्वस्थ होने के लिए समय की आवश्यकता होती है। गर्भपात के चार से छह सप्ताह बाद पीरियड्स फिर से शुरू होंगे। कुछ महिलाओं में, यह जल्दी भी शुरू हो सकता है।
लेकिन, अगर उससे अधिक समय लगे तो अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलें। गर्भपात के बाद आपकी पहले पीरियड्स में बहुत अधिक सर्विकल म्यूकस (cervical mucus) के साथ भारी रक्तस्राव हो सकता है। आप पीरियड्स में सर्विकल म्यूकस का बदला रंग और ब्लड क्लोट्स (blood clots ) भी देख सकती हैं। आपकी माहवारी चार से सात दिनों तक हो सकती है और आप पूरे महीने में स्पॉटिंग (spotting) देख सकती हैं।

गर्भपात के बाद जब आप 20 दिनों के लिए लगातार ब्लीडिंग या स्पॉटिंग का अनुभव करती हैं, तो उसके बाद आने वाले पीरियड्स को भी फिर से नॉर्मल माना जाएगा। यदि गर्भावस्था से पहले आपकी माहवारी अनियमित थी, तो वह गर्भपात के बाद भी अनियमित रूप से जारी रहेंगी। एक अनियमित मासिक चक्र ओवुलेशन की ट्रैकिंग को और अधिक कठिन बना सकता है, लेकिन गर्भपात के बाद पहले कुछ मासिक चक्रों में फिर से गर्भवती होना संभव है।

और पढ़ें:अजवायन से पाएं पीरियड्स के दर्द से छुटकारा
 

गर्भपात के बाद ओवुलेशन कब होता है?

When does ovulation happen after miscarriage in hindi

bacha girane ke baad periods mein ovulation shuru hone mein kitna time lagta hai, abortion ke baad ovulation kab hota hai, abortion ke bad ovulation kb hota hai

loading image

गर्भपात के बाद दो सप्ताह के भीतर ओवुलेशन शुरू हो सकता है। यदि गर्भपात प्रेग्नेंसी की शुरुआत में हुआ हो तो लगभग एक सप्ताह में ब्लीडिंग रुक जाती है। यदि पहली या दूसरी तिमाही में गर्भपात हुआ हो तो रक्तस्राव अधिक समय तक चल सकता है। चार सप्ताह तक कुछ स्पॉटिंग (Spotting) भी हो सकती है। जैसे-जैसे रक्तस्राव कम होता है और हार्मोन का स्तर सामान्य हो जाता है, आपका मासिक धर्म भी फिर से शुरू हो जाता है। गर्भपात के बाद कई महिलाओं की माहवारी 4 से 6 सप्ताह के भीतर लौट आती है। जब आपके हार्मोनल स्तर सामान्य हो जाते हैं और आपके पीरियड्स लौट आते हैं, तो आप ओव्यूलेट कर सकती हैं।

गर्भपात के बाद मासिक धर्म रेगुलर आता है और यदि आप गर्भावस्था की संभावनाओं को बढ़ाना चाहती हैं, तो आपको एक माहवारी के बाद फिर से गर्भवती होने की कोशिश करनी चाहिए एक अध्ययन से यह साबित हुआ है की जब आप गर्भपात के बाद जल्दी ही याने ३ महीने से कम समय में गर्भ धारण करने की कोशिश करती हैं, तो आप प्रीक्लेम्पसिया (preeclampsia), स्टीलबर्थ (stillbirth) और बच्चे का जन्म के समय कम वजन (low-birth weight) जैसी गर्भावस्था जटिलताओं जोखिम को कम कर सकती है और जल्दी गर्भ धारण की संभावना अधिक रखती हैं। [2]

loading image
 

गर्भपात के बाद ओवुलेशन के लक्षण

Symptoms of ovulation after miscarriage in hindi

Miscarriage ke baad ovulation hone ke lakshan

loading image

गर्भपात के बाद ओवुलेशन के लक्षण निम्नलिखित हैं:-

और पढ़ें:अनियमित माहवारी का इलाज
 

गर्भपात के बाद ओवुलेशन कैसे पता करें

How to track Ovulation after miscarriage in hindi

Garbhpat ke baad ovulation ko kaise track karein

loading image

गर्भपात के बाद ओवुलेशन पर नज़र रखने के कुछ तरीके यहां दिए गए हैं-

1. ओवुलेशन कैलेंडर का इस्तेमाल करें

गर्भपात के बाद एक कैलेंडर पर अपना मासिक धर्म शुरू होते ही आप अपने पीरियड्स के पहले दिन को चिह्नित करे और ओवुलेशन की गणना शुरू करें। यह वह दिन होता है जब रक्तस्राव बंद हो जाता है।
यदि आप अनियमित पीरियड्स आते है, तो उन दिनों को चिह्नित करें जैसी भी दिन आपको रक्तस्त्राव हो या स्पॉटिंग हो और इसे अपने कैलेंडर या डायरी पर लॉग इन करते रहें। ओवुलेशन को ट्रैक करने के लिए आप ओवुलेशन कैलेंडर जो ऑनलाइन भी उपलब्ध होते है उन उपकरण का भी सहारा ले सकती है, जो यह अनुमान लगाने का प्रयास करता है कि आप अपने मासिक धर्म चक्र की लंबाई के आधार पर कब ओव्यूलेट कर सकती हैं।
लेकिन इसकी सौ प्रतिशत सटीकता के प्रमाण अभीतक साबित नहीं हुए है, क्योंकी ये अकेले मासिक धर्म की लम्बाई पर निर्भर होता है। [3]

2. बेसल बॉडी टेंपरेचर पर ध्यान दें

एक बेसल शरीर का तापमान थर्मामीटर प्राप्त करें और बिस्तर से बाहर निकलने से पहले सुबह-सुबह अपने तापमान पर नज़र रखें। यदि आप ओव्यूलेट करने वाली हैं, तो आपका बेसल बॉडी टेंपरेचर दिन-ब-दिन लगातार ऊंचा रह सकता है।
ओवुलेशन का पता लगाने के लिए बेसल बॉडी टेंपरेचर का चार्ट बनाना आवश्यक माना गया है। [4]

3. सर्विकल म्यूकस की जाँच करें

सर्विकल म्यूकस से आप पता लगा सकती है कि ओवुलेशन कर रहे हैं या नहीं। आमतौर पर, जब महिलाएं ओव्यूलेट करती हैं, तो यह कच्चे अंडे की सफेदी जैसा दिखता है और स्पष्ट, फैला होता है। अगर ऐसा है, तो यह अच्छी खबर का संकेत है।
इसके साथ ही सर्विकल म्यूकस की जाँच करने का तरीका कम लागत वाला विकल्प माना गया है। [5]

4.क्लिनिक में अपने एचसीजी स्तर का परीक्षण करें

अपने डॉक्टर से मिलें और एचसीजी टेस्ट (HCG Test) करवाएँ। जब आपके एचसीजी रीडिंग शून्य होती है, तो फ़र्टिलिटी के लिए प्रेग्नेंसी हार्मोन का निर्माण शुरू होता है।
यदि एचसीजी शून्य नहीं है, तो आपका ओवुलेशन अभी तक शुरू नहीं हुआ है।

loading image
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

miscarriage ke bad ovulation aur pregnancy

यह आर्टिकल गर्भपात के कितने दिन बाद मासिक धर्म आता है, यह सवाल का जवाब बताने में सक्षम है। अधिकांश महिलाएँ गर्भपात के बाद, स्वस्थ बच्चे पैदा करती हैं और उन्हें खास दिक़्क़तों का सामना नहीं करना पड़ता है। वास्तव में, गर्भपात होने के एक वर्ष के भीतर 85 से 90 प्रतिशत महिलाएं गर्भवती हो जाएंगी।

हालांकि गर्भपात के बाद, ओवुलेशन और मासिक धर्म जल्द ही लौट आते हैं, आपको भावनात्मक रूप से ठीक होने में कुछ समय लग सकता है। इससे उबरने के लिए अपने पति, दोस्तों और रिश्तेदारों की मदद लें। साथ ही, डॉक्टर से समय-समय पर सलाह लेती रहें। गर्भपात बहुत आम नहीं है, और ज्यादातर महिलाएं गर्भपात के बाद गर्भ धारण करने और एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देने में सक्षम होती हैं।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

1 .

Butler C, Kelsberg G, St Anna L, Crawford P. “Clinical inquiries. How long is expectant management safe in first-trimester miscarriage?”. J Fam Pract. 2005;54(10):889-890. PMID: 16202377

2 .

Davanzo J, Hale L, Rahman M. “How long after a miscarriage should women wait before becoming pregnant again? Multivariate analysis of cohort data from Matlab, Bangladesh”. BMJ Open. 2012;2(4):e001591. Published 2012 Aug 20. PMID: 22907047.

3 .

Johnson S, Marriott L, Zinaman M. “Can apps and calendar methods predict ovulation with accuracy?”. Curr Med Res Opin. 2018;34(9):1587-1594.

4 .

Meeker CI. “The infertile patient. Guidelines for successful workup”. Postgrad Med. 1980;68(6):139-148. PMID: 7433312

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 30 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

डिसमेनोरिया क्या है

डिसमेनोरिया क्या है

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad