14 घरेलू उपाय जो तैलीय त्वचा से दिलाएंगे छुटकारा

Home remedies oily skin in hindi

Tailiye tvacha in hindi


एक नज़र

  • सीबम त्वचा की सुरक्षित और मॉइस्चराइज करने में मदद करता है और आपके बालों को चमकदार और स्वस्थ रखता है।
  • हार्मोनल गर्भनिरोधक दवा या फिर हार्मोन रिप्लेसमेंट दवा या अन्य दवाओं के सेवन करने से भी त्वचा तैलीय हो सकती है।
  • ऑयली स्किन वाले लोगों के लिए मसूर की दाल रामबाण होती हैं।
triangle

Introduction

Tailiye_tvacha_in_hindi

हर व्यक्ति को अपनी त्वचा को कोमल और नमीयुक्त बनाए रखने के लिए एक निश्चित मात्रा में नेचुरल ऑयल की आवश्यकता होती है और हमारी त्वचा का प्रकार भी इसी बात पर निर्भर करता है कि हमारे त्वचा पर कितना ऑयल प्रोडूस होता है।

इसी के आधार पर त्वचा ड्राई स्किन यानि रूखी त्वचा, ऑयली स्किन यानि तैलीय त्वचा और मिक्स त्वचा यानि मौसम के हिसाब से ऑयली या ड्राई आदि के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

जब किसी की तैलीय त्वचा होती है तो उसके चेहरे पर अतिरिक्त ऑयल की वजह से लगातार चमक दिखाई देती है जिसकी वजह से रोम छिद्र बंद और बढ़े हो जाते हैं, मृत त्वचा कोशिकाएं जमा हो जाती हैं, त्वचा पर ब्लैकहेड्स, पिंपल्स और अन्य प्रकार के मुंहासे हो जाते हैं।

तैलीय त्वचा होने के सबसे बड़ा कारण सेबासौस ग्लैंड्स (sebaceous glands) होती है जो सीबम (sebum) का उत्पादन अधिक मात्रा में करती हैं। ये ग्रंथियां त्वचा की सतह के नीचे स्थित होती हैं जिसमे सीबम होता हैं। सीबम वसा से भरा हुआ एक तैलीय पदार्थ है।

सीबम त्वचा की सुरक्षित और मॉइस्चराइज करने में मदद करता है और आपके बालों को चमकदार और स्वस्थ रखता है। लेकिन त्वचा में अधिक सीबम होने से त्वचा में ऑयल बढ़ जाता है जिसके कारण त्वचा तैलीय हो जाती है जिसके कारण रोम छिद्र बंद और मुँहासे होते है।

loading image

इस लेख़ में

 

तैलीय त्वचा होने के कारण

Causes of Oily Skin in hindi

Oily skin hone ke karan in hindi

तैलीय त्वचा की समस्या से पुरुष और महिला दोनों प्रभावित हो सकते हैं लेकिन ज्यादातर महिलायें प्रभावित होती है, क्योंकि उन्हें चेहरे पर मेकअप आदि का उपयोग अधिक करना होता हैं और ऑयली स्किन पर मेकअप ज्यादा देर तक टिक नहीं पाता।

तैलीय त्वचा होने से चेहरे पर मेकअप कुछ देर बाद खराब हो जाता है। ऑयली स्किन होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे हार्मोनल असंतुलन, अनुवांशिक आदि।

आइये जानते हैं ऑयली स्किन होने के क्या कारण होते हैं : -

  • तनाव

हमारी त्वचा के ऑयली होने का सबसे बड़ा कारण होता है तनाव

हमारा शरीर में तनावपूर्ण परिस्थितियों में कोर्टिसोल (cortisol) का स्तर बढ़ा जाता है, जिसके कारण सेबासौस ग्लैंड्स (sebaceous glands) उत्तेजित होकर अधिक तेल का उत्पादन करती हैं और त्वचा में सीबम बढ़ जाता हैं और त्वचा ऑयली हो जाती हैं।

  • मौसम

हमारा शरीर बदलते मौसम के साथ कुछ परिवर्तन दिखता है जैसे मौसम के बदलने से त्वचा की वसामय ग्रंथियों से उत्पादित होने वाले तेल की मात्रा प्रभावित होकर अधिक या कम टेल का उत्पादन कर सकती हैं।

अधिक ऑयल प्रोडूस होने पर हमारी त्वचा ऑयली हो जाती हैं। गर्मी के महीनों के दौरान आर्द्र और गर्म मौसम में सीबम का उत्पादन अधिक हो जाता है और त्वचा में अधिक सीबम त्वचा को ऑयली बनाता हैं। कभी-कभी शुष्क मौसम में भी तैलीय त्वचा हो जाती हैं।

  • डाइट

अगर हम संतुलित और पौष्टिक डाइट खाते हैं, हमारे शरीर में सब गतिविधियां सुचारु रूप से कार्य करती है और हमारा शरीर स्वस्थ रहता हैं। इसके विपरीत अगर हम डाइट में अधिक ग्लाइसेमिक खाद्य पदार्थों जैसे सोडा, चीनी और प्रोसेस्सेड खाद्य पदार्थ - फास्ट फूड, पैकेज्ड खाद्य पदार्थ का सेवन करते हैं तो हमारा शरीर इंसुलिन प्रतिरोधी हो जाता है, जिसके कारण त्वचा में ऑयल बढ़ जाता है। इसी के साथ शरीर में विटामिन ए, बी, डी आदि की कमी के करण भी तैलीय त्वचा हो जाती हैं।

  • त्वचा का देखभाल

अगर आप अपनी त्वचा की सही से देखभाल या सफाई नहीं करते है या अधिक सफाई करते है तो आपकी त्वचा ऑयली हो सकती हैं, जैसे चेहरा बार-बार धोने या बहुत बार एक्सफोलिएट करने से भी त्वचा तैलीय हो जाती है।

  • आनुवंशिक प्रभाव

अगर आपके परिवार में आपके माता-पिता की तैलीय त्वचा है, तो यह संभावना होती है कि उनके जीन से आपकी त्वचा भी ऑयली हों। हमारे शरीर में जब बड़ी वसामय ग्रंथियां होती है अतिरिक्त सीबम का उत्पादन होने से त्वचा पर अधिक ऑयल होता हैं और यह एक अनुवांशिक प्रभाव होता हैं। परिवार वालों से विशिष्ट जीनों की आनुवांशिकता की वजह से हमारी त्वचा तैलीय हो जाती हैं।

  • एजिंग और अन्य कारणों का प्रभाव

बढ़ती उम्र के साथ हमारी त्वचा कम या अधिक सीबम का उत्पादन करने लगती हैं। इसी वजह से त्वचा ऑयली या शुष्क हो जाती हैं। कभी-कभी वजन में उतार-चढ़ाव हमारे रोम छिद्र बड़े या छोटे हो जाते हैं। रोम छिद्र के बड़े होने से अधिक तेल का उत्पादन होता है जिसके कारण त्वचा ऑयली हो जाती हैं।

  • वातावरण

हमारी त्वचा की स्थिति के होने का एक कारण हमारे आस-पास का वातावरण भी होता हैं। अगर आप गर्म और नम जलवायु वाली जगह पर रहते है तो आपकी ऑयली त्वचा होती हैं। ऐसे में आपको अपनी त्वचा की अधिक देखभाल करनी होती हैं।

  • केमिकल उत्पादों का उपयोग

अगर आप अपनी त्वचा के प्रकार के अनुरूप किसी प्रोडक्ट का इस्तेमाल नहीं करते है तो आपकी त्वचा खराब हो सकती हैं। गलत उत्पादों का उपयोग करने से आपकी तैलीय त्वचा हो सकती हैं।

  • मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल न करना

हर व्यक्ति के लिए त्वचा की नमी को बरक़रार रखने के लिए मॉइस्चराइजर की जरूरत होती है और यह बात एक मिथक है कि मॉइस्चराइजर तैलीय त्वचा का कारण बनता है।अगर आप अपने चेहरे पर मुँहासे के उपचार के लिए सैलिसिलिक एसिड या बेंज़ोयल पेरोक्साइड जैसे उत्पादों का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको निश्चित रूप से अपनी त्वचा को सूखने से बचाने के लिए एक अच्छे मॉइस्चराइज़र की आवश्यकता होगी। मॉइस्चराइजर के बिना, किसी भी प्रकार की त्वचा सूख जाएगी।

  • अधिक दवाओं का सेवन

हार्मोनल गर्भनिरोधक दवा या फिर हार्मोन रिप्लेसमेंट दवा या अन्य दवाओं के सेवन करने से भी त्वचा तैलीय हो सकती है।

और पढ़ें:10 बेहतरीन एक्जिमा ट्रीटमेंट क्रीम
 

ऑयली स्किन के लिए 14 घरेलू उपाय

14 Home Remedies for Oily Skin in hindi

Oily skin ke liye gharelu upay

तैलीय त्वचा से महिलाओं को ज्यादा परेशान होना पड़ता है और इसलिए वो आये दिन कुछ न कुछ उपचार ढूंढ़ती रहती हैं।

आइये आज हम आपको ऑयली स्किन के लिए कुछ घरेलू उपाय के बारे में बयायेंगे जो आप घर बैठे ही कर सकते हैं -

1. मुल्तानी मिट्टी

हमारी त्वचा की सतह से एक्स्ट्रा सीबम (ऑयल) को अवशोषित करने के लिए और रोम छिद्रों को बंद होने से रोकने के लिए मुल्तानी मिट्टी मदद करती हैं। इसमें मिनरल्स होते है जो कील-मुंहासों और दाग-धब्बों को हटाते हैं।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • मुल्तानी मिट्टी - एक चम्मच
  • ऑरेंज पील पाउडर - आधा चम्मच
  • हल्दी पाउडर - 1/4 चम्मच
  • नींबू का रस - एक चम्मच
  • शहद - एक चम्मच
  • कटोरा - एक

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • एक कटोरे में मुल्तानी मिट्टी, ऑरेंज पील पाउडर, हल्दी पाउडर, नींबू का रस और शहद डालकर एक मिश्रण बना लें।
  • चेहरे कॉम पानी से धोकर सुखाकर इस इस पेस्ट को लगाएं।
  • 25 -30 मिनट तक सूखने दें। इसके बाद में पानी से चेहरे को धो लें।
  • अच्छे परिणामों के लिए इसको सप्ताह में तीन बार लगाएं।

2. गुलाब जल

गुलाब जल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो त्वचा पर एक क्लीन्ज़र की तरह काम करते। गुलाब जल एक्स्ट्रा तेल और गंदगी को हटाने में मदद करता हैं।

यह रोम छिद्रों में जमा गंदगी को साफ करता है। गुलाब जल त्वचा पर एस्ट्रिजेंट टोनर की तरह त्वचा को टोन करने, गंदगी और तेल को हटाने और त्वचा के प्राकृतिक पीएच संतुलन को बनाए रखने में सहायक होता हैं।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • गुलाब जल - 2 बड़े चम्मच
  • रूई - 2 बॉल्स
  • कटोरा - एक

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • सुबह उठकर गुलाब जल को एक कटोरे में लें और कॉटन बॉल को कटोरे में डुबोएं।
  • फिर इस कॉटन बॉल में लगे गुलाबजल की मदद से चेहरे को साफ करें।
  • इस प्रक्रिया को एक बार फिर दोहराएं।
  • ऐसा करने से आपकी त्वचा पर जमी गंदगी साफ़ होगी और एक्स्ट्रा ऑयल भी हट जाएगा।
  • अच्छे परिणामों के लिए नियमित रूप से सुबह उठकर और रात को बेड पर जाने से गुलाबजल का उपयोग करें।

3. मसूर की दाल

ऑयली स्किन वाले लोगों के लिए मसूर की दाल रामबाण होती हैं। इसमें सभी आवश्यक खनिज, विटामिन के साथ-साथ एंटीऑक्सिडेंट गुण होते हैं। यह त्वचा और बालों के लिए लाभकारी होती हैं।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • मसूर दाल - आधा कप
  • कच्चा दूध - एक तिहाई कप

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • रात को एक कटोरे में मसूर की दाल को पानी में भिगो दें और सुबह दाल से पानी अलग कर कर दाल को पीस लें।
  • पीसी दाल में दूध मिलाकर पेस्ट को चेहरे पर।
  • इसको 20 मिनट के बाद ठंडे पानी दे धो लें।
  • अच्छे परिणामों के लिए सप्ताह में एक बार लगाएं।

4. नीम

आयुर्वेदिक औषधि नीम त्वचा में सीबम को संतुलित करके दाग-धब्बों और मुहांसो के निशान को हटाकर त्वचा की सूजन को कम करने में सक्षम है।

नीम त्वचा के लिए बेहद गुणकारी होता है। नीम चेहरे पर से एक्स्ट्रा तेल को सोखकर कील-मुंहासों को भी साफ़ करता है।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • नीम पत्तियां - 8 -10
  • हल्दी पाउडर - 1 /4 टीस्पून

कैसे इस्तेमाल करें

  • रात को नीम की पत्तियों को पानी में भिगोकर छोड़ दें।
  • सुबह होने पर पानी से अलग करके नीम की पत्तियों को पीस लें।
  • पीसी हुई नीम के पेस्ट में हल्दी पाउडर मिलाकर चेहरे पर लगाएं।
  • 20 -30 मिनट बाद सुखने पर पानी से चेहरा धो लें।
  • अच्छे परिणामों के लिए सप्ताह में एक बार लगाएं।

5. संतरे के छिलके का पाउडर

संतरे के छिलके में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं जो मुंहासों और तैलीय त्वचा के इलाज में मदद करते हैं। यह एक स्किन लाइटनिंग के रूप में भी काम करता है और चेहरे पर से दाग-धब्बे कम करने में मदद करता है।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • संतरे के छिलके का पाउडर - 1 चम्मच
  • कॉस्मेटिक हल्दी - एक चुटकी
  • प्राकृतिक शहद - 1 बड़ा चम्मच

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • संतरे के छिलके का पाउडर और हल्दी को शहद के साथ मिलाकर एक पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं।
  • 5 - 10 मिनट के बाद क्लींजर या गुलाब जल से चेहरा धो लें।
  • अच्छे परिणामों के लिए सप्ताह में एक बार लगाएं।

6. खीरा

तैलीय त्वचा के लिए खीरा काफी फायदेमंद होता है। इसमें विटामिन ए और ई होता है जो हमारी त्वचा से एक्स्ट्रा ऑयल को अब्सॉर्ब करने और साफ करने का काम करता हैं।

हमारी त्वचा और खीरे में हाइड्रोजन का समान स्तर होता है इसलिए खीरा अपने हाइड्रेटिंग गुणों के साथ तैलीय त्वचा को संतुलित करता है। सिलिकन, पोटेशियम व फोलिक एसिड के गुण के साथ खीरा त्वचा के लिए रामबाण का काम करता हैं।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • खीरा - एक

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • एक खीरे को छीलकर इसको कद्दूकस में कस लें और कैसे हुए खीरे को चेहरे पर लगाएं।
  • आप खीरे के दो पीस अपनी आँखों पैर भी रख सकते हैं।
  • 10 मिनट बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें।

7. शहद

शहद में जीवाणुरोधी और एंटीसेप्टिक गुण होते है जो तैलीय त्वचा और मुहांसो को ठीक करने में मदद करता हैं। शहद चेहरे पर प्राकृतिक नमी बनाये रखने में मदद करता है।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • शहद -एक चम्मच

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • तैलीय त्वचा के इलाज के लिए शहद को चेहरे पर एक पतली परत की तरह लगाएं।
  • लगभग 10 मिनट तक सूखने के बाद गर्म पानी से अच्छी तरह चेहरे को धो लें।
  • अच्छे परिणामों के लिए सप्ताह में दो बार लगाएं।

8. एलोवेरा

एलोवेरा में कई मिनरल्स और विटामिन त्वचा के लिए महत्वपूर्ण होते हैं जो त्वचा को पोषण देने में मदद करते हैं। एलोवेरा में तैलीय त्वचा से अतिरिक्त तेल और अशुद्धियों को अवशोषित करने के प्राकृतिक कसैले गुण होते हैं। एलोवेरा त्वचा को बिना तैलीय बनाए मॉइस्चराइज़ रखता है।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • एलोवेरा जैल - एक चम्मच
  • शहद - एक चम्मच

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • एलोवेरा जैल और शहद को मिलाकर एक पेस्ट बना लें और इस पेस्ट को चेहरे पर एक परत के रूप में लगाएं।
  • 15-20 मिनट तक इसको सूखने दें।
  • सूखने के बाद गर्म पानी से चेहरा साफ़ करके सूखा लें।
  • अच्छे परिणामों के लिए लगाएं।

9. नींबू का रस

नींबू में एसिड होता है जो त्वचा से एक्स्ट्रा तेल को अवशोषित करने में मदद करता है। नींबू में जीवाणुरोधी क्षमता भी होती है जो त्वचा को साफ़ रखती हैं।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • 1 चम्मच - नींबू के रस

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • नींबू के रस को अपने चेहरे पर रूई की मदद से लगाकर छोड़ दें।
  • सूखने के बाद ठंडे पानी से चेहरा धो लें।

10. टमाटर

टमाटर में सैलिसिलिक एसिड जो त्वचा के अतिरिक्त तेल को सोखने में मदद करता है और रोम छिद्रों को खोल देता है।

इसके लिए आपको क्या चाहिए : -

  • चीनी -1 चम्मच
  • टमाटर का गूदा - 1 बड़ा चम्मच

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • एक टमाटर को कद्दूकस में कसकर उसका गूदा निकल लें।
  • अब इसमें चीनी मिलकर पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को त्वचा पर लगाएं।
  • 5 -10 मिनट बाद चेहरे को गर्म पानी के धो लें। अच्छे परिणामों के लिए सप्ताह में दो बार लगाएं।

11. जोजोबा तेल

हालांकि तैलीय त्वचा पर तेल लगाने से आपको लगता होगा कि त्वचा अधिक ऑयली हो जाएगी लेकिन जोजोबा तेल तैलीय त्वचा, मुँहासे और अन्य त्वचा की समस्याओं के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। जोजोबा ऑयल सीबम के उत्पादन को संतुलित रखने में मदद करता है।

इसके लिए आपको इस्तेमाल करना चाहिए : -

  • जोजोबा तेल

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • सप्ताह में 2 -3 चेहरे को साफ़ करके चेहरे पर जोजोबा तेल की कुछ बूंदों से मालिश करें।
  • ध्यान रहें अधिक जोजोबा तेल का उपयोग करने से परिणाम उल्टा हो सकता हैं।

12. अंडा

अंडा आवश्यक पोषक तत्वों और खनिजों से भरा हुआ होता है त्वचा को स्वस्थ रखता हैं। इसमें एल्ब्यूमिन (albumin) नमक एक महत्वपूर्ण प्रोटीन होता है जो त्वचा से एक्स्ट्रा ऑयल को सोख कर त्वचा को कसने और खुले छिद्रों को सिकोकर ब्लैकहेड्स करता है।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • अंडा - एक
  • नींबू - 1/2

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • एक अंडे को एक कटोरे में डालकर पीले भाग को अलग कर दें।
  • सफेद भाग में आधा नींबू के रस को मिलाएं।
  • अच्छी तरह से फेंटने के बाद चेहरे पर मास्क की तरह परत लगा लें।
  • लगभग 10 मिनट बाद पानी से धो लें।
  • अच्छे परिणामों के लिए इस फेस मास्क को हफ्ते में 2 या 3 बार लगाएं।

13. बेसन

ऑयली स्किन के लिए बेसन बहुत लाभकारी होता हैं। बेसन में एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं जो त्वचा के अंदर से ऑयल, गंदगी और विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करते हैं।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • बेसन -चार चम्मच
  • गुलाब जल - दो चम्मच

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • बेसन और गुलाब जल को मिलकर के पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को अपने चेहरे पर लगाएं।
  • 15-20 मिनट सूखने के बाद ठंडे पानी से धोकर त्वचा को सूखा लें।

14. हल्दी

हल्दी में एंटी - इंफ्लेमेटरी गुण त्वचा पर जलन और रैशेस को सही करते हैं। हल्दी वसामय ग्रंथियों से एक्स्ट्रा तेल के स्राव को कम करके त्वचा के संक्रमण को सही करती हैं।

हल्दी फेसमास्क मुंहासों को भी कम करने में मदद करता है। हल्दी का फेसमास्क एक्सफोलिएटर के रूप में त्वचा को चमक देता है। इसमें एंटीआक्सीडेंट व एंटी-नियोप्लास्टिक गुण भी पाए जाते हैं।

इसके लिए आपको चाहिए : -

  • हल्दी पाउडर - ¼ चम्मच
  • नींबू का रस - ½ चम्मच
  • शहद - एक चम्मच

कैसे इस्तेमाल करें : -

  • हल्दी, नींबू के रस और शहद को मिलाकर एक कटोरी में पेस्ट बना लें।
  • अब इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं।
  • 15 -20 मिनट सुखाने के बाद गर्म पानी से चेहरा धो लें।
और पढ़ें:14 घरेलू उपाय जो तैलीय त्वचा से दिलाएंगे छुटकारा
 

तैलीय त्वचा के लिए टिप्स

Tips For Oily Skin Care in hindi

Tailiye tvacha ke liye tips

आप कुछ घरेलू उपायों की मदद से अपनी त्वचा को ऑयली होने से बचा सकते हैं। साथ ही हम आपको अपनी त्वचा को ऑयली होने से बचाने के कुछ टिप्स बता रहें हैं, जो आप नियमित रूप से अपनाकर अपनी त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बना सकते हैं।

ऑयली स्किन के लिए टिप्स निम्न हैं : -

  • सनस्क्रीन का उपयोग

हमारी त्वचा पर सबसे ज्यादा असर धुल, धुप और प्रदूषण का होता हैं इसलिए हमें घर से निकलने से पहले सनस्क्रीन का इस्तेमाल करना चाहिए। साथ ही घर से बाहर जाते समय छाते या स्कार्फ़ का उपयोग करें।

  • पानी से चेहरा धोना

हमें सुबह उठाकर और रात को सोने से पहले अपना चेहरे पानी से धोना चाहिए। आप कही बाहर से घर में आये तो चेहरे का साफ़ करने के लिए चेहरे को पानी से धोएं।

  • सही उत्पादों का चयन

आपको अपनी त्वचा के हिसाब से ऐसे उत्पादों का चयन करना चाहिए जो ऑयल फ्री हों और साथ ही आपकी त्वचा के लिए उपयुक्त हों।

  • मेकअप

जब भी आप मेकअप का उपयोग करें तो ध्यान रहें आप ऐसे प्रोडक्ट्स इस्तेमाल करें जो आपकी त्वचा के अनुरूप हों। घर वापस आने के बाद मेकअप को क्लींजिंग मिल्क से साफ़ करें और बाद में चेहरे को अच्छे से धोकर मॉइस्चरीज़ करें।

  • ब्लॉटिंग पेपर का इस्तेमाल

अगर आपके चेहरे पर बार-बार ऑयल आ जाता है तो आप चेहरे को बार-बार फेसवाश से धोने के बजाय ब्लॉटिंग पेपर का इस्तेमाल करें जिस्सेवी आपके चेहरे से एक्स्ट्रा ऑयल अवशोषित हो जाएँ।

  • चेहरे को बार -बार ना छुएं

बार-बार चेहरे को चुने से हमारे हाथों पर लगी गंदगी और बैक्टीरिया चेहरे पर फैल जाते है। ऐसा करने से पिम्पल्स और दाग-धब्बे अधिक होते हैं। चेहरे को छूने ने से पहले यह सुनिश्चित करें कि आपके हाथ अच्छे से धोकर साफ कर लें।

  • पौष्टिक और संतुलित भोजन

ऑयली स्किन वालों को अपने खान -पान का विशेष ध्यान रखना होता हैं। आपको अपने खाने में पौष्टिक और संतुलित भोजन खाना चाहिए।

अपनी डाइट में खीरा,संतरा, ब्रोकली,हरी सब्जियां, नारियल पानी, नींबू, केला, दालें आदि को शामिल करना चाहिए। आपको प्रोसेस्ड फ़ूड, फ्रोजेन फ़ूड, फ्राइड फ़ूड आदि से बचना चाहिए।

loading image

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 29 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

फेशियल हेयर लाइट करने के सरल तरीके

फेशियल हेयर लाइट करने के सरल तरीके

एक्जिमा के कारण, लक्षण, प्रकार और उपचार

एक्जिमा के कारण, लक्षण, प्रकार और उपचार

संवेदनशील त्वचा के लिए स्कीन केयर प्रोडक्ट्स

संवेदनशील त्वचा के लिए स्कीन केयर प्रोडक्ट्स

नाक पर काले धब्बे से छुटकारा पाने के तरीके

नाक पर काले धब्बे से छुटकारा पाने के तरीके

ब्लैकहेड्स के लिए सबसे अच्छा स्क्रब

ब्लैकहेड्स के लिए सबसे अच्छा स्क्रब
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad