पुरुष बांझपन के लिए होने वाले मेडिकल टेस्ट्स

Male infertility - Diagnostic tests for male infertility in hindi

Purush banjhpan ke liye Kaun se medical tests kiye jate hain in hindi


एक नज़र

  • बांझपन सिर्फ महिलाओं में नहीं होता; पुरुषों में भी बांझपन की समस्या हो सकती है।
  • पुरुष बांझपन की समस्या मुख्य रूप शुक्राणुओं से संबंधित होती है।
  • नि:संतानता का सामना कर रहे पुरुषों को चिकित्सीय परीक्षण करवाना चाहिए।
triangle

Introduction

Diagnostic tests for male infertility | Zealthy

अगर कोई दंपत्ति असुरक्षित संभोग करने के एक साल बाद भी गर्भधारण करने में समस्या का सामना कर रहे हैं, तो बांझपन की समस्या होने की संभावना अधिक हो सकती है।

सबसे पहले यह बात जानना और समझना ज़रूरी है कि बांझपन सिर्फ महिलाओं में नहीं होता।

पुरुषों में भी बांझपन के मुद्दे हो सकते हैं।

यदि किसी दंपत्ति को गर्भ धारण करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है, तो यह महिला की प्रजनन क्षमता के साथ–साथ पुरुष की प्रजनन क्षमता की कमजोरियों को भी दर्शा सकता है।

प्रजनन क्षमता की कमी पुरुषों और महिलाओं दोनों के साथ हो सकती है।

आइये इस लेख के माध्यम से पुरुष बांझपन के बारे में विस्तार से जानते हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

पुरुष बांझपन के लिए विभिन्न तरह के चिकित्सीय परीक्षण

Different types of infertility tests for male infertility in hindi

Purush banjhpan ke liye chikitsiye parikshan

बांझपन की कुल समस्याओं में 40% समस्या पुरुषों में पायी जाती है।

इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि पुरुष और महिला दोनों को बांझपन परीक्षणों के लिए जाना चाहिए।

यदि आप लंबे समय से अपने पुरुष बांझपन की समस्या को अनदेखा कर रहे हैं, तो आपको खुद का चिकित्सीय परीक्षण करवाना चाहिए।

यदि आप निःसंतान हैं तो प्रजनन क्षमता आपके लिए एक बड़ी चिंता का विषय हो सकती है और ऐसे में आपको बांझपन के लिए सही डायग्नोसिस की ज़रूरत होती है।

नीचे बांझपन परीक्षणों (infertility tests) की सूची है जो पुरुषों और महिलाओं के लिए सामान्य हैं :-

  • पूर्ण रक्त गणना (Complete Blood Count -CBC)
  • एरिथ्रोसाइट सेडिमेंटेशन रेट ( Erythrocyte Sedimentation Rate-ESR)
  • रक्त शर्करा - उपवास और पीपी (Blood Sugar – Fasting and PP)
  • विटामिन बी 12, विटामिन डी 3 (Vitamin B12, Vitamin D3)
  • सिफलिस (Syphilis -VDRL)
  • हेपेटाइटिस (Hepatitis HBsAg)
  • एफ एस एच (FSH) रक्त परीक्षण पॉलीसिस्टिक अंडाशय रोग, डिम्बग्रंथि अल्सर, और बांझपन का निदान करने के लिए
  • एल एच (LH) रक्त परीक्षण ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन की मात्रा को मापता है।
loading image
 

पुरुष बांझपन टेस्ट्स के दौरान क्या रखें ख़्याल

What to keep in mind during male infertility tests in hindi

Purush baanjhpan tests ke dauran kya rakhe khyal in hindi

पुरुष बांझपन की समस्या मुख्य रूप से पुरुषों में कम शुक्राणुओं की संख्या के कारण उत्पन्न होती है।

अपने शुक्राणु की जाँच के लिए, आपको अपने वीर्य विश्लेषण का परीक्षण (semen analysis test) करवाना होगा।

आपका डॉक्टर, परीक्षण करने से पहले, आपको 2 से 5 दिनों तक सेक्स या हस्तमैथुन न करने की सलाह दे सकते हैं।

यह इसलिए किया जाता है ताकि आपके शुक्राणुओं की संख्या अधिक से अधिक सुनिश्चित की जा सके।

अपने परीक्षण से पहले, 2 सप्ताह से अधिक समय तक एजाकुलेशन से बचें।

एजाकुलेशन के परिणामस्वरूप एक ऐसा सेंपल प्राप्त हो सकता है जिसमें मौजूद शुक्राणु कम सक्रिय हों।

वीर्य विश्लेषण से पहले शराब नहीं पीना सबसे अच्छा है।

आपको अपने डॉक्टर को किसी भी ऐसी दवाइयों या हर्बल सप्लीमेंट के बारे में भी बताना चाहिए, जो आप प्रयोग कर रहे हैं।

जब आप अपना स्पर्म सेंपल एकत्र करते हैं तो किसी भी स्नेहक (lubricants) का उपयोग न करें क्योंकि वे आपके शुक्राणु की मोटिलिटी को प्रभावित कर सकते हैं।

सबसे सटीक परिणाम प्राप्त करने के लिए, आपका डॉक्टर एक से अधिक नमूने का परीक्षण करना चाहेंगे।

आपको 2 से 3 सप्ताह के भीतर एक और नमूना प्रदान करना होगा।

ऐसा इसलिए है क्योंकि एक ही आदमी से वीर्य के नमूने अलग-अलग हो सकते हैं।

आपको तीन महीने की अवधि में 2 से 3 नमूने देने की आवश्यकता हो सकती है।

और पढ़ें:अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान की सफलता को प्रभावित करने वाले मुख्य कारक
 

पुरुष बांझपन टेस्ट्स क्यों की जाती हैं?

Why male fertility test is required? in hindi

Purush banjhpan test ki prakriya in hindi

पुरुष बांझपन टेस्ट करने के कारण :-

  1. वीर्य विश्लेषण (Semen analysis) वीर्य विश्लेषण मूल रूप से शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता की जांच करने के लिए किया जाता है।
    सकारात्मक परीक्षण के लिए आम तौर पर 1.5 और 5.5 मिलीलीटर वीर्य की आवश्यकता होती है।
    वीर्य विशलेषण के अंतर्गत रासायनिक मेकअप और द्रविकरण समय जांचा जाता है : - रासायनिक मेकअप (Chemical makeup)
    आपका पीएच स्तर आपके वीर्य में अम्लता (acidity) को मापता है।
    सामान्य पीएच स्तर 7.1 और 8.0 के बीच है।
    कम पीएच स्तर का मतलब है कि आपके पास अम्लीय वीर्य (acidic semen) है।
    उच्च पीएच स्तर का अर्थ है कि यह क्षारीय (alkaline) है।
    असामान्य पीएच आपके शुक्राणु के स्वास्थ्य और इसकी मोटिलिटी को प्रभावित कर सकता है।
    द्रवीकरण समय (Liquefaction time)
    एजाकुलेशन के दौरान सामान्य वीर्य गाढ़ा निकलता है।
    द्रवीकरण समय मापता है कि तरल बनने से पहले कितना समय लगता है।
    इसमें लगभग 20 मिनट लगने चाहिए। यदि आपका समय अधिक लगता है, या बिल्कुल भी तरल नहीं है, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि समस्या है।
  2. शुक्राणु संख्या (Sperm count)
    शुक्राणु की गणना “शुक्राणु प्रति मिलीलीटर वीर्य” के रूप में मापी जाती है, यानि कि एक मिलीलीटर वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या कितनी है।
    एक सामान्य शुक्राणु संख्या कम से कम 15 मिलियन शुक्राणु प्रति मिलीलीटर वीर्य है।
    यदि एक मिलीलीटर वीर्य में 20 मिलियन शुक्राणु या इससे अधिक की संख्या है तो इसे सामान्य माना जाता है।
    यदि स्पर्म काउंट इससे कम है तो इसका अर्थ यह है कि पुरुष बांझ है।
    गर्भावस्था के लिए सामान्य शुक्राणु गिनती के लिए एक पूर्ण गाइड प्राप्त करें।
    यदि आपका स्पर्म काउंट सीमा के भीतर नहीं है, तो शुक्राणुओं की संख्या बढ़ाने के लिए युक्तियों का पता लगाएं और अपनी प्रजनन क्षमता को बढ़ाएं।
  3. शुक्राणु की गुणवत्ता (Sperm quality)
    शुक्राणु की गुणवत्ता आमतौर पर दो मापदंडों पर आधारित होती है- शुक्राणु की गतिशीलता (sperm motility) और गुणवत्ता।
    शुक्राणु गतिशीलता शुक्राणुओं का वो प्रतिशत है जो सक्रिय रूप से नमूने में हैं।
    शुक्राणु की गति और उनके गति की दिशा भी महत्वपूर्ण होती है।
    विश्लेषण में, अगर शुक्राणु का नमूना प्राप्त करने के एक घंटे बाद भी 50% या अधिक शुक्राणु गतिशील पाए जाते हैं, तो परिणाम सामान्य माने जाते हैं।
    शुक्राणुओं को एक अच्छी गति के साथ चलना चाहिए जिसे गतिशीलता कहा जाता है, और वह भी एक सीधी रेखा में।
  4. शुक्राणु आकृति विज्ञान (Sperm morphology)
    शुक्राणुओं की संरचना, आकार और उपस्थिति भी देखी जाती है।
    असामान्य शुक्राणुओं में दोषपूर्ण सिर और अपरिपक्व रूप हो सकते हैं।
    14% से अधिक शुक्राणुओं का सिर सामान्य होना चाहिए। वीर्य विश्लेषण में, वीर्य का पीएच (pH) 7.2 और 7.8 के बीच का होना चाहिए।
  5. वीर्य संवर्धन (Semen Culture)
    वीर्य संस्कृति या सिमेन कल्चर एक ऐसा चिकित्सा परीक्षण है जो हानिकारक रोगजनकों (pathogens) की जांच करने के लिए किया जाता है।
    यदि यह पाया जाता है कि वीर्य बैक्टीरिया से संक्रमित है, तो यह वीर्य की गुणवत्ता और शुक्राणुओं को प्रभावित कर सकता है, और इसके लिए दवाओं की ज़रूरत होगी।
    यदि यह सकारात्मक आता है तो मूत्र पथ के संक्रमण (urinary tract infection) का संकेत हो सकता है।
loading image
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

बांझपन की कुल समस्याओं में 40% समस्या पुरुषों में पायी जाती है।

इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि पुरुष और महिला दोनों के लिए बांझपन टेस्ट्स करवाने ज़रूरी हैं।

यदि आप निःसंतान हैं तो पुरुष बांझपन इसका कारण हो सकता है और ऐसे में आपको बांझपन के लिए सही डायग्नोसिस की ज़रूरत होती है।

मेल इन्फर्टिलिटी टेस्ट्स से बांझपन के मूल कारणों का पता लगाने में सहायता मिलती है।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 03 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

15 से अधिक सुपर फूड जो स्पर्म काउंट और स्पर्म मोटेलिटी बढ़ा सकते हैं

15 से अधिक सुपर फूड जो स्पर्म काउंट और स्पर्म मोटेलिटी बढ़ा सकते हैं

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज - पीआईडी के लक्षण, कारण और इलाज़

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज - पीआईडी के लक्षण, कारण और इलाज़

हिस्टेरोसलपिंगोग्राम - बेस्ट फैलोपियन ट्यूब टेस्ट - प्रक्रिया व जोख़िम

हिस्टेरोसलपिंगोग्राम - बेस्ट फैलोपियन ट्यूब टेस्ट - प्रक्रिया व जोख़िम

टेराटोज़ोस्पर्मिया - कारण, प्रकार व उपचार

टेराटोज़ोस्पर्मिया - कारण, प्रकार व उपचार

नक्स वोमिका से पुरुष बांझपन का इलाज़

नक्स वोमिका से पुरुष बांझपन का इलाज़
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad