Lifestyle changes for period problems in hindi

जीवन शैली में बदलाव कर अपने पीरियड्स को नियमित करें

Lifestyle changes that can help treat irregular periods in hindi

periods ko niyamit karne ke liye jeevan shaili mein kya badlav laye in hindi

एक नज़र

  • मेनोपोज (Menopause) और प्युबर्टी (Puberty) – ये दो दौर ऐसे हैं जिसमें अनियमित माहवारी बहुत आम हैं।
  • विटामिन डी का निम्न स्तर अनियमित माहवारी का कारण हो सकता हैं।
  • अधिक वजन वाली महिलाओं को अनियमित पीरियड्स होने की संभावना अधिक होती हैं।
  • व्यायाम और योग का अभ्यास अनियमित महावारी को नियंत्रित करने में बहुत सहायक हैं।

हर महिला को अपने जीवन काल में कभी न कभी अपने पीरियड्स में कुछ अनियमितता का अनुभव करना ही पड़ता है।

अनियमित माहवारी हमेशा खतरे का सूचक नहीं होती है।

वजन का अत्यधिक घटना या बढ़ना, भावनात्मक तनाव और आहार से संबन्धित विकार कई बार अनियमित माहवारी का कारण बन सकते हैं।

इसके अलावा मेनोपोज और प्युबर्टी – ये दो दौर ऐसे हैं जिसमें अनियमित माहवारी बहुत आम है।

इन सब कारणों से होने वाली अनियमित माहवारी को जीवनशैली में बदलाव कर और घरेलू उपायों को अपनाकर ठीक किया जा सकता है।

अगर आप अनियमित पीरियड्स का शिकार हैं, तो नीचे दी गयी इन बातों पर ज़रूर ध्यान दें।

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image

इस लेख़ में/\

  1. पीरियड्स को नियमित करने के लिए स्वस्थ वजन बनाए रखें
  2. पीरियड्स को नियमित करने के लिए विटामिन की दैनिक खुराक ज़रूर लें
  3. अपने पीरियड्स को नियमित करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें
  4. अपने पीरियड्स को नियमित करने के लिए योग का अभ्यास करें
  5. निष्कर्ष
 

1.पीरियड्स को नियमित करने के लिए स्वस्थ वजन बनाए रखें

Maintain a healthy weight to avoid irregular periods in hindi

regular periods ke liye swasthya wajan banaye rakhe

loading image

आपके वजन में परिवर्तन आपके पीरियड्स को प्रभावित कर सकता है।

यदि आपका वजन अधिक है, तो वजन कम करने से माहवारी को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है।

अत्यधिक वजन, अत्यधिक वजन घटाने या कम वजन के कारण अनियमित मासिक धर्म हो सकता है।

इसलिए स्वस्थ वजन बनाए रखना महत्वपूर्ण है।

जो महिलाएं अधिक वजन वाली होती हैं, उनमें अनियमित पीरियड्स होने की संभावना अधिक होती है, और स्वस्थ वजन वाली महिलाओं की तुलना में भारी रक्तस्राव और दर्द का अनुभव होता है।

यह इसलिए होता है क्योंकि शरीर में मौजूद फैट सेल्स का हार्मोन और इंसुलिन पर गहरा और नकरात्मक असर होता है।

यदि आपको संदेह है कि आपका वजन आपके मासिक धर्म को प्रभावित कर रहा है, तो अपने डॉक्टर की सलाह लें।

वे वजन घटाने और एक स्वस्थ वजन पाने की सही रणनीति अपनाने में आपकी मदद कर सकते हैं।

और पढ़ें:Amenorrhea - Absent or Irregular Periods

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image
 

2.पीरियड्स को नियमित करने के लिए विटामिन की दैनिक खुराक ज़रूर लें

Take vitamins to avoid irregular periods in hindi

vitamins kaise karte hai periods ko niyamit

loading image

एक अध्ययन के अनुसार विटामिन डी का निम्न स्तर अनियमित माहवारी का कारण हो सकता है और विटामिन डी लेने से मासिक धर्म को नियमित करने में मदद मिल सकती है।

एक अन्य अध्ययन में भी विटामिन डी पीसीओएस के साथ-साथ मासिक धर्म की अनियमितता के इलाज में प्रभावी पाया गया है।

विटामिन डी के मुख्य स्रोतों में सोय मिल्क, ऑरेंज जूस, कोड लिवर ऑइल, दूध और अन्य डेयरी उत्पाद और अनाज शामिल हैं।

आप सूर्य के संपर्क में आकर या सप्लिमेंट्स के माध्यम से भी विटामिन डी प्राप्त कर सकते हैं।

इसके अलावा बी विटामिन, खासकर विटामिन B12 भी आपकी माहवारी को नियमित करने में मदद कर सकते हैं। अंडे, मीट, और दूध के उत्पाद विटामिन B12 से भरपूर होते हैं।

और पढ़ें:Polycystic ovary syndrome (PCOS) and Infertility | Zealthy

 

3.अपने पीरियड्स को नियमित करने के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें

Exercise regularly to avoid irregular periods in hindi

daily exercise karna kar sakta periods ko regular

loading image

व्यायाम के कई स्वास्थ्य लाभ हैं जो आपके पीरियड्स में मदद कर सकते हैं।

यह आपको वजन को सही बनाए रखने में मदद कर सकता है और पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (पीसीओएस) के लिए उपचार के रूप में भी काम करता है।

पीसीओएस से मासिक धर्म की अनियमितता हो सकती है।

और पढ़ें:अजवायन से पाएं पीरियड्स के दर्द से छुटकारा

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image
 

4.अपने पीरियड्स को नियमित करने के लिए योग का अभ्यास करें

Practise yoga to avoid irregular periods in hindi

yoga karna periods ko niyamit banata hai

loading image

योग को विभिन्न मासिक धर्म की समस्याओं के लिए एक प्रभावी उपचार माना गया है।

मासिक धर्म से संबंधित दर्द, अनियमितता और अन्य तकलीफ़ों को कम करने के लिए योग बहुत उपयोगी है।

2013 में, 126 महिलाओं के ऊपर हुए एक अध्ययन में पाया गया कि 6 महीने के लिए सप्ताह में 6 दिन, 35 से 40 मिनट योग करने से, अनियमित माहवारी से संबंधित हार्मोन के स्तर में सुधार होता है।

यह भी पाया गया कि मासिक धर्म से संबंधित दर्द और भावनात्मक लक्षणों जैसे कि डिप्रेशन और चिंता को कम करने में भी योग बहुत उपयोगी है।

और पढ़ें:अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

 

5.निष्कर्ष

Conclusion in hindi

जीवन शैली में कुछ बदलाव कर और घरेलू उपचार के साथ बड़ी आसानी से मासिक धर्म चक्र को पटरी पर लाया जा सकता है।

यदि आप अपने अनियमित पीरियड्स से परेशान हैं, तो इन उपायों को अपनाये। ये न सिर्फ आपके अनियमित पीरियड्स को सही करेंगे बल्कि आपको हमेशा स्वस्थ रखने में भी मददगार होंगे।

यदि आप अचानक मासिक धर्म की अनियमितता का अनुभव करती हैं, या नियमित रूप से छोटे या लंबे चक्र का सामना करती हैं तो इन उपायों को अपनाने के साथ-साथ डॉक्टर से भी बात करें।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि:: 19 May 2019

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें