How to use a pregnancy test kit in hindi

कैसे करें गर्भावस्था किट का प्रयोग ?

How to use home pregnancy kit in hindi

Kaise karein garbhavastha kit ka upyog in hindi

एक नज़र

  • गर्भावस्था किट महिला के शरीर में एचसीजी (HCG) हॉर्मोन का स्तर मापने के बाद गर्भवती होने की पुष्टि करती है।
  • महिला को पीरियड ना आने के कम से कम 7 दिन बाद परीक्षण करना चाहिए।
  • किट पर लिखे सभी निर्देशों को पढ़कर ही किट का प्रयोग किया जाना चाहिए क्योंकि हर किट अलग कंपनी की होती है।

कई बार कुछ महिलाओं को अपने गर्भवती होने की जानकारी ही नहीं होती जिस वजह से वह अपना ख्याल नहीं रखती। सावधानी ना रखने के कारण गर्भपात होने का ख़तरा हो सकता है या मां-शिशु के स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। लेकिन इस संशय की स्थिति को दूर करने के लिए घर पर ही गर्भावस्था जांच के लिए बाजार में कई प्रकार की गर्भावस्था जांच किट मिलती हैं।

लेकिन इनको उपयोग करने के तरीके और इससे जुड़ी अन्य जानकारी का पता होना ज़रूरी है ताकि इससे मिले नतीजों पर विश्वास किया जा सके। इस लेख के माध्यम से गर्भावस्था जांच किट से जुड़ी आवश्यक जानकारी दी गयी है।

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

इस लेख़ में/\

  1. क्यों ज़रूरी है गर्भावस्था जांच किट के उपयोग को ठीक से समझना?
  2. कैसे करते हैं गर्भावस्था जांच किट काम?
  3. कब करना चाहिए गर्भावस्था परिक्षण?
  4. किट खरीदने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें क्या हैं?
  5. प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग कैसे करें?
  6. गर्भावस्था परीक्षण करने से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें क्या हैं?
  7. निष्कर्ष
 

1.क्यों ज़रूरी है गर्भावस्था जांच किट के उपयोग को ठीक से समझना?

Why it is important to understand the usage of pregnancy test kit in hindi

Kyon zaroori hai home pregnancy kit ke prayog ko smjhna in hindi

यदि महिला का किसी महीने पीरियड नहीं आता है मगर उल्टी, आलस जैसे कुछ शारीरिक बदलाव महसूस होने लगते हैं तो वह घर पर ही गर्भावस्था जांच किट से अपने गर्भवती होने की पुष्टि कर सकती हैं।

होम प्रेगनेंसी किट को उपयोग करना बहुत आसान होता है। लेकिन इस किट से मिलने वाले परिणाम इस बात पर निर्भर करते हैं कि इनके प्रयोग के लिए दिए निर्देशों का कितने सटीक रूप से पालन किया गया है। इसलिए महिला को इसके प्रयोग से पहले इसे समझ लेना चाहिए।

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

 

2.कैसे करते हैं गर्भावस्था जांच किट काम?

How does home pregnancy kit works in hindi

Kaise karte hain home pregnancy kit kaam in hindi

प्रेगनेंसी किट महिला के मूत्र में गर्भावस्था हॉर्मोन यानी एचसीजी (HCG) की मात्रा मापते हैं। जब महिला के गर्भाशय में निषेचित अंडे (fertilized egg) प्रत्यारोपित (implant) हो जाते हैं तो महिला के शरीर में एचसीजी (HCG) हॉर्मोन बनने लगते हैं। लगभग सभी गर्भावस्था परीक्षणों में एचसीजी का पता लगाने की समान क्षमता होती है।

यदि एचसीजी का स्तर 5 miu /HCG से कम होता है तो परिणाम नकारात्मक आते हैं। सकारात्मक नतीजों के लिए एचसीजी का स्तर 25 miu / HCG से ज्यादा होना चाहिए। लेकिन यदि एचसीजी का स्तर 6-24 miu / HCG के बीच होता है तो परीक्षण फिर से करने की आवश्यकता होती है।

अधिकांश प्रेगनेंसी किट 20 miu /HCG पर HCG के स्तर का पता लगा सकते हैं, लेकिन कुछ किट थोड़ा अधिक संवेदनशील होते हैं और अन्य थोड़ा कम संवेदनशील होते हैं। आमतौर पर, किट पर दिए गए निर्देशों में गर्भावस्था परीक्षण के संवेदनशीलता स्तर के बारे में जानकारी दी जाती है। महिला जिस समय परीक्षण करती है उस समय यदि एचसीजी स्तर 25 miu / HCG हो तो होम प्रेगनेंसी टेस्ट सकारात्मक परिणाम देती है।

 

3.कब करना चाहिए गर्भावस्था परिक्षण?

When to do pregnancy test in hindi

Kab karna chahiye pregnancy test in hindi

एक महिला को असुरक्षित रूप से यौन सम्बन्ध बनाने के कम से कम 21 दिन बाद या माहवारी के कम से कम एक दिन देर से आने के बाद प्रेगनेंसी किट का इस्तेमाल करके अपने गर्भवती होने की पुष्टि करनी चाहिए।

सामान्य रूप से, ओवुलेशन (ovulation) के सात से दस दिन तक महिला के शरीर में एचसीजी स्तर 25miu/HCG होता है, इसलिए किट के माध्यम से किया गया परीक्षण सटीक परिणाम दे सकता है।

गर्भावस्था परीक्षण के लिए आपको निम्न ज़रूरत होगी :

  • एक घर पर गर्भावस्था की जांच करने के लिए किट (home pregnancy test kit) जिसमें ड्रॉपर (dropper) और टेस्ट स्ट्रिप (test strip) होनी चाहिए।
  • समय देखने के लिए घड़ी
  • एक साफ़ कप (विकल्प)
loading image

अस्सिटेड रिप्रोडक्टिव तकनीक से मातृत्व का अनुभव करें| हम कर सकते हैं आपकी मदद!

बुक करें

 

4.किट खरीदने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें क्या हैं?

What to keep in mind before buying a pregnancy test kit in hindi

Kit kharidne se pehle dhyan rakhne wali baatein in hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट किट खरीदने से पहले निम्न बातों पर ध्यान दें :

  • किसी अच्छी मेडिकल दुकान या ऑनलाइन, प्रेगनेंसी किट खरीदनी चाहिए। एक्सपर्ट्स के अनुसार प्रेगनेंसी किट एक ऐसी दुकान से लेनी चाहिए जिनकी बिक्री अधिक होती है ताकि पुरानी किट मिलने की संभावना कम हो जाए।
  • किट खरीदने पर उसकी एक्सपायरी तिथि जांच लें। यदि किट को खरीद कर तुरंत इस्तेमाल नहीं करना है तो यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि उसे किसी सूखी जगह पर ही रखा जाये।
  • किट का उपयोग करने से पहले उस पर दिए सभी निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ लें। किसी भी तरह के संशय होने पर किट पर दिए टोल फ्री नंबर पर संपर्क करके सभी प्रकार के प्रश्नों का उत्तर लेना चाहिए।
  • सबसे सटीक नतीजों के लिए महिला को सुबह ही इस किट का प्रयोग कर लेना चाहिए। सुबह के वक़्त मूत्र ज्यादा तरल नहीं होता और जिससे हॉर्मोन का स्तर सही ढंग से पता चल पाता है।
  • किट का सही प्रयोग और उससे मिलने वाले परिणाम सटीक हो इसके लिए इसका उपयोग सही समय पर करना ज़रूरी होता है।
    इसके लिए महिला को चाहिए कि वह अपने मासिक धर्म के चक्र का ध्यान रखे और उसी के अनुसार परीक्षण करें।

और पढ़ें:Uterine Fibroids and its treatment

 

5.प्रेगनेंसी टेस्ट किट का उपयोग कैसे करें?

How to use home pregnancy test kit in hindi

Pregnancy test kit ka prayog in hindi

होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट को इस्तेमाल करने का तरीका निम्न है :

  • होम प्रेगनेंसी टेस्ट किट के उपयोग के वक़्त सचेत एवं सावधान रहें।
  • हाथों को गर्म पानी और साबुन से धोएं।
  • प्रेगनेंसी टेस्ट किट को उसके फॉयल कवर में से निकालें।
  • किट के अनुसार, एक कलेक्शन कप (collection cup) में मूत्र को एकत्रित करें या फिर सीधे प्रेगनेंसी टेस्ट स्टिक (pregnancy test kit) पर मूत्र करें। कुछ परीक्षण किट में दोनों विकल्प दिए जाते हैं। यह जानना जरूरी है कि आपको मूत्रधारा की शुरुआत में परीक्षण नहीं करना है बल्कि थोड़ी देर बाद करना होता है।
  • यदि किट के अनुसार मूत्र सीधे प्रेगनेंसी स्टिक पर करना है, तो स्टिक के उस भाग को अपनी ओर रखें जिसमें परिणाम दिखेगा कि आप गर्भवती हैं या नहीं। कोशिश करें कि किट पर लिखें समय तक स्टिक मूत्र में रहे।
  • यदि आपने अपना पेशाब कप में एकत्रित किया है तो परीक्षण करने के लिए किट के साथ आये छोटे से ड्रॉपर का प्रयोग मूत्र लेने के लिए करें। यदि किट में ड्रॉपर नहीं आया है तो प्रेगनेंसी टेस्ट के सोखने वाले भाग को कप में डूबा दें और इसी अवस्था में उसे 5-10 सेकंड तक या किट के निर्देशानुसार पकड़े रहें।
  • प्रेगनेंसी टेस्ट स्टिक को किसी समतल एवं साफ़ जगह पर उसके नतीज़ा दिखाने वाले भाग को ऊपर रखते हुए रखें।
  • किट पर दिए गए निर्देश में यह लिखा होगा कि कितनी देर में आपको परिणाम मिलेगा। यह समय एक मिनट से लेकर 5 मिनट तक हो सकता है। कुछ किट परिणाम देने में 10 मिनट तक का समय भी लेती हैं।
  • हालांकि, होम प्रेगनेंसी टेस्ट एचसीजी (HCG) की मात्रा मापती है, लेकिन उनमें एक नियंत्रण भाग (control window) भी होता है जो मूत्र को सोखने के कारण गहरे रंग का होने लगता है। अधिकतर कंट्रोल विंडो में एक रेखा या किसी प्रकार का चिन्ह आता है जो यह बताता है कि परीक्षण सही रहा। यदि ऐसा कुछ भी ना हो तो इसकी सम्भावना है कि या तो गर्भधारण नहीं हुआ है या परीक्षण ठीक प्रकार से नहीं हुआ।
  • किट पर लिखे समय के बाद परिणाम देखें। यह ध्यान रखना आवश्यक है कि हर किट का यह संकेत देने का कि गर्भधारण हुआ है या नहीं अपना तरीका होता है। इसलिए किट पर दिए निर्देश ध्यान पूर्वक पढ़ें।

गर्भधारण होने पर नीचे दिए गए चिन्हों में से कोई आ सकता है:

    • गुलाबी या नीली रेखा
    • जोड़ (+) या घटाने (-) का लाल चिन्ह
    • टेस्ट किट की नतीजे वाले भाग का रंग बदलना
    • लिखित संदेश यानी आप गर्भवती है या आप गर्भवती नहीं है।
  • यदि प्रेगनेंसी टेस्ट से नकारात्मक नतीज़ा मिलता है लेकिन आपके पीरियड अभी भी नहीं आए हैं तो आपको 5-7 दिन बाद फिर से परीक्षण करना चाहिए। चूँकि गर्भवती होने पर शरीर में एचसीजी की मात्रा हर 2-3 दिनों में दोगुनी हो जाती है इसलिए कुछ दिन बाद परीक्षण करने के बाद आपको सकारात्मक परिणाम मिल सकता है। इसलिए कुछ प्रेगनेंसी टेस्ट किट में एक से ज्यादा टेस्ट किट होती हैं।
  • यदि आपने माहवारी ना आने के 7 दिन के अंदर ही गर्भवती होने का परीक्षण किया है और आपको नकारात्मक परिणाम मिलें हैं तो एकदम से इस परिणाम पर भरोसा ना करें। इसके पीछे यह कारण भी हो सकता है कि आपने गर्भवती होने की जांच जल्द कर ली है। एक हफ्ता और इंतज़ार करें और यदि आपकी माहवारी ना आये और गर्भधारण की जांच आपको गर्भवती ना होने का संकेत दे तो चिकित्सक से परामर्श लें।
  • यदि जांच करने पर आपके गर्भवती होने का संकेत मिलता है तो अपने डॉक्टर से मिलकर इस बात की पुष्टि अवश्य कर लें।
    इसके लिए डॉक्टर की सलाह के अनुसार कुछ पुष्टिकरण परीक्षण करवा लें जैसे गर्भावस्था हेतु ब्लड टेस्ट (blood test), ग्लूकोज टेस्ट (glucose test), अल्ट्रासाउंड, गुणात्मक (qualitative) एवं मात्रात्मक (quantitative) एचसीजी टेस्ट आदि।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी के साथ कैसे हो सकती हैं जल्द गर्भवती

 

6.गर्भावस्था परीक्षण करने से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें क्या हैं?

What are the tips to follow when taking a pregnancy test in hindi

Garbhavastha parikshan karne se judi kuch tips in hindi

प्रेगनेंसी टेस्ट लेते वक़्त ध्यान देने वाली कुछ बातें निम्न हैं :

  • बाज़ार में कई प्रकार की होम प्रेगनेंसी किट उपलब्ध हैं। लेकिन जिन किट में प्रेगनेंसी स्टिक होती है उन्हें इस्तेमाल करना आसान होता है क्योंकि उन्हें सीधे मूत्रधारा में रख कर प्रयोग किया जा सकता है या फिर कलेक्शन कप में उसे डूबा कर परीक्षण किया जा सकता है।
  • यदि किट की नतीजे वाली जगह पर हल्की- सी रेखा या किसी प्रकार का चिन्ह जैसे सकारात्मक परिणाम के लिए दो गुलाबी रेखा दिखे तो इसे गर्भवती होने का संकेत मानना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि टेस्ट किट में आया किसी भी तरह का संकेत तभी आता है जब आपके शरीर में एचसीजी हॉर्मोन का उत्पादन हो रहा होगा।
  • आपके द्वारा किया गया परीक्षण तभी मान्य होगा जब निर्देश में दिए गए समय में ही आपको परिणाम मिल जाए। इसलिए यदि किट में लिखा हो कि आपको नतीजे जानने के लिए 3 मिनट का इंतज़ार करना है तो 3 मिनट बाद मिला परिणाम ही सही होगा। यदि किट पर दिए गये समय के बाद किसी भी तरह के संकेत को सही नहीं माना जाना चाहिए।

और पढ़ें:अल्फा-फेटोप्रोटीन टेस्ट क्या है और क्यों पड़ती है इसकी ज़रूरत

 

7.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

प्रेगनेंसी टेस्ट किट से इस बात की पुष्टि हो जाती है कि महिला गर्भवती है तो चिकित्सक के पास जाकर अन्य टेस्ट जैसे ब्लड टेस्ट (blood test), ग्लूकोज टेस्ट (glucose test), अल्ट्रासाउंड, गुणात्मक एवं मात्रात्मक एचसीजी टेस्ट (qualitative and quantitative hCG test) आदि ज़रुर करवाने चाहिए। लेकिन घर पर गर्भावस्था का परीक्षण करते वक़्त ऊपर दी गयी बातों का ध्यान रखना अनिवार्य है ताकि किये गए परीक्षण से सटीक नतीजे मिलें।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि:: 20 Jul 2020

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें