पॉजिटिव थिंकिंग से कैसे करें तनाव को दूर

How to remove stress by positive thinking in hindi

positive thinking se kaise door kare tanav


एक नज़र

  • किसी भी काम की सफलता, करने वाले की पॉजिटिव थिंकिंग पर निर्भर करती है।
  • सकारात्मक सोच वाले लोगों की औसत आयु अधिक होती है।
  • पॉजिटिव थिंकिंग से स्वास्थ्य पर भी बहुत असर पड़ता है।
  • आपकी जैसी सोच होगी, आपका शरीर वैसे ही रिएक्ट करेगा।
triangle

Introduction

positive_thinking_se_kaise_door_kare_tanav

हेमलेट कहते है “कुछ भी बुरा या अच्छा नही होता है, ये केवल आपकी सोच बनाती है।” पॉजिटिव थिंकिंग आप पर जादुई असर करती है।

सकारात्मकता से व्यक्ति न केवल खुद की हेल्थ, काम और प्रोडक्टिविटी को बढ़ा सकता है बल्कि अपने आसपास के वातावरण जैसे घर-परिवार, रिश्तेदार, वर्कप्लेस को प्रभावित करते हुए आगे बढ़ सकता है।

आजकल कई मल्टीनेशनल कंपनियां अपने वर्कर्स (workers) को तनाव मुक्त और पॉजिटिव रखने के लिए मोटिवेशनल (motivational) एक्सपर्ट्स को बुलाती हैं, जिससे उनमे आत्मविश्वास बढ़ जाता है।

loading image

इस लेख़ में

 

सकारात्मकता की ताकत से तनाव को दूर करें

Remove stress from power of positivity in hindi

sakaratmakta ki takat se door kare tanav

जर्नल ऑफ बिहेवियर रिसर्च एंड थेरेपी (Journal of Behaviour Research and Therapy) की रिसर्च में वैज्ञानिकों ने चिंता और तनाव से राहत दिलाने वाले विषयों पर रिसर्च की।

उन्होंने एक ग्रुप को पिछले हफ्ते में हुई तीन स्ट्रेस की घटनाओं में से हर एक के लिए पॉजिटिव रिजल्ट की कल्पना करने के लिए कहा, एक अन्य समूह को सकारात्मक परिणामों के बारे में सोचने का कहा।

एक अन्य समूह को कहा गया कि जब भी उन्हें कोई चिंता हो वे सकारात्मक छवि की कल्पना करे।

दो समूहों जिन्होंने एक सकारात्मक छवि की कल्पना की उनमे बैचैनी, चिंता और व्यग्रता जैसी मानसिक अवस्था नही पाई गयी ।

loading image
 

पाजिटिव थिंकिंग आपको ख़ुश और सफल बनाती है

Positive thinking makes you happy and successful in hindi

positive thinking aapko kaise khush or safal bna sakti hai

साइकोलॉजिकल बुलेटिन में पब्लिश रिव्यु (review) में 275,000 से अधिक लोगों पर रिसर्च की गई और ये पाया गया कि हमेशा खुश रहने वाले लोगों को सफलता अधिक मिली और इसका क्रेडिट उनकी पॉजिटिव थिंकिंग को गया।

यूसी रिवरसाइड रिसर्चर्स (University of California Riverside Researchers) ने कहा कि जब लोग खुश होते हैं, तो वे कॉन्फिडेंट, आशावादी (hopeful) और एनरजेटिक (energetic) रहते हैं और तनाव से दूर रहते हैं।

और पढ़ें:अकेलापन कैसे दूर करें
 

ननों पर की गई रिसर्च साबित करती है कि पॉजिटिव थिंकिंग से उम्र बढ़ती है

The study on nuns proves that age increases with positive thinking in hindi

positive thinking ka umr par kaisa padta hai asar

यूनिवर्सिटी ऑफ केंटकी (University of Kentucky) के वैज्ञानिकों ने “पाजिटिविटी का असर” 1930 में लिखी आत्मकथा में दर्ज सकारात्मकता के आधार पर 18-32 साल की उम्र की ननों पर रिसर्च की।

साठ साल बाद शोधकर्ताओं ने जीवित ननों से संपर्क किया, जो अब 75-90 वर्ष की आयु के थी।

उनमें से जो अभी भी जीवित थी।

तक़रीबन आधे ननो से औसत आयु को पार कर ली थी।

इस रिसर्च में पाया गया कि उनकी सकारात्मक जीवन शैली की वजह से ही उनकी उम्र बढ़ी।

loading image
 

सकारात्मक सोच तनाव में किस प्रकार राहत देती है

How positive thinking gives relief in stress in hindi

sakaratmak soch tanav mei kis prakar rahat deti hai

सकारात्मकता से व्यक्ति के मन में चल रहे चिंता, डर, बैचेनी आदि से राहत मिलती है।

कई रिसर्च से साबित हुआ है कि सकारात्मक विचारों से न केवल तनाव में राहत मिलती है बल्कि कई गंभीर बिमारियों पर भी इसका अच्छा प्रभाव पड़ता है।

अगर हम किसी विषय या घटना को लेकर हमेशा नकारात्मक सोच रखते है तो ये हमारे स्वभाव में शामिल होकर हमारी ख़ुशी छीन लेती है ।

और पढ़ें:अच्छी नींद और मेटाबॉलिज्म बढ़ाने के लिए आहार
 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

nishkarsh in hindi

नियमित रूप से सकारात्मक सोच का विकास किया जा सकता है।

इसके लिए आवश्यक है कि पहले से ही किसी घटना को लेकर अपने मन में स्वयं ही कोई परिणाम न बनने दें।

हो सकता है कि आज जिस घटना से आपको तनाव हो रहा है, भविष्य में वो ही घटना किसी बड़ी सफलता का कारण बने।

हमेशा याद रखें कि जो होता है, अच्छे के लिए होता है।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 22 May 2019

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

तनाव के कारण, लक्षण, प्रकार, बचाव और उपचार

तनाव के कारण, लक्षण, प्रकार, बचाव और उपचार

10 भारतीय मशहूर हस्तियां जो हुए थे एंग्जायटी या अवसाद के शिकार

10 भारतीय मशहूर हस्तियां जो हुए थे एंग्जायटी या अवसाद के शिकार

बेचैनी के कारण रात को नींद ना आए तो क्या करें

बेचैनी के कारण रात को नींद ना आए तो क्या करें

जानें पैरों की थकान दूर करने के उपाय

जानें पैरों की थकान दूर करने के उपाय

अचानक घबराहट होना - कारण, लक्षण और उपचार

अचानक घबराहट होना  -  कारण, लक्षण और उपचार
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad