माहवारी के दर्द को कम करने के आसान घरेलू नुस्खे

Home remedies for period cramps in hindi

periods mein dard ko kam karne ke asan gharelu nuskhe in hindi


एक नज़र

  • मासिक धर्म की ऐंठन और दर्द कुछ महिलाओं में काफी गंभीर रूप ले लेता है।
  • लगभग 50% महिलाएं कभी न कभी पीरियड क्रेम्प्स की शिकायत करती पायी गयी हैं।
  • मासिक धर्म की ऐंठन उम्र के साथ कम होती जाती है और अक्सर पहले बच्चे को जन्म देने के बाद खत्म हो जाती है।
  • पीरियड क्रैम्प के लिए ज़रूरी है कि आप एक हेल्थी जीवन शैली भी अपनाएं।
triangle

Introduction

periods_mein_dard_ko_kam_karne_ke_asan_gharelu_nuskhe_in_hindi

महिलाओं में मासिक धर्म के पहले और उसके दौरान पेट और पीठ के निचले हिस्सों और जांघों में ऐंठन और दर्द होना आम है।

किन्तु जहां कुछ महिलाओं के लिए यह थोड़ी असुविधाजनक और कष्टप्रद होती है, वहीं दूसरों के लिए, मासिक धर्म की ऐंठन इतनी गंभीर हो जाती है कि रोजमर्रा की गतिविधियों में बाधा खड़ी कर देती है।

मासिक धर्म के दौरान सामान्य दर्द आम है, किन्तु गंभीर प्रकार के दर्द के लिए कभी-कभी एंडोमेट्रियोसिस (endometriosis) या गर्भाशय फाइब्रॉएड (uterine fibroids ) जैसी बीमारियाँ भी जिम्मेदार हो सकती हैं।

ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर की सलाह और इलाज़ बेहद ज़रूरी हो जाता है।

मासिक धर्म की ऐंठन उम्र के साथ कम होती जाती है और अक्सर पहले बच्चे को जन्म देने के बाद खत्म हो जाती है।

यदि आपको एंडोमेट्रियोसिस या गर्भाशय फाइब्रॉएड की शिकायत नहीं है, तो कई ऐसे घरेलू उपचार है, जो पीरियड्स के दर्द को कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

तिल के तेल से माहवारी का दर्द होगा कम

Sesame oil for relief from period pains in hindi

til ke tel se periods ka dard kam ho sakta hai

loading image

तिल का तेल पारंपरिक रूप से मालिश के लिए उपयोग किया जाता है।

यह लिनोलिक एसिड (linolic acid) में समृद्ध है, और इसमें एंटी इंफ़्लेम्मटरी (anti-inflammatory) और एंटीऑक्सिडेंट (antioxidant) गुण हैं।

आप मासिक धर्म के दौरान तिल के तेल का उपयोग कर निचले पेट पर मालिश कर सकती हैं।

यह पीरियड के दर्द से राहत देने में बहुत मदद करता है।

और पढ़ें:अजवायन से पाएं पीरियड्स के दर्द से छुटकारा
 

मेथी बीज से माहवारी का दर्द होगा कम

Fenugreek reduce periods cramps in hindi

methi ke beej bhi periods ka dard kam kar sakta hai

loading image

मेथी के बीज वजन घटाने के लिए जाने जाते हैं। यह आपके लिवर, किडनी और मेटाबॉलिज्म (metabolism) के लिए भी अच्छा होता है।

आप मेथी के बीज की मदद से पीरियड के दर्द को भी कम कर सकती हैं।

आपको बस इसे 12 घंटे के लिए पानी में भिगोना है और फिर छानकर इस पानी को पीना है।

आप इसे यदि सुबह-सुबह लें, तो यह काफी लाभदायक रहता है।

loading image
 

अदरक से माहवारी का दर्द होगा कम

Ginger reduces periods cramps in hindi

adrak se karein mahwari ka ilaj

loading image

सूखे अदरक और काली मिर्च का उपयोग करके हर्बल चाय बनाएं। स्वाद के लिए थोड़ी चीनी मिलाएं, लेकिन दूध से बचें।

इस चाय को आप दिन में दो से तीन बार ले सकती हैं।

पीरियड के दर्द में अदरक बहुत प्रभावी रूप से काम करती है, क्योंकि यह प्रोस्टाग्लैंडिंस (prostaglandins) के स्तर को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

यह अनियमित अवधियों को नियमित करने में मदद करती है और मासिक धर्म से जुड़ी थकान से लड़ती है।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी का इलाज
 

जीरा से माहवारी का दर्द होगा कम

Cumin for relief from periods cramps in hindi

jeera se karein periods pain ka ilaj

loading image

आप पीरियड के दर्द को कम करने के लिए जीरे के बीजों से हर्बल चाय बना सकती हैं।

इसके लिए आप आधा ग्लास पानी में थोड़ा जीरा डालें और कुछ देर उसे उबालें। ठंडा होने पर इस पानी को छानके पी लें। इस चाय को भी आप दिन में दो से तीन बार थोड़ी-थोड़ी मात्र में ले सकती हैं।

जीरा में मौजूद एंटी-स्पासमोडिक (anti-spasmodic) और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory )गुण मासिक धर्म की ऐंठन से छुटकारा पाने के लिए उपयोगी होते हैं।

loading image
 

ग्रीन टी से माहवारी का दर्द होगा कम

Green tea will reduce pain during periods in hindi

green tea se masik dharm ke dard ka ilaj

loading image

एक कप पानी में ग्रीन टी की पत्तियां मिलाएं और इसे तीन से पाँच मिनट के लिए उबाल लें।

अब इसे थोड़ा ठंडा होने दें और स्वाद के लिए इसमें थोड़ा शहद मिलाएं और स्वादिष्ट ग्रीन टी का आनंद लें।

आपको रोजाना 3 से 4 बार ग्रीन टी पीनी चाहिए। ग्रीन टी में कैटेचिन (catechins) नामक फ्लेवोनॉइड्स (flavonoids) होते हैं जो इसे इसके औषधीय गुण प्रदान करते हैं।

ग्रीन टी एक प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट (antioxidant) है और इसमें एनाल्जेसिक (analgesic) और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण भी होते हैं, जो पीरियड क्रैम्प्स से जुड़े दर्द और सूजन से राहत दिलाते हैं।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड
 

निष्कर्ष

Conclusion in hindi

पीरियड क्रैम्प के लिए इन घरेलू उपचारों का उपयोग करने के अलावा ज़रूरी है कि आप एक हेल्थी जीवन शैली भी अपनाएं।

इसके लिए आप एक स्वस्थ और संतुलित आहार लें जिसमें ताजे फल और सब्जियां हों, कैफीन, धूम्रपान और शराब के सेवन को सीमित करें, नियमित रूप से व्यायाम करें और खुद को हाइड्रेट रखने के लिए खूब सारा पानी और ताजा जूस पिएं।

यदि आवश्यक हो तो माहवारी की ऐंठन से राहत पाने के लिए आप एक्यूपंक्चर (accupuncture)का सहारा भी ले सकती हैं।

इन घरेलू नुस्खों का पालन करने के बावजूद अगर आपको राहत न मिले तो डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 20 May 2019

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

डिसमेनोरिया क्या है

डिसमेनोरिया क्या है

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad