देसी नुस्खे पीरियड्स के लिए

Home remedies for normal periods in hindi

normal periods pane ke liye desi nuskhe in hindi


एक नज़र

  • जिन महिलाओं को हैवी पीरियड्स होते हैं, उन्हें विटामिन-के(Vitamin K) के सप्लीमेंट लेने चाहिए।
  • हार्मोनल असंतुलन, थायरॉयड विकार, खाने के विकार या अन्य स्वास्थ्य समस्याओं के कारण पीरियड्स असामान्य हो सकते हैं।
  • जीवनशैली की आदतों जैसे धूम्रपान, शराब का सेवन आदि भी हेल्थी पीरियड्स में बाधक बन सकते हैं।
triangle

Introduction

normal_periods_pane_ke_liye_desi_nuskhe

मासिक धर्म की ऐंठन, हैवी या हल्की ब्लीडिंग या अनियमित पीरियड्स एक महिला को पीरियड्स के दौरान असहज बना सकता है।

मासिक धर्म की परेशानी कई तरीकों से हो सकती है।

सबसे आम समस्याओं में स्तन की कोमलता, चिड़चिड़ापन और अवसाद, त्वचा की सूजन, थकान आदि शामिल हैं।

हार्मोनल असंतुलन, थायरॉयड विकार, लीवर रोग, गर्भपात, खाने के विकार, अत्यधिक वजन बढ़ना या कम होना या अन्य स्वास्थ्य समस्याओं जैसे कारण ऐसी समस्याओं के जन्म में योगदान करते हैं।

जीवनशैली की आदतें जैसे धूम्रपान, शराब का सेवन, कैफीन का अधिक सेवन, कुछ दवाएं और हैवी व्यायाम भी ऐसे मुद्दों का कारण बन सकते हैं।

इस तरह की समस्याओं में डॉक्टरी सलाह लेना तो ज़रूरी है ही, साथ ही बहुत से ऐसे घरेलू उपाय भी हैं जिनकी मदद से आप बड़ी आसानी से इन तकलीफ़ों से छुटकारा पा सकती हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

नार्मल पीरियड्स के लिए तुलसी का उपयोग करें

Use basil for normal periods in hindi

tulsi ki madad se pa sakte hai normal periods

loading image

तुलसी मासिक धर्म से जुड़े सामान्य दर्द से छुटकारा दिलाने में बहुत मददगार है, क्योंकि इसमें कैफिक एसिड (caffeic acid) होता है, जिससे दर्द कम होता है।

तुलसी का उपयोग आप खाने पकाने में भी कर सकती है।

इस जड़ी बूटी को आप चाय के रूप में भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

  • 1 बड़ा चम्मच उबलते पानी में 2 बड़े चम्मच तुलसी के पत्ते मिलाएं।

  • अच्छी तरह उबलने के बाद इस पानी को ठंडा होने पर छान लें।

  • दर्दनाक माहवारी के लिए एक घंटे में 1/2 से 1 कप पिएं।

और पढ़ें:अजवायन से पाएं पीरियड्स के दर्द से छुटकारा
 

दालचीनी से पाएं पीरियड्स में राहत

Cinnamon for normal periods in hindi

dalchini se paye periods mein rahat

loading image

दालचीनी में एंटी-इंफ़्लेम्मटरी(anti-inflammatory) और एंटीस्पास्मोडिक (antispasmodic) गुण हैं, जो ऐंठन और दर्द से राहत देते हैं।

आप इसे चाय के रूप में उपयोग करें, या टोस्ट या मीठे रोल पर पाउडर के रूप में छिड़कें।

यदि आपको हैवी पीरियड्स की शिकायत रहती है, तो माहवारी से पहले या माहवारी वाले दिन दालचीनी की चाय पीने से मदद मिल सकती है।

loading image
 

नार्मल पीरियड्स के लिए सौंफ का उपयोग करें

Use fennel for normal periods in hindi

saunf ke upyog se karein periods ko normal

loading image

सौंफ भी पीरियड्स के दर्द और ऐंठन का असरदार इलाज़ है।

यह अंडाशय (ovaries) के भीतर बेहतर रक्त परिसंचरण (blood circulation) को बढ़ावा देता है।

सौंफ़ के बीज में एम्मेनागॉग (emmenagogue) होता है, सौंफ़ के बीज मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करते हैं, और इसके एंटीस्पास्मोडिक (antispasmodic) गुण ऐंठन से राहत देते हैं।

  • 1 चम्मच सौंफ के बीजों का पाउडर बना लें।

  • 1 कप उबलते पानी में मिलाएँ।

  • पांच मिनट तक रखने के बाद छानकर गर्म पीएं।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी का इलाज
 

अदरक से पाएं पीरियड्स में राहत

Ginger for normal periods in hindi

karein adrak ka istemal aur payein periods mein rahat

loading image

अदरक पीरियड्स के दर्द को कम करने का काम करता है, और साथ ही अनियमित माहवारी को भी नियमित करता है।

इसके इस्तेमाल का सबसे असरदार तरीका है इसे चाय के रूप में उपयोग करना।

  • 1 कप उबलते पानी में 1/2 चम्मच कसी हुई अदरक डालें।

  • कुछ देर उबालने के बाद इसे छान लें।

  • दिन में तीन बार पीएं।

loading image
 

विटामिन-के से पाएं पीरियड्स में राहत

Vitamin-K for normal periods in hindi

vitamin k periods ki problems ke liye hai bahut madadgar

loading image

जिन महिलाओं को हैवी पीरियड्स होते हैं, उन्हें विटामिन-के के सप्लीमेंट लेने से राहत मिल सकती है।

यह तब भी लागू होता है, जब विटामिन का रक्त स्तर सामान्य सीमा के भीतर हो।

सब्जियां कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं, जिनमें विटामिन-के भी शामिल है।

हरी पत्तेदार सब्जियाँ जैसे ब्रोकोली, गोभी, पालक, आदि विशेष रूप से विटामिन-के के अच्छे स्रोत हैं।

और पढ़ें:अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड
 

नार्मल पीरियड्स के लिए पपीता का उपयोग करें

Use Papaya for normal periods in hindi

karein papita ka istemal aur payein normal periods

loading image

यह एक सदियों पुरानी परंपरा है, जहां अनियमित पीरियड या रुके हुए मासिक धर्म के लिए पीड़ित महिलाओं को पपीता खाने के लिए कहा जाता है।

मासिक धर्म से संबंधित समस्याओं के लिए कच्चा पपीता खाना लाभदायक है।

पपीते को पकाने से अधिकांश एंजाइम (enzymes) और पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं, इसलिए इसे कच्चा प्रयोग करना सबसे अच्छा है, इसे आप सलाद के रूप में खाएं।

हालाँकि, यह ध्यान रखना आवश्यक है कि यदि आप गर्भवती होने की संभावना है तो आप पपीता न खाएं क्योंकि गर्भावस्था के दौरान पपीता खाने की सलाह नहीं दी जाती है।

और पढ़ें:इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

इन घरेलू उपायों के अलावा ज़रूरी है कि आप हेल्थी और सामान्य पीरियड्स के लिए नियमित रूप से व्यायाम करें।

यह पेल्विक क्षेत्र में (pelvic area) में परिसंचरण को बढ़ाता है और प्रोस्टाग्लैंडिंस (prostaglandins) को साफ करने में मदद करता है।

महीने के दौरान नियमित व्यायाम करने से माहवारी का समय आसान होता है और दर्द, अनियमित पीरियड्स, हैवी या हल्के पीरियड्स आदि तकलीफ़ों का सामना नहीं करना पड़ता।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 21 May 2019

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

पीरियड्स में हेवी ब्लीडिंग या मासिक धर्म का अधिक दिनों तक आना

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित पीरियड्स के लिए गुलाब की चाय के फायदे

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

अनियमित माहवारी या अनियमित पीरियड

डिसमेनोरिया क्या है

डिसमेनोरिया क्या है

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं

इन 6 टिप्स से जानें पीरियड साइकिल नियमित है या नहीं
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad
x
Zealthy Chat
Dr. Priyanka | Zealthy

send