गर्भावस्था के दौरान सुंदर बच्चे के लिए आहार

What to eat during pregnancy to get cute baby in hindi

sundar baby ke liye pregnancy mein kya diet leni chahiye in hindi


एक नज़र

  • गर्भकाल में केसर वाला दूध पीने से बच्चे की मांसपेशियों में ताकत भी आ जाती है।
  • भारतीय परिवारों में यह मान्यता है कि प्रेग्नेंसी में आंवले का मुरब्बा खाने से क्यूट बच्चे का जन्म होता है।
  • यह भी मान्यता है कि गर्भवती महिला जितना अधिक सफ़ेद वस्तुओं का खान-पान करती है, उतना ही उसके गर्भ में पल रहे शिशु का रंग गोरा होने की संभावना बन जाती है।
triangle

Introduction

garbhawastha_ke_dauran_sundar_bacche_ke_liye_aahar

माता-पिता चाहे किसी भी देश, संस्कृति या धर्म के हों, वे अपना बच्चा स्वस्थ होने के साथ ही सुंदर भी चाहते हैं। इसके लिए अलग-अलग संस्कृति में गर्भवती माँ को विभिन्न प्रकार के आहार खाने या न खाने की सलाह दी जाती है।

ऐसे में गर्भवती स्त्री निश्चय नहीं कर पाती है कि उसे अपने भोजन में क्या शामिल करना चाहिए और क्या नहीं, जिससे उसका बच्चा एक स्वस्थ व सुंदर बच्चे के रूप में जन्म ले। गर्भावस्था में होने वाली तमाम समस्याओं के साथ, गर्भवती महिला व उसका परिवार यह भी जरूर जानना चाहता है कि गर्भावस्था के दौरान सुंदर बच्चे के लिए आहार क्या होना चाहिए।

लेकिन अब आपकी इस परेशानी का हल आपको इस लेख में मिल जाएगा। हमनें इस लेख में गर्भावस्था के दौरान सुंदर बच्चे के लिए आहार क्या-क्या हैं, इसकी पूरी लिस्ट तैयार की है।

loading image

इस लेख़ में

  1. 1.क्या गर्भावस्था में कुछ खास आहार खाने से बच्चा सुंदर हो सकता है?
  2. 2.गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए खाएँ केसर वाला दूध
  3. 3.प्रेग्नेंसी में क्यूट बच्चे के लिए खाएँ आंवले का मुरब्बा
  4. 4.गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए खाएँ नारियल
  5. 5.गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए खाएँ अंगूर
  6. 6.प्रेग्नेंसी में क्यूट बच्चे के लिए पियें दूध
  7. 7.गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए अपनी डाइट में शामिल करें पौष्टिक आहार
  8. 8.निष्कर्ष
 

क्या गर्भावस्था में कुछ खास आहार खाने से बच्चा सुंदर हो सकता है?

Does eating a special diet during pregnancy make a baby beautiful in hindi

kya pregnancy mein kuch special khane se bacha sundar ho sakta hai in hindi

एक महिला जैसे ही गर्भवती होती है, उसे परिवार और चिकित्सक की ओर से अपनी डाइट पर ध्यान देने की निरंतर सलाह मिलने लगती है। इस प्रकार मिलने वाली सलाहों का पहला उद्देश्य यह होता है कि महिला के खान-पान का सीधा असर न केवल गर्भवती महिला के स्वास्थ्य पर ही नहीं बल्कि गर्भ के शिशु के स्वास्थ्य पर भी होता है।

इसके अलावा भारतीय परंपरा में यह भी माना जाता है कि अच्छा खाना खाने से सुंदर और क्यूट बच्चे का जन्म होगा। इसीलिए गर्भवती महिला के लिए पौष्टिक आहार का सेवन करना बहुत ज़रूरी माना जाता है।

दरअसल, वास्तविकता तो यह है कि पौष्टिक आहार के सेवन से बच्चे को सभी ज़रूरी विटामिन, खनिज लवण तो मिलते ही हैं, साथ ही उसका शारीरिक और मानसिक विकास भी सम्पूर्ण और स्वस्थ तरीके से होता है।

इसलिए गर्भवती महिला को अपने निवास स्थान, पर्यावरण, मौसम व संस्कृति के अनुसार मिलने वाली वो सभी खाद्य पदार्थ खाने चाहिए, जिनसे उन्हें पोषण मिलता हो। इस प्रकार के आहार से गर्भ का शिशु निश्चय ही स्वस्थ होगा और एक स्वस्थ बच्चा निश्चित रूप से सुंदर होता ही है।

loading image
 

गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए खाएँ केसर वाला दूध

Drink saffron milk for a beautiful baby during pregnancy in hindi

pregnancy mein kesar dudh lene se bacha sundar hota hai in hindi

भारतीय परिवारों में केसर वाले दूध को पीने कि परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है। भारत के किसी भी हिस्से में परिवार में जब कोई महिला गर्भवती होती है, तब संयुक्त परिवार प्रथा के कारण बड़ी-बुजुर्ग महिलाएं गर्भवती महिला को संतान के गोरा होने के नुस्खे बताती हैं। इनमें सबसे अधिक बताया जाने वाला उपाय गर्भकाल में केसर वाले दूध को पीना माना जाता है।

कहा जाता है कि गर्भकाल में केसर वाला दूध पीने से न केवल बच्चे का रंग गोरा होता है और उसके रंग रूप पर निखार आता है। जबकि वैज्ञानिक सत्य यह है कि गर्भकाल में केसर वाला दूध पीने से बच्चे की मांसपेशियों में ताकत भी आ जाती है। इसका कारण केसर में मिले हुए रिबोफ्लेविन और थियामीन जैसे तत्वों के कारण संभव हो पाता है।

इसके अतिरिक्त केसर वाले दूध के पीने से गर्भवती महिला के शरीर में ऐंठन और पेट के दर्द में भी कमी आती है। लेकिन सावधानी के रूप में गर्भवती महिला को केसर के दूध पीने के लिए केवल 2-3 रेशों का ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए। केसर एक गरम तासीर वाली खाद्य वस्तु मानी जाती है। इसलिए अधिक केसर गर्भाशय को संकुचित भी कर सकती है और इसके कारण गर्भपात की संभावना भी बन सकती है।

और पढ़ें:30 की उम्र के बाद गर्भावस्था के जोखिम क्या हैं ?
 

प्रेग्नेंसी में क्यूट बच्चे के लिए खाएँ आंवले का मुरब्बा

Take Gooseberry gem for cute baby in pregnancy in hindi

pregnancy mein aamvele ka murabba khane se bachcha cute hota hai in hindi

भारत में आंवला वह फल माना जाता है जिसमें विटामिन सी और आयरन व कैल्शियम की मात्रा प्रचुर रूप में पायी जाती है। भारतीय परिवारों में यह मान्यता है कि प्रेग्नेंसी में आंवले का मुरब्बा खाने से क्यूट बच्चे का जन्म होता है, इसलिए इस समय महिला को अधिक से अधिक आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए।

जबकि चिकित्सकों का मानना है कि गर्भवती महिला के आंवला खाने से उनके शरीर में आयरन और विटामिन सी और कैल्शियम जैसे पोषक तत्वों की पूर्ति स्वाभाविक रूप से हो जाती है। इन तत्वों के कारण महिला के शरीर में रक्त की कमी नहीं होने पाती है। इसके साथ ही आंवले के मुरब्बे के नियमित सेवन से गर्भवती महिला का पाचनतंत्र भी ठीक रहता है।

इसके अलावा प्राचीन परंपरा के अनुसार गर्भकाल में आंवला को मुरब्बा के रूप में खाया जाए तो गर्भ के शिशु रंग गोरा और बनावट सुंदर हो जाती है। सबसे सुंदर बात यह है कि गर्भकाल में आंवले के मुरब्बे को खाने से किसी प्रकार का कोई साइड-इफेक्ट नहीं होता है।

loading image
 

गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए खाएँ नारियल

Have Coconut to get beautiful baby in pregnancy in hindi

sundar bachcha deliver karne ke liye pregnancy mein nariyal kathayein in hindi

नारियल दक्षिण भारत में प्रमुख रूप में पाया जाता है, लेकिन इसका उपयोग सम्पूर्ण भारत में प्रचुरता से किया जाता है। नारियल का सबसे अधिक प्रयोग पूजा के बाद गर्भवती स्त्री के सेवन के रूप में भी अधिक देखा गया है। ऐसा माना जाता है कि नारियल का सफ़ेद रंग बच्चे के रंग को गोरा कर देगा।

दरअसल, गर्भकाल में महिलाओं को विशेष रूप से कच्चा नारियल खाने की सलाह दी जाती है। इसका मुख्य कारण है कि कच्चे नारियल में प्राकृतिक रूप से नमक और पानी होता है। इसका नियमित सेवन करने से गर्भवती महिला के शरीर में पानी और नमक की कमी नहीं होती है। इसके अतिरिक्त सफ़ेद नारियल के नियमित सेवन से गर्भवती महिला के दांतों का व्यायाम होता है। इसलिए प्रेग्नेंसी में नारियल का सेवन हर प्रकार से अच्छा माना जाता है।

यहाँ देखिए नारियल पानी पीने के क्या फायदे होते हैं और इसे कब पीना चाहिए।

और पढ़ें:अल्फा-फेटोप्रोटीन टेस्ट क्या है और क्यों पड़ती है इसकी ज़रूरत
 

गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए खाएँ अंगूर

Take Grapes in pregnancy to deliver a beautiful baby in hindi

sundar bache ke janam ke liye pregnancy mein grapes khaye in hindi

अंगूर अधिकतर दैनिक जीवन में सलाद के रूप में खाये जाने पसंद किए जाते हैं। लेकिन, भारत में परिवारों में यह माना जाता है कि प्रेग्नेंसी में अंगूर खाने से एक सुंदर बच्चे का जन्म होता है।

चिकित्सक मानते हैं कि गर्भवस्था में अंगूर खाने या अंगूर का रस पीने से गर्भवती महिला का ही नहीं बल्कि गर्भ के शिशु का भी रक्त साफ और शुद्ध हो जाता है। इस कारण माँ और बच्चा दोनों की रोग प्रतिरोधक क्षमता का विकास हो जाता है और दोनों इमम्यूनिटी संबंधी बीमारियों के शिकार होने से बच जाते हैं।

इसके साथ ही गर्भ के शिशु की स्किन साफ व चमकदार हो जाती है और उसके सौंदर्य में वृद्धि हो जाती है। इसके साथ ही गर्भवती महिला के शरीर में सूजन नहीं आने पाती है और उन्हें ऐठन की शिकायत भी नहीं होती है।

इसका मुख्य कारण अंगूर में अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड के गुण होते हैं जो गर्भवती महिला के पाचन तंत्र को भी स्वस्थ रखता है और उसे कब्ज़ व ऐसिडिटी जैसी परेशानियों से भी दूर रखता है। इसलिए गर्भवस्था में अंगूर का सेवन सेहत और सौंदर्य दोनों के लिए लाभकारी माना जा है।

loading image
 

प्रेग्नेंसी में क्यूट बच्चे के लिए पियें दूध

Make Milk essential in your diet in pregnancy to have a cute baby in hindi

agar cute bachche chahte hain to pregnancy mein doodh piye in hindi

दूध का सेवन भारत में ही नहीं विश्व के हर घर में अच्छा माना जाता है। विशेषकर महिला के गर्भवती होने पर उन्हें अधिक से अधिक मात्रा में दूध का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इसके पीछे यह माना जाता है कि प्रेग्नेंसी में सुंदर बच्चे को जन्म देने के लिए स्त्री को अधिक से अधिक मात्रा में दूध पीना चाहिए।

दरअसल, गर्भावस्था में महिला को अधिक से अधिक मात्रा में प्रोटीन और कैल्शियम से भरपूर वस्तुओं का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इसके लिए दूध को सबसे अच्छा स्त्रोत माना जाता है।

इसके अलावा यह भी मान्यता है कि गर्भवती महिला जितना अधिक सफ़ेद वस्तुओं का खान-पान करती है, उतना ही उसके गर्भ में पल रहे शिशु का रंग गोरा होने की संभावना बन जाती है। इसलिए गर्भवती महिला को जहां तक संभव हो गरम दूध का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए।

और पढ़ें:कैसे करें गर्भावस्था किट का प्रयोग ?
 

गर्भावस्था में सुंदर बच्चे के लिए अपनी डाइट में शामिल करें पौष्टिक आहार

Include nutritious food in your diet if want a beautiful baby in hindi

beautiful baby ke liye apni diet mein nutritious food include karein in hindi

सौंदर्य की परिभाषा अच्छे स्वास्थ्य के रूप में दी जाती है। नौ माह या चालीस सप्ताह की गर्भावस्था के बाद जन्म लेने वाला शिशु अगर स्वस्थ है तब वह निश्चय ही सुंदर भी कहलाने योग्य माना जाता है।

एक स्वस्थ और सुंदर शिशु को जन्म देने के लिए गर्भवती स्त्री को अपनी डाइट में वो सभी चीजें शामिल करनी चाहिए, जिनमें सभी ज़रूरी पोषक तत्व शामिल होते हैं।

इसलिए गर्भवती स्त्री को अपनी डाइट में निम्न पोषक तत्वों वाली खाद्य वस्तुओं को शामिल करना चाहिए : -

  • प्रोटीन युक्त आहार (Protein Diet in hindi)

वो सभी खाने की चीज़ें जिनमें प्रोटीन होता है उन्हें अपनी डाइट में शामिल करने से माँ-शिशु का सम्पूर्ण स्वास्थ्य अच्छा रहता है। पूरे दिन की डाइट में प्रोटीन की 3-4 मात्रा लेनी अच्छी रहती है। इसके लिए दूध और दूध से बनी चीज़ें, अंडे का पीला भाग, दालें, फलियाँ, सूखे मेवे आदि लिए जा सकते हैं।

  • आयरन वाली खाने की चीज़ें (Iron Diet in hindi)

शरीर का सौंदर्य, शरीर में बहने वाले रक्त की क्वालिटी पर निर्भर करता है। स्वस्थ व सुंदर बच्चे को जन्म देने के लिए उसके रक्त का शुद्ध व रोग रहित होना ज़रूरी है। इसलिए गर्भवती स्त्री को अपने भोजन में अधिक से अधिक आयरन वाली खाने की चीजें लेनी चाहिए। इसके लिए हरी पत्तेदार सब्जी, मशरूम, फल, गाजर, फलियाँ, खीरा, बीन्स आदि को लेना चाहिए ।

  • कैल्शियम वाला खाना (Calcium Diet in hindi)

शरीर में हड्डियों व दांतों के विकास व स्वास्थ्य के लिए कैल्शियम की मात्रा का डाइट में शामिल होना बहुत ज़रूरी है। इसलिए गर्भवती स्त्री अपने बच्चे को स्वस्थ व सुंदर बनाए रखने के लिए दूध, पनीर, दही, छाछ और लस्सी आदि ले सकती है। इसके अलावा सोयाबीन, भिंडी, बादाम, संतरा और ब्रोकली को भी अपने भोजन में शामिल किया जा सकता है।

  • फोलिक एसिड वाला भोजन (Folic Acid Diet in hindi)

गर्भवस्था में फोलिक एसिड शिशु के शरीर में सेल्स के निर्माण और विकास में सहायता करता है। इसके लिए स्त्री अपने भोजन में छिलके वाला अनाज, सूखे मेवे, हरी पत्तेदार सब्जियाँ, खमीर और संतरे लिए जा सकते हैं। यदि महिला मांसाहारी भोजन लेती है तब लीवर, अंडे आदि का सेवन भी शरीर में फोलिक एसिड की कमी को पूरा करता है।

  • कार्बोहाइड्रेट से भरपूर खाना (Carbohydrate Diet in hindi)

शरीर में कार्ब युक्त वस्तुएँ का सेवन ऊर्जा व शक्ति प्रदान करता है। इसके लिए गर्भवती स्त्री अपने भोजन में चोकर वाले आटे की रोटी, साबुत अनाज, ब्राउन राइस व सभी प्रकार के बीज़ वाली खाद्य वस्तुओं को शामिल कर सकती है। इसके अलावा सब्जियों में आलू, सेम, फलियाँ, जई और मक्का भी कार्बोहाइड्रेट के अच्छे स्त्रोत माने जाते हैं। इस प्रकार कहा जा सकता है कि एक स्वस्थ और सुंदर बच्चे को जन्म देने के लिए गर्भवती महिला को अपने भोजन को संतुलित व सभी पोषक तत्वों से भरपूर रखना चाहिए।

गर्भावस्था के दौरान सुंदर बच्चे के लिए आहार : -

  • सभी प्रकार की हरी पत्तेदार और ताज़ी सब्जियाँ
  • हर प्रकार के मौसमी व स्थानीय रूप से मिलने वाले फल
  • दालें,
  • सूखे मेवे
  • दूध और दूध से बनी चीज़ें
  • उपलब्ध जूस व सूप
  • अंडे, सफ़ेद मांस व बिना कांटे वाली मछ्ली
  • गुड फैट के लिए घर का बना ताज़ा मक्खन, घी और ऑलिव ऑयल

गर्भवती महिला को अपने दैनिक आहार को संतुलित व पोषक तत्वों से भरपूर रखते हुए ही डाइट प्लान बनाना चाहिए। इस प्रकार भोजन करने से गर्भवती महिला और गर्भ के शिशु की शारीरिक व मानसिक कमी नहीं होगी और एक स्वस्थ व सुंदर शिशु के जन्म की संभावना अधिक हो जाती है।

और पढ़ें:कैसे सर्विकल म्यूकस को ट्रैक कर आप जल्दी गर्भवती हो सकती हैं?
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

परिवार में सुंदर बच्चे की चाह प्रत्येक माँ-बाप को होती है। इस इच्छा को पूरा करने हेतु, पारंपरिक रूप से गर्भवती महिला को अंगूर, नारियल, केसर वाला दूध, गरम दूध और आंवले का मुरब्बा खाने की सलाह दी जाती है। लेकिन यदि महिला अपनी डाइट को संतुलित रखते हुए पोषक भोजन करे तो निश्चय ही एक स्वस्थ व सुंदर बच्चा जन्म ले सकता है।
हालांकि, गर्भावस्था के दौरान किसी भी चीज को खाने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लें।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 29 Jul 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

क्या तनाव के कारण गर्भधारण करने में परेशानी आ सकती है?

क्या तनाव के कारण गर्भधारण करने में परेशानी आ सकती है?

प्रजनन क्षमता बेहतर बनाने के 10 तरीके

प्रजनन क्षमता बेहतर बनाने के 10 तरीके

लड़का कैसे पैदा होता है?

लड़का कैसे पैदा होता है?

प्रेग्नेंट कब और कैसे होती है ?

प्रेग्नेंट कब और कैसे होती है ?

सेक्स के कितने दिन बाद गर्भधारण होता है?

सेक्स के कितने दिन बाद गर्भधारण होता है?
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad
x
Zealthy Chat
Dr. Priyanka | Zealthy

send