तनाव और थकान कम कर देते हैं कामेच्छा

Fatigue and tiredness leads to low libido in hindi

Tanav aur thakan kam kar dete hai low libido in hindi


एक नज़र

  • तनाव के कारण अवसाद की स्थिति पैदा हो सकती है जो निजी ज़िंदगी पर नकारात्मक प्रभाव डालता है।
  • तनाव के कारण शरीर में सेक्स होर्मोनेस की कमी आने लगती है जिससे कामेच्छा कम होने लगती है।
  • तनाव को दूर करने के लिए व्यायाम करें, ध्यान लगायें, संगीत सुनें और अपनी पसंद का काम करें।
triangle

Introduction

Tanav_aur_thakan_kam_kar_dete_hai_low_libido

आजकल के जीवन में तनाव हर जगह एवं हर परिस्थिति में है।

घर परिवार एवं काम की चिंता के चलते तनाव होना आम बात है।

इसका सही तरह से सामना ना करने पर इसका गलत असर मुख्य रूप से स्वास्थ्य पर पड़ने लगता है।

इसका मुख्य कारण है, तनाव के कारण होने वाली शारीरिक एवं मानसिक थकान जिसके चलते पुरुष हो या महिला, हर किसी को निजी जिंदगी में परेशानी होती है।

तनाव और थकान का नकारात्मक प्रभाव कामेच्छा पर भी पड़ता है, जिसके कई कारण हो सकते हैं।

loading image

इस लेख़ में

 

तनाव एवं थकान से कामेच्छा में कमी के कारण

Reasons of why fatigue and tiredness leads to low libido in hindi

Tanav aur thakan mein sex mein kami aane ke karan in hindi

  • तनाव के कारण शरीर में हैप्पी होर्मोनेस (Happy hormones) जैसे सेरोटोनिन (serotonin) की मात्रा कम हो जाती है, जो व्यक्ति की यौनक्रिया की इच्छा पर भी असर डालता है।

    इसी के चलते शरीर में थकान महसूस होती है, और सेक्स की इच्छा नहीं होती।

  • तनाव से मुक्त होने के लिए शरीर को आराम की ज़रुरत होती है, जिसकी वजह से तनाव होने की स्थिति में नींद की आने की प्रवृति (tendency) बढ़ जाती है।

    जिसकी वजह से सेक्सुअल ड्राइव (sexual drive) में कमी रहती है।

  • तनाव के कारण पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन (testosterone) हॉर्मोन में कमी आने लगती है, जिसका नकारात्मक असर उनकी सेक्सुअल ड्राइव पर पड़ता है।

  • तनाव के कारण महिलाओं के मासिक धर्म अनियमित हो जाता है, जिसके कारण उनके शरीर में एस्ट्रोजन हॉर्मोन (estrogen hormone) के स्तर में कमी आती है और इससे उनमें सेक्स ड्राइव कम हो जाती है।

  • तनाव के कारण होने वाली थकान से मूड स्विंग्स (mood swings) होने लगते हैं, जैसे चिड़चिड़ापन, गुस्सा आना, अचानक से रोने लगना आदि, जो आगे चल के अवसाद (depression) का रूप ले लेता है।

    इसके कारण पार्टनर्स में दूरी आने लगती है और वे एक दूसरे की ओर आकर्षित नहीं होते।

  • तनाव से हो रही थकान को दूर करने के लिए कई बार कुछ दवाइयों जैसे नींद की गोलियां, एंटी-डीपरेसंट (anti-depressant) का सहारा भी लिया जाता है, जिनके कारण भी कई बार सेक्सुअल ड्राइव में कमी आने लगती है।

loading image
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

तनाव होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे काम का दबाव, बेरोज़गारी, भविष्य की चिंता, स्वास्थ्य समस्या, आदि लेकिन इसके चलते होने वाले असर एक ही हैं।

थकान महसूस करना आम है परन्तु इसके पीछे तनाव एक कारण है तो यह जरूरी है कि तनाव को दूर किया जाये क्योंकि इसका असर निजी ज़िदगी पर पड़ने लगता है।

इसके लिए आवश्यक है अपने साथी से बात करें, व्यायाम करें और ज़रुरत होने पर किसी चिकित्सा से परामर्श लें।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 11 Sep 2019

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

कंडोम मिथक: कंडोम का प्रयोग असुविधाजनक और कठिन होता है

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

महिलाओं के लिए चरम सुख के फायदे

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

कंडोम मिथक: अधिक सुरक्षा के लिए मेल और फ़ीमेल कंडोम एक-साथ इस्तेमाल करने चाहिए

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

क्या हर महिला का हाइमन अलग-अलग दिखता है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है

सामान्य योनि स्राव और असामान्य योनि स्राव में क्या अंतर है
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad