Erectile Dysfunction | Zealthy

इरेक्टाइल डिसफंक्शन या स्तंभन दोष के कारण, लक्षण और उपचार

Erectile dysfunction - causes, symptoms and treatments in hindi

Kyon aur kaise hota hai erectile dysfunction aur kya hai iska treatment

एक नज़र

  • एरेक्टाइल डिसफंक्शन से ग्रस्त पुरुष के लिए अपने यौन जीवन का आनंद लेना मुश्किल हो जाता है।
  • स्तंभन दोष का कारण मनोवैज्ञानिक कारक, हार्मोनल असंतुलन और प्रोस्टेट कैंसर का इलाज है।
  • जीवन शैली में परिवर्तन कर इस समस्या से निजात पाया जा सकता है।

एरेक्टाइल डिसफंक्शन (erectile dysfunction) को नपुंसकता के रूप में भी जाना जाता है, जिससे संयोग के दौरान लिंग निर्माण को बनाए रखना मुश्किल हो जाता है।

अस्वस्थ जीवनशैली अपनाने के कारण पुरुषों में एरेक्टाइल डिसफंक्शन के मामलों की संख्या बढ़ रही है।

यह एक आदमी के लिए अपने यौन जीवन का आनंद लेना असंभव बनाता है।

लेकिन, एरेक्टाइल डिसफंक्शन से सकारात्मक तरीके से निपटना काफी महत्वपूर्ण है।

अन्यथा, व्यक्ति डिप्रेशन और तनाव में जा सकता है।

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

इस लेख़ में/\

  1. स्तंभन दोष या इरेक्टाइल डिसफंक्शन क्या है?
  2. स्तंभन दोष के लक्षण क्या हैं?
  3. आपको कब चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए?
  4. इरेक्टाइल डिसफंक्शन विकार के कारण
  5. इरेक्टाइल डिसफंक्शन विकार का उपचार
  6. निष्कर्ष
 

1.स्तंभन दोष या इरेक्टाइल डिसफंक्शन क्या है?

What is erectile dysfunction? in hindi

Erectile Dysfunction kya hai in hindi

स्तंभन दोष पुरुषों में एक ऐसी स्थिति है जिसमें संभोग के समय लिंग निर्माण मुश्किल हो जाता है।

स्तंभन दोष पुरुषों में प्रचलित सबसे आम प्रकार के यौन विकारों में से एक है।

तनाव या अन्य अस्थायी कारणों से कभी-कभी एरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है।

लेकिन जब कोई व्यक्ति नियमित रूप से इरेक्शन की समस्या का सामना कर रहा है, तो यह एक गंभीर चिंता का विषय है।

इस समस्या पर तुरंत ध्यान देने के साथ-साथ उपचार की आवश्यकता होती है।

और पढ़ें:10 Best IVF doctors in Dehradun with High Success Rate

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

2.स्तंभन दोष के लक्षण क्या हैं?

What are the symptoms of erectile dysfunction? in hindi

Erectile dysfunction kaise pahchane in hindi

नीचे दिए गए स्तंभन दोष के कुछ लक्षण हैं :

  • संभोग के समय नियमित रूप से इरेक्शन की समस्या होती है।
  • इरेक्शन को सफलतापूर्वक होने में बहुत समय लगता है।
  • संभोग के समय लिंग को इरेक्ट रखने में बहुत समय लगता है।
  • आदमी नियमित संयोग में रूचि महसूस नहीं करता है।
  • जोड़े को गर्भधारण करने में भी कठिनाई होती है क्योंकि पुरुष साथी सेक्स के दौरान अपने लिंग को सीधा नहीं रख पाता है।

और पढ़ें:10 Best IVF Doctors in Indore with High Success Rate

 

3.आपको कब चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए?

When should you consult your doctor? in hindi

Erectile dysfunction ho to kab doctor ki salah len in hindi

एरेक्टाइल डिसफंक्शन विकार के बारे में अधिकांश पुरुष शर्म और परेशानी महसूस करते हैं।

लेकिन, यह आवश्यक है कि आप डॉक्टर की सलाह लें और इस बीमारी का हल समय रहते करवाएँ ताकि बाद में समस्या और गंभीर रूप न ले ले।

यदि आपको निम्नलिखित समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है, तो आपको अपने डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट लेना होगा :

  • आप किसी भी तरह की यौन गतिविधि में भाग लेने की इच्छा नहीं रखते हैं।
  • आपको मधुमेह, हृदय रोग या किसी भी अन्य तरह की स्वास्थ्य स्थिति से ग्रस्त हैं, जो आपको नियमित संभोग करने में कम ऊर्जावान महसूस कराता है।

और पढ़ें:10 Best IVF Doctors in Jaipur with High Success Rate

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

loading image
 

4.इरेक्टाइल डिसफंक्शन विकार के कारण

Causes of erectile dysfunction in hindi

Erectile dysfunction kyon hota hai in hindi

एरेक्टाइल डिसफंक्शन की शुरुआत विभिन्न कारणों पर निर्भर करती है जैसे उम्र, सामान्य स्वास्थ्य, काम का बोझ, तनाव आदि।

सही डाइग्नोसिस (Diagnosis) के माध्यम से एरेक्टाइल डिसफंक्शन के कारणों का पता लगाकर इसका उपचार ज़रूरी है।

यहाँ स्तंभन दोष के कुछ महत्वपूर्ण कारण दिए गए हैं :

  • दवाओं का सेवन (Consumption of drugs)
    सेल्फ-मेडिकेशन (self-medication) हानिकारक हो सकता है।
    इसलिए इससे बचें।
    मामूली बीमारी के लिए दवाओं के अधिक सेवन से भी शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है।
    इससे स्तंभन दोष भी हो सकता है।
    कुछ सामान्य दवाएं,जैसे कि एंटीडिप्रेसेंट (antidepressants), एंटीथिस्टेमाइंस (antihistamines) और एंटीरैडमिक (antiarrhythmic) यदि बड़ी मात्रा में ली जाएँ तो एरेक्टाइल डिसफंक्शन का कारण बन सकती हैं।
    एक वैज्ञानिक शोध के दौरान यह पाया गया कि इबुप्रोफेन (Ibuprofen) टैबलेट की अत्यधिक मात्रा पुरुष बांझपन के लिए जिम्मेदार हो सकती है।
  • मनोवैज्ञानिक कारण (Psychological factors)
    डिप्रेशन, तनाव और चिंता जैसे विभिन्न मनोवैज्ञानिक कारण से भी स्तंभन दोष होता है।
    एरेक्टाइल डिसफंक्शन के 10%-20% मामले इसी कारण से होते हैं।
    यदि मनोवैज्ञानिक कारकों को सकारात्मक तरीके से नियंत्रित किया जाये तो एरेक्टाइल डिसफंक्शन के लक्षण अपने आप दूर हो जाएँगे।
  • व्यक्ति की जीवन शैली (Lifestyle of the individual)
    आधुनिक समय में, व्यक्ति की जीवनशैली भी स्तंभन दोष के लिए एक हद तक जिम्मेदार है।
    स्वास्थ्य पर बुरा असर डालने वाले खाने, नियमित रूप से शराब का उपयोग और नींद की गलत आदतों वाली जीवन शैली के कारण भी यह समस्या खड़ी हो सकती है।
  • संकुचित धमनियाँ और रक्त वाहिका संबंधी विकार (Clogged arteries and blood vessel problems)
    एथेरोस्क्लेरोसिस (atherosclerosis) यानि कि धमनियों के संकुचित होने और रक्त वाहिका (blood vessel) संबंधी विकार होने से अप्रत्यक्ष रूप से एरेक्टाइल डिसफंक्शन संबंधी समस्याएं होती हैं।
    स्तंभन दोष के विकास से बचने के लिए आप समय पर एथेरोस्क्लेरोसिस और रक्त वाहिका (blood vessel) संबंधी विकार का इलाज करवा सकते हैं।
  • प्रोस्टेट कैंसर का इलाज (Prostate cancer treatment)
    प्रोस्टेट कैंसर के उपचार या सर्जरी से पुरुषों में एरेक्टाइल डिसफंक्शन की घटना हो सकती है।
    इसलिए, स्तंभन दोष की घटना को रोकने के लिए प्रोस्टेट कैंसर के उपचार के समय उचित सावधानी बरतनी चाहिए।
  • हार्मोनल असंतुलन (Hormonal Imbalance)
    हार्मोनल असंतुलन स्तंभन दोष भी पैदा कर सकता है।
    यदि प्रजनन हार्मोन जैसे कि टेस्टोस्टेरोन (testosterone) का स्तर मनुष्य के शरीर में कमी है तो बांझपन और स्तंभन दोष की समस्याएं उत्पन्न होती हैं।
  • स्वास्थ्य की स्थिति (Health conditions)
    मधुमेह, हृदय की समस्या आदि स्थितियाँ स्खलन संबंधी विकारों की समस्या पैदा करके एक स्वस्थ यौन जीवन को बनाए रखना मुश्किल बनाती हैं।
    यह पाया गया है कि लगभग 35% -75% मधुमेह रोगी किसी न किसी तरह के एरेक्टाइल डिसफंक्शन से पीड़ित हैं।
    उम्र के साथ, भी एरेक्टाइल डिसफंक्शन के लिए ज़रूरी पुरुष यौन अंग की क्षमता कम हो जाती है।

    एरेक्टाइल डिसफंक्शन के कुछ अन्य सामान्य कारणों में शामिल हैं :
    पेल्विक क्षेत्र के विकार (Pelvic area disorders)
    उपापचयी लक्षण (Metabolic syndrome)
    पार्किंसंस रोग (Parkinson’s disease)
    उच्च कोलेस्ट्रॉल (High cholesterol)
    उच्च रक्त चाप (High blood pressure)

और पढ़ें:15 से अधिक सुपर फूड जो स्पर्म काउंट और मोटेलिटी बढ़ा सकते हैं

 

5.इरेक्टाइल डिसफंक्शन विकार का उपचार

Treatment of erectile dysfunction disorder in hindi

Erectile dysfunction ka treatment kya hai in hindi

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के उपचार के विकल्प :-

  • ओरल मेडिकेशन (Oral medications)
    आप अपने डॉक्टर की सलाह पर अपने इरेक्शन को बेहतर बनाने के लिए सिल्डेनाफिल (sildenafil) और टैलाडाफिल (taladafil) जैसी दवाएं लेना शुरू कर सकते हैं।
  • लाइफस्टाइल में बदलाव (Change in lifestyle)
    अपनी जीवनशैली में सकारात्मक बदलाव लाने की कोशिश करें जैसे कि शराब और धूम्रपान से बचें, स्वस्थ खाने की आदतों को अपनाएं और रोज व्यायाम करें।
  • पर्याप्त नींद (Enough sleep)
    पर्याप्त मात्रा में नींद लें ताकि आप पूरे दिन सुस्त महसूस न करें।आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि अपर्याप्त नींद या अनुचित नींद पैटर्न पुरुष प्रजनन क्षमता पर गहरा असर करते हैं।
  • योग (Yoga)
    योग स्तंभन दोष को ठीक कर सकता है।
    आप कुछ योग आसन जैसे कि सिद्धासन, पवनमुक्तासन, अर्ध मत्स्येन्द्रासन, गरुड़ासन और शवासन कर सकते हैं।
    यदि उपचार के बाद भी आपको इरेक्शन की समस्या हो रही है, तो आपको अपने बच्चे को गर्भधारण करने के लिए प्रजनन उपचार की आवश्यकता हो सकती है।
    स्तंभन दोष के अलावा, एक पुरुष में अन्य एजाकुलेशन संबंधी विकार भी हो सकते हैं, जिसके लिए तत्काल ध्यान देने और उपचार की आवश्यकता होती है।

और पढ़ें:Best 10 IVF centres in Gurgaon with high success rate

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image
 

6.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

बढ़ती उम्र, शारीरिक बीमारियाँ, मनोवैज्ञानिक कारक, हार्मोनल असंतुलन आदि कई कारणों से एरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है।
यदि आप एरेक्टाइल डिसफंक्शन का अनुभव कर रहे हैं तो इसके लक्षण, कारण और उपचार से अवगत होना ज़रूरी है।
यह आवश्यक है कि आप स्तंभन दोष के उपचार के प्रति सकारात्मक मानसिकता विकसित करें और चिकित्सीय सलाह लेने में हिचक न करें।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: 24 Oct 2019

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें