एग डोनेशन प्रक्रिया और एग डोनर की जरूरतें

Egg donation procedure and egg donor requirements in hindi

Egg donation ka process, egg donor kaun ho sakta hai in hindi


एक नज़र

  • एग डोनेशन एक सरल प्रक्रिया है और इससे एक महिला 35 साल की उम्र के बाद भी बच्चे को जन्म दे सकती है।
  • हर महिला एग डोनर नहीं बन सकती है।
  • एग डोनेट करने की प्रक्रिया प्राय: दर्द रहित होती है।
  • प्राय: आर्थिक रूप से कमजोर घर की स्त्रियाँ अतिरिक्त पैसे कमाने के लिए एग डोनेट करती हैं।
triangle

Introduction

Egg donation procedure & egg donor requirements | Zealthy

एग डोनेशन (egg donation) एक ऐसी चिकित्सीय प्रक्रिया है।

इसके द्वारा एक महिला अन्य महिला की मदद करने के लिए अंडे का दान करती है ताकि असिस्टेंट रिप्रोडक्शन ट्रीटमेंट (assisted reproduction treatment) की मदद से गर्भधारण किया जा सके। [1]

एग डोनेशन एक सरल प्रक्रिया है और इससे एक महिला 35 साल की उम्र के बाद भी बच्चे को जन्म देने की योजना बना सकती है।

एग डोनर महिला बेहतर आईवीएफ (IVF) सफलता दर के लिए स्वस्थ अंडे प्रदान करती है।

आईवीएफ प्रक्रिया की सफलता अंडे की गुणवत्ता जैसे विभिन्न कारकों पर निर्भर करती है।

अंडा दान एक विशेषज्ञ की देख-रेख में किया जाता है।

दान किए गए अंडे भविष्य में उपयोग के लिए डीफ़्रॉस्ट (defrost) किए जाते हैं।

इसके अलावा ये अंडे किसी प्राप्तकर्ता के गर्भाशय में ट्रान्सफर करने के लिए तुरंत फर्टिलाइज भी किए जाते हैं ताकि वह गर्भधारण कर सके।

अंडे के दान की प्रक्रिया में 3-6 सप्ताह तक का समय लगता है।

डोनर एग आईवीएफ ट्रीटमेंट या टेस्ट ट्यूब बेबी की सफलता दर काफी ऊंची होने के कारण ही इसकी लोकप्रियता बढ़ती जा रही है।

loading image

इस लेख़ में

  1. 1.डोनर एग के लिए एक महिला कब जा सकती है?
  2. 2.एग डोनेशन प्रक्रिया कैसे काम करती है
  3. 3.क्या एग डोनेट करने की प्रक्रिया दर्दनाक होती है
  4. 4.आप कितनी बार अंडे दान कर सकती हैं
  5. 5.अंडे दान करने से उत्पन्न होने वाली समस्याएं
  6. 6.अंडे के दान और आईवीएफ में क्या अंतर है?
  7. 7.क्या शुक्राणु दान की तुलना में अंडा दान कम आम है
  8. 8.अंडे के दान के बाद गर्भवती होने की संभावना क्या है
  9. 9.निष्कर्ष
 

डोनर एग के लिए एक महिला कब जा सकती है?

When a woman can go for egg donation in hindi

Kin paristhithiyon me donor egg ki zarurat hoti hai in hindi

ऐसे कई कारण हो सकते हैं जिनके लिए किसी महिला को अपने अंडे के बजाय दान किए गए अंडे का उपयोग करना पड़ सकता है। [2]

डोनर एग का उपयोग करने के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं :-

  • 35 साल की उम्र के बाद, ज्यादातर महिलाएं सफल गर्भावस्था के लिए स्वस्थ अंडे का उत्पादन नहीं कर पाती हैं और यह डोनर एग के उपयोग की पहली वजह हो सकती है।
  • यदि 30 से 35 वर्ष की आयु में ही कोई महिला मेनोपौज {मेनोपोज} प्राप्त कर चुकी हो और उसके बाद उसे संतान की चाह हो तो डोनर एग के माध्यम से वह बच्चे को जन्म दे सकती है।
  • यदि किसी महिला के चिकित्सा उपचार के कारण ओवरीज़ क्षतिग्रस्त हो चुके हों या जन्म से ही उसके शरीर के भीतर ओवरीज मौजूद न हों तो वह परिवार शुरू करने के लिए डोनर एग का उपयोग कर सकती है।
  • गर्भधारण में बार-बार असफलता और गर्भधारण में गंभीर जटिलताओं के कारण भी एग डोनर की ज़रूरत पड़ सकती है।
loading image
 

एग डोनेशन प्रक्रिया कैसे काम करती है

How does egg donation process work in hindi

Egg donation ka process kya hai in hindi

एग डोनेशन की प्रक्रिया के लिए सबसे पहले स्वस्थ एग डोनर की खोज की जाती है।

एक संभावित एग डोनर के लिए कुछ क्राइटेरिया (criteria) होती हैं, जो इस प्रकार हैं :-

  • डोनर की उम्र 30 से कम की होनी चाहिए। [3]
  • डोनर को धूम्रपान, शराब आदि की आदत से मुक्त होना ज़रूरी है।
  • उसे ड्रग्स की लत नहीं होनी चाहिए।
  • डोनर शारीरिक रूप से स्वस्थ होनी चाहिए।
  • उसे सभी प्रकार की आनुवंशिक बीमारियों से मुक्त होना चाहिए।

डोनर के चयन के बाद उसे हॉरमोन थेरेपी के लिए दवाएँ दी जाती हैं, जिससे अंडे उत्पादित होते हैं।

इन अंडों को ओवरीज से इंजेक्शन के माध्यम से शरीर से बाहर निकाल लिया जाता है।

दान किए गए अंडे भविष्य में उपयोग के लिए डीफ़्रॉस्ट किए जाते हैं या किसी प्राप्तकर्ता के गर्भाशय में ट्रान्सफर करने के लिए तुरंत फर्टिलाइज किए जाते हैं ताकि वह गर्भधारण कर सके।

और पढ़ें:अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान की सफलता को प्रभावित करने वाले मुख्य कारक
 

क्या एग डोनेट करने की प्रक्रिया दर्दनाक होती है

Is egg donation process painful ?in hindi

Kya egg donate karna dardnaak hota hai in hindi

एग डोनेट करने की प्रक्रिया स्वयं सामान्य रूप से दर्दनाक नहीं होती है, हालांकि, इसके लिए अस्पताल में एक या दो अतिरिक्त दिन बिताने की आवश्यकता होती है।

भारत में सबसे ज्यादा अंडे और स्पर्म डोनर हैं।

प्राय: आर्थिक रूप से कमजोर घर की स्त्रियाँ अतिरिक्त पैसे कमाने के लिए एग डोनेट करती हैं।

यह कृत्रिम रूप से गर्भावस्था को प्राप्त करने के तरीकों में से एक है।

डोनर एग की आईवीएफ प्रक्रिया में सफलता दर काफी अधिक है और संतानहीन कपल्स के लिए यह एक वरदान साबित हुई है।

loading image
 

आप कितनी बार अंडे दान कर सकती हैं

How many times can you donate ?in hindi

Aap kitni baar egg donate kar sakti hain in hindi

आमतौर पर, कई एग डोनर एजेंसियाँ अंडा दाताओं को उनके जीवन काल में 6 बार तक एग डोनेशन की अनुमति देती हैं। [4]

इसके अलावा, अंडा दान करने वाली एजेंसियां दाता को संभावित स्वास्थ्य जोखिमों से बचाने के लिए 6 बार से अधिक दान करने की छूट नहीं देती है।

बेशक, आप अधिक दान कर सकते हैं, लेकिन ध्यान रखें कि अंडा दान एक लंबी प्रक्रिया है जिसमें समय और प्रतिबद्धता की आवश्यकता होती है।

और पढ़ें:आईएमएसआई आईवीएफ क्या है?
 

अंडे दान करने से उत्पन्न होने वाली समस्याएं

Side effects of donating eggs in hindi

Egg donate karne se kya problems ho sakti hain in hindi

अंडे दान करने से आपको नीचे दी गयी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है :

  • प्रजनन दवाएं (Fertilization pills)
    सबसे पहले, एग डोनेशन एजेंसी एसटीआई (STI - Sexually transmitted infections) और अन्य बीमारियों के लिए आपकी स्क्रीनिंग करेगी।
    यदि आप स्क्रीनिंग में पास हो जाती हैं तो आपसे अपेक्षा की जाती है कि आप अपने प्राकृतिक साइकल को दबाने के लिए लूप्रॉन (lupron) नामक एक फ़र्टिलिटी दवा के साथ हर दिन खुद को इंजेक्ट करें, ताकि आपका चक्र और प्राप्तकर्ता का चक्र समान हो जाए।
    प्रजनन दवाओं के कुछ दुष्प्रभाव हो सकते हैं।
    साइड-इफेक्ट्स जो आप अनुभव कर सकती हैं उनमें सिरदर्द, उल्टी, सूजन और वजन बढ़ना, एलर्जी प्रतिक्रिया, ओवरी हाइपर-स्टीमुलेशन सिंड्रोम (OHSS ovary hyperstimulation syndrome), पेट में तरल पदार्थ और भविष्य की दुर्बलता शामिल हैं। [5]
  • मनोवैज्ञानिक परेशानी (Psychological problem)
    इस दौरान आप मूड स्विंग का अनुभव कर सकती हैं।
    अवसाद, चिड़चिड़ाहट, हताशा जैसे लक्षणों का अनुभव प्रक्रिया के कारण किए जा सकते हैं।
  • अल्ट्रासाउंड-गाइडेड एग रिट्रीवल (Ultrasound guided egg retrieval)
    इस प्रक्रिया के बाद कुछ गंभीर जटिलताओं में संक्रमण, रक्त वाहिकाओं (blood vessels) को चोट या ब्लीडिंग शामिल हैं।
  • पेट में दर्द (Stomach pain)
    अंडा रिट्रीवल प्रक्रिया से पेट में गंभीर दर्द हो सकता है।
    यही कारण है कि अधिकांश महिलाओं को सलाह दी जाती है कि वे इस प्रक्रिया के बाद कड़ी गतिविधियों से बचें।
    ओवरीज के सिकुड़ने में लगभग 7 दिन लगते हैं।
    अंडे के दान से जुड़े दुष्प्रभाव आमतौर पर गंभीर नहीं होते हैं और कुछ ही दिनों में कम हो जाते हैं।
    लेकिन अगर आपको गंभीर सूजन या ऐसा दर्द शुरू हो जाता है, जो दवा से ठीक नहीं होता या आप योनि से भारी रक्तस्राव और बेहोशी के साथ उल्टी का अनुभव करती हैं तो तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें।
    अंडे की पुनर्प्राप्ति के बाद, आपको कुछ दर्द और असुविधा का अनुभव हो सकता है।
    इसलिए प्रक्रिया के बाद एक या दो दिन के लिए भारी काम करने से बचें।
    जब संभोग की बात आती है, तो अधिकांश अंडा दाताओं को सलाह दी जाती है कि वे प्रक्रिया के बाद 72 घंटे तक सेक्स करने से बचें।
    यदि आप 72 घंटे से पहले संयोग करती हैं, तो संभावना है कि आप अधिक दर्द और परेशानी का अनुभव कर सकती हैं।
loading image
 

अंडे के दान और आईवीएफ में क्या अंतर है?

What is the difference between egg donation & IVF ?in hindi

Egg donation aur IVF mein kya fark hai in hindi?

आईवीएफ (in-vitro fertilization) एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें पुरुष के शुक्राणु और महिला के अंडे को एक टेस्ट ट्यूब में एक साथ फर्टीलाइज किया जाता है और फिर इसे महिला के गर्भाशय में डाला जाता है।

आईवीएफ प्रक्रिया उन पुरुषों के लिए आदर्श है जो पर्याप्त शुक्राणु उत्पादन नहीं कर सकते हैं या जो फैलोपियन ट्यूब की समस्याओं से ग्रस्त हैं।

एग डोनेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें एक महिला दूसरी ऐसी महिला को अपने अंडे दान करती है जो स्वस्थ अंडे देने में सक्षम नहीं है या जो बांझपन की शिकार हैं।

और पढ़ें:आईयूआई उपचार की प्रक्रिया दर्दनाक है ?
 

क्या शुक्राणु दान की तुलना में अंडा दान कम आम है

Is egg donation less common than sperm donation ?in hindi

Kya sperm donation ki tulna mein egg donation kam hota hai in hindi?

अंडों का दान शुक्राणु दान की तुलना में कहीं अधिक सामान्य है और इसके कारण इस प्रकार हैं:

  • अंडा दाताओं को शुक्राणु दाताओं से अधिक भुगतान किया जाता है। मुआवज़े में असमानता इस विश्वास के कारण है कि जब एक महिला अपने अंडे दान करती है, तो वह "जीवन का उपहार" देती है। इस कारण से, अंडा दाताओं को आमतौर पर शुक्राणु दाताओं की तुलना में अधिक मूल्यवान माना जाता है।
  • शुक्राणु दाताओं की गतिविधियां अंडा दाताओं की तुलना में अधिक प्रतिबंधित हैं। अधिकांश एग डोनर एजेंसियों को एक एग डोनर की छह बार दान देने के लिए ज़रूरत होती है। लेकिन शुक्राणु एजेंसियों को एक स्पर्म डोनर की, एक वर्ष के लिए, हर हफ्ते आवश्यकता होती है।
  • इसके अलावा, शुक्राणु बैंकों ने शुक्राणु की गुणवत्ता के संबंध में हाई स्टेंडर्ड्स निर्धारित किए हैं जिससे पुरुषों के लिए दान करना और भी मुश्किल हो जाता है।
और पढ़ें:आईयूआई उपचार के दौरान निगरानी के 3 मुख्य प्रकार क्या हैं?
 

अंडे के दान के बाद गर्भवती होने की संभावना क्या है

What are the chances of getting pregnant after egg donation in hindi

Egg donation ke baad pregnant ho sakte hain kya in hindi

शोध के अनुसार अंडे दान करने से आपकी प्रजनन क्षमता प्रभावित नहीं होती है।

इसलिए आपको अंडा दान के बाद गर्भवती होने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए।

यदि आप पाते हैं कि आपको अंडे दान के बाद गर्भधारण करने में समस्या आ रही है, तो अपने डॉक्टर से बात करें।

और पढ़ें:आईयूआई के बाद सावधानी और इंप्लानटेशन (भ्रूण प्रत्यारोपण) के लक्षण
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

एग डोनेशन एक ऐसी चिकित्सा प्रक्रिया है, जिसके द्वारा एक महिला अन्य महिला की मदद करने के लिए अंडे का दान करती है।

एग डोनेशन की प्रक्रिया विशेषज्ञों की देख-रेख में प्रजनन क्लीनिक में की जाती है और कुछ खास मापदण्डों को पूरा करने वाली महिला को ही एग डोनेशन के लिए चुना जाता है।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

references

संदर्भ की सूचीछिपाएँ

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 17 Feb 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

15 से अधिक सुपर फूड जो स्पर्म काउंट और स्पर्म मोटेलिटी बढ़ा सकते हैं

15 से अधिक सुपर फूड जो स्पर्म काउंट और स्पर्म मोटेलिटी बढ़ा सकते हैं

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज - पीआईडी के लक्षण, कारण और इलाज़

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज - पीआईडी के लक्षण, कारण और इलाज़

हिस्टेरोसलपिंगोग्राम - बेस्ट फैलोपियन ट्यूब टेस्ट - प्रक्रिया व जोख़िम

हिस्टेरोसलपिंगोग्राम - बेस्ट फैलोपियन ट्यूब टेस्ट - प्रक्रिया व जोख़िम

टेराटोज़ोस्पर्मिया - कारण, प्रकार व उपचार

टेराटोज़ोस्पर्मिया - कारण, प्रकार व उपचार

नक्स वोमिका से पुरुष बांझपन का इलाज़

नक्स वोमिका से पुरुष बांझपन का इलाज़
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad