भारतीय कानून में पी.सी.पी.एन.डी.टी ऐक्ट (प्री-कांसेप्शन एंड प्री-नैटल डायगनोस्टिक टेकनिक्स), 1994 के तहत जन्म से पहले लिंग परीक्षण क़ानूनन अपराध है - इसके लिए पूछने वाले पर भी कार्रवाई की जाएगी। हम (zealthy) ऐसी किसी भी तकनीक का समर्थन नहीं करते हैं।

Effect of nutrition and yoga on overall health Zealthy

पौष्टिक भोजन और योग का सम्पूर्ण स्वास्थ्य पर प्रभाव

Effect of nutritional food and yoga on overall health in hindi

poshtik bhojan aur yoga ka sampoorna swasthya par prabhav in hindi

एक नज़र


  • पौष्टिक भोजन शरीर के लिए बहुत ज़रूरी है।

  • नियमित योग करने के बहुत फ़ायदे हैं।

  • पौष्टिक भोजन और योग स्वस्थ जीवन की नींव है।

  • पौष्टिक भोजन शरीर में ऊर्जा पैदा करता है और योग पैदा हुई ऊर्जा का शरीर में सही तरीके से संचारण करता है।

पौष्टिक भोजन हमारे शरीर के लिए बहुत ज़रूरी है।

यह हमें ऊर्जा देने से साथ-साथ हमे कई बीमारियों जैसे डायबिटीज़ (diabetes), ब्लड प्रेशर (blood pressure), मोटापा और संक्रमण से बचाता है।

पोष्टिक भोजन नहीं करने से हमारे शरीर में कई आवश्यक तत्वों की कमी हो जायेगी और बीमारी होने का जोखिम बढ़ जायेगा।

आइये इस लेख के माध्यम से जानते हैं कि स्वस्थ व पौष्टिक भोजन और योग किस तरह से हमारे शरीर के फ़ायदेमंद है।

 

1.पौष्टिक भोजन कैसे आपको स्वस्थ रखता है ?

How proper nutrition keeps you healthy ? in hindi

Poshtik bhojan humein kaise swasth rakhta hai? in hindi

पोष्टिक भोजन इस तरह बनाता है आपको स्वस्थ :

  • रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाना (Enhances immunity)
    हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता कार्बोहाइड्रेट्स (carbohydrates), फैट (fat) एवं प्रोटीन (protein) की वजह से बढती है।
    इसके अलावा विटामिन्स (vitamins) एवं मिनरल्स (minerals) का भी रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में योगदान होता है।
    प्रत्येक कोशिका का विकास पौष्टिक भोजन के द्वारा किया जा सकता है।
    इससे शरीर रोग के खिलाफ लड़ने की लिए तैयार होगा।
    ऐसे में स्वाभाविक तौर पर किसी बीमारी के होने का ख़तरा कम हो जाता है।
  • वजन प्रबंधन (Weight management)
    स्वस्थ पौष्टिक भोजन ओर आदर्श वजन हमेशा साथ-साथ चलते हैं।
    अगर हमने सही भोजन किया है तो हमें कम भूख लगेगी और हम बिंज इटिंग (binge eating) नहीं करेंगे।
    इसके अलावा पौष्टिक भोजन कसरत करने के लिए ज़रूरी ऊर्जा देता है जिससे आप सेहतमंद रह सकें।
  • शारीरिक विकास (Growth of body)
    पौष्टिक भोजन के अभाव में बच्चों में शारीरिक विकास ठीक से नहीं हो पाता।
    छोटे बच्चों में पोषक तत्वों की कमी होना आम बात है।
    कई बच्चें आयरन (iron) की कमी से एनीमिया (anaemia) का शिकार हो जाते हैं और कुछ की हड्डियाँ कैल्शियम (calcium) की कमी से कमज़ोर हो जाती है।
    पोष्टिक भोजन इन सब कमियों को दूर करके शरीर का सही ढंग से विकास करता है।
  • मूड स्विंग से रखता है दूर (Keeps you away from mood swings)
    अगर हमारा आहार संतुलित नहीं होगा और उसमें कार्बोहाइड्रेट्स (carbohydrates) की मात्रा ज्यादा होगी तो खून में ग्लूकोज (glucose) का उतार-चढ़ाव अधिक होगा।
    ऐसी स्थिति में हमारा मूड ठीक नहीं रहेगा और हम चिड़चिड़े हो जायेंगे।
    इसके अलावा अगर हम असंतुलित आहार देर रात को खायेंगे तो भी हमारा मूड प्रभावित हो सकता है।
  • उम्र के प्रभाव को करता है कम (Anti-aging)
    स्वस्थ भोजन और कसरत, ये दो चीज़ें शरीर पर उम्र के प्रभाव को काफी हद तक कम कर देती है।
    भोजन से आपको नयी कोशिकाएं बनाने की लिए ज़रूरी ऊर्जा एवं पोषक तत्त्व मिलते हैं और शरीर में फ्री रेडिकलस (free radicals) से लड़ने के लिए पर्याप्त शक्ति उत्पन्न होती है।
  • कैंसर के खतरे को कम करना (Reduces the risk of cancer)
    असंतुलित आहार और ज़रूरी पोषक तत्वों की कमी से कैंसर (cancer) होने का ख़तरा बढ़ जाता है।
    इसकी वजह रोग-प्रतिरोधक क्षमता में कमी के साथ-साथ शरीर को पर्याप्त ऊर्जा न मिल पाना है।
    अध्ययन में यह पाया गया है कि जिस व्यक्ति के भोजन में प्रचूर मात्रा में फल एवं सब्ज़ियाँ होती है उस व्यक्ति को कैंसर होने की सम्भावना कम होती है।
  • बीमारियों से बचाव करना (Prevention from disease)
    पौष्टिक भोजन कई प्रकार की बीमारियों से शरीर की रक्षा करता हैं।
    स्वस्थ भोजन डायबिटीज़ (diabetes) के प्रभाव को दूर करता है और शुगर (sugar) को नियंत्रित करता है।
    इसी प्रकार संतुलित भोजन हमें कई हृदय संबंधित बीमारियों जैसे की हार्ट अटैक (heart attack) या स्ट्रोक (stroke) से बचाता है।
    पोष्टिक भोजन करने से हमारी हड्डियाँ और दांत भी मजबूत होते हैं।
  • याददाश्त तेज करना (Increases memory power)
    स्वस्थ भोजन तंत्रिका-तंत्र (nervous system) को सुचारू रूप से चलाता है और याददाश्त को तेज करता है।
  • पेट के स्वास्थ्य को ठीक रखना (Makes your digestive system strong)
    हमारे पेट में कई सारे जीवाणु मौजूद हैं जो पाचन क्रिया में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं।
    इनका शरीर के साथ एक अद्भुत तालमेल होता है। असंतुलित आहार की वजह से तालमेल बिगड़ जाता है और हमारे पेट में सूजन हो जाती है।
    स्वस्थ भोजन जैसे फल, सब्ज़ियाँ और फाइबर इस तालमेल को बनाए रखते हैं।
  • अच्छी नींद आना (Better sleep)
    मोटापा, एवं असंतुलित भोजन अनिद्रा के कारण हैं।
    अच्छा खाना खाने से नींद अच्छी आती है।
  • ऊर्जा का संचार करना (Produces energy)
    हमारे शरीर को प्रत्येक कार्य करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है।
    यह ऊर्जा स्वस्थ एवं पौष्टिक भोजन से प्राप्त होती है।
  • चिंता कम करना (Reduces stress)
    पोष्टिक भोजन हमारे मानसिक एवं शारीरिक स्वस्थ को ठीक रखता है।
    इससे उन हार्मोन्स में कमी आती है जो चिंता को बढ़ावा देते हैं।
 

2.योग हमारे सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए कैसे फ़ायदेमंद है?

How yoga benefits our overall health? in hindi

yoga hamare sampoorna swasthya ke liye kaise faydemand hai ? in hindi

योग हमें निम्न फ़ायदे पहुंचाता है :

  • तनाव कम करना (Reduces stress)
    योग शरीर में कोर्टिसोल (cortisol) के स्तर को कम करता है।
    कोर्टिसोल के बढ़े हुए स्तर की वजह से ही व्यक्ति तनावग्रस्त हो जाता है।
  • दिल के लिए फ़ायदेमंद (Beneficial for heart health)
    योग हमारे हृदय की शक्ति को बढ़ाता है जिसकी वजह से खून का प्रवाह सुचारू रूप से होता है।
    इसके अलावा यह हृदय की बीमारियों को भी दूर रखता है।
  • जीवन की गुणवत्ता को बढ़ाना (Quality life)
    योग की वजह से हमारे जीवन की गुणवत्ता में भी सुधार आता है।
    एक अध्ययन में यह पाया गया की 6 महीने तक योग करने से व्यक्ति में थकावट दूर होती है और उसका मूड भी सही रहता है।
  • दर्द हो दूर करना (Reduce pain)
    कई बीमारियों के दर्द को दूर करने करने के लिए योग का सहारा लिया जाता है।
    योग की वजह से ओस्टीओअर्थाइटिस (osteoarthritis) का दर्द कम हो जाता है।
  • अच्छी नींद आना (Better sleep)
    नियमित रूप से योग करने वाले व्यक्ति को नींद अच्छी आती है।
  • लचीलेपन को बढ़ाना (Increases flexibility)
    योग शरीर को लचीला बनाता है।
    जिससे हड्डियों में दर्द और अकड़न की समस्या नहीं होती।
  • श्वसन क्रिया को सुधारना (Improves breathing)
    योग की कई श्वसन क्रियाएं फेफड़ों को मजबूत करती है और उनकी क्षमता को बढ़ाती है।
  • मांसपेशियों को मजबूत करना (Make muscles strong)
    नियमित योग करने से मांसपेशियाँ लचीली एवं मजबूत होती हैं।
 

3.निष्कर्ष

Conclusion in hindi

Nishkarsh in hindi

पौष्टिक भोजन और योग हमारे शरीर को स्वस्थ बनाते हैं।

दोनों ही हमारे शारीरिक एवं मानसिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं।

पोष्टिक भोजन जहाँ हमारे शरीर में पोषक तत्वों की पूर्ति करता है, वहीं योग हमारे शरीर को लचीला एवं मजबूत बनाता है।

पोष्टिक भोजन एवं योग दोनों ही हमे गंभीर बीमारियों से दूर रखते हैं।

संतुलित आहार लेने एवं नियमित योग करने से व्यक्ति तनावमुक्त रहता है।

zealthy contact

कॉल

zealthy whatsapp contact

व्हाट्सप्प

book appointment

अपॉइंटमेंट बुक करें