गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण और पहचान - समयानुसार

Early signs and Symptoms of pregnancy - Timeliness in hindi

Garbhwastha ke shuruaati lakshan aur pahchan in hindi


एक नज़र

  • गर्भावस्था और पीरियड्स के लक्षण एक जैसे लगते हैं।
  • गर्भावस्था के लक्षणों की अवधि और समय से गर्भावस्था को पहचाना जा सकता है।
  • गर्भवती महिला में शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक बदलाव होते हैं।
  • मूड स्विंग, स्तनों में बदलाव, स्वाद में बदलाव, यूरिनल प्रेशर, मितली और उल्टी गर्भावस्था के ख़ास लक्षण हैं।
triangle

Introduction

Garbhwastha_ke_shuruaati_lakshan_aur_pahchan_in_hindi

गर्भावस्था अपने साथ कुछ ख़ास लक्षणों को लेकर आती है।

ये लक्षण नौ महीनों में कम-ज्यादा हो सकते हैं या फिर समय के साथ इन लक्षणों में बदलाव भी हो सकता है।

गर्भावस्था का सबसे पहला लक्षण होता है पीरियड मिस होना।

इसके बाद प्रेगनेंसी टेस्ट सकारात्मक परिणाम देती है तो इसका मतलब है आप गर्भवती हैं।

अगर आपने प्रेग्नेंसी टेस्ट नहीं की है या फिर आप अपने गर्भधारण से अनजान हैं तो गर्भावस्था के शुरुआती दो हफ्तों में यह समझ पाना कि आप गर्भवती हैं या नहीं ,काफ़ी मुश्किल होता है।

गर्भावस्था के लक्षण गर्भधारण के दो हफ्तों के बाद ही नज़र आना शुरू होते हैं।

गर्भवस्था के ज़्यादातर लक्षण 8वें से 10वें हफ़्ते में भी नज़र आते हैं।

चालीस हफ्तों के इस सफर में आप अपने शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक बदलाव से गर्भावस्था के बारे में जान सकती हैं।

कई बार सामान्य बीमारियों के लक्षण और गर्भावस्था के लक्षणों में फ़र्क करना मुश्किल हो जाता है।

ऐसे में यह जानना बेहद ज़रूरी है कि गर्भावस्था के लक्षण क्या-क्या होते हैं और कब नज़र आते हैं।

आज हम इस लेख में गर्भावस्था के लक्षणों पर विस्तार से बात करेंगे।

loading image

इस लेख़ में

  1. 1.गर्भावस्था के लक्षण के रूप में थकान
  2. 2.गर्भावस्था के लक्षण के रूप में स्वाद में बदलाव
  3. 3.गर्भावस्था के लक्षण के तौर पर मूड स्विंग्स
  4. 4.गर्भावस्था के लक्षण के रूप में मितली और उल्टी
  5. 5.गर्भावस्था के लक्षण के रूप में ब्लीडिंग या स्पॉटिंग
  6. 6.गर्भावस्था के लक्षण के रूप में असामान्य दर्द
  7. 7.गर्भावस्था लक्षण के रूप में यूरिनल प्रेशर
  8. 8.गर्भावस्था के लक्षण के रूप में स्तनों में बदलाव
  9. 9.निष्कर्ष
 

गर्भावस्था के लक्षण के रूप में थकान

Tiredness as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke roop mein thakan

थकान और आलस शरीर की एक सामान्य प्रक्रिया है।

मगर गर्भावस्था के दौरान यह काफ़ी हद तक बढ़ जाती है।

हो सकता है नींद को लेकर आप कोई बदलाव महसूस ना करें मगर गर्भावस्था के दौरान थकान अत्यधिक महिलाओं में देखने को मिलती है।

बिना काम किए भी आप थकी हुई महसूस कर सकती हैं।

समय : गर्भावस्था के दौरान थकान, पीरियड्स मिस होने के दो हफ्तों के बाद शुरू हो सकती है।

loading image
 

गर्भावस्था के लक्षण के रूप में स्वाद में बदलाव

Change in taste as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke roop mein swad mein badlaav

स्वाद में बदलाव का सीधा मतलब है कि जो चीज़ आप खाना पसंद नहीं करती, गर्भावस्था के दौरान अचानक से वही चीज़ खाने की इच्छा होने लगती है।

वहीं दूसरी तरफ जो चीज़ आप बेहद पसंद करती हैं, उसी चीज को खाने से आपको घृणा आने लगेगी।

शुरुआती हफ्तों में आमतौर अचानक से कुछ खाने की इच्छा नहीं देखी जाती मगर घृणा होना सामान्य है।

अचानक से स्वाद में बदलाव गर्भावस्था की पहचान है।

समय : यह लक्षण भी आपको पीरियड्स मिस होने के दो हफ्तों के बीच नज़र आएँगे।

और पढ़ें:30 की उम्र के बाद गर्भावस्था के जोखिम क्या हैं ?
 

गर्भावस्था के लक्षण के तौर पर मूड स्विंग्स

Mood swing as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke taur par mood swings

हॉरमोनल चेंज के कारण शुरुआती हफ्ते में आपका मूड बदलने लग सकता है।

तेज़ गुस्सा आना, इमोशनल होना, बेचैनी या चिड़चिड़ाहट मूड स्विंग के रूप हैं।

ये मूड स्विंग वैसे ही होते हैं जैसे पीरियड्स के पहले होने वाले मूड स्विंग्स। ये मूड स्विंग्स आम दिनों में भी हो सकते हैं।

मगर गर्भावस्था के दौरान ये काफ़ी बढ़ जाते हैं।

समय : यह लक्षण पीरियड्स मिस होने के दो हफ्तों के बाद नज़र आ सकते हैं।

loading image
 

गर्भावस्था के लक्षण के रूप में मितली और उल्टी

Nausea and vomiting as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke roop mein mitli aur ulti

गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था के पहले संकेत के रूप में उल्टी होती है और साथ ही मितली का भी अनुभव होता है।

कुछ महिलाओं को उल्टी की समस्या काफ़ी ज्यादा होती है।

इसके विपरीत कुछ महिलाओं में यह समस्या बिल्कुल भी नहीं होती।

आमतौर पर यह लक्षण महिला की शारीरिक अवस्था पर भी निर्भर करता है।

पेट में गड़बड़ होने से, अजीब सी महक से दिन के किसी वक़्त आपको मितली और उल्टी की समस्या हो सकती है।

समय : यह लक्षण पीरियड्स मिस होने के दो हफ्तों के बाद नज़र आ सकता है।

और पढ़ें:अल्फा-फेटोप्रोटीन टेस्ट क्या है और क्यों पड़ती है इसकी ज़रूरत
 

गर्भावस्था के लक्षण के रूप में ब्लीडिंग या स्पॉटिंग

Bleeding or spotting as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke roop mein bleeding ya spotting

गर्भावस्था के दौरान स्पॉटिंग की समस्या लगभग सभी महिलाओं को होती है।

स्पॉटिंग में ख़ून की एक-दो बूंद का रिसाव होता है।

कुछ महिलाएं इस लक्षण को पीरियड्स समझने लगती हैं मगर यह असल में पीरियड्स नहीं होता।

इसे पीरियड्स का छोटा रूप समझ जा सकता है।

यह ख़ून पीरियड्स के दौरान शरीर से निकलने वाले ख़ून से मात्रा और रंग में दोनों में अलग होता है।

पीरियड्स के ख़ून का रंग गहरा लाल होता है।

मगर स्पॉटिंग में यह हल्के भूरे और गुलाबी रंग का होता है।

इसमें आपको पैड लेने की जरूरत नहीं होती।

समय : गर्भावस्था के 10 से 14 दिनों के बाद ही स्पॉटिंग होती है।

इसकी अवधि भी पीरियड्स की अवधि से कम होती है।

यह एक से दो दिन में ख़त्म हो जाता है।

loading image
 

गर्भावस्था के लक्षण के रूप में असामान्य दर्द

Abnormal pain as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke roop mein asamanye dard

गर्भावस्था के दौरान असामान्य दर्द गर्भाशय में हल्की सी क्रैम्पिंग के साथ शुरू होकर काफ़ी तेज़ हो सकती है।

पीरियड्स में होने वाले दर्द की तरह ही यह दर्द अलग-अलग महिलाओं में कम- ज्यादा हो सकता है।

यह दर्द पेट के अलावा स्तनों में भी हो सकता है. कभी- कभी यह दर्द बहुत बढ़ सकता है।

समय : आप इस लक्षण को लास्ट पीरियड के अंतिम दिन से लेकर गर्भावस्था के शुरुआती दो हफ्तों तक महसूस कर सकती हैं।

और पढ़ें:कैसे करें गर्भावस्था किट का प्रयोग ?
 

गर्भावस्था लक्षण के रूप में यूरिनल प्रेशर

Urinal pressure as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke roop mein urinal pressure

गर्भावस्था के तुरंत बाद आम दिनों के मुकाबले शरीर में 25 प्रतिशत ज्यादा पेशाब बनने लगती है।

जिसके कारण आपको बार-बार बाथरूम जाना पड़ सकता है।

गर्भ में पल रहे बच्चे के वजन बढ़ने के साथ-साथ यह प्रेशर बढ़ने लगता है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि किडनी आपके शरीर में रक्त की मात्रा बढ़ने की वजह से ज्यादा लिक्विड (extra liquid) बनाना शुरू कर देती है।

समय: ये लक्षण गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में नज़र नहीं आते। गर्भावस्था के 10-15 हफ्तों के अंदर आप इस लक्षण को महसूस कर सकती हैं।

और पढ़ें:कैसे सर्विकल म्यूकस को ट्रैक कर आप जल्दी गर्भवती हो सकती हैं?
 

गर्भावस्था के लक्षण के रूप में स्तनों में बदलाव

Change in breast as a symptom of pregnancy in hindi

Garbhavastha ke lakshan ke roop mein stanon mein badlav

गर्भावस्था के दौरान हार्मोनल बदलाव के लिए स्तनों के टिश्यू के लिए काफ़ी संवेदनशील हो जाते हैं।

शरीर में हो रहे हार्मोनल बदलाव के कारण स्तनों में सूजन हो सकती है।

सूजन के कारण स्तनों में दर्द महसूस हो सकता है।

गर्भावस्था के दो हफ्तों के बाद आपको स्तनों बदलाव नज़र आ सकते हैं।

गर्भावस्था के आख़िरी हफ्तों में आपको इसके आकार में भी फ़र्क महसूस होने लगेगा।

समय : यह लक्षण पीरियड्स मिस होने के 11 वें हफ़्ते से नज़र आ सकता है।

और पढ़ें:कोरियोनिक विली सैंपलिंग/सीवीएस टेस्ट की प्रक्रिया, लाभ व जोखिम
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

गर्भावस्था के ज्यादातर लक्षण पीरियड्स की तरह ही होते हैं मगर इनके वक़्त और मात्रा को पहचान कर आप गर्भावस्था के लक्षण पहचान सकती हैं।

प्रेग्नेंसी टेस्ट लेकर आप अपनी प्रेग्नेंसी सुनिश्चित कर सकती हैं।

गर्भावस्था के दौरान आप अपने शरीर में मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक बदलाव देख सकती हैं।

स्वाद में बदलाव, स्तनों में बदलाव, मितली उल्टी, यूरिनल प्रेशर, मूड स्विंग, असामान्य दर्द और स्पॉटिंग गर्भावस्था के लक्षण हैं।

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 02 Jun 2020

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

क्या तनाव के कारण गर्भधारण करने में परेशानी आ सकती है?

क्या तनाव के कारण गर्भधारण करने में परेशानी आ सकती है?

प्रजनन क्षमता बेहतर बनाने के 10 तरीके

प्रजनन क्षमता बेहतर बनाने के 10 तरीके

लड़का कैसे पैदा होता है?

लड़का कैसे पैदा होता है?

प्रेग्नेंट कब और कैसे होती है ?

प्रेग्नेंट कब और कैसे होती है ?

सेक्स के कितने दिन बाद गर्भधारण होता है?

सेक्स के कितने दिन बाद गर्भधारण होता है?
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad