क्या महिला ऑर्गेज़म गर्भवती होने की संभावनाओं को बढ़ाता है

Does female orgasm helps in getting pregnant in hindi

Kya female orgasm aap ke pregnant hone ke chances ko badhata hai in hindi


एक नज़र

  • एक महिला ऑर्गेज़म के बिना भी गर्भवती हो सकती है।
  • ऑर्गेज़म के बाद आने वाली नींद आपको गर्भावस्था प्राप्त करने में मदद कर सकती है।
  • ऑर्गेज़म शुक्राणु को गर्भाशय तक पहुँचने में भी मदद करता है।
  • ओवुलेशन और गर्भावस्था ऑर्गेज़म को प्रभावित करते हैं।
triangle

Introduction

Kya_female_orgasm_aap_ke_pregnant_hone_ke_chances_ko_badhata_hai_in_hindi


फ़ीमेल ऑर्गेज़म (female orgasm) प्रेग्नेंट होने में मदद कर सकता है या नहीं, यह स्पष्ट नहीं है। लेकिन यह स्पष्ट है कि एक महिला ऑर्गेज़म (orgasm) के बिना गर्भवती हो सकती है।

लेकिन सवाल उठता है कि क्या फीमेल ऑर्गेज़म गर्भाधान के अवसरों को बढ़ाने में सहायक है?

फीमेल ऑर्गेज़म पर काफी समय से रिसर्च किया जा रहा है। कुछ लोग मानते हैं कि यह सिर्फ मनोरंजन देता है, जबकि कई अन्य का मानना है कि यह निश्चित रूप से प्रेग्नेंट होने में सहायता करता है।

फीमेल ऑर्गेज़म गर्भधारण करने में कैसे सहायक है और यह कैसे काम करता है, इसके बारे में जानने में यह लेख आपकी मदद करेगा।

loading image

इस लेख़ में

 

फीमेल ऑर्गेज़म और प्रजनन क्षमता का सिद्धांत क्या है ?

What is the theory of female orgasm and fertility in hindi

Female orgasm aur fertility theory in hindi


पहला सिद्धांत (1st Theory)

गर्भवती होने में फीमेल ऑर्गेज़म कैसे मदद करता है, इस बारे में दो मुख्य धारणाएँ हैं। पहली धारणा के अनुसार महिलाओं में ऑर्गेज़म का लक्ष्य उन्हें नींद का एहसास कराना है ताकि वे संयोग के बाद लेट जाएं। इससे शुक्राणु को अपने गंतव्य तक आसानी से पहुंचने में मदद मिल सकती है।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि संभोग के बाद लेटना आपको गर्भवती होने में मदद कर सकता है या नहीं। एक रिसर्च में यह पाया गया कि सिर्फ लेटने से स्पर्म रिटेन्शन (sperm retention) में सुधार नहीं होता है। लेकिन अन्य अध्ययनों में पाया गया कि लेटने से गर्भधारण में मदद मिलती है।

आईयूआई (IUI) उपचार के एक अध्ययन में पाया गया कि जो महिलाएं इन्सेमिनेशन (insemination) के बाद लेटी रहती हैं उनमें प्रेग्नेंसी की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

दूसरा सिद्धांत (2nd Theory)

गर्भावस्था के लिए फ़ीमेल ऑर्गेज़म कैसे मदद कर सकता है, इसका एक और सिद्धांत है। यह माना जाता है कि गर्भाशय का संकुचन योनि (vagina) में जमा होने वाले वीर्य को सोखने (suck up) में मदद करता है।

फीमेल ऑर्गेज़म, शुक्राणु को फैलोपियन ट्यूब से होते हुए गर्भाशय तक पहुँचने में भी मदद करता है।

loading image
 

क्या फीमेल ऑर्गेज़म की फ्रिक्योंसी और प्रजनन क्षमता संबंधित है?

Is there a connection between orgasm frequency and fertility potential in hindi

Kya orgasm frequency aur fertility ke beech koi connection hai in hindi

जैसा कि ऊपर कहा गया है, अभी तक शोधों के आधार पर यह पुख्ता रूप से नहीं कहा जा सकता कि फीमेल ऑर्गेज़म का गर्भधारण से सीधा-सीधा कोई संबंध है।

हालांकि, एक अध्ययन ने एक महिला के ऑर्गेज़म दर और उनके बच्चों की संख्या के बीच संबंध की जांच की।

8,000 महिला के ट्विंस और भाई-बहनों पर हुए इस रिसर्च में पाया गया कि ऑर्गेज़म दर और संतानों की संख्या के बीच एक कड़ी ज़रूर मौजूद है।

लेकिन जब अन्य कारकों (factors) को रिसर्च में शामिल किया गया तो यह कनेक्शन गायब हो गया। इस अध्ययन के अनुसार, ऑर्गेजम का स्तर आपकी प्रजनन क्षमता पर कोई असर नहीं डालता है।

loading image
 

क्या फीमेल ऑर्गेज़म से पुरुष प्रजनन क्षमता में सुधार हो सकता है?

Does female orgasm may improve male fertility in hindi

Female orgasm male fertility ko improve kar sakta hai in hindi

कुछ शोध अध्ययनों में यह पाया गया है कि लंबे समय तक फोरप्ले (foreplay) और एजाकूलेशन (ejaculation) से पहले यौन उत्तेजना शुक्राणुओं की संख्या बढ़ा सकती है। यदि महिला ऑर्गेज़म तक पहुँचने में समय लेती है तो इससे वीर्य मापदंडों में सुधार हो सकता है।

loading image
 

ऑर्गेज्म, ओव्यूलेशन और प्रेग्नेंसी के बीच का संबंध क्या है ?

What is the connection between orgasm, ovulation and pregnancy in hindi

Orgasm, ovulation, aur pregnancy ke beech ka sambandh in hindi

भले ही ऑर्गेज़म आपको गर्भधारण करने में मदद करे या न करे लेकिन, ओवुलेशन और गर्भावस्था ऑर्गेज़म को प्रभावित करते हैं।

एस्ट्रोजन का उच्च स्तर भी सर्वाइकल म्यूकस (cervical mucus) में वृद्धि करता है। यह शुक्राणुओं के लिए एक आदर्श वातावरण पैदा करते हैं। लेकिन, इसके अलावा, "वेट फिलिंग" भावना भी आपकी यौन इच्छा और ऑर्गेज़म की संभावना को बढ़ाती है।

ओव्यूलेशन और प्रेग्नेंसी के दौरान, पेल्विक क्षेत्र (pelvic area) में रक्त के प्रवाह में वृद्धि के कारण ऑर्गेज़म को अधिक तीव्रता से महसूस किया जा सकता है। रक्त प्रवाह में वृद्धि के कारण कुछ महिलाएं पहली बार गर्भावस्था के दौरान ऑर्गेज़म का अनुभव करती हैं।

गर्भावस्था के दौरान ऑर्गेज़म आपके बच्चे के लिए पूर्ण रूप से सुरक्षित है। यदि आपको कोई स्वास्थ्य संबंधी समस्या नहीं है, और अगर आपके डॉक्टर ने आपको संभोग से दूर रहने का सुझाव न दिया हो, तो आपको गर्भावस्था के दौरान संभोग करने के बारे में चिंता करने की बिल्कुल भी ज़रूरत नहीं है।

ऑर्गेज़म न सिर्फ आपके बच्चे के लिए सुरक्षित है, बल्कि आपको भावनात्मक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रखने में भी मददगार है।

और पढ़ें:अल्फा-फेटोप्रोटीन टेस्ट क्या है और क्यों पड़ती है इसकी ज़रूरत
 

निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

फ़ीमेल ऑर्गेज़म के कई फायदे हैं जैसे कि ऑर्गेज़म के बाद आने वाली नींद आपको गर्भावस्था प्राप्त करने में मदद कर सकती है और फ़ीमेल ऑर्गेज़म से पुरुष प्रजनन क्षमता में भी सुधार हो सकता है। इसके अलावा, ऑर्गेज़म शुक्राणु को गर्भाशय तक पहुँचने में भी मदद करता है।

गर्भावस्था के दौरान ऑर्गेज़म से कोई नुकसान नहीं होता और यह आपके होने वाले बच्चे के लिए भी सुरक्षित होता है।

loading image

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि: : 21 Dec 2019

हमारे ब्लॉग के भीतर और अधिक अन्वेषण करें

लेटेस्ट

श्रेणियाँ

क्या तनाव के कारण गर्भधारण करने में परेशानी आ सकती है?

क्या तनाव के कारण गर्भधारण करने में परेशानी आ सकती है?

प्रजनन क्षमता बेहतर बनाने के 10 तरीके

प्रजनन क्षमता बेहतर बनाने के 10 तरीके

लड़का कैसे पैदा होता है?

लड़का कैसे पैदा होता है?

प्रेग्नेंट कब और कैसे होती है ?

प्रेग्नेंट कब और कैसे होती है ?

सेक्स के कितने दिन बाद गर्भधारण होता है?

सेक्स के कितने दिन बाद गर्भधारण होता है?
balance

सम्बंधित आर्टिकल्स

article lazy ad