Salivation during pregnancy | Zealthy

गर्भावस्था में अत्यधिक राल / लार बनने की समस्या के लिए घरेलु नुस्खे

Dealing with excessive salivation in early pregnancy in hindi

Pregnancy mein jyada laar banne ki pareshani ko door karne ke tarike in hindi

एक नज़र

  • अत्यधिक लार बनने के पीछे एस्ट्रोजन एवं प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन की अधिक मात्रा होती है।
  • इस दौरान लार को नियंत्रित करने वाले हार्मोन्स अधिक संवेदनशील होते हैं।
  • फिटकरी, तुलसी, सौंफ एवं लौंग का प्रयोग करके लार के उत्पादन को नियंत्रित किया जा सकता है।
  • यदि अधिक लार के बनने के कारण सीने में जलन हो तो डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें।

मुंह में लार ग्रंथियों द्वारा बनाई जाने वाली लार शरीर के लिए बहुत आवश्यक है क्योंकि लार में उपस्थित एंजाइम (enzyme) भोजन चबाने और पचने में मदद करते हैं और मुँह सूखने (dryness) की समस्या भी नहीं होती है।

किसी भी स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में 0.75 से 1.5 लीटर तक लार का उत्पादन होना सामान्य होता है लेकिन कुछ लोगों के मुँह में अधिक लार बनने लगती है जिसे हाइपरसेलिवेशन (hypersalivation) कहते हैं।

गर्भावस्था के दौरान भी कुछ महिलाओं को अधिक लार बनने की शिकायत रहती है जिसे चिकित्सीय भाषा में ट्यालिजम (ptyalism) कहते हैं।

ऐसा होने का मुख्य कारण है हार्मोन के स्तर में बदलाव।

लेकिन इसे शुरुआती गर्भावस्था के दौरान होने वाली मतली और उल्टी की परेशानी से भी जोड़कर देखा जा सकता है।

यह स्थिति अगर ज्यादा गंभीर हो जाए तो इसे हाइपरमेसिस ग्रैविडरूम (hyperemesis gravidarum) कहते हैं।

आमतौर पर गर्भावस्था के 12 से 14 सप्ताह के बाद यह कम हो जाती है।

अधिक लार के उत्पादन को कम करने के लिए कुछ प्रभावी घरेलू उपायों की मदद ली जा सकती है जो इस लेख में साझा किए गए हैं।

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

इस लेख़ में/\

  1. मुंह में अधिक लार बनने की समस्या को कम करने के घरेलू नुस्खे
  2. निष्कर्ष
 

1.मुंह में अधिक लार बनने की समस्या को कम करने के घरेलू नुस्खे

Home remedies for salivation during pregnancy in hindi

Jyada saliva banne ki samasya ko sahi karne ke tarike in hindi

मुंह में अधिक लार बनने की समस्या को कम करने के उपाय निम्न हैं :

  • तुलसी के पत्ते (Basil Leaf)

तुलसी के 2-3 पत्तों को धोकर चबायें फिर एक गिलास पानी पी लें।

ऐसा दिन में दो से तीन बार करें।

तुलसी के पत्ते लार (saliva) के पीएच (pH) का पुनः निर्माण करके मुँह के अंदर अम्लीय क्रिया (acidic process) को संतुलित करते हैं जिससे लार बनने की क्रिया कम होने लगती है।

  • फिटकरी के पानी से कुल्ला (Gargle with alum water)

फिटकरी के पानी से गरारे (gargles) भी लार के उत्पादन को कम करने में मदद करते हैं।

एक ग्लास पानी में फिटकरी मिलाएं और इसी पानी से कुल्ला या गरारे करे, इससे काफ़ी आराम मिलेगा।

  • सौंफ और लौंग (Fennel and cloves)

खाना खाने के बाद एक लौंग और एक चम्मच सौंफ का सेवन करने से पाचन सही होता है और अधिक लार बनने की समस्या में आराम मिलता है।

  • अधिक पानी पियें (Drink plenty of water)

शरीर में पानी की कमी होने पर अधिक लार बनने लगती है।

इसलिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीना भी लार के उत्पादन को कम करने में मदद करता है।

अच्छी मात्रा में पानी पीने से पेट में मौजूद किसी भी प्रकार का संक्रमण (infection) और विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और इसके कारण मुँह से लार बहना कम हो जाता है।

  • प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार या एनिमा क्रिया (Natural treatment or anemia procedure)

मुँह से अधिक लार आने पर गर्भवती स्त्री को जल्दी पचने वाला भोजन खाना चाहिए व पेट को साफ रखना चाहिए।

पेट को साफ करने के लिए महिला एनिमा क्रिया (enima) का सहारा ले सकती है।

इस प्रकार के प्राकृतिक उपचार से अधिक लार आने की परेशानी से छुटकारा मिलता है।

  • ब्रश करना (Brushing your teeth)

दिन में कई बार दाँतों में ब्रश करने से भी महिलाओं को आराम मिलता है।

  • गरारे और कुल्ले करना (Gargle)

लार के उत्पादन को कम करने के लिए माउथवॉश (mouthwash) से गरारे या कुल्ला करना भी लाभप्रद होता है।

  • च्यूंइगम चबाना (Chewing gum)

च्यूंइगम चबाना भी एक अच्छा विकल्प हैं जिससे ध्यान अधिक लार आने की समस्या से हट जाता है।

  • पानी (Water)

पर्याप्त मात्रा में पानी पियें।

  • बैलेंसेड डाइट (Take balanced diet)

छोटे एवं संतुलित आहार लें।

loading image

माँ बनने की तरफ उठाएं पहले कदम! IVF के बारे में अधिक जानकारी के लिए कॉल करें!

बुक करें

 

2.निष्कर्ष

Conclusionin hindi

Nishkarsh

लार बनना एक आम प्रक्रिया है जो पाचन क्रिया के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

गर्भवती महिलाओं में अधिक लार बनने की समस्या आम तौर से देखी जाती है लेकिन गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक लार का उत्पादन स्त्री या शिशु को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाता है।

हालांकि, अत्यधिक लार बनने से आप असहज महसूस कर सकती हैं।

कुछ महिलाओं में लार के कारण सीने में जलन हो जाती है जिसके लिए वे डॉक्टर से परामर्श ले सकती हैं।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि:: 07 Nov 2019

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

विशेषज्ञ सलाहASK AN EXPERT

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें