Introduction

गर्भाशय संकुचन

Contractions during pregnancy in hindi

Garbhashay sankuchan

एक नज़र

  • संकुचन, गर्भावस्था का एक सामान्य हिस्सा है, जो मांसपेशियों के कसने और समानांतर ढीले होने के कारण महसूस होता है।
  • प्रारंभिक संकुचन बहुत हल्के और रुक-रुककर होते हैं, मासिक धर्म की ऐंठन या हल्के पीठ दर्द के सामान ही होते हैं।
  • गर्भावस्था के चौथे महीने के आस-पास, आप समय-समय पर अपने गर्भाशय के संकुचन को नोटिस करना शुरू कर सकती हैं।

जो महिलाएं पहली बार गर्भवती होती हैं उनके मन में संकुचन को लेकर बहुत डर बना रहता है। भले ही उनकी प्रेगनेंसी की अभी शुरुआत ही हुई हो, लेकिन गर्भवस्था के अंतिम चरण में होने वाले संकुचन को लेकर घबराहट का अनुभव करने लगती हैं।

उन्हें लगता है कि आखिर गर्भाशय संकुचन क्या होता, इससे किस तरह का दर्द हो सकता है या फिर कैसे पता चलेगा कि मैं उस दर्द या संकुचन का अनुभव कर रही हूँ।

ज़ाहिर सी बात है जो महिलाएं पहली बार माँ बनने जा रही हैं उनके लिए सब कुछ नया होता है और शायद इसलिए इस तरह का डर भी बना रहता है।

ऐसे में हम आपको इस लेख की मदद से गर्भाशय संकुचन (contractions during preganncy in hindi) से जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं ताकि आपको सभी सवालों के जवाब मिल सके और घबराहट की स्थिति भी न रहे।

मैं कन्फ्युज हूँ, मुझे मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट उपचार की योजना तैयार करने में आपकी सहायता करेंगे

loading image

इस लेख़ में/\

  1. गर्भाशय संकुचन क्या है?
  2. गर्भाशय संकुचन के लक्षण क्या हैं?
  3. गर्भावस्था के दौरान संकुचन के प्रकार
  4. वास्तविक संकुचन शुरू होने पर क्या करें?
 

1.गर्भाशय संकुचन क्या है?

Contractions meaning in hindi

Contractions during pregnancy kya hai

संकुचन, गर्भावस्था का एक सामान्य हिस्सा है, जो मांसपेशियों के कसने और समानांतर ढीले होने के कारण महसूस होता है।

यही गर्भाशय संकुचन (contractions during pregnancy in hindi) महिला को सामान्य प्रसव में बच्चे को आपके गर्भाशय से बाहर धकेलने में मदद करते हैं।

संकुचन का अनुभव कैसा होगा ये आपके प्रसव अवस्था पर निर्भर करता है।

शुरुआती संकुचन पीरियड में होने वाले पेन की तरह अनुभव हो सकते हैं।

ये भी संभव है कि पीठ दर्द हो या फिर मरोड़ महसूस हो या फिर दोनों का ही अनुभव हो।

इसके अलावा ये भी संभव है कि आपको सिर्फ पेट में नीचे की ओर भारीपन या दर्द महसूस हो।

ऐसा अनुभव इसलिए होता है क्योंकि महिला का शरीर प्रसव के लिए तैयार हो रहा होता है।

लेकिन अधिकतर गर्भवती महिलाएं, गर्भाशय संकुचन को सही से समझ नहीं पाती हैं या यूं कहे कि लेबर कंट्रक्शन (true labor pain)और फॉल्स कंट्रक्शन (false labor pain) के बीच अंतर करने में सक्षम नहीं हो पाती हैं।

और पढ़ें:उच्च जोखिम वाली गर्भावस्था क्या है?

कॉलबैक का अनुरोध करें और पाएँ मूल्य का उचित आकलन

 

2.गर्भाशय संकुचन के लक्षण क्या हैं?

What are the symptoms of contractions during pregnancy in hindi

Garbhashay sankuchan ke lakshan kya hain

तकनीकी भाषा में, लेबर कॉन्ट्रैक्शंस लगातार नहीं होते हैं बल्कि नियमित अंतराल पर होते हैं (मुख्य रूप से गर्भाशय की मांसपेशियों के संकुचन के कारण)।

हालांकि गर्भशय संकुचन के लक्षण हर महिला और उनकी गर्भवस्था पर निर्भर करती है लेकिन कुछ लक्षण सामान्य माने जाते हैं।

गर्भाशय संकुचन के लक्षण निम्न हो सकते हैं :

  • प्रारंभिक संकुचन बहुत हल्के और रुक-रुककर होते हैं, मासिक धर्म की ऐंठन या हल्के पीठ दर्द के सामान ही होते हैं।
  • यह पीठ के निचले हिस्से से शुरू होते हैं और धीरे-धीरे आपके निचले पेट और जांघों तक फैलते हैं।

और पढ़ें:गर्भावस्था में नॉर्मल डिलीवरी के उपाय

 

3.गर्भावस्था के दौरान संकुचन के प्रकार

Types of contractions during pregnancy in hindi

Garbhashay sankuchan ke types (braxton hicks meaning)

इससे पहले कि आप संकुचन के लक्षणों को समझें, यह जानना महत्वपूर्ण है कि तीन प्रकार के संकुचन हैं जो समान लक्षण दिखाते हैं।

हालांकि, उनमें से केवल एक पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है, जबकि अन्य दो, मुख्य एक के लिए एक प्रकार का अभ्यास हैं।

गर्भाशय संकुचन, तीन प्रकार के होते हैं, जिनका आप अनुभव कर सकती हैं:

1. फॉल्स लेबर (ब्रेक्सटन-हिक्स कॉन्ट्रैक्शंस) False labor pain - Braxton-Hicks contractions)

गर्भावस्था के चौथे महीने के आस-पास, आप समय-समय पर अपने गर्भाशय के संकुचन को नोटिस करना शुरू कर सकती हैं।
इस कसाव को ब्रेक्सटन-हिक्स संकुचन के रूप में जाना जाता है।
वे आमतौर पर रुक-रुककर और अनियमित होते हैं।
वे आपके शरीर को प्रसव के दिन के लिए गर्भाशय की मांसपेशियों को तैयार करने का तरीका हैं।

ये संकुचन…

  • आमतौर पर दर्द रहित होते हैं
  • आपके पेट तक ही सीमित होते हैं
  • आपके पेट में कसाव का अनुभव होगा
  • कई बार यह असहज हो सकता है

ये संकुचन एक समय पर बहुत मजबूत, लंबे समय तक या बहुत ज़्यादा परेशान नहीं करते हैं। वे आपके गर्भाशय ग्रीवा में परिवर्तन का कारण नहीं बनते हैं। ऐसा ज्यादातर रात के समय होता है।

ऐसी परिस्थितियां जो ब्रेक्सटन हिक्स संकुचन को ट्रिगर करती हैं ;

  • जिस समय में महिला बहुत सक्रिय होती है,
  • जब मूत्राशय भरा होता है,
  • यौन गतिविधि के बाद,
  • और जब महिला डीहयड्रेटेड होती है।

इन सभी ट्रिगर के बीच एक समानता भ्रूण तनाव में है इसकी संभावना दर्शाती है और भ्रूण को ऑक्सीजन प्रदान करने के लिए नाल में रक्त के प्रवाह में वृद्धि की आवश्यकता है, यह भी संकेत देती है।

2. प्रीटर्म लेबर संकुचन (Preterm labor contractions)

37 सप्ताह से पहले नियमित संकुचन समय से पहले प्रसव का संकेत हो सकता है। नियमित संकुचन के समय का मतलब है कि वे एक पैटर्न का पालन करते हैं।

उदाहरण के लिए, अगर आपको एक घंटे से अधिक के लिए हर 10 से 12 मिनट में संकुचन हो रहा है, तो आप प्रीटर्म लेबर में हो सकती हैं।

एक संकुचन के दौरान, आपका पूरा पेट टच करने के लिए कठोर हो जाएगा।

आप गर्भाशय में कसाव के साथ, निम्नलिखित लक्षणों का अनुभव कर सकती हैं:

  • बहुत अधिक पीठ दर्द
  • आपके श्रोणि में दबाव
  • आपके पेट में दबाव
  • ऐंठन
  • पेल्विक पेन

ये संकेत हैं कि आपको अपने डॉक्टर को कॉल करना चाहिए, खासकर अगर आपको उपयुक्त लक्षणों के साथ-साथ योनि से रक्तस्राव, दस्त, या वाटर डिस्चार्ज (जो आपके वॉटर के ब्रेक होने का संकेत हो सकता है) भी हो रहा हो।

आपके संकुचन के समय और उसकी फ्रीक्वेंसी के साथ-साथ अन्य लक्षणों पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है। आपको अपने डॉक्टर को यह जानकारी प्रदान करना ज़रूरी है।

हालांकि, विभिन्न उपचार और दवाएं उपलब्ध हैं, जिनका उपयोग कर आपके डॉक्टर लेबर को आगे बढ़ने से रोकने के लिए उपयोग कर सकती है।

3. वास्तविक संकुचन (Actual Contractions - true labor pain)

जब आपको ट्रू लेबर पेन (true labor pain) यानि की असल मायने में प्रसव के लिए दर्द शुरू होगा तो लगातार तीव्र दर्द का अनुभव होगा।

अगर आप अपनी पोज़ीशन में बदलाव करती है तो तब भी ये बंद नहीं होगा। एक्चुअल या ट्रू लेबर पेन (true labor pain)में समय के साथ दर्द का अंतराल बहुत कम होता है और ये हर 10-15 मिनट में उठता है और समय के साथ इनकी संख्या बढ़ती जाती है।

और पढ़ें:डिलीवरी के बाद पीरियड लाने के उपाय

मुझे सही डॉक्टर के चुनाव में मदद चाहिए

हमारे मेडिकल एक्सपर्ट आपको अनुभवी व नज़दीकी डॉक्टर से अपॉइंटमेंट बुक कराने में मदद करेंगे

loading image
 

4.वास्तविक संकुचन शुरू होने पर क्या करें?

What to do when actual contractions or true labor pain begin? in hindi

True labor pain shuru hone par kya karein

आमतौर पर, डॉक्टर कहते हैं कि जब संकुचन पांच से दस मिनट पर लगातार हो तो उन्हें कॉल करना चाहिए।

अगर कॉल करने पर डॉक्टर आपको तुरंत बुलाते हैं, तो एक मिनट भी बर्बाद न करें और तुरंत अस्पताल जाएँ।

ऐसे में अपने लक्षणों की पहचान कर और नियत तारीख कुछ सप्ताह दूर होने पर भी तुरंत अस्पताल पहुंचे।

ये प्रीटर्म लेबर का भी मामला हो सकता है, अगर :

  • बहुत अधिक और मज़बूत संकुचन का अनुभव हो।
  • प्रसव पीड़ा के बिना पानी का बाहर निकलना।
  • हरा या भूरे रंग का डिस्चार्ज होने लगता है।
  • गर्भाशय ग्रीवा या योनि क्षेत्र में गर्भनाल का अनुभव करना।

एक बार जब आप अस्पताल पहुंच जाते हैं तो उसके बाद डॉक्टर की ओर से आपके संकुचन पर नज़र रखी जाएगी और सही समय देखकर आपकी सुरक्षित रूप से डिलीवरी करने की कोशिश की जाएगी।

गर्भावस्था के संकुचन को समझना काफी मुश्किल हो जाता है लेकिन अगर आप उपयुक्त लक्षणों पर ध्यान दे तो इसे समझना इतना भी मुश्किल नहीं होता है।

जब आपको ट्रू लेबर पेन शुरू होगा तो इस बात का ध्यान ज़रूर रखे कि ये तीव्र दर्द कुछ समय के लिए ही आपको सहन करना और इसके बाद आपका बच्चा आपकी बांहों में होगा।

आर्टिकल की आख़िरी अपडेट तिथि:: 02 Jun 2020

क्या यह लेख सहायक था? हां कहने के लिए दिल पर क्लिक करें

कॉल

व्हाट्सप्प

अपॉइंटमेंट बुक करें